You are currently viewing Acharya Chanakya Kaun The | Chanakya Biography in hindi

Acharya Chanakya Kaun The | Chanakya Biography in hindi

आचार्य चाणक्य कौन थे ? | Chanakya Biography in hindi ,जानिए उनकी कहानी,महा पंडित आचार्य चाणक्य का जीवन, आर्य चाणक्य माहिती ,चाणक्य के माता का नाम,चाणक्य का पूरा नाम क्या था,चाणक्य का जन्म कहां हुआ था ,चाणक्य की पत्नी का नाम ,चाणक्य के गुरु कौन थे,चाणक्य की मृत्यु कब और कैसे हुई थी,चाणक्य किसके पुत्र थे

आचार्य चाणक्य कौन थे ? | Chanakya Biography in hindi

जो लोग अपने जीवन में कठिन परिस्थितियों का सामना करके सफलता की राह पर चल रहे हैं, वह लोग चाणक्य जी के बारे में पता है चाणक्य का हक़ीक़त में विष्णुगुप्त नाम है। Acharya Chanakya Kaun The चाणक्य एक शिक्षक, दार्शनिक, अर्थशास्त्री और राजनेता थे जिन्होंने भारतीय राजनीतिक ग्रंथ ‘अर्थशास्त्र’ राजनीति और अर्थशास्त्र का विज्ञान लिखा था। उन्होंने मौर्य वंश की स्थापना में भूमिका निभाई। एक गरीब ब्राह्मण परिवार में जन्मे चाणक्य की शिक्षा तक्षशिला अब पाकिस्तान में में हुई थी, जो भारत के उत्तर-पश्चिमी भाग में स्थित शिक्षा का एक प्राचीन केंद्र था।वह अर्थशास्त्र, राजनीति, युद्ध रणनीतियों, चिकित्सा और ज्योतिष जैसे विभिन्न विषयों में गहन ज्ञान रखने वाले एक उच्च विद्वान व्यक्ति थे।

चंद्रगुप्त मौर्य की विजय चंद्रगुप्त मौर्य की मृत्यु कब और कहां हुई, चंद्रगुप्त मौर्य की कितनी पत्नी थी, चंद्रगुप्त मौर्य की उपलब्धियां, चन्द्रगुप्त मौर्य वाइफ नंदिनी, चंद्रगुप्त मौर्य की फोटो

उन्होंने एक शिक्षक के रूप में अपना करियर शुरू किया, वे सम्राट चंद्रगुप्त के एक भरोसेमंद सहयोगी बन गए। Acharya Chanakya Kaun The सम्राट के सलाहकार के रूप में काम करते हुए, उन्होंने चंद्रगुप्त को मगध क्षेत्र में पाटलिपुत्र में शक्तिशाली नंद वंश को उखाड़ फेंकने में मदद की और चंद्रगुप्त को नई शक्तियां प्राप्त करने में सहायता की।वह चंद्रगुप्त के पुत्र बिंदुसार के लिए भी मददगार थे।

चाणक्य का जन्म एवं शुरूआती जीवन (Chanakya Birth & Early Life)

चाणक्य का जन्म 375 ईसा पूर्व में तक्षशिला में एक गरीब ब्राह्मण परिवार में हुआ था। और उनके पिता कनक हैं और उनकी माता चनेश्वरी हैं। बचपन में इन्होने वेदों का अध्ययन किया और राजनीति के बारे में सीखा। और उसके पास एक ज्ञान दांत था। जब ऐसी मान्यता थी कि ज्ञान दांत का होना राजा बनने की निशानी है। उनकी माँ एक बार एक ज्योतिषी की बातें सुनकर डर गईं कि “वह बड़ा होकर राजा बनेगा और राजा बनने के बाद मुझे भूल जाएगा”। तब इन्होने अपने ज्ञान दांत तोड़ दिए और अपनी मां से वचन किया कि “माँ, आप चिंता न करें। मैं तुम्हारी अच्छी देखभाल करूंगा। वह दिखने में अच्छा नहीं था। हर कोई उसके टूटे दांत, काले रंग और टेढ़ी टांगों का मजाक उड़ा रहा था। इसलिए उनकी आंखों में हमेशा क्रोध बना रहता था। अपनी शिक्षा पूरी करने के बाद, इन्होने तक्षशिला, नालंदा सहित आसपास के क्षेत्रों में एक शिक्षक के रूप में काम करना शुरू किया। इनका पक्का विश्वास था कि “एक महिला जो शरीर से सुंदर है, वह आपको केवल एक रात के लिए खुश रख सकती है। Acharya Chanakya Kaun The लेकिन मन से खूबसूरत औरत आपको जिंदगी भर खुश रखती है।” इसलिए उन्होंने अपने ब्राह्मण वंश में यशोधरा नाम की एक लड़की से शादी की। वह भी उनकी तरह खूबसूरत नहीं थी। उनका काला रंग कुछ लोगों के लिए मजाक का कारण बन गया था। एक बार जब उनकी पत्नी अपने भाई के घर एक शुभ आयोजन में गई, तो सभी ने इनकी गरीबी का मजाक उड़ाया।इससे नाखुश होकर उनकी पत्नी ने उन्हें राजा धनानंद से मिलने और उपहार के रूप में कुछ पैसे लेने की सलाह दी।





चाणक्य से जुड़ी कुछ रोचक जानकारियाँ

चाणक्य को भारत में एक महान न्यायाधीश और राजनायिक के रूप में सम्मानित किया जाता है।Acharya Chanakya Kaun The कई भारतीय राष्ट्रविदों ने उनकी प्रशंसा में बहुत कुछ कहा है, जिनमें से भारत के पूर्व राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहाकार शिवशंकर मेनन भी एक हैं, उन्होंने चाणक्य के अर्थशास्त्र की प्रसंशा करते हुए उसे वर्तमान परिस्थितियों में भी प्रासंगिक बताया है।

कुछ विद्वानों के अनुसार चाणक्य ने वास्तव में महिलाओं की एक सेना को बनाया था। जिन्हे ‘विश्वकण्य’ के नाम से जाना जाता था। विद्वानों के मतानुसार, “विषकन्या” जो बेहद खूबसूरत लड़कियां थीं, जो अपने होठों से जहर छोड़ती थी। इन विषकन्याओं का प्रयोग युद्ध में किया जाता था। Acharya Chanakya Kaun The यही-नहीं विषकन्याओं को अधिक मात्रा में जहर देकर बहुत घातक बना दिया, मात्र उनके चुंबन से किसी भी व्यक्ति की मृत्यु हो सकती है। अर्थशास्त्र के अलावा, चाणक्य की प्रसिद्ध पुस्तक “चाणक्य नीति” को भी चाणक्य नीती-शास्त्र कहा जाता है, जो मुख्य रूप से एफ़ोरिज्म (सामान्य सत्य और सिद्धांत) पर आधारित है।

आज के विद्वानों द्वारा चाणक्य के महिलाओं पर विचारों की निंदा की जाती है, क्योंकि चाणक्य ने महिलाओं पर बड़े पैमाने पर शोध किया था और अपने पाठ में दर्ज किया था।

कुछ विद्वानों के अनुसार, एक बार बिंदुसारा (चंद्रगुप्त के पुत्र) को उत्तेजित कर दिया गया, कि चाणक्य ने उनकी मां को मारा है, जिसके चलते बिंदुसारा ने अपने साम्राज्य से चाणक्य को निष्कासित कर दिया। Acharya Chanakya Kaun The बाद में, जब बिंदुसारा को अपनी गलती का एहसास हुआ, तो उन्होंने चाणक्य को वापस बुलाने का आदेश दे दिया, लेकिन चाणक्य ने मना कर दिया।

चाणक्य के पिता एक गरीब ब्राह्मण थे और किसी तरह अपना गुजर-बसर करने के लिए छोटा-मोटा कार्य करते थे। Acharya Chanakya Kaun The जिसके चलते चाणक्य का बचपन बहुत गरीबी और दिक्कतों में गुजरा। कई विद्वानों के मतानुसार यह कहा जाता है कि वह बड़े ही स्वाभिमानी एवं क्रोधी स्वभाव के व्यक्ति थे

उन्होंने उस समय के महान शिक्षा केंद्र तक्षशिला से शिक्षण प्राप्त किया था। विभिन्न स्त्रोतों के अनुसार यह माना जाता है Acharya Chanakya Kaun The  कि एक बार मगध के राजा महानंद ने श्राद्ध के अवसर पर चाणक्य को बुलाया और अपमानित किया। जिसके चलते चाणक्य ने क्रोध में वशीभूत होकर अपनी शिखा (बालों की चोटी) खोलकर यह प्रतिज्ञा ली, कि जब तक वह नंदवंश का नाश नहीं कर देंगे, तब तक वह अपनी शिखा नहीं बाँधेंगे।

नंदवंश के विनाश के बाद उन्होंने चन्द्रगुप्त मौर्य को राजगद्दी का उत्तरदायित्व सौंपा। उसके बाद मौर्य साम्राज्य का विस्तार करने के उद्देश्य से चाणक्य ने व्यावहारिक राजनीति में प्रवेश किया और चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री बने।

भारत पर सिकन्दर के आक्रमण के कारण छोटे-छोटे राज्यों की पराजय से अभिभूत होकर चाणक्य ने “व्यावहारिक राजनीति” में प्रवेश करने का संकल्प किया। जिसके चलते वह भारत को एक गौरवशाली और विशाल राज्य बनाना चाहते थे। Acharya Chanakya Kaun The  चाणक्य की विद्वता, निपुणता और दूरदर्शिता का बखान भारत के शास्त्रों, काव्यों तथा अन्य ग्रंथों में निहित है।

उन्होंने पाश्चात्य राजनीतिक चिन्तकों द्वारा प्रतिपादित राज्य के चार आवश्यक तत्त्वों भूमि, जनसंख्या, सरकार व सम्प्रभुता का विवरण न देकर राज्य के सात तत्वों का विवेचन किया है। जिसमें स्वामी (राजा), अमात्य (मंत्री), जनपद (भूमि तथा प्रजा या जनसंख्या), दुर्ग (किला), कोष (राजकोष), दण्ड (बल, डण्डा या सेना), सुहृद (मित्र), इत्यादि शामिल है।

चाणक्य चंद्रगुप्त के भोजन में प्रतिदिन थोड़ा-थोड़ा जहर मिलाया करते थे, ताकि भविष्य में उनके दुश्मनों द्वारा जहर दिए जाने पर भी वह सुरक्षित रह सके। लेकिन, चंद्रगुप्त को इस बारे में कुछ पता नहीं था, एक बार उन्होंने गर्भवती रानी के साथ अपना खाना साझा किया, जो प्रसव से सात दिन दूर थे। भोजन करने से रानी की मृत्यु हो गई, लेकिन चाणक्य ने चंद्रगुप्त मौर्य के अजन्मे बच्चे को बचा लिया। उन्होंने सम्राट चंद्रगुप्त और उनके बेटे बिंदुसारा दोनों के साथ मुख्य राजनीतिक और आर्थिक सलाहकार के रूप में कार्य किया।

चाणक्य के द्वारा अर्थशास्त्र, राजनीति शास्त्र, अर्थनीति, कृषि, समाजनीति आदि महान ग्रंन्थ रचित है। जिसके चलते अर्थशास्त्र को मौर्यकालीन भारतीय समाज का दर्पण माना जाता है।चाणक्य तक्षशिला (वर्तमान में रावलपिंडी, पाकिस्तान) के निवासी थे और राजसी ठाट-बाट से दूर एक छोटी सी कुटिया में रहते थे।

वर्ष 1995 में, उनकी प्रसिद्ध पुस्तक ‘अर्थशास्त्र’ को लाइब्रेरियन रुद्रपत्न शामाशास्त्री द्वारा प्राचीन हथेली के पत्ते की पांडुलिपियों के एक अनिश्चित समूह में खोजा गया और ओरिएंटल रिसर्च इंस्टीट्यूट मैसूर में संरक्षित किया गया।

राजा धनानंद से मुलाकात 

धनानंद के पुत्र पब्बता से मित्रता की, और उसे सिंहासन पर कब्जा करने के लिए उकसाया। राजकुमार द्वारा दी गई एक अंगूठी की मदद से ये एक गुप्त दरवाजे से महल से भाग गए। इन्होने पब्बत का मन जीत लिया और एक शाही अंगूठी प्राप्त की और जंगल में चले गए। Acharya Chanakya Kaun The चाणक्य ने उस शाही अंगूठी से 80 करोड़ सोने के सिक्के कमाने के लिए अपनी बुद्धि का इस्तेमाल किया।

लेकिन धनानंद ने इनके भद्दी रूप को देखकर उनका अपमान किया और उनके सुझावों को खारिज कर दिया। तब इन्होने क्रोधित हो गए और नंद साम्राज्य को नष्ट करने की कसम खाई। तब धनानंद ने उसे गिरफ्तार करने का आदेश दिया। लेकिन चाणक्य वेश में वहां से भाग निकले। मगध के सम्राट धनानंद ने पुष्पपुर में ब्राह्मणों के लिए भोजन का समारोह किया। वहाँ चाणक्य भी अखंड भारत के बारे में तज़्वीज़ देकर राजा धनानंद से उपहार प्राप्त करने की इच्छा में शामिल हुए थे।

उन्होंने धनानंद के पुत्र पब्बता से मित्रता की, और उसे सिंहासन पर कब्जा करने के लिए उकसाया। राजकुमार द्वारा दी गई एक अंगूठी की मदद से ये एक गुप्त दरवाजे से महल से भाग गए। Acharya Chanakya Kaun The इन्होने पब्बत का मन जीत लिया और एक शाही अंगूठी प्राप्त की और जंगल में चले गए। चाणक्य ने उस शाही अंगूठी से 80 करोड़ सोने के सिक्के कमाने के लिए अपनी बुद्धि का इस्तेमाल किया।

हड़प्पा सभ्यता से जुड़ी अनसुनी बातें जो आप अभी तक नहीं जानते

इतने सारे सोने के सिक्कों को जंगल में एक गड्ढा खोदकर सुरक्षित रख कर वह एक ऐसे नायक की तलाश में निकल पड़ा जो धनानंद को खत्म कर सके। इनको ऐसे साहसी वयक्ति की तलाश थी जो धनानंद के नंद वंश को जड़ से नष्ट कर सके। उसी समय चाणक्य की आंखों में चंद्रगुप्त के दर्शन हो गए।

इन्होने उसके माता-पिता को 1000 सोने के सिक्के दिए और चंद्रगुप्त को अपने साथ जंगल में ले गए। वर्तमान में चाणक्य के पास धनानंद के सिर को हटाने के लिए दो हथियार थे। यदि चंद्रगुप्त उनमें से एक थे, एक और पब्बाटा था। इन्होने इन दोनों में से एक को प्रशिक्षित करने और उसे सम्राट बनाने का फैसला किया। उसने उनके बीच एक छोटा सा परीक्षा लिया । इस परीक्षा में चंद्रगुप्त ने पब्बता का सिर काट दिया और विजयी हुए।

चंद्रगुप्त का उदय 

इन्होने धनानंद के नंद वंश को उखाड़ फेंकने और मौर्य साम्राज्य की स्थापना करने के चाहनेवाले थे। इसलिए चंद्रगुप्त ने बिना ज्यादा सोचे समझे एक छोटी सेना बनाई और नंदों की राजधानी मगध पर हमला किया।

लेकिन चंद्रगुप्त की छोटी सेना को नंदों की विशाल सेना ने कुचल दिया। चाणक्य को चंद्रगुप्त पर गर्व था जिसने उसकी परीक्षा जीती थी। इन्होने उन्हें 7 साल का कठोर सैन्य प्रशिक्षण दिया। चाणक्य के मार्गदर्शन में, चंद्रगुप्त एक सक्षम योद्धा बन गया। चाणक्य का हाथ शुरुआत में जल्दबाजी में निर्णय लेने के लिए ही जल गया था। चाणक्य और चंद्रगुप्त हताशा में भेष बदलकर घूमने लगे।

चाणक्य का बदला 

चाणक्य और चंद्रगुप्त गुप्त रूप से इसे सुनते हैं। उन्हें अपनी गलती का एहसास हुआ। उन्होंने खेद व्यक्त किया कि पहले सीमा पर कब्जा किए बिना राजधानी पाटलिपुत्र पर हमला करना एक बड़ी भूल थी। इन्होने उस माता को प्रणाम किया जिसने उन्हें ज्ञान दिया और आगे बढ़ गए।चाणक्य की सलाह पर चंद्रगुप्त ने सीमाओं पर आक्रमण कर उन्हें अपने नियंत्रण में लेना शुरू कर दिया। चंद्रगुप्त ने बिना नौकरी के घूम रहे जंगल के लोगों को प्रशिक्षित किया और उन्हें अपनी सेना में शामिल किया।

अगर आप अपने हाथ सीधे गर्म रोटी के बीच रखेंगे, तो यह आपको जला देगा। है ना? आप मूर्ख चाणक्य की तरह क्यों कर रहे हैं, जिन्होंने सीमा क्षेत्रों पर कब्जा करने के बजाय सीधे राजधानी पर हमला किया और उनके हाथ जला दिए। पहले रोटी का किनारा खाओ, फिर बीच में हाथ रखो, तो नहीं जलेगी।
वह मां अपने बच्चे को इस तरह डांट रही थी।

जब सेना हर तरह से सक्षम हो गई, तो इन्होने जंगल में छिपे हुए सोने के सिक्कों को निकाल लिया और सेना के लिए सभी आवश्यक सामान उपलब्ध कराए। ऐसा करने से इन्होने सेना को मजबूत किया। सीमा पर कुछ छोटे राजा चंद्रगुप्त की सेना में शामिल होने से असहमत थे।

चाणक्य ने ऐसे राजाओं को विष कन्याओं के द्वारा जहर देकर मार डाला। उन्होंने बहुत कम उम्र से ही कुछ लड़कियों को जहर देकर विष कन्याओं में बदल दिया था। Acharya Chanakya Kaun The एक दिन चाणक्य और चंद्रगुप्त वेश में मगध में घूम रहे थे। तब उन्हें एक माँ ने प्रबुद्ध किया जो अपने बेटे को डांट रही थी। मां अपने बेटे को डांट रही थी जो गर्म रोटी के बीच में हाथ डालकर जल जाता है।

शत्रु पराक्रमी राजा को मारने के लिए विष कन्याओं का एक चुम्बन ही काफी था। इसके अलावा, इन्होने ऐसे कई चालाक कदम उठाए और चंद्रगुप्त के नेतृत्व में सभी सीमावर्ती स्थानों पर कब्जा कर लिया।

क्रोध में शत्रु के विषय में सोचने से कोई लाभ नहीं होता। इन्होने शांति से सोचा और दुश्मन पर काबू पाने के लिए एक सामरिक रणनीति तैयार की।

चाणक्य के कहने पर सही समय देखकर चंद्रगुप्त ने मगध की राजधानी पाटलिपुत्र पर आक्रमण किया और धनानंद को मार डाला।

उनकी मृत्यु के बाद, चंद्रगुप्त ने नंद वंश को उखाड़ फेंककर मौर्य साम्राज्य की स्थापना की। इस तरह इनका अखंड भारत साम्राज्य स्थापित करने का सपना साकार हुआ।

इन्होने पुरुष अंगरक्षकों के साथ चंद्रगुप्त के लिए महिला अंगरक्षक नियुक्त किया। चंद्रगुप्त मौर्य इतिहास में महिला अंगरक्षक रखने वाले पहले राजा थे।

चंद्रगुप्त के जीवन की चिंता के कारण ये बचपन से ही उन्हें जहर खिला दिया करते थे। फिर भी वह अपने भोजन में कुछ विष मिलाता था।

एक दिन चंद्रगुप्त की पत्नी दुर्धरा ने भोजन किया। जहरीला खाना खाकर दुर्धरा मौत के मुंह में चली गई। उस समय वह गर्भवती थी।

साथ ही धनानंद से उसका बदला भी पूरा हो गया। चाणक्य चंद्रगुप्त के प्रधान मंत्री बने जब वे पूरे भारत के सम्राट बने। इन्होने सुशासन के लिए एक सक्षम कैबिनेट बनाया। उन्होंने सभी मंत्रियों को अलग-अलग मंत्रालय दिए। उन्होंने नागरिकों के कल्याण के लिए हर संभव सुविधाएं प्रदान कीं।

राजा बिन्दुसार 

एक दिन सुबंधु ने बिन्दुसार को उनकी जन्म कथा सुनाई की कैसे चाणक्य के कारण उनकी माँ ने अपने प्राण त्याग दिए।

बिंदुसार यह सुनकर चाणक्य पर क्रोधित हो गए जब उन्हें पता चला कि वही उनकी मां की मृत्यु का कारण है। राजा के क्रोध के कारण उन्होंने अपना सब कुछ त्याग दिया और पाटलिपुत्र के पास वाले जंगलो में चले गए गए।चंद्रगुप्त के बाद, बिंदुसार मौर्य साम्राज्य का सम्राट बना। चाणक्य उनके लिए भी प्रधानमंत्री बने। लेकिन ढलती उम्र के सुबंधु को वृद्ध चाणक्य से जलन होती थी।

सुबंधु बिंदुसार के दरबार के एक साधारण मंत्री थे। उनकी इच्छा प्रधानमंत्री बनने की थी। इसलिए वह चाणक्य से जलता था ।

चाणक्य की मृत्यु (Chanakya Death )

कुछ दिनों बाद बिन्दुसार को पछतावा हुआ कि उन्हें आचार्य पर क्रोध नहीं करना चाहिए था। लेकिन अब बहुत देर हो चुकी थी। चाणक्य जंगल में एक छोटी सी झोपड़ी में साधु की तरह रह रहे थे।

उनको जिंदा जला दिया। इस तरह सुबंधु की साजिश से 283ई. में चाणक्य की मौत हो गई।

सुबंधु ने जानबूझकर चाणक्य को मार डाला और अदालत में लौट आए और बिंदुसार को झूठी रिपोर्ट दी कि “उन्होंने अपमान के कारण आत्महत्या की बिंदुसार ने तब सुबंधु को जंगल जाने और उनको समझाकर वापस लेने का आदेश दिया। लेकिन सुबंधु नहीं चाहते थे की चाणक्य वापस महल में कदम रखे।

इसलिए उसने जंगल में चाणक्य की कुटिया देखी और उसमें आग लगा दी और धनानंद से अपनी नफरत के कारण चाणक्य ने एक सड़क के भिखारी चंद्रगुप्त को सम्राट बनाया था और मौर्य साम्राज्य की स्थापना की। लेकिन अब उसे उसी राज्य के लोगों ने मार डाला। चाणक्य के मामले में भी “जो बदला लेने जाता है, वह एक दिन बुरी तरह से कब्रिस्तान में शामिल हो जाता है” कहावत सच हो गई।

चाणक्य के वचन

  • जिस तरह एक सुगंध भरे वृक्ष से सारा जंगल महक जाता है, उसी तरह एक गुणवान पुत्र से सारे कुल का नाम रौशन हो जाता है.
  • ऋण, शत्रु और रोग को कभी छोटा नहीं समझना चाहिए. इन्हें जल्द से जल्द चुका देना चाहिए.
  • भगवान मूर्तियों मे नहीं बसता. आपकी अनुभूति ही आपका ईश्वर है
  • आत्मा आपका मंदिर. भाग्य भी उन्हीं का साथ देता है जो कठिन से कठिन स्थितियों में भी अपने लक्ष्य के प्रति अडिग रहते हैं
  • उस स्थान पर एक पल भी नहीं ठहरना चाहिए जहां आपकी इज्जत न हो, जहां आप अपनी जीविका नहीं चला सकते, जहां आपका कोई दोस्त नहीं हो और जहां ज्ञान की तनिक भी बातें न हों.
  • मूर्ख लोगों से कभी वाद-विवाद नहीं करना चाहिए क्योंकि ऐसा करने से हम अपना ही समय नष्ट करते है.
  • जो आपकी बात को सुनते हुए इधर-उधर देखे उस आदमी पर कभी भी विश्वास न करे.
  • दूसरों की गलतियों से सीखो, अगर अपने ही ऊपर प्रयोग करके सीखने का प्रयास करोगे तो आयु कम पड़ जाएगी. किस्मत के सहारे चलना अपने पैरों पर कुल्हाड़ी मारने जैसा है. ऐसे लोगों को बर्बाद होने में वक्त नहीं लगता है.कोई भी व्यक्ति ऊंचे स्थान पर बैठकर ऊंचा नहीं हो जाता बल्कि हमेशा अपने गुणों से ऊंचा होता है

चाणक्य के गुरु कौन थे

इन्हें चाणक्य नाम अपने गुरु चणक से प्राप्त हुआ था। इन्होंने अपने जीवन में अच्छी और बुरी दोनों तरह की परिस्थितियों का सामना किया परंतु कभी भी अपना धैर्य नहीं खोया और अपनी बुद्धिमत्ता से नंद वंश का नाश कर चंद्रगुप्त को मौर्य साम्राज्य का राजा बनाया।

चाणक्य किस जाती के थे

कुछ विद्वानों के अनुसार कौटिल्य का जन्म पंजाब के ‘चणक’ क्षेत्र में हुआ था अर्थात आज का चंडीगढ, जबकि कुछ विद्वान मानते हैं कि उनका जन्म दक्षिण भारत में हुआ था। कई विद्वानों का यह मत है कि वह कांचीपुरम के रहने वाले द्रविण ब्राह्मण अर्थात दक्षिण भारतीय निषाद थे।

चाणक्य के माता-पिता का नाम

चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे। वे कौटिल्य या विष्णुगुप्त नाम से भी विख्यात हैं। पिता श्री चणक के पुत्र होने के कारण वह चाणक्य कहे गए।







 

FAQ

चाणक्य कौन थे ?
चाणक्य एक महान शिक्षक, दार्शनिक, अर्थशास्त्री, वकील, प्रधान मंत्री और राजनयिक थे।उन्हें कौटिल्य के नाम से भी जाना जाता है। चाणक्य चन्द्रगुप्त मौर्य के महामंत्री थे।

चाणक्य का जन्म कहाँ हुआ था ?
चाणक्य का जन्म 375 ईसा पूर्व में तक्षशिला, पाकिस्तान में एक गरीब ब्राह्मण परिवार में हुआ था।

चाणक्य की मृत्यु कब और कैसे हुई थी ?
चाणक्य के एक दुश्मन ने 283ई. में उनकी कुटिया में आग लगाकर उनको जिन्दा जलाकर मार दिया था

चाणक्य कौन सी जाति के थे ?
चाणक्य एक द्रविण ब्राह्मण जाति से ताल्लुक रखते थे।

आचार्य चाणक्य की पत्नी का क्या नाम था ?
आचार्य चाणक्य की पत्नी का नाम यशोमती था।

चाणक्य के गुरु कौन था ?
चाणक्य के गुरु का नाम गुरु चणक था।

चाणक्य के पिता कौन थे ?
चाणक्य के पिता का नाम ऋषि कनक था

चाणक्य के माता पिता कौन थे ?
चाणक्य के पिता का नाम ऋषि कनक एवं माँ का नाम चनेश्वरी था।

चाणक्य का गोत्र क्या था ?
चाणक्य का गोत्र कोटिल था जिससे इनका नाम कौटिल्य निकल कर आया।

चाणक्य का नाम कौटिल्य क्यों पड़ा ?
राजा धनानंद से बचने के लिए चाणक्य ने अपना बदलकर कौटिल्य रखा था।

चाणक्य का असली नाम क्या था ?
चाणक्य का असली नाम विष्णुगुप्त था।

3.7 3 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments