You are currently viewing Omicron Kya Hai 

Omicron Kya Hai 

Omicron Kya Hai  नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपको महत्वपूर्ण जानकरी देने वाले है जोकि आज का विषय है। omicron kya hai  दोस्तों यह भी एक वायरस है Omicron Kya Hai ,जो कोरोना के चलते समय यह ओमीक्रॉन आया दोस्तों काफी लोगो को इस महामारी के बारे में  ज्यादा जानकारी नहीं मालूम है तो इसलिए दोस्तों यह आर्टिकल में आज हम आपको पूर्ण जानकारी आपको देंगे। Omicron Kya Hai आप  इस आर्टिकल को अंत तक पढ़े। Omicron Kya Hai  तो दोस्तों बिना वक़्त गुजारे शुरू करते है।

Omicron Kya Hai 

Omicron Kya Hai  कोरोना के इस नए वेरिएंट का नाम Omicron इसलिए पड़ा क्योंकि Omicron ग्रीक वर्णमाला का शब्द है जो पंद्रहवा नंबर पर आता है अब तक कोरोना के 12 वेरिएंट मौजूद है Omicron Kya Hai  जिसके कारण इस नए कोरोना वेरिएंट का नाम ग्रीक वर्णमाला के 13 शब्द होना चाहिए था लेकिन WHO नागरिक वर्णमाला के 13 और 14 शब्द छोड़कर 15 शब्द Omicron नाम रखा गया Omicron Kya Hai लेकिन जब लोगों के द्वारा ये सवाल उठाने पर कि ऐसा क्यों हुआ तो WHO ने जवाब में दिया कि ग्रीक वर्णमाला के 13 अक्षर (NU) और 14 अक्षर (Xi) बहुत ही कॉमन अक्षर हैं और इसका उपयोग कई देशों के नामों के आगे पीछे किया जाता है और 14 अक्षर (Xi) चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग(Xi Jinping) का नाम आता है Omicron Kya Hai और WHO का यह नियम है कि किसी भी वायरस का नाम किसी व्यक्ति, संस्था, संस्कृति, समाज, धर्म, व्यवसाय या देश के नाम पर नहीं रखा जाता है ताकि किसी के भी भावना को ठेस ना पहुंचे इसीलिए 13 अक्षर (NU) और 14 अक्षर (Xi) को छोड़कर 15 अक्षर Omicron नाम रखा गया

ओमिक्रॉन के मरीजों में मिल रहे हैं ये लक्षण

Omicron Kya Hai सबसे पहले ओमिक्रॉन से संक्रमित मरीज के गले में परेशानी देखी जा रही है. इसमें गला अंदर से छिल जाता है. डिस्‍कवरी हेल्थ, साउथ अफ्रीका के चीफ एग्जीक्यूटिव रयान रोच ने बताया कि नाक बंद होना, सूखी खांसी और पीठ में नीचे की तरफ दर्द की समस्या ओमिक्रोन पीड़ित मरीजों को हो रही है Omicron Kya Hai  ओमिक्रॉन Omicron (कोरोना वायरस का नया वेरिएंट) कोरोना वायरस से जहां अभी थोड़ी राहत मिली ही थी कि अभी इसका एक और वेरिएंट सामने आ गया है. जो पहले से भी ज्यादा घातक है. दुनिया के कुछ देशों में कोरोना का यह नया वेरिएंट ओमिक्रॉन सामने आया है विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने इस वेरिएंट को B.11.529 यानी ओमिक्रॉन नाम दिया है कोरोना के इस नए वेरिएंट को लेकर वैज्ञानिकों का कहना है कि ये अब तक का सबसे घातक और संक्रामक वेरिएंट है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक इस ओमिक्रोन वेरिएंट में करीब 32 म्यूटेशन देखे गए है, जिसके कारण WHO की चिंता और अधिक हो गयी है

सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका के वेज्ञानिको ने अपने देश मे इस नए वेरिएंट के होने की पुष्टि की थी. बाद में इस्राइल ओर बेल्जियम में भी यह नया वेरिएंट पाया गया. वैज्ञानिक अध्यन में इस बात का खुलासा हुआ है  Omicron Kya Hai कि ओमिक्रॉन (Omicron) वेरिएंट, डेलटा वेरिएंट से भी घातक है Omicron Kya Hai  सबसे बड़ी चिंता की बात यह है कि जो लोग कोविड टीकाकरण की दोनों डोज़ ले चुके है, वे भी इसकी चपेट में आ सकते हैं

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमीक्रोन ने, कोरोना जैसी महामारी से जूझ रही दुनिया की चिंता को ओर बढ़ा दिया है. विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने भी इसे चिंताजनक बताया है इस वेरिएंट को इतना खतरनाक बताया जा रहा है कि इसे कोरोना के डेल्टा वेरिएंट से भी तेज़ फैलने वाला बताया जा रहा है

Related Link: Udaan Girls Higher Education Scheme 

Omicron से बचाव के कुछ उपाय

  1. अधिक भीड़भाड़ वाली जगहों पर जाने से बचें
    2. घर से बाहर निकलते समय हमेशा मास्क का प्रयोग करें
    3. हाथों को हमेशा सैनिटाइज करते रहें
    4. कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज जरूर लगवा ले
    5. शरीर में संक्रमण के लक्षण दिखने पर टेस्ट अवश्य करा लें

ओमिक्रॉन वेरिएंट के कुछ लक्षण

  • कुछ चिकित्सकीय जानकारों का इस वेरिएंट के लक्षणों को लेकर यह कहना है कि इसमें लोगों को बेचेनी ओर उल्टी की दिक्कतें होती है कर कभी-कभी नाड़ी की गति भी बढ़ जाती है किन्तु स्वाद और गंध का अनुभव बना रहता है
  •  दक्षकन अफ्रीका में कोरोना वायरस के इस नए वेरिएंट की चपेट में आये लोगों का इलाज कर रहे कुछ डॉक्टर्स ने ये भी कहा है कि इसके लक्षण बहुत मामूली होते हैं और इसका इलाज घर पर ही संभव हो सकता है Omicron Kya Hai  एक रिपोर्ट के मुताबिक, दक्षिण अफ्रीका मेडिकल एसोसिशन की प्रमुख डॉ. एंजेलिक कोएट्जी ने बताया कि डेल्टा वेरिएंट से अलग जिन मरीज़ों का इलाज उन्होंने अभी किया है, उनमे गंध, स्वाद यही आने या ऑक्सीजन का स्तर कम होने जैसी शिकायते नहीं पाई गई है। उन्होंने अपने चिकत्स्कीय अनुभव से ये भी बताया कि ये वेरिएंट 40 साल या इससे कम उम्र के लोगों को अपनी चपेट में ले रहा है.
  • उन्होंने ये भी बताया कि जो मरीज़ उनके सामने आए उनमें बहुत अधिक थकान जैसी शिकायते देखने को मिली. इसके साथ ही उन मरीज़ों में सिर दर्द और बदन दर्द जैसी शिकायते भी देखने को मिली. उन्होंने अपने क्लिनिक में कुछ मरीज़ ऐसे देखे जिनके लक्षण डेल्टा वेरिएंट के मरीज़ों से कुछ अलग थे. इन मरोज़ो में वायरल बुखार के तो मामूली लकसहन थे लेकिन बदन दर्द और सिर दर्द की शिकायतें उनमें ज़्यादा थी. जिसके बाद उन्हें ये एहसास हुआ कि ये कुछ अलग है.

Related Link: मिशन बुनियाद क्या है   

मॉर्डना के सीईओ स्टीफन बैंसेल के अनुसार कोरोना वायरस का नया वेरिएंट ओमीक्रोन, कोविड-19 के वेक्सीन को भी मात दे सकता है. उन्होंने ये भी बताया कोविड वेक्सीन, कोरोना के डेल्टा वायरस के खिलाफ जितना कारगर है, उतना ओमीक्रोन पर नहीं रहेगी. स्टीफन बैंसेल ने नए वेरिएंट ओमीक्रोन को लेकर एक बड़े खतरे का अंदेशा दिया जाता है उनके अनुसार इस वेरिएंट स्व अस्पतालों में भारत  के मरीज़ों की संख्या में भी इजाफा होगा. उन्होंने कहा कि महामारी के लिहाज से ये अच्छा संकेत नहीं है क्योंकि इस नए वेरिएंट से बचने के लिए वेक्सीन ब कर आने में महीनों लग सकते हैं. बैंसेल के इस बयान के बाद वेक्सीन बनाने वाली कंपनी भारत बॉयोटेक ने कहा कि वह इस बात की स्टडी कर रही है कि उसका टीका ओमीक्रोन वेरिएंट पर असरदासर रहेगा या नहीं. कंपनी ने कहा मज हमारी वेक्सीन वुहान में मिले मूल वेरिएंट पर आधारित है. अभी तक यह बाकी वेरिएंट के मामले में असरदार रही है Omicron Kya Hai  नए वेरिएंट पर भी इसकी जांच की जा रही है

Related Link: गगनयान मिशन क्या है 

प्रतिष्ठित पत्रिका “द नेचर” में प्रकाशित एक लेख में कहा गया है कि दक्षिण अफ्रीका में जिन लोगों को ओमीक्रोन का संक्रमण हुआ है, उनमें से कुछ लोगों ने “जॉनसन एंड जॉनसन”, कुछ ने “फाइजर-बायोटेक” और कुछ ने ऑक्सफोर्ड-एस्ट्रेजनेका (कोवीशिल्ड) वैक्सीन की डोज़ ले रखी थी यानी ओमीक्रोन ने इन तीनो वैक्सीन भेदने में सफलता हासिल कर ली है। यह चिंता का विषय है  Omicron Kya Hai  मशहूर विषाणु विज्ञानी शाहिद जमील के एक लेख में इसका जवाब यह दिया गया कि, यह सच है कि ओमीक्रोन, वैक्सीन के व्यूह को भेदने में सफल हो रहा है लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि वैक्सीन बिल्कुल अनुपयोगी हो गया है

जहां तक कोविड-19 के।मरीज़ों के इलाज की बात है तो डब्ल्यूएचओ का कहना है कि 2 सालों में कोरोना वायरस से संक्रमित मरीजों के इलाज के जो भी तरीके इजाद किए गए हैं, उन्हें ओमीक्रोन मरीजों के लिए भी उपयोगी साबित होना चाहिए

कोरोना वायरस के नए वेरिएंट के नाम यूनानी वर्णमाला के अक्षरों के क्रम पर रखा जा रहा है. ओमीक्रोन इस वर्णमाला का 15वा अक्षर है. इसी से अंदाजा लगाया जा सकता है कि कोरोना वायरस ने 1 साल में कितने सारे रूप बदल दिए हैं और उसके म्यूटेशन की रफ्तार कितनी तेज है. इसका पहला वैरीअंट “अल्फा” लगभग 2020 में मिला था, जबकि साल भर बाद ही 2021 में ओमीक्रोन वेरिएंट आ गया. यूनानी वर्णमाला का तेरवा अक्षर “नू” और “शी” जिनके नाम पर कोरोना के वेरिएंट्स के नाम नहीं रखे गए हैं Omicron Kya Hai  कोरोना वायरस के मिले अब तक 13 बड़े वेरिएंट्स में 5 को ही “वेरिएंट ऑफ कंसर्न” की श्रेणी में रखा गया है. इसमें ओमीक्रोन भी शामिल है. इस श्रेणी के वेरिएंट कोविड-19 ने महामारी को भयावह रूप देखकर जबरदस्त तबाही मचाई है. बाकी आठ को “वैरीअंट ऑफ इंटरेस्ट” की श्रेणी में रखा गया है. मतलब ये वेरिएंट्स इतने ज्यादा खतरनाक नहीं है.

1 साल के लंबे समय के बाद ओमीक्रोन के बहुत से म्यूटेशन सामने आए हैं. यही वजह है कि अब तक इसके 50 म्यूटेशंस का पता चल चुका है. जबकि भारत में कोरोना की दूसरी लहर में तबाही मचाने वाले डेल्टा वेरिएंट में इसके आधे म्यूटेशन ही मिले थे. ओमनीक्रोन के 50 म्यूटेशनओं में 32 स्पाइक प्रोटीन में पाए गए हैं, जो डेल्टा में 10 है. यह चिंता बढ़ाने वाली बात है. क्योंकि ज्यादातर मौजूद कोरोना वैक्सीन भी इन वायरस की पहचान स्पाइक प्रोटीन के जरिए ही करती है. अब जब स्पाईक प्रोटीन में ही म्यूटेशन आ गया है Omicron Kya Hai तो वैक्सीन को वायरस की पहचान करने में मुश्किल पैदा होगी. यही वजह है कि ओमीक्रोन के कोरोना वैक्सीन को भी बहुत हद तक निष्प्रभावी करने की बातें की जा रही है. एक और चिंता की बात यह है कि स्पाइक प्रोटीन के उस हिस्से में भी ओमीक्रोन के 10 म्यूटेशन पाए गए हैं.

ओमिक्रॉन (Omicron) से कैसे बचे –

ओमिक्रॉन से बचने के लिए आप को कुछ अलग नही करना है, जैसे आप ने Covid के समय खबरदारी ली थी वैसे हे इसका हाल है

  • पहले तो आप को वैक्सीन लेनी है और वो भी दोनों डोस
  • हमेशा मास्क पहने
  • लोगो से दूर रहे
  • निम्बू पानी ज्यादा पी ले
  • शक्तिवर्धक पदार्थ जैसे दूध, हल्दी और मांसाहार का सेवन करे

दोस्तों जो जानकारी हमने आपको दी है उम्मीद है यह जानकारी आपको अच्छे से समझ आ चुकी होगी। दोस्तों आपको यह लेख पसंद आया है तो अपने दोस्तों तक जरूर शेयर करे और नयी जानकारी चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स में जरूर बताये। 

धन्यवाद


Q. क्या Omicron को RT- Pcr से डिटेक्ट किया जा सकता है

हां Omicron को Rt-Pcr से डिटेक्ट किया जा सकता है

Q. पहली बार हुई कोरोना वायरस के मरीज को क्या दूसरी बार Omicron संक्रमित कर सकता है

अभी तक के हुई जानकारी के अनुसार यह पता चला हैं कि काफी अधिक Chances है कि संक्रमित हो सकते हैं


0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments