You are currently viewing Dark Web Kya Hai?

Dark Web Kya Hai?

डार्क वेब क्या है और कैसे काम करता है

स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट में आज हम आपको बताने वाले है की Dark Web Kya Hai ? और इसका इस्तेमाल कैसे करते है और इससे जुड़े तथ्य आपको बातएंगे यकीन है की आपको यह आर्टिकल अच्छे से समझ आ जायेगा आपको इस आर्टिकल में सरल भाषा में लिखा गया  है जिससे आपको आसानी से समझ आ जायेगा  और दोस्तों यह डार्कवेब इंटरनेट से जुड़ा है और इंटरनेट के स्वरुप हम देखते है। जिसमें गूगल, याहू, फेसबुक, ट्विटर और अन्य वेबसाइटें होती है।

Dark Web Kya Hai जिसे हर कोई खोल सकता है। लेकिन इंटरनेट में एक दुनिया और बसी है जिसे Dark वेब कहा जाता हैं।लगभग दस साल पहले शुरू की गई यह सेवा अब अपराधियों के लिए सुरक्षित सहारा बन गई है । Dark Web Kya Hai  तकनीक जगत के कई लोग इसे साइबर जगत का अंडरवर्ल्ड भी कहने लगे हैं।तकनीक कभी ग़लत नहीं होती है। ये इस पर निर्भर करता है।

Dark Web Kya Hai?

डार्क वेब इंटरनेट की एक अंधेरी दुनिया है जहां आम इंटरनेट यूजर्स का पहुंचना कठिन है। इसमें काफी जरुरी  जानकारियां होती हैं और इस संदेह माना नहीं किया जा सकता कि बैंकिंग और सुरक्षा से लेकर कई जरुरी जानकारियों से लैस इंटरनेट के लिए डीप वेब एक बड़ा ख़तरा बनकर उभरा है।डीप या Dark Web हमें सार्वजनिक तरीके पर दिखने वाले इंटरनेट से लगभग 96% बड़ा हो सकता है।टॉर के ज़रिए डार्क वेब तक लोग पहुंचते हैं।  इसे रक्षा सेवाओं के लिए इस्तेमाल किया जाता था। लेकिन जैसा ज़्यादातर इसे वो लोग भी उपयोग करने लगे जिन्हें यहां नहीं होना चाहिए था। साइबर अपराधी तमाम ग़ैर कानूनी गतिविधियों के लिए इसका उपयोग करने लगे।सरकारी या ग़ैरसरकारी जासूसी, ड्रग्स बेचने से लेकर पॉर्न का कारोबार और मानव टैक्स की चोरी तक, सब कुछ इंटरनेट की इस काली दुनिया में खुले आम होता है। Dark Web Kya Hai और इंटरनेट की दुनिया में तीन भागो में बांटा गया है तो दोस्तों थोड़ी जानकारी आपको दी है।  तो बिना वक़्त गुजारे जान लेते है।

इंटरनेट की इस दुनिया को हम तीन भागों में बांट सकते हैं –

सर्फेस वेब

दोस्तों नाम से मालुम चल चूका होगा। की सर्फेस वेब इंटरनेट की बाहरी सतह की तरह है। Dark Web Kya Hai आमतौर की दुनिया पर हम इंटरनेट की जो दुनिया देख रहे है। यह सर्फेस वेब है। और समाचार से लेकर वीडियो देखने की सुविधा देने वाली सभी वेबसाइट इसी पर दिखती हैं।इंटरनेट explor , google , chrome mozilla

Firefox  जैसे विभिन्न ब्राउजर की सहायता से इन सभी वेबसाइट को आसानी से search  करके और देखा जा सकता है। आप किसी समाचार की Title या उसके अंदर की कुछ lines  लिखकर उसके सोर्स तक पहुंच जाते हैं। और आसानी से सभी information जानकारी जान कर लेते हैं।

डीप वेब

सर्फेस वेब के बाद डीप वेब का आता है। हकीकत में ईमेल लॉग इन करने के बाद इंटरनेट की जो दुनिया खुलती है, वह डीप वेब कहलाती है। बेशक इंटरनेट के इस हिस्से में भी अति गहरा डाटा छिपा हुआ है, लेकिन उसे सर्च इंजन की सहायता से search नहीं किया जा सकता है। example के तोर पर आपके ईमेल में क्या है, Dark Web Kya Hai इसका पता ईमेल खोलने के बाद ही लग सकता है। किसी भी अन्य जरिये से वहां तक पहुंच ना संभव नहीं है। बैंकिंग लॉग इन से लेकर अन्य इसी तरह के लॉग इन डीप वेब की category में ही आते हैं। यहां यह भी ध्यान देने की बात है कि कुछ लोग डीप वेब और डार्क वेब को एक समझते हैं, लेकिन ऐसा नहीं है  परन्तु यह दोनों अलग-अलग है।

Dark Web

यह इंटरनेट की काली दुनिया है। इसे अंधेरी दुनिया या डार्क वेब इसलिए कहा जाता है, क्योंकि यहां तक पहुंच ना सभी के लिए संभव नहीं है। इंटरनेट के इस हिस्से तक पहुंचने के लिए जरुरी रास्ते अपनाने पड़ते हैं। Dark Web Kya Hai  सबसे जरुरी बात यह है कि google chrome  internet  explor  और firefox  जैसे browser dark वेब पर मौजूद वेबसाइट नहीं खोलते हैं। इन वेबसाइट को खोलने के लिए उपाय या कुछ अन्य ब्राउजर की सहायता लेनी होती है। इसके अलावा भी इन वेबसाइट तक पहुंचने के लिए कई तरह की जानकारियों की  आवश्यकता पड़ती है।

Dark Web की विशेषता

डार्क वेब का  उपयोग ज्यादातर हैकर करते हैं। Dark Web Kya Hai  यहां चुराए गए डाटा की purchase  होती है। काफी अपराधों को नतीजा दिया जाता है। काफी कुछ जो सर्फेस वेब पर रोक है, यहां मिल जाता है।

  • कुछ पत्रकार (Journalist ) और खुफिया एजेंसियां भी इनका उपयोग करती हैं।
  • छिपाने योग्य, जानकारियों के आदान-प्रदान में इन्हें भरोसेमंद माना जाता है। सामान्य यूजर को इनसे दूर रहने की सलाह दी जाती है। तकनीकी जानकारी की जरा सी कमी यहां आने वाले को बड़े आपराधिक जाल में फंसा सकती है। सामान्य  यूजेस  को इससे दूर रहने में ही भलाई है।
  • Dark Web कैसे चलाएं और टोर ब्राउज़र को कैसे डाउनलोड कर सकते है।
  • इसके लिए सबसे जरूरी है कि आपके पास एक लैपटॉप या कंप्यूटर हो और हाई स्पीड इंटरनेट होना avshya जरूरी है।
  • सबसे पहले, आपको अपने कंप्यूटर या लैपटॉप में अपनी आधिकारिक वेबसाइट से टोर ब्राउजर डाउनलोड करना होगा। आप इस लिंक से कर सकते हैं।
  • डाउनलोड करने के बाद टोर ब्राउजर को इनस्टॉल करें। फिर इसे खोलें, और कनेक्ट बटन पर क्लिक करना होगा।
  • इसके बाद कनेक्ट बटन पर क्लिक करने के बाद, कुछ समय की प्रक्रिया होगी, फिर यह आपको टोर सरवर से जोड़ देगा, और आपका लोकल आईपी ऐड्रेस बदल जाएगा
  • इसके बाद कनेक्ट हो जाएगा आपका टोर ब्राउजर खुल जाएगा, और यदि आप अपने नेटवर्क की सेटिंग देखना चाहते हैं  तो आपका आईपी बदल गया है या नहीं, तो टेस्ट करने के लिए टोर नेटवर्क सेटिंग पर जाकर चेक कर सकते हैं।
  • यहां पर आपको अपना नया आईपी देखने को मिलेगा जिससे आप गुप्त सर्फिंग का उपयोग कर कर सकते हैं।
  • अब आपका टोर ब्राउज़र तैयार है, आप इसमें डार्क वेब सर्फ कर सकते हैं। डार्क वेब पर onion साइटों को सर्फ करने के लिए, आपको उनका ‘यू आर एल’ मालूम होना चाहिए। उसके बाद ही आप उन वेबसाइटों पर जा सकते हैं और इंटरनेट की काली दुनिया का हिस्सा बन सकते हैं।

कैसे शुरू हुआ डार्क वेब

इसकी शुरुआत 90 के दशक में अमेरिका में की गयी थी। अमेरिकी सेना ने पूरे भारतवर्ष में मौजूद अपने एजेंट्स के साथ खुफिया जानकारी को शेयर करने के लिए डार्क वेब को बनाया। Dark Web Kya Hai  हालांकि, कम लोगों के डार्क वेब पर होने से गुप्त सूचनाएं लीक हो सकती थीं। इस कारण Anonymity बनाने के लिए उसने डार्क वेब को आम जनता के लिए भी जारी कर दिया। ज्यादा यूजर्स के यहां पर आने से गुप्त सूचनाओं का कोई पता नहीं लगा सकता था।

डार्क वेब केसे काम करता है

हमारी यूजफुल वेबसाइट के मुकाबले डार्क वेब के काम करने का तरीका पूरी तरह से अलग होता है। इन डार्क वेब वेबसाइट को कोई भी आसानी से एक्सेस नहीं कर सकता है। google chrome mojila firefox , आदि नॉर्मल वेबसाइट की मदद से हम इन वेबसाइट तक नहीं पहुंच सकते हैं। इन वेबसाइट को एक्सेस करने के लिए हमें एक स्पेशल वेब ब्राउज़र की आवश्यकता पड़ती है जिसे Tor कहा जाता है। वैसे तो इस स्पेशल वेब ब्राउज़र की मदद इसे खोलना बहुत ही आसान होता है  केवल लॉगिन कर एंटर करना। आपको इसमें एंटर करने के लिए कुछ चीजों का ध्यान रखना आवश्यक है।

1- सबसे पहली चीज़, आपको एक secured VPN service की जरुरत होगी जो की आपके identity को दूसरों से सुरक्षित रखे। इसलिए अपने आपको और अपने डेटा  को secure रखने के लिए एक secured VPN service का इस्तमाल जरूर करे जैसे की आप चाहे तो Nord VPN, Strong VPN, HideMyIP, Cactus VPN, Kepard VPN और HideIPVPN का उपयोग कर सकते हैं।

2- आपको Tor Web Browser को डाउनलोड करना है जिससे की आप डार्क वेब में सुरक्षित और secure लॉगिन  कर सकें। Tor Web Browser को हमेशा ऑफिशियल वेबसाइट से ही डाउनलोड करें।

3- एक बार आपने securely Tor web बाराउbrowser को install कर लें, फिर आपको सभी apps और programms को बंद कर देना चाहिए जिससे की आप आसानी से dark web में crawl कर सकें

वीपीएन का उपयोग ज़रूर करें

आपको अपनी सुरक्षा का विशेष ध्यान रखने की जरूरत है। वह भी तब जब आप डार्क वेब का उपयोग कर रहे हों।अपने लिए एक अच्छे VPN सेवा चुनें। यदि आप दो का उपयोग नहीं कर रहे हैं।तो आपको एक VPN सेवा का उपयोग करना चाहिए। वीपीएन एक ऐसी रक्षा प्रणाली है जो आपकी पहचान और लोकेशन को गुप्त रखती है इसलिए इसका उपयोग करना और भी जरूरी हो जाता है।

डार्क वेब को कैसे नियंत्रित किया जाता है?

  • CEOP – बाल शोषण और ऑनलाइन सुरक्षा कमांड – जो राष्ट्रीय अपराध एजेंसी का हिस्सा है, डार्क वेब पर अवैध गतिविधि को ट्रैक करने के लिए फोरेंसिक पेशेवरों और गुप्त इंटरनेट जांचकर्ताओं सहित अपने विभिन्न विशेष के कौशल का उपयोग करता है।
  • CEOP को एक महीने में 1,300 से अधिक रिपोर्टें मिलती हैं, जिनमें से अधिकांश मुख्य इंटरनेट सेवा प्रदाताओं जैसे उद्योग समूहों से आती हैं।
  • एक वार्षिक समीक्षा (2011-2012) से पता चला कि 400 से अधिक बच्चों को उनकी गतिविधि के परिणामस्वरूप सुरक्षित किया गया था। इसके कारण 192 संदिग्धों को भी गिरफ्तार किया गया।

डार्क नेट मार्केट

जो इंडस्ट्रीज डार्क वेब में ही ऑपरेट होती हैं उन्हें ही मार्केट कहा जाता है। इस मार्केट में बहुत सारे इलीगल प्रोडक्ट की कालाबाजारी भी होती है। जैसे गवर्नमेंट के सेक्रेट्स डिफेंस सेक्रेट्स चाइल्ड ट्रैफिकिंग आदि। यह सभी वह कार्य होते हैं जिनका गवर्नमेंट और लॉ एनफोर्समेंट एजेंसीज विरोध करती है। वही मार्केट में आप क्रेडिट कार्ड नंबर भी खरीद सकते हैं सभी प्रकार के ड्रग्स, चोरी की गई subscription credentials, hack Netflix account और सॉफ्टवेर जो किसी के कंप्यूटर सिस्टम को हैक करने के लिए आपकी कर सकते हैं।

दोस्तों यह तक यह आर्टिकल ख़तम होता है उम्मीद है आप सभी को अच्छे से समझ आ चूका होगा और अपने यह आर्टिकल को पूरा पढ़ा है , तो आप आपने दोस्तों तक जरूर शेयर करे।

धन्यवाद


Q. Dark Web या Dark Net क्या होता है?

Dark web एक छोटा सा हिस्सा होता है Deep Web का जहाँ की सभी illegal चीजें उपलब्ध होते हैं. Dark Web के अधिकतर encrypted होते हैं इसलिए इन्हें केवल ऐसे browser से ही access किया जा सकता है जो की इन्हें खोल सकें जैसे की TOR Browser.

Dark Net के Websites को traditional search engines में ढूंडा नहीं जा सकता है. इन Dark Net में आपको drugs, counterfeit goods, weapons, के साथ साथ hacking sites, X-rated sites, bitcoin buying और Selling, जैसे सभी illegal चीज़ें आसनी से मिल सकती हैं.

Q. Deep web और Dark Web exist ही क्यूँ करते हैं?

  • दोनों deep web और dark web offer करती हैं privacy और anonymity.
  • ये deep web मदद करती हैं आपके personal information को protect करने में जिन्हें की आप चाहते हैं वो private ही रहे.
  • उदाहरण के लिए जब आप अपने bank account को access करते हैं, तब वो पूरी तरह से private नहीं होता है. यहाँ पर bank को ये पता होता है की आपने अपने account को access किया है.
  • वहीँ dark web operate करता है पुरे anonymity के साथ. आप जो भी काम करते हैं ये आपकी business होती है. किसी को कुछ भी मालूम नहीं पड़ता है. यदि आप थोडा सा precautions लें तब आपको बिलकुल भी track या trace नहीं किया जा सकता है.
  • कुछ लोगों के लिए, privacy एक बहुत ही बड़ा concern है internet पर. उन्हें उनके सभी personal information के ऊपर control चाहिए जो की standard internet service providers और websites अक्सर हमसे collect कर लेते हैं.
  • Freedom of speech भी एक issue है,और कुछ लोग अपनी argument इसी privacy और anonymity को लेकर करेंगे. यही कारण है की law मानने वाले नागरिक Tor Browser की privacy को ज्यादा ध्यान देते हैं.
  • Anonymity की अपनी ही positive effects हैं — जैसे की बड़ी ही आसानी से अपने views को express कर पाना जो की unpopular हो सकता है, लेकिन illegal नहीं. और dark web भी मदद करती है ऐसे चीज़ों को possible करने में.

Q. Dark Web को securely इस्तमाल कैसे करें?

ये तो आप सब समझ ही चुके होंगे, web का ये हिस्सा पूरी तरह से hidden है और illegal भी कुछ कारणों के लिए. इसलिए आप यहाँ पर फट से login नहीं कर सकते हैं.

आपको थोडा special attention देना होगा इसकी security के लिए वहीँ जब आप इन dark websites को visit कर रहे हों. जैसे की आपको अपने microphone और camera को cover करना चाहिए जब आप इन dark websites को visit कर रहे हों और कभी भी अपने personal details का इस्तमाल नहीं करना चाहिए.

अगर आप इन dark websites का सही इस्तमाल कर रहे हैं जैसे की project search, तब तो ये बहुत ही बढ़िया बात है. लेकिन वहीँ अगर आपके इरादे ठीक नहीं है तब ये ध्यान में रखें की police की आखें आपके ऊपर हमेशा है. इसलिए केवल बहुत जरुरत पड़ने पर ही dark web को enter करें अन्यथा नहीं. या फिर तब जब आपके नेक इरादे हों.


Related Link :

 

5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments