You are currently viewing IP Address Kya Hai In Hindi

IP Address Kya Hai In Hindi

IP Address Kya Hai In Hindi

IP Address Kya Hai हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी JUGADME की वेबसाइट पर आज हम फिर से एक और नयी जानकारी आपके लिए लेकर आये है , उम्मीद है आपको यह आर्टिकल पसंद आएगा और आप यही जानना चाहते है तो आप सही वेबसाइट पर आये है हम आपको बातयेंगे की आईपी (इंटरनेट) प्रोटोकॉल) एड्रेस क्या है।  इससे  जुडी पूरी जानकारी आपको देंगे।दोस्तों यह आर्टिकल काफी सरल तरीके से लिखा है आपको आसानी से समझ आ जायेगा। और इसका उपयोग ज्यादातर कंप्यूटर में होता है

IP Address Kya Hai 

IP Address या “Internet Protocol Address” एक logical numeric address होता है, जो की कुछ 151.101.65.121 ऐसा दिखायी देता है। IP Address Kya Hai यह आईपी एड्रेस खास कर computer, smartphone, tablet, printer, network router और switch जैसी internet प्रयोगी devices को सौंपा (assign) जाता है। यह आईपी एड्रेस सभी डिवाइस को अलग-अलग (unique address) दिये जाते है। ताकि IP Network में इनकी एक पहचान हो सके और यह आपस मे संचार (communicate) कर पाए। आईपी एड्रेस आपके computer या smartphone के लिए एक Network Address है।  जिससे internet आपको email या data भेजने में सक्षम हो पाता है। उदाहरण के लिए एक courier आपके home address के माध्यम से आप तक पहुचता है। IP Address Kya Hai उसी तरह internet address के माध्यम से आप अपनी डिवाइस पर डेटा प्राप्त कर पाते है।  अभी आपकी डिवाइस जिस भी IP Address का उपयोग कर रही है।  वह आपका एक “Digital Address” है. आईपी एड्रेस के अंकों को दो भागों में विभाजित किया जाता है।

 1) Network part. 2) Host.

सबसे पहला भाग (Network part) बताता है, कि यह एड्रेस किस का है और दूसरा भाग (Host) उस पते की exact location के बारे में जानकारी देता है।  उदाहरण के लिए जब भी आप internet पर किसी website जैसे www.nayaseekhon.com को खोलने का प्रयास करते है। IP Address Kya Hai तो computer उस वेबसाइट के नाम (जिसे Domain name कहां जाता है, DNS Server पर भेजता है। जहाँ से domain name का आईपी एड्रेस उसे प्राप्त होता है। आईपी एड्रेस के बिना कोई भी computer जो इंटरनेट से जुड़ा हुवा है, कार्य नही कर सकता।

आईपी एड्रेस के संस्करण

दो मुख्य IP Versions नीचे दिये गए है।

  • IPv4 (Internet Protocol Version 4)
  • IPv6.(Internet Protocol Version 6)
  • IPv4

IP का पहला संस्करण (version) IPv4 था। जिसे 1983 में ARPANET Production के लिये तैनात किया गया था. इसमे Addressing system का उपयोग करके network की पहचान की जाती है। यह संस्करण Internet Engineering Task Force (IETF) द्वारा बनाया और RFC 791 में प्रकाशित है। IP Address Kya Hai   इसका उपयोग OSI Model में pocket switched किये गए link-layer में किया जाता है।  IPv4 ईथरनेट संचार (Ethernet Communication) के लिए Five classes (Class A से Class E तक) में 32 bit address scheme का उपयोग करता है।  यह एक संख्यात्मक पता (numerical address) है और इसके binary bits को dot(.) द्वारा अलग किया जाता है. इसकी प्रत्येक समूह की संख्या 0 से लेकर 255 तक हो सकती है।  Example – 12.244.233.165।

इसमे तीन प्रकार के address होते है, unicast, broadcast और multicast. यह VLSML (virtual length subnet mask) को support करता है।  Internet protocol address के इस version में लगभग 4,294,967,296 addresses store किये जा सकते है। जो कि 4 billion से अधिक है। IP Address Kya Hai परन्तु इंटरनेट की व्रद्धि के साथ आज यह स्थिति आ गई है।  कि यह संख्या भर चुकी है। नए IP address स्टोर करने के लिए हमारे पास और संख्या नही है। इसका समाधान भी निकाला जा चुका है। इसके आगे के आईपी एड्रेस IPv6 version में स्टोर किये जायेंगे. चलिये देखते है ,इसमे क्या नया है।

IPv6

अधिक internet addresses की कमी को पूरा करने के लिये एक नया internet addressing system (IPv6) तैनात किया जा रहा है।  इस संस्करण को internet protocol next generation (IPng) भी कहा जाता है IETF ने 1994 में इसे शुरू किया था। यह एक network layer protocol है, IP Address Kya Hai जो packet-switched किये गए network पर data communication को सक्षम करता है।  पैकेट स्विटचिंग के अंतर्गत नेटवर्क में दो nodes के बीच data send और received करना शामिल है. Example – 3ffe:1900:4545:3:200:f8ff:fe21:67cf.

IPv6 के addresses को hexadecimal में लिखा गया है।  इसका मुख्य लाभ पता स्थान में व्रद्धि है।  इसके पतो की लंबाई 128 bit है और इन्हें colons (:) द्वारा अलग किया जाता है. इस संस्करण में लगभग 340 undecillion ( 340,282,366,920,938,463,463,374,607,431,768,211,456) IP address स्टोर किये जा सकते है।  यह बहुत – बहुत ज्यादा है।

IP address का उद्देश्य क्या है

IP address का उद्देश्य device और destination site के बीच connection को handle करना होता है। IP addresses, computing devices (जैसे PCs और tablets) को वेबसाइटों और streaming services जैसे destinations के साथ communicate करने की अनुमति देते हैं, IP Address Kya Hai और वे वेबसाइटों को यह जानने में  सहायता करते है कि कौन सी device उनकी वेबसाइट से कनेक्ट है।

एक IP address भी return address के रूप में काम करता है, ठीक उसी तरह से जैसे  postal mail पर return address काम करता है। जब आप एक letter को mail करते हैं और वह ग़लत पते पर deliver हो जाता है, तो अगर आप envelope पर return address लिखे होते हैं तो वो आपको वापस मिल जाता है। ठीक कुछ ऐसा ही email के साथ भी होता है। जब आप invalid recipient को लिखते हैं, तो आपका IP address कंपनी के मेल सर्वर को आपको bounce back email भेजने में सक्षम बनाता है, जिसमें कहा जाता है IP Address Kya Hai कि “destination was not found” मतलब destination नहीं मिला।

IP address का मालिक कौन है?

इंटरनेट से जुड़ने वाले हर उपकरण का अपना एक विशिष्ट IP address होता है। लेकिन कौन IP address का मालिक है और कौन उन्हें वितरित करता है?

ICANN (Internet Corporation for Assigned Names and Numbers) IP addresses बनाने और वितरित करने के लिए responsible है। तो, ICANN प्रत्येक IP address का प्रारंभिक owner है। वहां से, IP addresses IANA (Internet Assigned Numbers Authority) तक पहुंचते हैं,IP Address Kya Hai  जो ICANN का एक function है और जो DNS Root, IP addressing, और दुसरे internet protocol resources के global coordination के लिए responsible है।

IANA पांच Regional Internet Registries (RIRs), को IP addresses वितरित करता है, उनमें से एक ARIN (American Registry for Internet Numbers) है। फिर, ISPs (Internet Service Providers) जैसी कंपनियों को IP addresses वितरित किए जाते हैं, जो अपने ग्राहकों (clients) को unique IP addresses प्रदान करते हैं।

IP Address कैसे find करें?
  • अलग अलग प्रकार के IP address को find करने के लिए अलग अलग techniques उपयोग किये जाते हैं|
  • Private IP address को find करने के लिए हमे कुछ steps follow करने होंगे जो की इस प्रकार है:-
  • Command prompt को Run as administrator मोड में open करें।  इसके लिए आप अपने windows button को प्रेस करें और command prompt search करें।
  • अब उस पर right click करके Run as Administrator option पर click करें| उसके बाद Yes click करें|
  • उसके बाद ipconfig type करके enter करें।
  • अब IP address आपको मिल जायेगा|
  • Public IP Address find करने के लिए आप अलग अलग website पर search कर सकते हैं लेकिन सबसे best website को आप यहाँ पर देख सकते हैं|

IP address के प्रकार

IP addresses के कुछ मुख्य प्रकार होते हैं जैसे कि private IP addresses, public IP addresses, static IP addresses और dynamic IP addresses, आइए एक-एक करके इन सब प्रकार के बारे में बात करते हैं।

Private IP Address

एक private IP address आपके डिवाइस का पता होता है जो घर या व्यावसायिक नेटवर्क से जुड़ा हुआ होता है। अगर आपके पास एक ISP (Internet Service Provider) से जुड़े कुछ अलग-अलग devices है , तो आपके सभी devices में एक unique प्राइवेट आई पी एड्रेस होगा। यह IP address आपके घर या व्यावसायिक नेटवर्क से बाहर के devices से एक्सेस नहीं किया जा सकता है।

उदाहरण के लिए: 192.168.1.1

Public IP Address

आपका public IP address मुख्य IP address होता है जिससे आपका घर या व्यवसाय नेटवर्क जुड़ा होता है। यह IP address आपको दुनिया से जोड़ता है, और यह सभी users के लिए unique होता है।

अपना public IP address जानने के लिए, बस अपने ब्राउज़र में SupportAlly साइट पर जाएँ, और यह आपका public IP, और आपके ब्राउज़र की अन्य जानकारी दिखायेगा।

Static and Dynamic IP Addresses

सभी private और public IP addresses या तो static या dynamic हो सकते हैं। IP addresses जो आप मैन्युअल रूप से configure करते हैं और उन्हें अपने डिवाइस के नेटवर्क पर fix करते हैं उन्हें static IP address कहा जाता है। Static IP addresses automatically नहीं बदल सकते हैं।

जब आप router को इंटरनेट के साथ सेट करते हैं तो dynamic IP address अपने आप कॉन्फ़िगर हो जाता है और आपके नेटवर्क को IP assign कर देता है। IP addresses का यह वितरण (distribution) Dynamic Host Configuration Protocol (DHCP) द्वारा manage किया जाता है। DHCP आपका इंटरनेट राउटर हो सकता है जो आपके घर या व्यावसायिक वातावरण में आपके नेटवर्क को एक IP address प्रदान करता है।

IP address कैसे काम करता है।

सभी डिवाइस जो इंटरनेट से जुड़े होते हैं ,जिनमें PCs, laptops, smartphones, routers, और WiFi connected devices शामिल हैं) को एक विशिष्ट identifier (IP address) सौंपा (assigned) जाता है।

जैसे लोग एक-दूसरे को समझने के लिए एक निश्चित भाषा का उपयोग करते हैं, उसी तरह information को भी दिशानिर्देशों के एक विशिष्ट सेट के साथ internet पर भेजा जाता है। इंटरनेट के लिए जो communication system  है वो TCP/IP है। सभी डिवाइस जो इंटरनेट से जुड़े होते हैं, एक दूसरे के साथ संवाद (communicate) करने के लिए एक ही प्रोटोकॉल का इस्तेमाल करते हैं।

आईपी एड्रेस कैसे पता करे

सभी प्रकार की device का IP address पता करने का तरीका  निचे दिया गया है।

IP Address

Android Phone उपयोग करने वाले उपयोग करने वाले  अगर अपने फोन का IP address जानना चाहते है। तो अपने फोन की settings खोल कर about device में जाये और फिर status पर क्लिक करे।  यहाँ पर आपके फोन का आईपी एड्रेस दिया गया होगा।

Phone setting> About device> Status.

Windows user अपना Local IP address पता करने के लिए सबसे पहले PC के start button पर क्लिक करे उसके बाद control panel पर जाए।  अब network and internet को ओपन करे इसके बाद network and sharing center पर क्लिक करे. अब connection के सामने wireless network connection पर क्लिक करके detail पर क्लिक करे. इसके अंदर आपको IPv4 address के सामने अपना IP address दिखाई देगा

Start button> Control panel> Network and internet> Network and sharing center> Wireless network connection> Details.

Apple iOS उपयोगकर्ता अपना आईपी एड्रेस पता करने के लिए नीचे दिए instructions को फॉलो करें।

Settings> Select Wifi> Select active network> Click i button.

macOS में IP address पता करने के लिए यह सेटिंग को फॉलो करें.

Click apple icon> Select system preference> click network> select your connection.

IP address आसानी से पता कर सकते है. इसके अलावा आप google में “What is my IP address” लिखे गूगल आपका आईपी एड्रेस show कर देगा. ऑनलाइन वेबसाइट WhatismyIPaddress.com की मदद से भी आप इसे पता कर सकते है।
हमने इसकी पूरी जानकारी आपको दी है ,उम्मीद करते है आप आसानी से समझ आ चूका होगा , और ऐसे ही आपको और नयी सरल तरीके से जानकारी चाहिए तो ,आप कमेंट बॉक्स में जरूर बताये। अपने हमारे आर्टिकल को अपने पूरा पढ़ा है तो , आप इस आर्टिकल को अपने दोस्तों तक जरूर पहुचाये।

धन्यवाद।


Q. क्या सिम कार्ड बदलने से आईपी एड्रेस बदल जाता है?

जी हाँ, अपना सीम कार्ड बदलने पर IP ऐड्रेस बदल जाता है। ये IP ऐड्रेस सभी नेट्वर्क डिवाइस को प्रदान किए गए होते हैं। ऐसे में जब भी आप किसी नयी network कनेक्शन से जुड़ते हैं तब ऐसे में आपका आईपी ऐड्रेस भी बदल जाता है।  

Q.आईपी एड्रेस में अंकों की संख्या कितनी होती है?

IP address में कुल मिलकर ४ संख्या महजूद होती है। उदाहरण के लिए, आपका IP address कुछ इसप्रकार से दिख रहा होगा 193.158. 1.30. इसमें प्रत्येक नम्बर एक सेट में महजूद होता है 0 से लेकर 255 के बीच में.

Q. कौन सा प्रोटोकॉल इंटरनेट में कनेक्ट क्लाइंट को आईपी एड्रेस असाइन करता है?

डायनेमिक होस्ट कान्फिगरेशन प्रोटोकॉल (डीएचसीपी) उपकरणों (डीएचसीपी क्लाइंट) द्वारा प्रयुक्त होने वाला कंप्यूटर नेटवर्किंग प्रोटोकॉल है जो की इंटरनेट में कनेक्ट क्लाइंट को आईपी एड्रेस असाइन करता है।


Related Link: 

 

 

 

 

 

 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments