You are currently viewing अशोक को महान क्यों कहा जाता है-अशोक की उपलब्धियां

अशोक को महान क्यों कहा जाता है-अशोक की उपलब्धियां

अशोक को महान क्यों कहा जाता है: हेलो Friends स्वागत है आपका आपकी website पर आज हम आपको बताने वाले है की अशोक को महान क्यों कहा जाता है Friends काफी लोगो को इसके बारे में जानना होता है पर नहीं पता होता इसलिए यह post only आपके लिए लेकर आये है और आपको All Information आपको आपकी website jugadme से मिल जाएगी आपको किसी और website इसके पर जाने की जरुरत नहीं पड़ेगी। आज हम आपसे इस post में बात करेंगे।

अशोक को Great क्यों कहा जाता है

अशोक को महान क्यों कहा जाता है अशोक के पिता जी का नाम बिन्दुसार की मृत्यु करीब 269 ई. पूर्व मे हुई थी। उसकी मृत्यु के बाद उसका पुत्र अशोक वर्धन मौर्य Federation State का Ruler बना। और डाॅ. मजूमदार ने यह भी लिखा है की हर एक अवधि या देश मे ऐसे सम्राट पैदा नही होते। अशोक को महान क्यों कहा जाता है सम्राट अशोक की मुकाबले मे अब तक संसार के किसी सम्राट को नही रखा जा सकता।” सम्राट अशोक ने करीब 36 अवधि तक शासन किया और अपने कार्यों से उसने संसार भर को आश्चर्य कर दिया।अशोक न मात्र India वरन् संसार के Greats सम्राटों मे से एक था। अशोक को महान क्यों कहा जाता है इसलिए कि जिन Greats सम्राटों से आशोक की मुकाबले की जाती है,वह उन सब मे अद्वितीय था। एलिसन के अनुसार,” अशोक की मुकाबले रोमन सम्राट ओरलियस और Constantine और ईसाई Religion के प्रचारकों से की जाती है। अपने philosophy निर्मलता मे वह मार्कस ओरलियस की याद दिलाता है। Federation State मे, और कुछ अंशो मे, अपनी शासन पद्धति मे वह शार्लमेन की तरह था। मौर्य सम्राट अशोक के शिलालेख भद्दे, संबधहीन से पूर्ण है। अशोक को महान क्यों कहा जाता है परन्तु व्यवहार मे वे बड़े है। उसकी मुकाबले North Officer उमर और सम्राट अकबर से की जाती है। अशोक एक Great विजेता भी था।`

अशोक के प्रतिमान

अशोक के प्रतिमान भी उसकी Great के कारण थे। कलिंग लड़ाई के बाद अशोक ने लड़ाई बस्ती के स्थान पर Religion-बस्ती, इंटरटेनमेंट या मुहरा यात्रा की जहग पर, Religion-यात्रा को अपनाया गया । विलासिता को छोड़कर उसने जन सेवा के प्रतिमान को अपनाया। अशोक को महान क्यों कहा जाता है और मांस-भक्षण के स्थान पर निरामिष भोजी अपनाया।

Great विजेता

अशोक एक Great विजेता था, अवधी लड़ाई मे उसने यह प्राप्त कर दिया। अशोक योद्धा, साहसवाला और लड़ाई विद्या व्यक्ति था। हाॅलाकी कलिंग लड़ाई के बाद उसने विजय और Federation State भाव की नीति छोड़ दी थी। अशोक को महान क्यों कहा जाता है लेकिन उसकी विजय का प्रभाव और योद्धाता की साँचा और सिपाही का डर इतना था कि विदेशी उल्लंघनकारी ,चोर, डाकू इत्यादि  उसके अवधि मे कभी उल्लंघन या क्रांति की बात तक नही सोची। इस प्रकार अशोक की योद्धाता उसकी Great बनने का  सबसे जरुरी कारन बन गया है

Great शासक

अशोक एक Great Ruler था, अशोक की आकलन Great Ruler मे की जाती है। उसके संघ State मे कुम्हार सुखी थे । अशोक को महान क्यों कहा जाता है उसने अपनी शक्ति का इस्तेमाल State भाव के स्थान पर कुम्हार की भलाई मे किया। उसने कुम्हार के स्तर को बढ़ाया। इस प्रकार वह Ruler के रूप मे भी Great था।

बौद्ध Religion को संसार Religion बनाया

अशोक तीसरा बौद्ध मेल मिलाप का समारोह उसने बौद्धों के धार्मिक विभिन्नता को दूर करवाकर Systematically बौद्धों के Missionary India और विदेशो मे भेजे। उसने preaching का कार्य पराक्रम से नही बल्कि आत्मशक्ति और peacefully प्रेम और हित की भावना द्वारा किया। अशोक के प्रयासों से बौद्ध Religion दक्षिण पूर्व एशिया, मध्य एशिया और चीन, जापान तक पहुँचा। इस प्रकार बौद्ध Religion को उसने International Religion बनाया।

स्थापत्य कला एवं चित्र बनाने की कलाओं का अभिभावक

अशोक मात्र एक विजेता Ruler या religious figure ही नही था, वरन् वह वास्तुकला और चित्र बनाने की कला का अभिभावक भी था। अशोक को महान क्यों कहा जाता है उसने स्थापत्य के क्षेत्र मे भवन, मंदिर, स्तूप, शिलालेखों, अभिलेखों, दीवार चित्रों और मूर्तियों का निर्माण करवाया। इससे शिल्पियों, वस्तुकारों को जहाँ प्रोत्साहन मिला वही कलाओं से जनता मे जगाने के लिये उपयोग किया।

 

मानवता

अशोक के हर एक विचार और चरित्र मे, संघ State की नीतियों मे, देश विदेश मे भेजे उपहार मे और शिलालेखों की हर एक पंक्ति और उसके अर्थ और भावना मे मानवता एवं प्राणीमात्र का हित Foremost था। अशोक को महान क्यों कहा जाता है अशोक स्वयं, उसके अधिकारी, न्याय, संघ State का धन, सेना आदि सभी इसी मानवता के प्रति समर्पण थे।

अशोक Indians  इतिहास के Great व्यक्तियों मे से एक था। वह चन्द्रगुप्त जैसा Powerful, समुद्रगुप्त जैसा बहुमुखी प्रतिभा वाला और अकबर जैसा Religion प्रेमी था। अशोक को महान क्यों कहा जाता है वह श्रम से थकता नही था। वह कुम्हार-कल्याण मे रूचि करता था। वह अपनी कुम्हार को संतान मानता था। मौर्य सम्राट अशोक के प्रतिमान, Religion, लोकहित, लोकसेवा और धम्म की सम्पूर्ण विशेषताओं के साथ-साथ उसकी विजय, उसका शासन और कला प्रेम आदि सभी कुछ Great था। इसलिए मौर्य सम्राट अशोक को सभी Ruler ों मे Great कहा जाता है।

जन्म

अशोक प्राचीन India के मौर्य सम्राट बिंदुसार का पुत्र था। जिसका जन्म करीब 304 ई. पूर्व में माना जाता है। लंका की परम्परा में बिंदुसार की सोलह पटरानियों और 101 पुत्रों का उल्लेख है। पुत्रों में मात्र तीन के नामोल्लेख हैं, वे हैं – सुसीम जो सबसे बड़ा था, अशोक और तिष्य। तिष्य अशोक का सहोदर भाई और सबसे छोटा था। भाइयों के साथ गृह-लड़ाई के बाद 272 ई. पूर्व अशोक को राजगद्दी मिली और 232 ई. पूर्व तक उसने शासन किया। अशोक     शासन क्षेत्र    अवधिक्रम    धम्म    शिलालेख    परिवार   विस्तृत लेख अशोक अथवा ‘असोक’ (अवधि ईसा पूर्व 269 – 232) प्राचीन India में मौर्य राजवंश का राजा था। अशोक का देवानाम्प्रिय एवं प्रियदर्शी आदि नामों से भी उल्लेख किया जाता है। उसके समय मौर्य संघ State North में हिन्दुकुश की श्रेणियों से लेकर दक्षिण में गोदावरी नदी के दक्षिण और मैसूर, कर्नाटक तक और पूर्व में बंगाल से पश्चिम में अफ़ग़ानिस्तान तक पहुँच गया था। यह उस समय तक का सबसे बड़ा Indians Federation State था। अशोक को महान क्यों कहा जाता है सम्राट अशोक को अपने विस्तृत Federation State के बेहतर कुशल प्रशासन और बौद्ध Religion के प्रचार के लिए जाना जाता है।

दुनिया का सबसे बड़ा सम्राट कौन था?

चक्रवर्ती सम्राट अशोक संसार के सभी Great एवं Powerful सम्राटों एवं राजाओं की Line में हमेशा उन्नत स्थान पर ही रहे हैं। सम्राट अशोक ही India के सबसे Powerful एवं Great सम्राट है।

दुनिया का सबसे बड़ा सम्राट कौन था?

चक्रवर्ती सम्राट अशोक संसार के सभी Great एवं Powerful सम्राटों एवं राजाओं की Line में हमेशा उन्नत स्थान पर ही रहे हैं। सम्राट अशोक ही India के सबसे Powerful एवं Great सम्राट है।

India का सबसे बुद्धिमान राजा कौन था?

पिछले 3000 सालों में सबसे बुद्धिमान राजा उज्जैन के महाराज विक्रमादित्य थे । उनकी बुद्धिमत्ता की कहानियां विक्रम बेताल के नाम से प्रप्राप्त है । उनका अवधि India का स्वर्णिम अवधि था

दुनिया के सबसे Great राजा कौन है?
  • अजातशत्रु
  • चन्द्रगुप्त मौर्य
  • सम्राट अशोक
  • चक्रवर्ती सम्राट अशोक का गौरवमयी इतिहास
  • समुद्रगुप्त – चौथी शताब्दी
  • राजा राजा चोला ( चोला वंश) 10वीं शताब्दी
  • कृष्णदेवराय 1509- 1530

दुनिया का पहला राजा कौन था?

पृथु राजा वेन के पुत्र थे। अशोक को महान क्यों कहा जाता है भूमण्डल पर प्रथम सर्वांगीण रूप से राजशासन स्थापित करने के कारण उन्हें पृथ्वी का प्रथम राजा माना गया है।

धरती किसकी बेटी है?

Mass Community ने ऋषियों के साथ मिलकर पृथु को धरती का पहला राजा Acceptance किया। पृथु ने धरती को अपनी पुत्री रूप में Acceptance किया और इसका नाम पृथ्वी रखा। इस तरह संसार में कृषि एवं सामाजिक व्यवस्था की शुरूआत हुई। राज बनने के बाद पृथु ने Religion पूर्वक, बिना किसी भेद-भाव के जनता की सेवा का वचन लिया।

पृथ्वी के पुत्र का नाम क्या है?

शिवजी ने दैत्य का संहार किया और उसकी रक्त की बूंदों को नवोत्पन्न मंगल ग्रह ने अपने अंदर समा लिया। धरती से जन्म के कारण उन्हें धरती पुत्र माना गया। अशोक को महान क्यों कहा जाता है इसलिए मंगल की धरती लाल रंग की है।

 

2 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments