Wednesday, May 29, 2024
HomeEvents Bloggingरामनवमी क्यों मनाई जाती है – रामनवमी का इतिहास हिंदी में

रामनवमी क्यों मनाई जाती है – रामनवमी का इतिहास हिंदी में




 

रामनवमी क्यों मनाई जाती है – राम नवमी का हिन्दू त्यौहार है जोकि पुरे विश्व में भगवान राम का जन्मदिन हर्शोल्लाश के रूप धूम धाम से मनाया जाता है और ऐसा कहा जाता है की इस दिन भगवान श्री राम जी का जन्म हुआ था.

राम नवमी का त्यौहार

रामनवमी क्यों मनाई जाती है –  राम नवमी के दिन ही चैत्र की नवरात्रि की शुरुआत होती है. इस दिन बहुत से हिन्दू लोग अयोध्या में जाकर नदी में स्नान करते हैं. इस दिन क़ाफी जगहों में व्रत रखा जाते हैं और हवन भी कराया जाता हैं. ऐसा माना जाता है की कि इस दिन व्रत रखने से व्रत रखने वाले व्यक्ति की सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती है और मनवांछित फल की प्राप्ति होती है.

इस दिन अयोध्या में राम मेला आयोजित किया जाता है जिसमें हर वर्ष काफी सारी मात्रा में लोग उपस्थित होते है और इस दिन काफी भीड़ देखी जाती है. राम नवमी के दिन नहाने के बाद घरों के मंदिरों में रामचरित मानस का पाठ किया जाता है ।

राम वर्ष नवमी कब है?

  • इस वर्ष राम नवमी का त्यौहार 30 मार्च 2023 को है और इस गुरुवार का दिन पड़ता है।
  • हर वर्ष राम नवमी का त्यौहार चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी के दिन मनाया जाता है। धार्मिक ग्रंथो के अनुसार इस दिन प्रभु श्री रामचंद्र जी का जन्म हुआ था।
  • इस दिन श्री प्रभु रामचंद्र जी के अवतार लेने के कारण इस दिन हम सब बहुत ख़ुशी और उत्साह के साथ राम नवमी का त्यौहार मनाते हैं।

रामनवमी क्यों मनाया जाता है

रामनवमी हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो हर साल चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। यह त्योहार प्रभु श्री राम के जन्मदिन को मनाने के लिए मनाया जाता है।

हिंदू धर्म में भगवान राम एक प्रमुख देवता हैं जो अवतार लेकर पृथ्वी पर आए थे। उनके जन्म का स्थान अयोध्या में हुआ था और उनके जन्मदिन के अवसर पर लोग धर्मिक रूप से उत्साह से इस त्योहार को मनाते हैं। इस दिन लोग रामलीला के रूप में भगवान राम के जीवन के कुछ महत्वपूर्ण घटनाओं को नाटक और कथा के रूप में प्रस्तुत करते हैं।

रामनवमी क्यों मनाई जाती है –  रामनवमी उत्तर भारत के अलावा दक्षिण भारत में भी मनाया जाता है और इस त्योहार को लोग बड़ी धूमधाम से मनाते हैं। यह त्योहार हिंदू धर्म की महत्वपूर्ण त्योहारों में से एक है जो धर्म, संस्कृति और परंपराओं के महत्व को उजागर करता है।

राम नवमी 2023 का सबसे अच्छा महूरत

राम नवमी 2023 का सबसे अच्छा मुहूर्त प्रता: काल 10:५४ बजे से लेकर दोपहर 01:२३ तक

राम नवमी कैंसे मनाई जाती है?

राम नवमी एक प्रमुख हिंदू त्योहार है जो पूरे भारत में मनाया जाता है। यह त्योहार चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी के दिन मनाया जाता है। इस दिन लोग भगवान राम के जन्मदिन के उत्सव के रूप में इसे मनाते हैं।

राम नवमी के दिन, लोगों ने घरों को सजाना शुरू कर दिया होता है। उन्हें अपने घरों को साफ सुथरा करना और मंदिर या पूजा कमरे को सजाना चाहिए। रामनवमी के दिन लोग पूजा के लिए विशेष भोजन की तैयारी करते हैं जो भगवान राम को भोग लगाने के लिए प्रयोग में लाया जाता है। यह भोजन शाकाहारी या सात्विक होता है और धनिया, जीरा, अम्बा हल्दी, काली मिर्च, लहसुन जैसी मसालों का उपयोग किया जाता है।

राम नवमी के दिन लोग मंदिरों में भगवान राम की पूजा करते हैं। उन्हें प्रभु राम के लिए फूल, फल, धूप और दीपक आदि चढ़ाने चाहिए। कुछ लोग इस दिन राम कथा सुनते हैं और रामलीला का आयोजन करते हैं।

राम नवमी की पूजा विधि

राम नवमी के दिन पूजा का विधान निम्नलिखित है:

  • शुद्धि करना: पूजा के लिए घर की सफाई करें और एक शुद्ध स्थान चुनें।
  • कलश स्थापना: एक कलश में पानी, गंगा जल या तुलसी के जल को भरें। इसमें हल्दी, कुमकुम, सुपारी, काजल और नारियल रखें और उसे पूजा स्थल पर स्थापित करें।
  • देवी-देवताओं की पूजा: गणेश, सरस्वती, लक्ष्मी और राम की मूर्तियों को अपने घर में स्थापित करें और उन्हें पूजन के लिए तैयार करें।
  • आरती करना: देवी-देवताओं की आरती करें और फूल, अक्षत, धूप और दीपक चढ़ाएं।
  • भोग लगाना: राम जी को फल, पुष्प और सात्विक भोजन चढ़ाएं।
  • रामायण पाठ करना: राम नवमी के दिन रामायण के पाठ को सुनना और पढ़ना शुभ माना जाता है।
  • प्रसाद बांटना: पूजा के बाद सभी को प्रसाद बांटें और अपने परिवार और मित्रों के साथ भोजन करें।
राम नवमी की कहानी

राम नवमी हिंदू धर्म में महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान राम के जन्म के अवसर पर मनाया जाता है। भगवान राम विष्णु के सातवें अवतार माने जाते हैं।

भगवान राम का जन्म आयोध्या में हुआ था। राम के माता-पिता दशरथ और कौशल्या थे। राम ने अपने जीवन भर धर्म का पालन करते हुए दुष्टों का विनाश किया और सभ्यता के मूल्यों को संजोया।

राम जी की जन्म कथा के अनुसार, रावण नाम के राक्षस राजा देवी सीता को अपहरण कर लेता है। राम ने अपने भाई लक्ष्मण और भक्त हनुमान के साथ दशरथ के आदेश के अनुसार दण्डकारण्य जंगल में रहते हुए सीता को खोजने का निर्णय लिया।

राम नवमी माहिती

राम नवमी हिंदू धर्म का महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह त्योहार चैत्र मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। यह त्योहार भारत के विभिन्न हिस्सों में उत्साह से मनाया जाता है।

राम नवमी के दिन लोग भगवान राम को नमन करते हैं और भजन की महिमा गाते हैं। यह दिन पूजा-अर्चना एवं भक्ति अनुष्ठान करने के लिए उपयुक्त माना जाता है।

इस दिन कुछ लोग विशेष भोजन बनाते हैं जो कीसे अन्न प्रसाद के रूप में बांटा जाता है। बहुत से लोग इस दिन फल, नूडल्स, और सब्जियां खाते हैं जो नौ महीने तक नहीं खाए जाते हैं।

अधिकतर मंदिरों में राम नवमी के दिन पूजा अर्चना की जाती है और भक्तों के लिए भोजन वितरित किया जाता है।

इस दिन कुछ लोग रामलीला की नाटक के अभिनय का आनंद लेते हैं। इस नाटक में भगवान राम के जीवन के महत्वपूर्ण घटनाओं का अभिनय किया जाता है

रामनवमी की महिमा

रामनवमी हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है जो भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह त्योहार चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है। इस दिन भगवान राम की पूजा-अर्चना की जाती है और भक्तों के द्वारा उन्हें नमन किया जाता है।

रामनवमी की महत्ता भगवान राम के जीवन के महत्वपूर्ण घटनाओं को याद करने और उनके धर्मिक महत्व को समझने के लिए होती है। भगवान राम हमारे लिए एक महान आदर्श हैं जो धर्म, न्याय, सच्चाई, प्रेम और समर्पण के प्रतीक हैं। उन्होंने अपने जीवन में एक महान संदेश दिया था जो दुनिया भर के लोगों के लिए मार्गदर्शन का काम करता है।

रामनवमी के दिन लोग अपने घरों में अलग-अलग प्रकार के आराधना और उत्सव करते हैं। इस दिन भगवान राम की पूजा विधि का पालन करते हुए लोग उन्हें नमन करते हैं और अन्न प्रसाद बांटते हैं।

रामनवमी क्यों मनाई जाती है –  राम और लक्ष्मण को जंगल में वनवास गुजारते हुए, राम नवमी के दिन दंडकारण्य में पहुंचते हैं। उन्होंने दुष्ट राक्षस रावण के समस्त सेनाओं का वध किया और सीता को बचा लिया

FAQs 

रामनवमी क्या है?
रामनवमी हिंदू धर्म में एक महत्वपूर्ण त्योहार है, जो भगवान राम के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है। यह त्योहार चैत्र महीने के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाया जाता है।

रामनवमी कब मनाई जाती है?
रामनवमी हर साल चैत्र माह के शुक्ल पक्ष की नवमी को मनाई जाती है।

रामनवमी का महत्व क्या है?
रामनवमी का महत्व हिंदू धर्म में बहुत अधिक होता है। इस दिन भगवान राम की पूजा-अर्चना की जाती है और उन्हें नमन किया जाता है। भगवान राम हमारे लिए एक महान आदर्श हैं जो धर्म, न्याय, सच्चाई, प्रेम और समर्पण के प्रतीक हैं। रामनवमी के दिन लोग भगवान राम के जीवन के महत्वपूर्ण घटनाओं को याद करते हैं और उनके धर्मिक महत्व को समझते हैं।

रामनवमी के दिन क्या किया जाता है?
रामनवमी के दिन लोग अपने घरों में अलग-अलग प्रकार के आराधना और उत्सव करते हैं। इस दिन भगवान राम की पूजा विधि का पालन करते है 




RELATED ARTICLES

1 COMMENT

4.6 10 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Abhishek
Abhishek
1 year ago

Nice information

Most Popular