You are currently viewing BS4 Or BS6 में क्या अंतर है?

BS4 Or BS6 में क्या अंतर है?

BS6 Or BS4 Kya Hai दोस्तों स्वागत है आपका jugadme.in की वेबसाइट में , इस वेबसाइट में हम आपके लिए लेकर आये है बीएस 4 और बीएस 6 क्या है इनमे क्या अन्तर है हम आपको बताने वाले हैं तो , दोस्तो हमने यह आर्टिकल काफी अच्छे से लिखा है आपको काफी आसानी से समझ आ जाएगा और दोस्तों आपको यह जानना हैं तो आप सही वेबसाइट पर आये है हम यह आप लोगो के लिए ही लाये है।BS6 Or BS4 Kya Hai तो, दोस्तों बिना देरी करे शुरू करते है

BS4 Or BS6 में क्या अंतर है?

भारत सरकार मोटर वाहनों से निकलने वाले प्रदूषकों  को नियंत्रित करने के लिए मानक तय करती है। इसे बीएस, ( BS6 Engine ) ( BS6 Norms ) यानी की भारत स्टेज कहते है ये मानक केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड जरिये पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत निर्धारित किए जाते हैं।

BS4 Kya Hai 

Bs4 Engine पहले 2016 में कुछ शहरों और प्रदेशों में लागू करा गया था पर 1 अप्रैल 2017 से यह सभी देश में लागू कर दिया गया है Bs3 के Engine ज्यादा Pollution करते थे और Bs4 के Engine ज्यादा Pollution नही करते Bs4 Engine में बस आपका खर्च बढ़ जायेगा पर Bs4 Engine हमारे पर्यावरण के लिए अच्छा है। शायद ही आपको मालुम होगा की अप्रैल 2020 से भारत में Bs4 Engine पर भी रोक लगायी जाने वाली है। जी हाँ इसके लिए 1 अप्रैल 2020 से Bs4 Engine को Ban किये जाने की तैयारी शुरू कर दी जाएगी।

बीएस 4 के फायदे

 Bs4 Engine Bikes के आने से पर्यावरण पर कितना असर होगा और इससे लोगो को क्या फायदा होगा। इसका सबसे बड़ा फायदा यह है की इससे प्रदूषण काफी  Control में रहेगा  Bs4 Engine में धुंए को बिना जले ही बाहर नहीं निकालते जिससे की वायु में दूषित धुंए की मात्रा कम होती है। ।दोस्तों स्वागत है आपका jugadme की वेबसाइट में , इस वेबसाइट में हम आपके लिए लेकर आये है बीएस 4 और बीएस 6 क्या है इनमे क्या अन्तर है हम आपको बताने वाले हैं तो , दोस्तो हमने यह आर्टिकल काफी अच्छे से लिखा है आपको काफी आसानी से समझ आ जाएगा और दोस्तों आपको यह जानना हैं तो आप सही वेबसाइट पर आये है हम यह आप लोगो के लिए ही लाये है। तो, दोस्तों बिना देरी करे शुरू करते है

भारत सरकार मोटर वाहनों से निकलने वाले प्रदूषकों  को नियंत्रित करने के लिए मानक तय करती है। इसे बीएस, ( BS6 Engine ) ( BS6 Norms ) यानी की भारत स्टेज कहते है ये मानक केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड जरिये पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय के तहत निर्धारित किए जाते हैं।

Bs4 Bikes List In India :

  • Tvs Apache Rtr 200 4v
  • Bajaj Pulsar Rs200
  • Bajaj Pulsar Ns200
  • Suzuki Gixxer Sf
  • Honda Cb Hornet 160rBs4 Engine Bikes
  • Yamaha Fz-s V2.2
  • Bajaj Avenger 220
  • Bajaj Pulsar 150

दूसरे देशों में जहाँ पर Bs6 Engine चल रहे है वही भारत में Bs4 Engine ही चल रहा है, इसलिए भारत सरकार ने Bs5 को छोड़ते हुए 2020 में सीधे Bs6 लागू करने का फैसला किया गया है ,ताकि हम भी किसी देश से पीछे न रहे।

BS6 और BS4 इंजन में फर्क

BS6 एमिशन नॉर्म्स की अपेक्षा काफी कठिन  हैं। बीएस4 की तुलना में इसमें NOx का लेवल पेट्रोल इंजन के लिए 25 पर्सेंट और डीजल इंजन के लिए 68 पर्सेंट कम है। इसके अलावा डीजल इंजन के HC + NOx की लिमिट 43 पर्सेंट और पीएम लेवल की लिमिट 82 पर्सेंट कम की गई है। इस टारगेट को पूरा करने के लिए बीएस6 कम्प्लायंट इंजन में मॉडर्न टेक्नॉलजी का उपयोग किया जाता है।

BS6 के फायदे

BS-6 लागू होने के बाद प्रदूषण को लेकर पेट्रोल और डीजल कारों के बीच ज्‍यादा अंतर नहीं रह जाएगा. डीजल कारों से 68 फीसदी और पेट्रोल कारों से 25 फीसदी तक नाइट्रोजन ऑक्साइड का उत्सर्जन कम हो जाएगा. साथ ही डीजल कारों से PM) का उत्सर्जन 80 फीसदी तक कम होने की संभावना है

BS6 डीजल इंजन कैसे काम करता है?

तकनीक के शब्दों में, चयनात्मक उत्प्रेरक न्यूनीकरण (एससीआर) इकाई नाइट्रोजन ऑक्साइड (एनओएक्स) को डायटोमिक नाइट्रोजन और पानी (हानिरहित संस्थाओं) में परिवर्तित करती है। SCR इकाई NOx उत्सर्जन को कम करने के लिए AdBlue या डीजल निकास द्रव का उपयोग करती है। यह द्रव यूरिया और विआयनीकृत पानी से बना होता है। इसलिए, जब निकास गैसें इस तरल पदार्थ के साथ मिल जाती हैं, तो यूरिया अमोनिया और CO2 में परिवर्तित हो जाता है। इसके अलावा, अमोनिया NOx को नाइट्रोजन और जलवाष्प में परिवर्तित करता है। कुल मिलाकर, यह प्रक्रिया वाहनों के उत्सर्जन से प्रदूषकों की सामग्री को कम करने में सहायता  करती है

Bs3 And Bs4 के  अन्तर
  • Bs3 के मुकाबले Bs4 को काफी अच्छा माना  गया है Bs3 की तुलना में Bs4 में Hydrocarbon Emissions और Co Emissions को कम रखा गया है।
  • Bs4 Engine सभी तरह की गाड़ियों से निकलने वाले प्रदूषित धुएँ को रोकने में सक्षम है।
  • Bs3 से निकलने वाला धुआँ हमारे पर्यावरण को प्रदूषित करता है। जिससे कई जानलेवा बीमारी होती है। इससे सिरदर्द, आँखों में जलन, फेफड़ों की बीमारी, नाक में जलन और उल्टी आदि होती है इन सब से बचने के लिए फिर सरकार ने Bs4 Engine को लागू किया।
  • Bs4 Engine में बिना जले हुए ईंधन को बाहर नही निकाला जाता। साथ ही इसमे कंटेनर की सुविधा भी होती है जिससे यह वायु में ना मिल सके।

CNG कारों पर BS6 का क्या प्रभाव पड़ेगा?

वाहन निर्माताओं को BS6 वाहनों पर सीएनजी के उपयोग के लिए अपने डीजल और पेट्रोल इंजन में मामूली बदलाव या संशोधन करना होगा। BS6 Or BS4 Kya Hai निर्माताओं द्वारा देश में सीएनजी BS6 इंजनों की पेशकश शुरू करने से पहले यह केवल Matter of time की बात है। देश में Electric और Hybrid वाहनों की बिक्री से पहले CNG संचालित BS6 कार या वाहन एक स्टॉप – गैप व्यवस्था हो सकती है।

बीएस 4 बाइक पर लाइट स्विच क्यों नहीं हैं?

1 अप्रैल 2017 से निर्मित मोटरसाइकिल और स्कूटर सहित सभी दोपहिया वाहनों में Automatic Headlamp On (AHO) होता है। जैसा कि मोनीकर सुझाव देता है, BS6 Or BS4 Kya Hai सभी दो पहिया वाहनों को हर समय हेडलाइट्स की जरूरी  होती है। BS4 मानदंडों के अनुपालन में, सभी नए दोपहिया वाहनों में हेडलाइट के लिए लाइट स्विच नहीं होता है, क्योंकि इसे हमेशा चालू रखना होता है। हालांकि, पास और कम और उच्च बीम प्रकाश स्विच को असंतुष्ट रखा गया था।

AHO की शुरूआत के पीछे का कारण राइडर और पैदल यात्री दोनों की सुरक्षा को बनाए रखना है। प्रकाश दिन के दौरान भी रहता है, जिससे यह मुसाफिर  को दिखाई देता है।

BS6 की वजह से क्या बदलाव आने वाले हैं

bs6 से काफी बदलाव आने वाले है जोकि आपको निम्न दिए गए है

  • इससे alternate fuel की चाहिदा बढ़ सकती है. जैसे Electic car, Ethanol blends, LPG and Petro-electric और Diesel- electic cars जैसे hybrid cars.
  • Nitrogen Oxide को कम करने के लिए SCR (Selective Catalytic Reduction) Module को लगाया जायेगा.
  • गाड़ी निर्माताओं को ऐसे Petrol Engines बनाने होंगे जिससे की CO emission कम हो और उसे control में रखा जा सके. इसके लिए उन्हें gasoline direct injection engines का भी इस्तमाल करना पड़ सकता है.
  • बहुत ही low emission को प्राप्त करने के लिए सभी reaction को precise मात्रा में होना आवश्यक है जिसे करने के लिए Microprocessor का इस्तमाल किया जाता है.
  • Hybrid Engines की demand काफी बढ़ जाएगी क्यूंकि इससे emission को कम किया जा सकता है, Performance Level को बजाय रखा जा सकता हैं और Fuel Economy को boost भी किया जा सकता है। Cars ज्यादा costly भी हो सकता है क्यूंकि Emission को रोकने वाले यन्त्र ज्यादा costly होते है।
  • DPF (diesel particulate filter) fit होगी जिससे की Particulate Matter की reduction होगी. ये एक cylinder के आकार का वस्तु है जिसे की engine के compartment में vertically लगाया जाता है।  Engines को ज्यादा efficient बनाने के लिए उन्हें छोटा करना पड़ सकता है जिससे की engines की कम से कम fuel consumption होगी

महंगी होंगी गाड़ियां

बीएस-6 इंजन से लैस गाड़ियों की कीमत में भी इजाफा होगा क्योकिं बीएस-6 के लिए नया इंजन और इसमें इलेक्ट्रिकल वायरिंग बदलने कॉस्ट बढ़ जायेगी। BS6 Or BS4 Kya Hai इतना ही नहीं बीएस-6 से गाड़ियों की इंजन की क्षमता बढ़ेगी जिससे उत्सर्जन कम होगा। जिसकी वजह से कंपनी को गाड़ियों के दाम बढ़ाने पर मजबूर होना पड़ेगा।  बीएस-6 गाड़ियां 15 फीसदी तक महंगी होंगी। इतना ही नहीं बीएस-6 फ्यूल (पेट्रोल-डीजल) की कीमत 1.5 से 2 रुपये प्रति लीटर तक महंगी हो सकती है।

माइलेज अधिक मिलेगा

बीएस-6 मानक निर्मित इंजन से नए वाहनों के माइलेज पर भी प्रभाव पड़ेगा अर्थात नई गाड़ियां माइलेज अधिक देंगी। सबसे खास बात यह है BS6 Or BS4 Kya Hai कि कोई भी वाहन कंपनी माइलेज माइलेज को लेकर झूठा दावा भी नहीं कर सकेगी क्योकिं नियम लागू होने पर कंपनियों को इसका पालन करना होगा। जिस प्रकार भारत में सड़कों पर वाहनों की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही हैं, उसे देखते हुए बीएस-6 इंजन वाले वाहन काफी अच्छा साबित होगा

Bharat Emmission Standards क्या है?
  • Euro Norms जिसे की Bharat Stage ने अपनाया है के हिसाब से सभी यानों की pollutant छोड़ने की एक maximum limit होनी चाहिए. Pollutant जैसे CO2, nitrogen oxide, sulphur और suspended particulate matter.
  • यदि कोई यान अपने निर्धारित limit से ज्यादा pollutant त्याग करता है तब उसे Europe में बेचा नहीं जा सकता.
  • हमारे देश में हम Euro Norms को Bharat Stage Norms के नाम से follow करते हैं. जिसे धीरे धीरे हम अपने देश के सभी सहरों में impliment कर रहे हैं

दोस्तों ,आज हमने आपको हमने अच्छे से आर्टिकल समझाया उम्मीद है आपको अच्छे से समझ आ चूका होगा। और दोस्तों और आपको यह पोस्ट पसंद आया है तो आप कमेंट बॉक्स में जरूर बताये और आपको और नयी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट करके बता सकते है जिससे की हम आपके लिए वह आर्टिकल प्रस्तुत करेगे। और  हम फिर आपसे मिलेंगे एक और नयी जानकारी  के साथ

धन्यवाद


Q. BS6 Engine वाली पहली मोटर साइकिल का क्या नाम है ?

BS6 Engine वाली सबसे पहली Motor Cycle का नाम है Honda Activa 125.

Q. BS6 रेडी इंजन क्या है? इंटरनेट पर दो तरह के इंजन

बीएस6 रेडी और बीएस6 कंप्लेंट हैं। BS6 तैयार वे इंजन हैं जो नई BS6 पीढ़ी की कारों के लिए विकसित और उत्पादन के लिए तैयार हैं।


Related Link:

 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments