You are currently viewing Cheque Book Kya Hai In Hindi | Cheque Book Kaise Bhare
Cheque Book Kya Hai

Cheque Book Kya Hai In Hindi | Cheque Book Kaise Bhare

Cheque Book Kya Hai In Hindi | Cheque Book Kaise Bhare ; नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज में आपको काफी महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आयी हूँ और दोस्तों यह जानकारी आपके लिए जरुरी है की Cheque Book Kya Hai In Hindi | Cheque Book Kaise Bhare। दोस्तों आज के समय में काफी लोगो के पास किसी न किसी बैंक में अकाउंट जरूर होता है।  लेकिन अधिकतर लोगो को बैंको की तरफ से उनके अकाउंट के लिए दी जाने वाली अधिकतर फैसिलिटी के विषय मे मालूम नही होता है ऐसे मे लोगो के पास बैंक अकाउंट रहते हुए भी बैंकिंग सेवाओ का लाभ नही उठा पाते है दोस्तो अगर बैंको की ओर से आपके अकाउंट के लिए दी जाने वाली फैसिलिटी की बात किया जाए तो अनके तरह की फैसिलिटीया प्रदान कराया जाता है और आज हम आपको बातएंगे की चेक बुक क्या है और इसके कितने प्रकार होते है।  और आज हम बताने वाले है तो दोस्तों बिना वक़्त गुज़ारे शुरू करते है।

Cheque Book Kya Hai ? 

चेक बुक सभी बैंको द्वारा जारी किए जाने वाला एक प्रकार का ऐसा कागज़ात है जो की कई पेज से बना बुक होता है जिसके प्रत्येक पेज पर बैंक से जुड़ी कोड के साथ अन्य चीजे जैसे की नाम, रूपए, हस्ताक्षर करने की आप्शन होता है चेक बुक मे उपस्थित प्रत्येक पेज चेक कहलाता है चेक कागज से बना जरूर होता है मगर जिस तरह से खास पेपर से बना रूपए का मान्यता है ठिक उसी प्रकार लेन-देन के लिए चेक को सभी बैंको की ओर से मान्यता प्राप्त है क्योंकि चेक बुक को जारी खूद बैंक करती है एवं चेक बुक उन्ही लोगो को दिया जाता है जिनका खाता बैंक मे मौजूद होता है।

Cyber Security kya hai In Hindi 

End-to-end encryption kya hai Or Kaise Kaam Karta Hai 

चेक कितने प्रकार के होते है?|What are the types of checks?

  • खुला चेक | Open Check

खुला चेक की बात किया जाए तो इस चेक मे भरा गया रकम प्राप्त करने के लिए चेक को क्लियर होने का इंतजार नही करना परता सीधे बैंक कर्मचारी के हाथो मे चेक देकर तुरंत के तुरंत नगद प्राप्त कर सकते है या अपने बैंक अकाउंट मे पैसे ट्रांसफर करा सकते है।

  • आदेश चेक | Order Check 

आदेश चेक की बात किया जाए तो इस प्रकार के चेक के लिए भुगतान बैंक उसी व्यक्ति को करता है जिसका नाम चेक पर लिखा होता है व्यक्ति चाहे तो खूद नगद या अपने बैंक अकाउंट मे पैसे न लेकर चेक के पिछे हस्ताक्षर करके किसी अन्य व्यक्ति को अधिकृत कर सकता है।

  • वाहक चेक | Bearer Check

वाचक चेक मे भरा गया रकम कोई भी व्यक्ति बैंक जाकर पैसे भूना सकता है यदि यह चेक गूम हो जाए तो आप समझ सकते है वह व्यक्ति आसानी से चेक मे भरा गया रकम बैंक से प्राप्त कर लेगा।

  • क्रॉस्ड चेक | Crossed Check

इस चेक की उपर बाई तरह दो समानांतर लाईन खिचा जाता है इससे समझ लेना चाहिए जिस व्यक्ति या संस्था के नाम से चेक काटा गया है इस चेक मे भरा गया रकम नगद प्राप्त नही किया जा सकता केवल बैंक द्वारा अकाउंट मे ही मिलते है।

स्थान के आधार पर चेकों का वर्गीकरण

  • स्थानीय चेक | Local Check

यदि कोई शहर मान के चलिए दिल्ली के किसी बैंक ब्रांच का चेक दिल्ली मे ही उस बैंक से संबंधित ब्रांच मे क्लियर हो तो यह स्थानीय चेक कहलाता है यह चेक शहर के बाहर भी भुनाया जा सकता है मगर भुनाने की चार्ज लगता है।

  • आउटस्टेशन चेक | Outstation Check

यदि किसी बैंक ब्रांच का चेक अन्य शहर जगह मे क्लियर कराया जाए तो इस चेक को आउटस्टेशन चेक कहा जाता है इसमे क्लियर कराने का बैंक द्वारा फिक्स्ड चार्ज लिया जाता है।

चेक बुक के लिए आवेदन कैसे करें?

चेक बुक प्राप्त करने के लिए सबसे प्रथम आपका किसी भी बैंक मे अकाउंट होना अनिवार्य है यदि आपका किसी बैंक मे अकाउंट है और चेक बुक अभी तक नही लिया है तो दो तरीको से चेक बुक के लिए अप्लाई कर सकते है।

  1. चेक बुक लेने का पहला तरीक़ा आप एक सादा पेपर मे चेक बुक के लिए आवेदन लिखे एवं बैंक पासबुक और आधार कार्ड का फोटो काॅपी के साथ अपने बैंक ब्रांच मे जाकर जमा करे।
  2. दूसरा तरीक़ा यदि आप अपने बैंक का मोबाइल बैंकिंग या नेटबैकिंग यूज करते है तो इसके द्वारा भी बड़ी आसानी से चेक बुक के लिए अप्लाई कर सकते है।

चेक बुक कितने दिन में आती है?

चेक बुक के लिए अप्लाई करने के उपरांत बैंक द्वारा चेक बुक आपके पते पर डाक से भेज देती है जो की क्रमश दस से पंद्रह दिनो मे प्राप्त हो जाता है।

एट पार चेक

यह ऐसा चेक होता है जो पूरे देश में सबंधित बैंक के सभी ब्रांचों में स्वीकार्य होता है और इस चेक का ख़ास बात यह है कि बाहर के ब्रांचों में इसे क्लियर करने के दौरान इस चेक के लिए अतिरिक्त प्रभार नहीं लगता है

स्थान के आधार पर चेकों का वर्गीकरण

  1. स्थानीय चेक

दिल्ली के किसी बैंक ब्रांच का चेक दिल्ली मे ही उस बैंक से संबंधित ब्रांच मे क्लियर हो तो यह स्थानीय चेक कहलाता है यह चेक शहर के बाहर भी भुकतान किया जा सकता है मगर भुकतान का चार्ज लगता है।

  1. आउटस्टेशन चेक

यदि किसी बैंक ब्रांच का चेक अन्य शहर जगह मे क्लियर कराया जाए तो इस चेक को आउटस्टेशन चेक कहा जाता है इसमे क्लियर कराने का बैंक द्वारा फिक्स्ड चार्ज लिया जाता है।

  1. एट पार चेक

यह ऐसा चेक होता है जो पूरे देश में सबंधित बैंक के सभी ब्रांचों में स्वीकार्य होता है और इस चेक का ख़ास बात यह है कि बाहर के ब्रांचों में इसे क्लियर करने के दौरान इस चेक के लिए अतिरिक्त प्रभार नहीं लगता है

Cheque book kaise bhare

  • चेक बुक में ऊपर बायीं और date का कॉलम है उसमे हमें दिनांक लिखना होता है !
    • इसके बाद इस पर बायीं तरफ pay लिखा होता है इसमें उस व्यक्ति या संस्था का नाम लिखना होता है जिसे payment करना है !
    • इसके बाद Rupees वाले कोलम में शब्दों में उस अमाउंट को लिखा जाता है जिसका भुगतान करना है !
    • इसके बाद Rs. वाले बॉक्स में digit में अमाउंट को लिखना होता है !
    • इसके बाद निचे बायीं तरफ एक a/c का बॉक्स आता है उसमे आपको अपना अकाउंट नंबर लिखना होता है ! आजकल लगभग सभी चेक बुक में अकाउंट नम्बर प्रिंटेड होते है !
    • इसके बाद निचे दाई तरफ अकाउंट होल्डर या संस्था का नाम दिया होता है वहां आपको अपना हस्ताक्षर या फर्म या कंपनी की दशा में शील के साथ हस्ताक्षर करने होते है !

दोस्तों उम्मीद है आपको आसानी से समझ आ चूका होगा आपको यह आर्टिकल पसंद आया है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताये। और दोस्तों आपको ऐसे ही और नयी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट में बताये और आपको कंटेंट लिखवाना है तो आप हमें इमेज पर दिए हुए नंबर पर कॉन्टेक्ट करे।

धन्यवाद

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments