Tuesday, July 23, 2024
HomeComputer & TechnologyDeep Fake क्या है जाने पूरी जानकारी डीपफेक टेक्नोलॉजी क्या है

Deep Fake क्या है जाने पूरी जानकारी डीपफेक टेक्नोलॉजी क्या है




Deep Fake क्या है – दोस्तों आज आप जाने वाले हैं deep fake क्या होता है तो जैसे कि शायद ही कई लोगों को उसके बारे में बिल्कुल भी जानकारी नहीं है परंतु यदि आप सच में जानना चाहते हैं कि क्या है यह deep fake तो उसके लिए सबसे पहले आपको इस पोस्ट को पूरा पढ़ना होगा तभी आप समझ पाएंगे कि आखिरकार Deep Fake क्या है

सबसे पहले मैं आपको यह बता दूं कि यह है टेक्नोलॉजी पर आधारित है जो कि शायद ही कई लोग नहीं जानते यह कैसी टेक्नोलॉजी है जिसकी मदद से आप किसी भी वीडियो या फोटो में मौजूद किसी व्यक्ति को बड़ी आसानी से किसी और को दूसरे व्यक्ति में बदल सकते हैं यानी कि आपने यह टेक्नोलॉजी को कई बार अपनाया होगा पर आपको यह नहीं मालूम कि इस टेक्नोलॉजी को क्या कहते हैं तो आइए पूरी जानकारी जानते हैं deep fake क्या है

यह एक AI यानी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस पर आधारित है तो जैसे कि आप लोग इस बात से बिल्कुल सहमत है कि आज के समय में सबसे ज्यादा एडवांस एआई हो रहा है हर कोई टूल , सॉफ्टवेयर की हेल्प से बनता है

और उसी के दौरान यह टेक्नोलॉजी मशीन लर्निंग और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करके काफी हाई क्वालिटी में. वीडियो और तस्वीर तैयार करके प्रस्तुत करता है तो ऐसे में आप लोग सोच रहे होंगे कि आपको इस तक नॉलेज के बारे में जरूर जाना चाहिए क्योंकि आज के समय में ऐसी नई नई टेक्नोलॉजी है जिसके बारे में आज भी हमें मालूम नहीं है इसीलिए हर बार हम आपको ऐसे ही नई नई टेक्नोलॉजी के बारे में आपकॊ update देते रहते हैं  हाल फिलहाल में हम deep fake के बारे में बात कर रहे हैं तो आइए जानते हैं इसकी पूरी जानकारी

ऐसे में आप लोगों के मन में यह सवाल जरूर आया होगा क्या यह सिर्फ वीडियो के बारे में हैं

नहीं इस टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल करके वीडियो के अलावा कई सारी ऐसी फोटोस भी बनाई जा सकती है जिससे आप पहचानना मुश्किल भी हो जाता है मैं सरल भाषा में समझाऊं तो इसका मतलब यह है कि जीने हम पहचानना यानी आम लोगों के बस में नहीं होता इन्हें सिर्फ एक बेहतरीन स्कैनिंग तकनीकों के द्वारा बनाया जा सकता है आप चाहे तो किसी भी प्रकार का एडिटिंग या फिर बदलाव कर सकते हैं सोशल मीडिया में कई ऐसे fake account बने होते हैं और वह भी इसी तकनीक का इस्तेमाल करके 1 लोगों को ज्यादा तक गुमराह कर देते हैं आज के समय में LinkedIn और ट्विटर पर कई सारे ऐसे फेक अकाउंट मिलेगी जिसमें आपको असली फोटो के बदले नकली फोटो मौजूद होती हैं

साथ ही आप इसमें इस टेक्निक के इस्तेमाल से नकली ऑडियो यानी आवाज भी बदली जा सकती है हाल ही में एक जर्मन ऊर्जा फर्म कि ब्रिटेन की सहायक कंपनी थी जिसमें जर्मन के सीईओ की आवाज की नकल करने वाले धोखेबाज द्वारा फोन किए जाने के बाद हंगेरियन बैंक खाते में लगभग 200,000 भुगतान किया और उस कंपनी का आज भी यह मानना है कि यह deep fake की आवाज थी

Deep Fake क्या है

Deepfake एक प्रक्रिया है जिसका उपयोग व्यक्तियों की फोटोज़ या वीडियोज़ में अन्य व्यक्तियों की मुखौटें को अदृश्य करने के लिए किया जाता है। इसका उपयोग अधिकांशतः फिल्मों, टेलीविजन शोज़ और मजेदार वीडियोज़ बनाने में किया जाता है, लेकिन इसकी खतरनाक प्रतिबद्धता भी है क्योंकि यह कुछ व्यक्तियों द्वारा प्रचलित गलत जानकारी या अगुवाई की समझ बनाने में भी उपयोग किया जा सकता है।

Deepfake Technology का इतिहास

संकुचित तकनीकों और मशीन लर्निंग के विकास के साथ-साथ वृद्धि हो रहा है। प्रथम deepfake videos वेबसाइटों पर 2016 के महीनों में प्रकट हुए, जब AI वाले प्रोग्रामरों ने अपने मॉडल्स को इसके प्रयोग में लागू किया। इसके बाद, deepfake technology त्वरित विकास के कारण अधिक विविध उपयोगों में उपयोग की गई, जिसमें फिल्मों, टेलीविजन शोज़, वीडियोज़ और पॉलिटिकल व्यवहार के लिए उपयोग हो रहे। हालांकि, deepfake technology के विकास के साथ-साथ, इसके खतरनाक प्रतिबद्धताओं के बारे में भी चर्चा होती रही है

डीप फेक को कैसे बनाया जाता है?

डीपफेक तकनीक मशीन लर्निंग और कंप्यूटर विजन तकनीक के संयोजन पर आधारित है। इस तकनीक का इस्तेमाल किसी व्यक्ति के चेहरे को दूसरे व्यक्ति की तरह दिखने के लिए किया जाता है।

डीपफेक वीडियो बनाने की प्रक्रिया में आमतौर पर निम्नलिखित चरण शामिल होते हैं:

  • डेटा संग्रह: प्रतिरूपित किए जा रहे व्यक्ति के बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए, वीडियो, छवियों और व्यक्ति के अन्य मीडिया का उपयोग करके एक व्यक्तिगत डेटा सेट बनाया जाता है।
  • मॉडल प्रशिक्षण: डेटा को फिर एक गहन शिक्षण मॉडल में फीड किया जाता है, जो व्यक्ति के चेहरे और चेहरे की गतिविधियों की नकल करना सीखता है।
  • वीडियो जनरेशन: डीपफेक वीडियो प्रशिक्षित मॉडल को एक स्रोत वीडियो पर लागू करके तैयार किया जाता है, विशेष रूप से प्रतिरूपित व्यक्ति का, और लक्षित व्यक्ति के चेहरे और चाल से मेल खाने के लिए हेरफेर किया जाता है।
  • फाइन-ट्यूनिंग और रिफाइनमेंट: जेनरेट किए गए डीपफेक वीडियो को इसकी वास्तविकता में सुधार करने और किसी भी अशुद्धि को कम करने के लिए कुछ फाइन-ट्यूनिंग और रिफाइनमेंट की आवश्यकता हो सकती है।
  • कुल मिलाकर, डीपफेक तकनीक बहुत शक्तिशाली हो सकती है और इसका उपयोग दुर्भावनापूर्ण और सौम्य दोनों उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है। हालांकि, इस तकनीक के संभावित नैतिक और सामाजिक प्रभावों से अवगत होना और इसे जिम्मेदारी से उपयोग करना महत्वपूर्ण है।

Deep fake को कैसे पहचाने?

Visual inspection: कई बार, डीपफेक वीडियों में अशुद्धताएं होती हैं, जैसे कि चेहरे की रंगत, आकार, विचार और विवरणों में असंगति।

Technical analysis: कुछ तकनीकी उपकरण डीपफेक वीडियों की सटीकता की जांच करने में मदद कर सकते हैं, जैसे कि व्यक्तिगत व्यवहार और विवरणों की विवरणों की जांच, चेहरों के समानता और विचारों के समानता।
Specialized software: कुछ विशेष सॉफ़्टवेयर डीपफेक वीडियो की पहचान करने के लिए विभिन्न तकनीकों का उपयोग करते हैं, जैसे कि डीप लर्निंग एल्गोरिदम, कंप्यूटर विज़न तकनीक और गति विश्लेषण।

Expert evaluation: डीपफेक पहचान एक तेजी से विकसित होने वाला क्षेत्र है और कभी-कभी किसी डीपफेक वीडियो की सटीक पहचान करने के लिए मानव विशेषज्ञ की आवश्यकता हो सकती है। इसमें वीडियो की प्रामाणिकता निर्धारित करने के लिए वीडियो में ऑडियो, विजुअल और प्रासंगिक सुरागों की बारीकी से जांच शामिल हो सकती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि डीपफेक तकनीक लगातार आगे बढ़ रही है, और डीपफेक का पता लगाना एक चुनौती हो सकती है। हालांकि, इन तरीकों के संयोजन का उपयोग करके, कई डीपफेक वीडियो की पहचान करना संभव है।




इनसे कैसे बचा जाए?

डीपफेक से बचाव के लिए आप यहां कुछ कदम उठा सकते हैं:

  • संदेहपूर्ण रहें: वीडियो और छवियों को हमेशा क्वेरी करने से गलत सूचना और नकली समाचार फैल सकते हैं। हमेशा संदेहपूर्ण रहें और किसी भी वीडियो या छवि की सामग्री को सत्य मानने से पहले उसके स्रोत की दोबारा जांच करें।
  • स्रोत सत्यापित करें: जब आप कोई वीडियो या छवि प्राप्त करते हैं, तो उसकी प्रामाणिकता सुनिश्चित करने के लिए स्रोत को सत्यापित करें। रिवर्स इमेज सर्च करें या यह सुनिश्चित करने के लिए URL की जांच करें कि यह नकली वेबसाइट नहीं है।
  • डीपफेक डिटेक्शन टूल्स का इस्तेमाल करें: कुछ डीपफेक डिटेक्शन टूल्स उपलब्ध हैं जो डीपफेक की पहचान करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस का इस्तेमाल करते हैं। किसी वीडियो या छवि की प्रामाणिकता निर्धारित करने में सहायता के लिए इन उपकरणों का उपयोग करने पर विचार करें।
  • जागरूकता फैलाएं: इस मुद्दे के बारे में जागरूकता बढ़ाने और दूसरों को खुद को बचाने में मदद करने के लिए अपने दोस्तों, परिवार और सहकर्मियों के साथ डीपफेक के बारे में जानकारी साझा करें।
  • समर्थन कानून: कानून के लिए वकील जो डीपफेक और डिजिटल हेरफेर के अन्य रूपों को संबोधित करता है। डीपफेक तकनीक के जिम्मेदार उपयोग के लिए मानकों को निर्धारित करने के लिए सरकारों और संगठनों को मिलकर काम करना चाहिए।
  • याद रखें, डीपफेक तकनीक लगातार विकसित हो रही है, इसलिए डीपफेक से खुद को बचाने के लिए सूचित रहना और सक्रिय होना महत्वपूर्ण है।

क्या deep fake हमेशा खतरनाक होते है?

डीपफेक के सकारात्मक और नकारात्मक दोनों प्रभाव हो सकते हैं। एक ओर, डीपफेक तकनीक का उपयोग रचनात्मक और मनोरंजन उद्देश्यों के लिए किया जा सकता है, जैसे फिल्मों और टीवी शो में काल्पनिक पात्र या दृश्य बनाना। दूसरी ओर, डीपफेक का उपयोग गलत सूचना, प्रचार और नकली समाचार फैलाने के लिए दुर्भावनापूर्ण रूप से भी किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए, डीपफेक का उपयोग नकली समाचार बनाने के लिए किया जा सकता है जो जनता की राय में हेरफेर कर सकता है और सरकार, संस्थानों और व्यक्तियों में विश्वास को कम कर सकता है। इनका इस्तेमाल साइबर क्राइम के लिए भी किया जा सकता है, जैसे किसी को बदनाम करने के लिए नकली वीडियो बनाना या संवेदनशील जानकारी चुराना।

कुल मिलाकर, डीपफेक का प्रभाव इस बात पर निर्भर करता है कि उनका उपयोग कैसे किया जाता है। हालांकि डीपफेक में खतरनाक और हानिकारक होने की क्षमता होती है, लेकिन अगर जिम्मेदारी से उपयोग किया जाए तो उनका उपयोग सकारात्मक और रचनात्मक तरीकों से भी किया जा सकता है।

FAQs

Ques:- डीपफेक क्या है?
डीपफेक एक प्रकार का सिंथेटिक मीडिया है जो आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग एल्गोरिदम का उपयोग करके लोगों की ऐसी वास्तविक तस्वीरें या वीडियो बनाता है जो वे कभी नहीं करते और कहते हैं।

Ques:- डीपफेक कैसे बनाए जाते हैं?
डीपफेक बड़ी मात्रा में डेटा, जैसे वीडियो और लोगों के चेहरों की छवियों पर मशीन लर्निंग मॉडल को प्रशिक्षित करके बनाया जाता है। मॉडल तब इस जानकारी का उपयोग लोगों के नए, सिंथेटिक चित्र या वीडियो बनाने के लिए करते हैं।

Ques:- डीपफेक के खतरे क्या हैं?
डीपफेक का इस्तेमाल गलत सूचना, प्रचार और फर्जी खबरें फैलाने के लिए किया जा सकता है। उनका उपयोग दुर्भावनापूर्ण उद्देश्यों के लिए भी किया जा सकता है, जैसे साइबर अपराध और पहचान की चोरी।

Ques:- डीपफेक की पहचान कैसे की जा सकती है?
डीपफेक की पहचान दृश्य निरीक्षण, तकनीकी विश्लेषण, विशेष सॉफ्टवेयर और विशेषज्ञ मूल्यांकन के माध्यम से की जा सकती है। हालांकि, लगातार विकसित होती तकनीक के कारण डीपफेक का पता लगाना चुनौतीपूर्ण हो सकता है।

Ques:- मैं खुद को डीपफेक से कैसे बचा सकता हूं?
अपने आप को डीपफेक से बचाने के लिए, आपको प्राप्त होने वाले वीडियो और छवियों पर संदेह करें, स्रोत को सत्यापित करें, डीपफेक डिटेक्शन टूल का उपयोग करें, जागरूकता फैलाएं, और इस मुद्दे का समाधान करने वाले कानून का समर्थन करें।

RELATED ARTICLES

1 COMMENT

4.8 20 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Sana
1 year ago

Best article

Most Popular