You are currently viewing Login Kya hai In Hindi 

Login Kya hai In Hindi 

Login Kya hai In Hindi 

Login Kya hai  हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपको बताने वाले है की लॉगिन क्या है और इसका क्या इतिहास है और प्रक्रिया क्या है इससे जुडी पूर्ण जानकारी आपको देंगे। आप यह जानना चाहते है तो आप सही वेबसाइट पर आये है। आपको हम काफी सरल भाषा में यह आर्टिकल लेकर आये है जिससे आप काफी आसानी से समझ सकते है। Login Kya hai  आज के दौर में इंटरनेट काफी ज़्यादा वृद्धि हो रही है और इंटरनेट में ही लॉगिन का इस्तेमाल किया जाता है। जब भी हमें लॉगिन करना होता है तो , आपको अपनी निजी जानकारी देनी पड़ती है । जैसे की ईमेल आईडी , फ़ोन नंबर , आदि लेना होता है। तो दोस्तों बिना वक़्त गुजारे शुरू करते है। आप लोग इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़े।

Login Kya hai

  • internet पर किसी भी Website या App को खोलते है तो वहाँ आपसे Login या Sign In करने को कहा जाता है
  • लॉगिन इन  क्या है और यह क्यू करवाया जाता है यदि नहीं तो यह आप आज जान जाएंगे वैसे तो ऐसे बहुतों वेबसाईट है जहां आपसे किसी भी प्रकार का लॉगिन करने को नहीं कहा जाता है
  • पर कुछ ऐसे वेबसाईट या App है जहां बिना Log In कीये आप उस वेबसाईट या App को access नहीं कर सकते है।

लॉगइन इतिहास

लॉगइन शब्द का इस्तेमाल काफी वर्ष 1960 के आसपास टाइम शेयरिंग सिस्टम के साथ तथा वर्ष 1970 में बुलेटिन बोर्ड सिस्टम के साथ आया था। शुरूआती होम कंप्यूटर में इसका प्रयोग नहीं होता है. होम कंप्यूटर के लिए लॉगइन की सुविधा विंडोज एनटी, ओएस/2 तथा लिनक्स के आने के साथ आई. लॉगइन शब्द में शब्द लॉग की उत्पत्ति चिप लॉग नामक शब्द से हुई है. बहुत पहले चिप लॉग का प्रयोग समुद्रों में यात्रा करते हुए तय की गयी दूरी का हिसाब रखने के लिए किया जाता था.  Login Kya hai ध्यान देने वाली बात ये है कि लॉगइन, लॉगऑन तथा साइनइन वैसे तो एक जैसे ही होते हैं लेकिन इनमें थोड़ा फर्क होता है।

लॉगइन करने की प्रक्रिया

लॉगइन मुख्य उस इंटरनेट पेज को एक्सेस करने की सुविधा देता है, Login Kya hai जिसे एक लॉगइन न करने वाला एक्सेस नहीं कर सकता है. एक बार लॉगइन हो जाने के बाद लॉगइन टोकन का प्रयोग करके यह पता किया जाता है कि किसी वेबसाइट यूजर ने साइट से जुड़े रहते क्या क्या कार्य किया है. Login Kya hai  जिस वेबसाइट में एक्सेस के लिए इस सुविधा को बनाया जाता है, वह अन्य वेबसाइट की अपेक्षा अधिक सुरक्षित होता है. यहाँ पर किसी वेबसाइट पर लॉगइन करने के लिए जरुरी बातों का वर्णन किया है।

Login और Sing In में क्या अंतर है

  • Sign In की तो ऐसे कई App या वेबसाईट है जो अपने वेबसाईट या App को Access करने के लिए आपसे Sign In करने को कहते है।
  • जिसमे हम से कुछ डेटा जैसे नाम वह ईमेल आइडी इत्यादि भरवाया जाता है पर इसके अलावा भी वह आपके किसी भी डेटा को अपने सर्वर पर स्टोर नहीं करते है।
  • तो जब भी आप किसी एसी वेबसाईट पर जाते है जहां आप Sign In करने को कहा जाता है आप समझ ले वह वेबसाईट आपकी किसी भी प्रकार की डेटा जैसे इसके पहले आप किस वेबसाईट पर गए थे आप सर्च इंजन पर क्या-क्या सर्च करते है आपकी पसंद इत्यादि अपने पास नहीं रखती.
  • वही दूरी तरफ यदि हम बात करे Login यह Sign In से बिल्कुल विपरीत है यानि जिस किसी भी वेबसाईट पर आपके Login करने को कहा जाता वह आपके डेटा को अपने सर्वर स्टोर कर लेते है
  • जो उनके लिए आपका ऐक्टिविटी को रिकार्ड करने की मदद होती है जिसके जरिए वह आपको आपके पसंद से जुड़े प्रचार दिखा पाते है.
  • जिसका सबसे अच्छा उदाहरण है Facebook जहां आपसे Login करने को कहा जाता है यानि यह आपके डेटा को स्टोर करता है जिसके जरिए उसे पसंद को समझने की कोसिस करता है
लॉगइन तथा लॉगऑन में क्या फ़र्क है।

वेबसाइट की ब्राउज़िंग के दौरान हमें लॉगइन तथा लॉगऑन के विकल्प प्राप्त होते हैं कई वेबसाइट पर लॉगइन तथा कई वेबसाइट पर लॉगऑन का विकल्प देखा जाता है. कई लोगों को यह लगता है कि लॉगइन तथा लॉगऑन दोनों एक ही कार्य है। क्योंकि दोनों की सहायता से किसी वेबसाइट को एक्सेस किया जाता है। तथा इस दोनों कार्यो को परिणाम देने के लिए ही यूजर नेम तथा पासवर्ड का  इस्तेमाल  होता है। यह बात सही भी है। किन्तु गहराई जानने से मालूम चला है कि दोनों में कुछ अंतर हैं। यह अंतर बहुत छोटे हैं। परंतु फिर भी इतने मौलिक हैं कि लॉगइन को लॉगऑन नहीं कहा जा सकता है, इन दोनों के बीच के मौलिक अंतर का वर्णन नीचे किया जा रहा है.

लॉगइन किसी वेबसाइट के लिए एक सिक्यूरिटी गेट की तरह काम करता है, जिसे पार करके आप किसी सुरक्षित वेबसाइट के अन्दर प्रवेश करते हैं। कई वेबसाइट जैसे फेसबुक, जीमेल, आउटलुक या अन्य सोशल तथा जॉब सर्च वेबसाइट का उपयोग करने के लिए यह जरुरी कर दिया गया है। कि इस वेबसाइट पर आपका एक अकाउंट हो तथा आप इसे प्रयोग करने के लिए लॉगइन करें। वास्तव में यह एक तरह का पास है। कई वेबसाइट के लॉगइन के लिए यूजर नेम तथा पासवर्ड किसी रजिस्टर्ड जीमेल, याहू अथवा आउटलुक की सहायता से बनाया जाता है. लॉगइन प्रक्रिया में यद्यपि आप अपना अकाउंट किसी दुसरे यूजर को रेफर कर सकते हैं,  Login Kya hai परन्तु दो यूजरनेम से एक अकाउंट चलाना संभव नहीं है। लॉगऑन मुख्यतः विंडो ऑपरेटिंग सिस्टम तथा डेटाबेस मैनेजमेंट सिस्टम अकाउंट के लिए प्रयोग किया जाता है। यदि कोई कंप्यूटर अथवा लैपटॉप को पासवर्ड से सुरक्षित रखा गया है। तो उस कंप्यूटर को चलाने के लिए आपको पासवर्ड की आवश्यकता पड़ेगी। अतः लॉगइन की तरह यहाँ पर किसी यूजर नेम की जरुरत नहीं  पड़ती है। यहाँ पर दरअसल आपका एडमिनिस्ट्रेशन नेम ही यूजर नेम की तरह से इस्तेमाल किया जाता है, Login Kya hai जो कि लॉगऑन स्क्रीन पर पहले से लिखा ही रहता है. अतः यहाँ पर आपको सिर्फ सही पासवर्ड की आवश्यक्ता होती है. लॉगऑन की सहायता से आप किसी एक ऑपरेटिंग सिस्टम के लिए एक से अधिक यूजर बना सकते हैं. बाक़ी आपका निजी यूजर अकाउंट छोड़ कर बाक़ी सभी अकाउंट गेस्ट अकाउंट के तौर पर काम करते हैं।

किसी वेबसाइट पर लॉगइन करने से पहले आपको वहाँ पर अपना अकाउंट बनाना होगा.

अकाउंट बनाने के लिए अलग अलग वेबसाइट अलग अलग जानकारियों की मांग करते हैं. उदाहरण के तौर पर यदि आप जीमेल अकाउंट बनाना चाहते हैं, Login Kya hai तो आपको अपना नाम, जन्मतारीख, आदि के साथ फ़ोन नंबर भी देना होता है. साथ ही आपको अपने लॉगइन के लिए पासवर्ड भी सेव करना होता है ये सभी जानकारियाँ दे देने के बाद आपको ‘नियम और शर्तें’ पर क्लिक करना होता है. इस पर क्लिक करने से आप उन कंडीशन के अंतर्गत आ जाते हैं, जिसके आधार पर वेबसाइट चल रही होती है इस तरह से आपका अकाउंट किसी वेबसाइट पर बन जाता है. आप जब चाहें इस वेबसाइट पर अपने ईमेल आईडी तथा लॉगइन पासवर्ड देकर लॉगइन कर सकते हैं।

लॉग इन तथा लॉगइन में क्या अंतर है।

लॉग इन तथा लॉगइन के मध्य कोई  जरुरी अंतर नहीं है, लेकिन इसमें ग्रामेटिकल (व्याकरण) अंतर हैं जिसको हमने विस्तार से लिखा है। किसी टेक सपोर्ट क्षेत्र में एजेंट  के जरिये अपने कलीग को लॉग इन का कहने का अर्थ कंप्यूटर चालू करना तथा नेटवर्क सेटिंग एडजस्ट करना होता है

अंग्रेजी में Log in एक क्रिया (verb) के रूप में कंप्यूटर सिस्टम या किसी सॉफ्टवेयर के कार्यों को नियमित करने के लिए होता है. उदाहरण के लिए क्रिया के तौर पर इसका प्रयोग निम्न तरह से होता है:

  • Log in to the computer and adjust the network settings.
  • Log in with your new username and password.

Log in को यदि Login लिखा जाए तो ये क्रिया शब्द संज्ञा (noun) हो जाता है. हालाँकि इस समय यह विशेषण (adjective) की तरह भी प्रयोग किया है. अंग्रेजी में इसके संज्ञा के रूप में प्रयोग का उदाहरण नीचे दिया जा रहा है.

  • Your login is your username and password.
  • Do not trust anyone else with your login.

विशेष तौर पर Login का प्रयोग निम्नलिखित तरह से होता है.

  • Your login information is your username and password.
  • You have used 3 of your 5 login attempts .

इस तरह विभिन्न कंप्यूटर सिस्टम के लिए विभिन्न तरह से log in अथवा login शब्द का प्रयोग होता है अधिक  समय ये देखा जा रहा है कि दोनों शब्दों का कार्य एक जैसा ही होता है। दोनों को क्रैक करने के लिए आपको अपना यूजर नेम और पासवर्ड डालने होते हैं. इसके उपरान्त आप किसी वेबसाइट अथवा किसी कंप्यूटर सिस्टम को अपने मन मुताबिक एक्सेस कर पाते हैं

दोस्तों उम्मीद है आपको यह आर्टिकल पसंद आया होगा। हमने इस वेबसाइट पर काफी सरल भाषा में लिखा है आपको आसानी से समझ आ गया होगा और दोस्तों , ऐसे ही और नयी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में बता सकते है।
धन्यवाद


Q. लॉग आउट कैसे करें?

किसी भी अकाउंट को logout करने के लिए ज़्यादतर एप मे अपको सेटिंग मे यह LOGOUT का विलाप देखने को मिल जाता है या फिर अपको ऊपर तीन लाइन वाली विकल्प दिखता है जिसपर क्लिक करे आपको नीचे अपको LOGOUT का विकल्प दिखेगा वह क्लिक कर दे.

Q. Log Out क्यू किया जाता है ?

किसी भी वेबसाईट को स्तेमाल करने के लिए आपको वह अपनी जानकारी या पहचान देती है इसके साठ ही उसमे आपकी पर्सनल जानकारी इत्यादि होती है
अपने प्रोफाइल को लॉगिन करने के लिए अपको अपना आइडी और पसवॉर्ड डालना होता है वही उस डिवाइस से उस खाता को दुबारा लॉक करने के लिए Log Out किया जाता है ताकि कोई उस प्रोफाइल को न खोल सके.


Related Link:

 

 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments