You are currently viewing Google EAT Kya Hai और EAT Score कैसे बढ़ाएं

Google EAT Kya Hai और EAT Score कैसे बढ़ाएं

Google EAT Kya Hai :– आज के टाइम में गूगल का इस्तेमाल सभी करते है जिस वजह से गूगल समय-समय पर नए-नए अपडेट करता रहता है। साथ ही साथ गूगल अपने SEO को भी एडवांस करता जा रहा है। अब सिर्फ KEYWORD और CONTENT से बात नही बनती। जैसे गूगल की अभी लेटेस्ट अपडेट Google EAT है।

Google EAT Kya Hai और EAT Score कैसे बढ़ाएं

 

Google EAT आने वाले साल में एक बहुत बड़ा Ranking Factor साबित होने वाला है। जिस वजह से आने वाले समय में सर्च इंजन के Google EAT Concept को हम Ignore नहीं कर सकते। आज के इस पोस्ट में हम आपको GOOGLE EAT के बारे मे पूरी जानकारी देंगे। हमारे इस पोस्ट को आखिर तक जरूर पढ़िएगा , आपके GOOGLE EAT से जुड़े सारे DOUBT दूर हो जायेंगे और अगर आपका कोई DOUBT रह जाये तो आप हमसे COMMENT करकर पूछ सकते है आपके कमेंट का जवाब जरूर दिया जायेगा।

इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आप भी अपनी वेबसाइट पर EAT Score बढ़ा पाएंगे और Google EAT ALGORITHM क्या होता है वो भी अच्छे से समझ पाएंगे। उससे पहले आप ये जान लीजिये की EAT की फुलफॉर्म क्या होती है। तो चलिए शुरू करते हैं आज का ये आर्टिकल जिसमे हम आपको ये बताएँगे की Google EAT Kya Hai , EAT कौन सी वेबसाइट के लिए महत्वपूर्ण है? , YMYL वेबसाइट क्या होती हैं ? , EAT स्कोर कैसे बढ़ाएं।

EAT Full Form

  • E – Expertise (विशेषज्ञता)
  • A – Authoritativeness (अधिकार)
  • T – Trustworthiness (भरोसा)

Google EAT Kya Hai

“Google EAT का CONCEPT गूगल द्वारा सिर्फ इसलिए निकला गया है ताकि गूगल ये सुनिश्चित कर सके की जो भी जानकारी गूगल पर प्रदान की जा रही है वो सही है और सही लोगो द्वारा प्रदान करवाई जा रही है। क्यूंकि गूगल को जो भी USER USE कर रहा है और उस तक जो जानकारी पहुचायी जा रही है वो सही हो ये सुनिश्चित करना गूगल की जिम्मेदारी है। जिस वजह से गूगल ने GOOGLE EAT का CONCEPT निकाला है। गूगल भी अपनी AUTHENTICITY बरक़रार रखना चाहता है . तो अब आपके मन मे ये सवाल आ रहा होगा की कि गूगल को कैसे पता चलेगा की जो व्यक्ति blog लिख रहा है वो सही और जो भी content वो गूगल पर प्रदान कर रहा है वो भी सही है।

इसी बात का पता करने के लिए गूगल ने अपने EAT FEATURE को अपडेट किया है। Google के हिसाब से BLOGGER अपनी वेबसाइट पर जो भी content पब्लिश करते हैं उस content को Google EAT की गाइडलाइन फॉलो करनी पड़ेगी ।

ALSO CHECK :

पहले हम EAT के फुल फॉर्म को एक एक करकर समझते है –


E (Expertise) – विशेषज्ञता

Expertise का मतलब होता है विशेषज्ञता.

आप जिस भी NICHE पर ब्लॉग बनाते है , उस NICHE में आपका विशेषज्ञ होना बहुत जरुरी हैं। तभी आपकी वेबसाइट rank करेगी और आपका blogging करने का फायदा होगा। अगर आप अपनी वेबसाइट पर किसी ऐसे NICHE पर काम करते है जिसके बारे में आपको कोई जानकारी नहीं है तो आपकी वेबसाइट का गूगल पर रैंक होना बहुत मुश्किल है।
FOR EXAMPLE : आप TECHNICAL Niche के ऊपर काम करते हैं , पर TECHNICAL के क्षेत्र मे आपको बिलकुल जानकारी नहीं है तो गूगल पर आपकी वेबसाइट का रैंक होना बहुत मुश्किल है।
तो अपना niche choose करते वक़्त ये ध्यान रखे ,वही niche choose करे जिसमे आप expert है ।

A (Authoritativeness) – अधिकार

Authoritativeness का मतलब होता है अधिकार.
जो भी व्यक्ति जिस भी niche पर काम करता है उस व्यक्ति के पास उस niche पर काम करने का अधिकार होना चाहिए तांकि वह उस ब्लॉग पर कंटेंट लिख सके और सही जानकारी गूगल पर डाले ।

FOR EXAMPLE : अगर आपका NICHE EDUCATION है, तो आपका टीचर होना या उससे जुड़ी जानकारी होना बहुत जरुरी है। तभी आपके पास EDUCATION NICHE पर ब्लॉग बनाने का अधिकार या AUTHORITY है।

गूगल आपकी प्रोफाइल भी चेक करती है ये देखने के लिए की सब जगह आपकी प्रोफाइल TEACHER है या नहीं तभी गूगल आपको किसी भी niche पर काम करने के लिए Authorized पर्सन मानती है। Google अलग अलग SOCIAL MEDIA पर आपकी प्रोफाइल चेक करता है ,आपकी अथॉरिटी चेक करने के लिए गूगल ये भी चेक करता है की दूसरी WEBSITES आपके बारे मे क्या REVIEW करती है। इन सब से आपकी किसी भी niche पर काम करने की Authoritativeness बढ़ जाती है।

T (Trustworthiness) – भरोसेमंद
Trustworthiness का मतलब होता है भरोसेमंद.

गूगल यह भी चेक करता है की लोग आपके content के साथ कैसे ENGAGE हो रहे है। वो आपके content को कितने भरोसे से पढ़ते है और कितने लोगो के साथ उसको शेयर करते है। अगर गूगल को लगता है की लोग आपके कंटेंट के साथ ज्यादा ENGAGE हो रहे है और आपकी वेबसाइट पर लोग भरोसा करते हैं तो आपकी वेबसाइट का रैंक होना बहुत आसान है।

EAT कौन सी वेबसाइट के लिए महत्वपूर्ण है?

उम्मीद है आपको ये समझ आ गया होगा की Google EAT Kya Hai, तो अब हम बात करते है की कौन से NICHE के लिए Google EAT CONCEPT महत्वपूर्ण है। Google Eat YMYL (Your Money Your Life) प्रकार के वेबसाइट की रैंकिंग के लिए बहुत जरुरी है । अब आप सोच रहे होंगे की YMYL क्या होता है और किस प्रकार की websites को कहा जाता है।

YMYL वेबसाइट क्या होती हैं ?

ये YMYL website ऐसी websites होती हैं । जहाँ blogger USER को Money और हेल्थ के विषय में सुझाव देता है। ऐसी वेबसाइट गूगल पर स्वास्थ और रुपयों से सम्बंधित जानकारी को डालती हैं। ऐसी ही WEBSITES YMYL के अंतर्गत आती है।

FOR EXAMPLE : Health, Finance, Insurance, e-commerce. तो चलिए जानते है की कोनसी वेबसाइटस YMYL कहलाती है जिनपर GOOGLE EAT का CONCEPT
लगता है।

Health, Fitness, Diet, Nutrition

अगर आपका NICHE हेल्थ हैं तो जो भी ब्लॉगर ब्लोग्स बना रहा है उसको Google EAT की सारी गाइडलाइन को फॉलो करना पड़ेगा तभी आपकी वेबसाइट पर रैंकिंग अच्छी होगी। Health का टॉपिक कोई आम topic नहीं है वो बहुत ही महत्वपूर्ण टॉपिक है। आप भूलकर भी उसमें कोई गलत बात नहीं लिख सकते क्यूंकि इससे किसी की जान पर भी बन आ सकती है ।

Finance, Insurance, Investment
ये WEBSITES उन लोगो के लिए होती है जो ये जानना चाहते है की पैसे कहा इन्वेस्ट करने है इसीलये इन्हे फाइनेंस, Insurance, इन्वेस्टमेंट की niche मे रखा जाता है। अब जिसको इन सब बारे मे जानकारी नहीं होगी वो गलत जानकरी देकर किसी का भी नुकसान करवा सकता है। इसलिए इन WEBSITES पर EAT का CONCEPT लगाया जाता है ।

e-commerce Website
इस तरह की WEBSITES पर users अपनी confedential details डालते है जैसे बैंक अकाउंट की जानकारी, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड आदि। ऐसी WEBSITES मे कोई भी धोखा user के साथ होना बहुत ही आसान है । जिस वजह से इस तरह की WEBSITES को भी Google Eat का CONCEPT फॉलो करना पड़ता है।

RELATED LINKS:

EAT स्कोर कैसे बढ़ाएं

GOOGLE EAT को Improve करने के लिए आपको निचे दी बातो को FOLLOW करना पड़ेगा –
1 – AUTHOR PROFILE बनायें
ब्लोग्स बनाने की लिए आपकी ऑथर प्रोफाइल होना बहुत जरुरी है। जिससे गूगल चेक कर सके कि आपके ब्लॉग पर कंटेंट कौन लिखता है। अगर आप खुद ही ब्लोग्स बनाते है तो आपको भी अपनी profile अच्छे से अपडेट करनी चाहिए जैसे आपका niche क्या है और उस niche मे आपको कितना अनुभव है। अगर आपका niche Health से रिलेटेड है तो आपको अपनी प्रोफाइल मे ये जरूर mention करना होगा की आपने कितने हॉस्पिटल मे काम किया है और वहाँ पर आपकी क्या authority थी ये सब आपको अपनी प्रोफाइल मे जरूर मेंशन करना होगा।

2 – सोशल मीडिया प्रोफाइल बनायें
जो भी व्यक्ति आपके ब्लोग्स लिखता है उसकी अलग अलग सोशल मीडिया मे प्रोफाइल बनाना बहुत जरुरी होता है और सारे accounts को प्रोफेशनल भी करना बहुत जरुरी है ताकि Google चेक कर सके और आपकी website aache से रैंक हो।
अगर आप डॉक्टर है तो आपका प्रोफाइल भी एक डॉक्टर के रूप मे बना होना चाहिए तभी आप हेल्थ से जुड़े ब्लोग्स बना सकते है। और ब्लॉग लेखक को अपने सोशल मीडिया पर ऐड करना न भूले।

3 – फोरम वेबसाइट में सवालों के जवाब दें
आजकल Forum websites होती हैं जिसमें बहुत से लोग सवाल पूछते है जैसे Quora. आप को भी Forum websites पर अपनी प्रोफाइल बनाकर उसमे सवालों के जवाब देने चाहिए SPECIALLY जो भी niche पर आप ब्लोग्स बनाते है उनपर तो जरूर देना चाहिए । यह आपकी वेबसाइट को रैंक करने मे बहुत मदद करता है।

4 – Relevant वेबसाइट से बैकलिंक बनायें

Backlink बनाते वक़्त एक बात का ध्यान रखे की जो भी niche पर आप काम करते है उस पर ही बैकलिंक बनाएं। अगर आप आपना BACKLINK किसी HIGH authority वेबसाइट से बनाते हैं तो गूगल भी आपकी website पर भरोसा करने लगता है।इन सभी Tips को फॉलो करकर आपका Google Eat जरूर IMPROVE हो जायेगा और आपकी website
भी रैंक करने लगेगी।

अगर आपने ये आर्टिकल पूरा पढ़ा है तो आपको  EAT की फुलफॉर्म क्या होती है ,EAT कौन सी वेबसाइट के लिए महत्वपूर्ण है? ,EAT स्कोर कैसे बढ़ाएं इन सब से related  सारे doubt clear हो गए होंगे। और आपको ये पता चल गया होगा की कैसे आप अपनी वेबसाइट की रैंकिंग को सुधार सकते है।

मुझे पूरी उम्मीद है  कि आप लोगों को हमारा यह पोस्ट पसंद आया होगा।  इसमें  हमने Google EAT Kya Hai और EAT Score कैसे बढ़ाएं  इन सब के बारे  में पूरी जानकारी दी है। यदि आपका कोई  भी doubt रहता हो तो आप कमेंट करकर पूछ सकते है। आपको जवाब जरूर दिया जायेगा  ।

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments