You are currently viewing Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

  Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat 

Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपको बताने वाले हैं आज हम आपको विस्तार से बताने वाले हैं कि Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  रक्षाबंधन भाई बहन का पवित्र त्यौहार है जिसमें नए रिश्ते जुड़ जाते हैं और साथ में इन रिश्तो में प्रेम भावना बनी रहती है और दोस्तों इस त्यौहार में चाहे कितनी भी लड़ाई झगड़े हो जाए परंतु यह festival भाई बहन के लिए काफी प्रसिद्ध तोहार माना गया है Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat इस year रक्षा बंधन 11 August को है। हालांकि, हिंदू calendar के अनुसार इसे दो dates – 11 August और 12 August दोनों को मनाया जा सकता है। यह श्रावण month के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा के दिन मनाया जाता है जिसे इस नाम से भी जाना जाता है। श्रावण पूर्णिमा या कजरी पूनम। श्रावण month में शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि गुरुवार 11 August को प्रातः 10.38 बजे से प्रारंभ होगी।





Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat in india 

Thursday, 11 August

पूर्णिमा तिथि friday , Thursday, 11 August , 12 August को प्रातः 7:05 बजे तक रहेगी। इस दिन के शुभ मुहूर्त इस प्रकार हैं:

  • पूर्णिमा तिथि friday , 12 August को प्रातः 07:05 बजे समाप्त हो रही है।
  • भद्रा time गुरुवार 11 August को सुबह 10:38 बजे से शुरू हो गया है।
  • भद्रा time गुरुवार 11 August को रात 08:51 बजे समाप्त हो रहा है।
  • राखी के लिए शुभ मुहूर्त गुरुवार 11 August को रात 08:51 से 09:12 बजे के बीच है।
  • पूर्णिमा तिथि गुरुवार 11 August को सुबह 10:38 बजे से शुरू हो रही है।

ज्योतिषियों astrologers का कहना है कि चूंकि 12 August को पूर्णिमा तिथि भी होगी, उस दिन किसी भी time राखी बांधी जा सकती है। तो, 12 August को इस घटना को मनाने के लिए use किया जा सकता है। 11 August को राखी बांधने की इच्छा रखने वाला कोई भी व्यक्ति ऐसा कर सकता है, Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  लेकिन Bhadra काल के बाद। 12 August को राखी का शुभ मुहूर्त इस प्रकार है:

  1. अभिजीत मुहूर्त friday 12 August को सुबह 11:59 बजे से afternoon 12:52 बजे तक चलेगा.
  2. शुभ चौघड़िया friday 12 August को afternoon 12:52 बजे से afternoon 02:05 बजे तक है.
  3. राखी बांधना, gifts देना और आरती करना, रक्षा बंधन के साथ आने वाले कुछ रिवाज हैं। यह साल का वह time है जब family करीब आते हैं और संबंध मजबूत होते हैं।

Also Read: 

  1. Rakshas Aur Asur main kya fark hai
  2. Janmashtami Business Ideas In Hindi
  3. Independence Day Best Business Ideas In Hindi
  4. Best Dussehra Business Ideas In Hindi
  5. Best Raksha Bandhan Business Ideas in hindi

 

राखी बांधने की सही विधि

रक्षा बंधन के दिन बहन के राखी बंधवाते time भाई को पूरब दिशा की ओर मुंह करके बैठना चाहिए. साथ ही राखी बांधने के क्रम में बहन का मुख पश्चिम दिशा की ओर होना चाहिए. इसके बाद राखी की थाली में अक्षत, चंदन, रोली, घी का दीया रखें. सबसे पहले भाई के Head पर रोली और अक्षत का टीका लगाएं. Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  इसके बाद उनकी आरती उतारें. फिर भाई की कलाई पर राखी बांधे और मिठाई से उनका मुह मीठा कराएं. ध्यान रहे कि ऱाखी बांधते time भाई के Head खाली नहीं रहना चाहिए

राखी बांधने का मंत्र

येन बद्धो बली राजा दानवेन्द्रो महाबल:

तेन त्वामनुबध्नामि रक्षे मा चल मा चल

राखी बांधते time all मंत्र का जाप अवश्य करना चाहिए. इस मंत्र का भावार्थ है कि जिस रक्षासूत्र से महान powerful दानवेन्द्र राजा बलि को बांधा गया था, उसी रक्षासूत्र से मैं तुम्हें बांधती हूं.Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  यह तुम्हारी रक्षा करेगा. हे रक्षे! (रक्षासूत्र) तुम चलायमान न हो. चलायमान न हो.

रक्षाबंधन क्यों मनाया जाता है

दोस्तों के भाई बहन का important festival है भाई बहन एक दूसरे के प्रति प्रेम भावना जागरूक करते हैं भविष्य पुराण के अनुसार सालों से असुरों के राजा बलि के साथ इंद्रदेव का युद्ध चल रहा था इसका solution भागने के लिए इंद्र की पत्नी सचि विष्णु जी के पास जा पहुंची तभी विष्णु जी ने उन्हें एक धागा अपनी पत्नी इंद्र की कलाई पर बांधने के लिए दिया जब सचि ऐसे आने के बाद इंद्रदेव साल चल रही युद्ध को जीत लिया Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  यह भाई बहन का यह पवित्र तोहार मैं विश्वास और प्यार रक्षाबंधन के दिन दिखाई देता है इस दिन बहने अपने भाइयों को टीका लगाती है उसकी कलाई पर राखी बांधती है और उस time भाई अपनी बहन को gifts देते हैं इस दिन पूरा वातावरण चहल पहल होता है और ऐसे में खुशी के साथ साथ सालों से श्रावण महीने की पूर्णिमा के दिन रक्षाबंधन का festival मनाया जाता है

लक्ष्मी राजा बलि की कथा

यह कथा भगवान विष्णु के वामन अवतार से जुड़ी हुई है इसमें भगवान विष्णु ने अवतार लेकर असुरों के राजा बलि से तीन पग भूमि दान में मांगा दानवीर बलि के लिए तैयार हो गया वह मैंने पहले ही पग को पति पर नाप लिया था तो बली समझ गया कि वह वामन खुद भगवान विष्णु ही है बली ने विनय भगवान विष्णु को प्रमाण किया और अगला पग रखने के लिए Head झुका लिया विष्णु भगवान बली पर प्रसन्न हुए वरदान मांगने को कहा तो असुर राज बली ने वरदान में उनसे अपने द्वार पर ही खड़े रहने के लिए इसलिए भगवान विष्णु अपने ही वरदान में फंस गए तब माता लक्ष्मी ने नारद मुनि से हैं यह सलाह ली की अतुल राज बली को राखी बांधने और gifts के रूप में विष्णु को मांग लिया Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

रक्षाबंधन का महत्व

इन कथाओं के माध्यम से यह मालूम चला है कि रक्षाबंधन पर्कश कलाई पर राखी व रक्षा सूत्र बांधा जाता है और यह है वचन के रूप में महत्व दिया जाता है इसलिए इसी दिन बहन भाई को राखी बनती है भाई अपनी बहन के लिए यह वचन देता है कि वह हर time उसकी care करेगा Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat अपने भाई के लिए कामयाबी और सफलता की कामना करती है यह तो हार वचन भावना ही festival का सबसे important हिस्सा है

Raksha bandhan muhurat time 2022 marathi

भद्रकाली का समय

भद्रकाल – 11 August 2022 को भद्रा पुंछ evening 5:17 बजे शुरू होकर शाम 6:18 बजे End होगी। उसके बाद भद्रा मुख शाम 6.18 बजे से शुरू होकर रात 8 बजे तक चलेगा। इस दौरान बहनों को भाई की कलाई पर राखी बांधने से बचना चाहिए। भद्राकाल में यदि किसी कारणवश राखी बांधनी पड़े तो प्रदोषकाल में अमृत, शुभ व शुभ मुहूर्त देखकर राखी बांधी जा सकती है। 11 August को अमृत काल शाम 6.55 बजे से 8.20 बजे तक रहेगा। Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

रक्षाबंधन शुभ मुहूर्त

रक्षाबंधन भाईचारे के प्यार का प्रतीक(Sign) है। इस दिन बहन भाई की live long और advancement के लिए उसे रक्षासूत्र बांधती है। 11 अगस्त को सुबह 9.28 बजे से रात 9.14 बजे तक राखी बांधने का शुभ मुहूर्त है। Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

भद्रा में राखी क्यों नहीं बांधते?

भद्रा काल में राखी बांधना अशुभ माना जाता है। एक पौराणिक कथा के अनुसार, भद्रकाल के दौरान लंका के राजा रावण की बहन द्वारा राखी बांधी गई थी, जिससे रावण का विनाश हुआ था।Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

भद्रकाल को माना जाता है अशुभ? 

भद्रकाल के दौरान राखी बांधना अशुभ माना जाता है, इसके पीछे एक किंवदंती है कि भगवान शनि की बहन का नाम भद्रा था। भद्रा का स्वभाव बहुत क्रूर था, वह हर शुभ कार्य, पूजा, यज्ञ में हस्तक्षेप करती थी। इसलिए भद्रकाल के दौरान कोई भी शुभ कार्य करना अच्छा नहीं माना जाता है। इसके दुष्परिणाम अशुभ होते हैं। Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

12 अगस्त को भी बांधी जा सकती है राखी

यह पर्व हर साल श्रावण मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। calendar के मुताबिक इस बार पूर्णिमा दो दिन यानी 11 August और 12 August को है. ऐसे में कब मनाया जाएगा रक्षा बंधन का पर्व? इसको लेकर बड़ा संशय था। 12 August को सुबह 7.05 बजे तक पूर्णिमा रहेगी। Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat यह समय भद्रा नहीं बल्कि उदयतिथि भी है। तो कुछ लोग 12 अगस्त को राखी बांधना शुभ मानते हैं। अगर आप 12 August को राखी बांधने की योजना बना रहे हैं तो सुबह 7.05 बजे से पहले राखी बांध लें।

Raksha bandhan 2022 date in bihar

Thursday, 11 August

Raksha bandhan 2022 in bihar

रक्षा बंधन का festival , इस बार कई मानयो मे खास हो गया है क्योंकि एक तरफ जहां पर अधिकतर बहने अपने – अपने भाईयो को रक्षा बंधन की पवित्र डोर 11 August , 2022 को बांधेगी तो वहीं कुछ बहनो द्धारा 12 August , 2022 को रक्षा बंधन की रस्म अदा की जायेगी।Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat  हमारी सभी बहने इस बात को लेकर उलझन मे है कि, राखी कब बांधी जाये औऱ इसीलिए आपको पूरा स्पष्टीकरण कुछ बिंदुओं की help से प्रस्तुत करेगे जो कि, इस प्रकार से हैं हिंदू पंचाग के अनुसार प्रत्येक सावन month की शुल्क पक्ष की पूर्णिमा date को ही रक्षा बंधन का त्यौहार हर्षो – उल्लास व भव्यता की दिव्यता के साथ मनाया जाता है।

किस काल मे राखी बांधना शुभ होगा?

इस पवित्र व पावन अवसर पर ज्योतिषाचार्यो का कहना है कि, प्रदोष काल मे बहनो के द्धारा भाईयो को राखी बांधना बेहद शुभ, मंगलमय औऱ कल्याणकारी सिद्ध हो सकता है, Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

11 August को राखी बांधनो का शुभ मुहुर्त क्या है?

 11 August को राखी बांधनो का शुभ मुहुर्त सुबह के 10 बजकर 38 मिनट से लेकर afternoon के 12 बजकर 32 mint तक रहेगा, वहीं दूसरी तरफ 11 August को अभिजीत मुहुर्त दोपहर के 12 बजकर 6 मिनट से लेकर afternoon 12 बजकर 58 mint तक रहेगा औऱ अन्त मे, आपको बता दें कि, राखी बांधने का अमृत काल afternoon 12 बजकर 9 mint से लेकर afternoon 3 बजकर 47 मिनट तक रहेगा। यहां प्रदोष काल का meaning है सूर्यास्त के करीब दो hours बाद का समय बेहद शुभ माना जाता है क्योंकि दिपावली के त्यौहार पर इसी काल में माता लक्ष्मी की पूजा की जाती है, होलिका दहन किया जाता है और रावन – दहन भी इसी काल मे किया जाता है। Raksha Bandhan 2022 Date and Muhurat

Raksha bandhan 2022 date gorakhpur

Thursday, 11 August

Raksha bandhan 2022 in  gorakhpur
  1. शुभ समय : 11 अगस्त को सुबह 10.38 बजे से 12.32 बजे तक।
  2. अभिजीत मुहूर्त : दोपहर 12.06 से 12.58 बजे तक।
  3. अमृत काल : दोपहर 2.09 से 3.47 बजे तक, शाम 5.20 से 6.20 बजे तक और रात्रि को 8:53 से 9:50 बजे तक।







 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments