Thursday, April 25, 2024
Homeजानकारियाँप्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2023| Pradhan Mantri Mudra Yojana In Hindi

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2023| Pradhan Mantri Mudra Yojana In Hindi

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना का मुख्य उद्देश्य 

  • ऋण के तौर पर सूक्ष्म वित्त उपलब्ध कराने वाली संस्थाओं और उसकी वित्त प्रणाली का नियमन और उसकी सक्रिय भागीदारी को मजबूत बनाने के साथ उसे स्थिरता प्रदान करना.
  • सूक्ष्म वित्तीय संस्थाओं सहित अन्य एजेंसियों को जो छोटे कारोबारियों, दुकानदारों, स्व-सहायता समूहों आदि को ऋण उपलब्ध करातें हैं, को वित्त व ऋण गतिविधियों में सहयोग करना.
  • मौजूद सभी सूक्ष्म वित्तीय संस्थाओं  को पंजीकृत करना और उसके प्रदर्शन के आधार पर उसकी श्रेष्ठता सूची बनाना. इस सूची से संस्था के रिकॉर्ड का आकलन किया जा सकेगा और ऋण लेने वालों को श्रेष्ठ एमएफआई चुनने में मदद मिल सकेगी. दूसरी तरफ श्रेष्ठता सूची बनने से संस्थाओं के बीच प्रतिस्पर्धा बढ़ेगी जिससे वे सभी बेहतर प्रदर्शन के लिए प्रेरित होंगे. अंततः इसका लाभ ऋण लेने वालों को मिलेगा.
  • मुद्रा बैंक ऋण लेने वालों को कारोबार के संबंध में उचित दिशा-निर्देश भी उपलब्ध कराया गया है जिससे कारोबार को संकट से उबारने में मदद मिल सकेगी. साथ ही डिफॉल्ट की स्थिति में पैसे की वसूली के लिए किस प्रक्रिया का पालन किया जाए, उसके निर्धारण में भी मुद्रा बैंक सहयोग करेगा.
  • छोटे व्यावसायिक इकाईयों को दिए जानेवाले ऋण की गारंटी के लिए मुद्रा बैंक क्रेडिट गारंटी स्कीम बनाएगा.
    मुद्रा बैंक ऋण देने वाली संस्थाओं को प्रभावी तकनीक उपलब्ध कराएगी जिससे ऋण लेने और देने की प्रक्रिया में मदद मिल सकती है .
  • योजना के तहत मुद्रा बैंक एक उपयुक्त ढांचा तैयार करेगा जिससे व्यावसायिक इकाईयों को छोटे ऋण उपलब्ध कराने के लिए एक प्रभावी प्रणाली विकसित की जा सके.

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2023-मुद्रा योजना (Prdhan Mantri MUDRA Bank Yojana) का अर्थ हैं माइक्रो यूनिट्स डेवलपमेंट रिफाइनेंस एजेंसी (Micro Units Development Refinance Agency) जिसे MUDRA कहा गया छोटे अर्थ में मुद्रा का मतलब धन से हैं यही इस योजना का मुख्य बिंदु हैं कुटीर उद्योगों को धन की सहायता |

प्रधानमंत्री योजना की स्थापना

मुद्रा योजना अप्रैल 2015 को घोषित की गई हैं मुद्रा बैंक वैधानिक अधिनियम के अंतर्गत स्थापित किया गया हैं जिसमे कुटीर उद्योगों के विकास की ज़िम्मेदारी प्रधानमंत्री मुद्रा योजना बैंक की होगी |



मुद्रा लोन योजना का लक्ष्य

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन योजना 2023-छोटे कुटीर उद्योगों को बैंक से आर्थिक मदद आसानी से नहीं मिलती वे बैंक के नियमो को पूरा नहीं कर पाते है इस कारण वे उद्योगों को बढ़ाने में असमर्थ होते है इसलिए मुद्रा बैंक योजना शुरू की गयी थी जिसका मुख्य लक्ष्य युवा पढ़े लिखे नौजवानों के हुनर को मजबूत धरातल देना हैं साथ ही महिलाओं को सशक्त बनाना हैं |

प्रधानमंत्री मुद्रा बैंक योजना की पात्रता :

मुद्रा योजना के तहत हर वो व्यक्ति जिसके नाम कोई कुटीर उद्योग हैं या किसी के साथ पार्टनरशीप के सही दस्तावेज हो या कोई छोटी सी लघु यूनिट हो वे इस मुद्रा बैंक योजना के तहत ऋण ले सकता हैं |

मुद्रा योजना के अंतर्गत लोन कैसे मिलेंगे?

अगर कोई भी भारतीय नागरिक मुद्रा लोन योजना के तहत लाभ उठाना चाहता है तो उसे निम्न प्रक्रियाओं का पालन करना होगा.

  • सबसे पहले ऋण प्राप्त करने को इच्छुक व्यक्ति को नजदीक के किसी बैंक में जाकर प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के लिए
  • बैंक से संपर्क कर उनसे योजना का फॉर्म प्राप्त करना होगा.
  • फिर ऋण आवेदन फॉर्म को भरकर साथ में मांगे गए कागजातों और आपके द्वारा किए जाने वाले व्यवसाय या फिर
  • आप जिस किसी नए व्यवसाय को शुरू करना चाहते हैं, उसका विस्तृत विवरण प्रस्तुत करना होगा.
  • इसके बाद बैंक द्वारा निर्धारित सभी औपचारिकताओं को पूरा करना होगा.
  • सभी औपचारिकताओं को पूरा करने के बाद आपका ऋण मंजूर होगा और आपको उपलब्ध कराया जाएगा.

प्रधानमंत्री मुद्रा लोन प्राप्त करने के लिए आवश्यक दस्तावेज

प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अंतर्गत ऋण प्राप्त करने के इच्छुक आवेदक को अपने आवेदन के साथ निम्न दस्तावेजों को प्रस्तुत करना होगा –

  • पहचान के लिए, आधार कार्ड, पैन कार्ड, वोटर आईडी कार्ड,ड्राइविंग लाइसेंस, पासपोर्ट में कोई भी एक होनी चाहिए। 
  • निवास प्रमाण के लिए वोटर, आधार कार्ड, आईडी कार्ड, पासपोर्ट में से कोई एक या फिर टेलिफ़ोन या बिजली का बिल भी होना चाहिए। 
  • अगर आवेदक अनुसूचित जाति/जनजाति या पिछड़ा वर्ग से है तो उसके प्रमाणपत्र की स्व-सत्यापित प्रतिलिपि.
  • व्यावसायिक इकाई से संबंधित लाइसेंस, पंजीकरण प्रमाणपत्र, स्वामित्व की पहचान आदि दस्तावेजों की प्रतिलिपि.
  • आवेदक के लिए यह भी जरूरी है कि वह किसी बैंक या वित्तीय संस्थान का डिफाल्टर न हो.
  • अगर आवेदक 2 लाख या उससे ऊपर के ऋण के लिए आवेदन करता है तो उसे अपने पिछले 2 साल की आयकर
  • विवरणी (Income Tax Return) और तुलन चिट्ठे (Balance Sheet) की प्रतिलिपि को प्रस्तुत करना होगा. शिशु वर्ग के ऋण के लिए यह अनिवार्य नहीं है
  • अगर आवेदक बड़े स्तर पर नया व्यवसाय शुरू करना चाहता है या फिर अपने वर्तमान व्यवसाय का विस्तार करना चाहता है तो उसे व्यवसाय से संबंधित परियोजना रिपोर्ट को प्रस्तुत करना होगा. इस रिपोर्ट से व्यवसाय के तकनीकी और आर्थिक पहलुओं की जांच की जा सकेगी.
  • आवेदन को चालू वित्त वर्ष के दौरान उसके इकाई द्वारा की गई बिक्री और मुनाफे-घाटे का ब्यौरा भी प्रस्तुत करना होगा.
  • अगर आवेदक कंपनी या साझेदारी फर्म है तो उससे संबंधित डीड या मेमोरेंडम की प्रतिलिपि प्रस्तुत करना होगा.
    आवेदन के साथ आवेदक को अपना 2 फोटो संलग्न करना होगा. (अगर आवेदक कंपनी या साझेदारी फर्म है तो उसके सभी निदेशकों या फिर साझेदारों की 2-2 फोटो संलग्न करने होंगे.)

मुद्रा योजना के तहत लोन/ ऋण का प्रावधान

मुद्रा लोन योजना के तहत ऋण लेने वालों को तीन वर्गों में वर्गीकृत किया गया है. इस वर्गीकरण का आधार व्यवसाय के विभिन्न चरण हैं – पहले चरण में, कारोबार शुरू करने वाले, दूसरे चरण में, मध्यम स्थिति में कारोबार को वित्तीय मजबूती प्रदान करने के लिए ऋण के तौर पर वित्त की तलाश और तीसरे चरण में वे हैं जो कारोबार को बढ़ाने के लिए अधिक पूंजी की तलाश में हैं. इन तीनों वर्गों की जरूरतों को पूरा करने के लिए मुद्रा बैंक ने ऋण को निम्न तीन वर्गों में बांटा गया है –

  • शिशु लोन : इसके अंतर्गत 50 हजार रुपये तक के ऋण को रखा गया है.
  • किशोर लोन : इसके अंतर्गत 50 हजार से 5 लाख रुपये तक के ऋण को रखा गया है.
  • तरुण लोन : इसके अंतर्गत 5 लाख से 10 लाख रुपये तक के ऋण को निर्धारित किया गया है.

मुद्रा लोन योजना के तहत लाभ उठाने के लिए लगभग सभी प्रकार के व्यावसायिक इकाईयों, पेशेवरों और सेवा क्षेत्रों को शामिल किया गया है. इनमें छोटे दुकानदार, फल और सब्जी विक्रेता, रेहड़ी वाले, हेयर कटिंग सैलून, ब्यूटी पार्लर, हौकर, साइकिल-बाइक-कार रिपेयर करने वाले, ट्रांसपोर्टर, ट्रक ऑपरेटर, मशीन ऑपरेटर, दस्तकार, शिल्पी, पेंटर, खाद्य प्रसंस्करण वाली इकाईयां, रेस्तरां, सहकारी संस्थाएं, स्वयं सहायता समूह, लघु और कुटीर उद्दयोग आदि शामिल हैं.

मुद्रा लोन द्वारा भविष्य में प्रस्तुत किए जाने वाले उत्पाद व योजनाएं

  • मुद्रा कार्ड
  • निवेश ऋण गारंटी
  • ऋण सीमा में बढ़ोतरी
  • लाभार्थियों को आधार डाटाबेस और जनधन खाते से जोड़ना
  • ऋण ब्यूरो की स्थापना
  • मिक्स मार्किट जैसी संस्थाओं का विकास

मुद्रा योजना के लाभ

  • इस योजना के कारण छोटे व्यापारियों का हौसला बढेगा जिससे देश का आर्थिक विकास होगा |
  • इस योजना के कारण पढ़े लिखे नौ जवानो को रोजगार मिलेगा और उनका हुनर भी निखर कर सामने आएगा |
  • बड़े उद्योग केवल सवा करोड़ लोगो को रोजगार देते हैं लेकिन कुटीर उद्योग 12 करोड़ लोगो को |
  • ऐसे उद्योगों को बढ़ावा देने से देश का पैसा देश में ही रहेगा और आर्थिक विकास होगा |
  • नयी गतिविधियों का संचार होगा |
  • छोटे व्यापारियों का आत्मविश्वास बढ़ेगा जिससे प्रतियोगिता की भावना उत्पन्न होगी जो कि उनकी उन्नति में सहायक होगा |
  • देश का विकास अमीरों के विकास से नहीं अपितु गरीबो के विकास से होता हैं अत : इस दिशा में मुद्रा बैंक योजना एक अहम् फैसला हैं |
  • मुद्रा बैंक योजना की सोच बांग्लादेश देश के प्रोफ़ेसर युनूस की हैं जिसे उन्होंने वर्ष 2006 में लागु किया था जिससे कुटीर उद्योग का विकास हुआ जिसके बाद अन्तराष्ट्रीय स्तर पर युनूस सहाब की प्रशंसा की गई है |

एस बी आई द्वारा मुद्रा लोन की जानकारी 

  • स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया (SBI) भारत का सबसे बड़ा बैंक है। यह बैंक अब मुद्रा का लोन देने लगा है। अभी अभी SBI ने पश्चिम बंगाल में करीब 80 छोटे छोटे उद्योग चलाने वाली महिलाओं को शिशु लोन दिया जाता है। आप भी अपने नज़दीकी SBI में जा कर इस योजना की जानकारी ले सकते है । SBI से लोन लेना सब से कठिन माना जाता है क्यूकि वो पूरी जांच पड़ताल कर लेने के बाद ही लोन देते है। इसलिए SBI जाने के पहले अपने सारे दस्तावेज़ साथ ले जाना ना भूले।
  •  मुद्रा बैंक योजना देश के युवा वर्ग, पिछड़ा वर्ग, अनुसूचित जाति, अनुसूचित जनजाति के लिए वह समान अवसर है जिसके माध्यम से वह न केवल अपनी योग्यता साबित कर सकते हैं बल्कि अपने जीवन में सुधार के साथ-साथ देश के आर्थिक विकास में भी सक्रिय योगदान देना चाहिए . इस योजना के संबंध में यह भी कहा जा रहा है कि अगर यह योजना सफल होती है और अपने लक्ष्य को भेद लेती है तो दुनिया के सामने एक सक्सेस स्टोरी के तौर पर स्थापित हो जाएगी.
  • इस योजना के तहत अब तक करीब 10 लाख लोगो लोन मिल चूका है।
  • लेटेस्ट रिपोर्ट के अनुसार, इस योजना ने अधिकतम 3.49 करोड़ नये व्यापारियों की मदद की है. इस योजना के तहत इसकी शुरुआत से आज तक, 12.27 करोड़ क्रेडिट मंजूर किये गये हैं. एक रिपोर्ट से यह भी पता चला है कि जुलाई 2018 तक, इस प्रोग्राम ने अधिकतम 61.12 करोड़ प्राप्तकर्ताओं को क्रेडिट की पेशकश की है.

RELATED ARTICLES
5 9 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular