2023 में लॉन्च होगा इसरो-नासा का संयुक्त मिशन NISER उपग्रह

2023 में लॉन्च होगा इसरो-नासा का संयुक्त मिशन NISER उपग्रह आइए दोस्तों आज मैं आपको 2023 में लांच होने वाला इसरो नासा संयुक्त मिशन NISER उपग्रह के बारे में बताने वाली हूं जैसा कि आप सभी जानते हैं

2023 में लॉन्च होगा इसरो-नासा का संयुक्त मिशन NISER उपग्रह |_40.1

2022 खत्म होने वाला है और फिर 2023 की शुरुआत होगी जिसमें कहा जा रहा है कि कई सारे बदलाव हो गए चाहे वह टेक्नोलॉजी हो या फिर अर्थशास्त्र में बदलाव तो होने हैं परंतु आज मैं आपको इसरो नासा संयुक्त मिशन के उपग्रह के बारे में बताने वाली हूं





2023 में लॉन्च होगा इसरो-नासा का संयुक्त मिशन NISER उपग्रह  कि यदि यह उपग्रह आ गया तो क्या होगा इसलिए जानते हैं  इसरो नासा संयुक्त मिशन सिंथेटिक एपर्चर रडार रेसिंग का इस्तेमाल करके हमारी भूमि की सतह पर परिवर्तन का वैश्विक माप करना है

नासा संयुक्त मिशन के आने से क्या होगा बादलाव।

  • २०२३ की शुरुआत में लॉंच होगा एक डुअल बैंड और एल बैंड, एस बैंड यह रदार इमेजिंग मिशन है जिसमे भूमि और vegetation and cryosphere etc
  • इनमे बदलाव होंगे और इन बदलाव के लिए operation के पुरा होने के लिए पोलारिमेट्रिक एंड इंटरफेरोमेट्रिक के मोड का इस्तेमाल किया गया है

2023 में बंद होगी गूगल की यह बेहतरीन सर्विस, जमकर हो रहा है विरोध

नासा मे किस System का विकसित किया है

नासा मे एल बैंड, एस ए आर से जुड़े system का इस्तेमाल किया गया है

NISER इसरो और नासा के महत्वपूर्ण सहयोगों में से एक है। 2023 में लॉन्च होगा इसरो-नासा का संयुक्त मिशन NISER उपग्रह  2015 में तत्कालीन राष्ट्रपति बराक ओबामा (Barack Obama’s) की भारत यात्रा के दौरान भारत और अमेरिका इस मिशन पर सहमत हुए थे।

Microsoft Ne Windows 8.1 Support Band Karne Ka Kiya Ailaan ये है इस्तेमाल करने की आखिरी तारीख

Isro वाहनो पर क्या बदलाव करेगी

*Spacecraft bus लॉंच करेगी

* और इससे जुड़ी सेवाओ पर विकास करेगी

इस मिशन के चलते हुए किन किन चीजो पर सुधार होगा

इस मिशन के प्रमुख वैज्ञानिक का उद्देश्य पृथ्वी के बदलते पारिस्थितिक तंत्र भूमि और तटीय प्रक्रियाओ , land decorations and Cryosphere ۔ पर जलवायु पर होने वाले परिवर्तन के हिसाब से सुधार करेगा।

भारत में लॉन्च किए गए 104 उपग्रह

इसके बाद 15 फरवरी 2017 को श्रीहरिकोटा के सतीश धवन लॉन्चिंग सेंटर से पीएसएलवी-सी37 लॉन्च किया गया, तब उसके साथ 104 सैटेलाइट्स को प्रक्षेपित किया गया था। इससे पहले सिंगल मिशन में सबसे ज्यादा सैटेलाइट लॉन्च करने का रिकॉर्ड रूस के नाम था, जिसने 2014 में 37 सैटेलाइट्स लॉन्च कर यह कीर्तिमान अपने नाम किया था।





निष्कर्ष

उम्मीद करती हूँ मेरे बताया गया तरीका आपको अच्छा लगा होगा में हमेशा से यही चाहती हूँ की लोगो को ऐसे ही नयी नयी जानकरी मिलती रहे तो ऐसे जानकारी के लिए मेरी होम पेज पर क्लिक करे।मुझे आशा है की मैंने आप लोगों को 2023 में लॉन्च होगा इसरो-नासा का संयुक्त मिशन NISER उपग्रह और इसके बारे में पूरी जानकारी दी और में आशा करती हूँ की आप लोगों को इसरो-नासा का संयुक्त मिशन के बारे में अच्छे से समझ आ गया होगा ऐसे ही यहाँ तक मेरा यह पोस्ट अच्छा लगा होगा और आपको ऐसे ही आर्टिकल्स पढ़ने है। तो आपको Notifications allow करे और सपोर्ट करते रहे मेरा आप सभी निवेदन है की आप लोग भी इस जानकारी को अपने आस-पड़ोस, रिश्तेदारों, अपने मित्रों में Share करें, जिससे की हमारे बिच जागरूकता होगी और इससे सबको लाभ होगा. मुझे आप लोगों की सहयोग की आवश्यकता है जिससे मैं और भी नयी जानकारी आप लोगों तक पहुंचा सकूँ.

3 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments