You are currently viewing Sologamy Kya Hai

Sologamy Kya Hai

Sologamy Kya Hai: दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपको बतायेगे की सोलोगैमी क्या है और  इससे जुडी जानकारी हमने आपको बताया है और दोस्तों यह सोलोगेमी यह एक तरीके से ठीक है या गलत इसकी क्या खुबिया है सब आज में आपसे discuss करुँगी तो आप इस आर्टिकल को पूरा पढ़े।  आपको सब समझ में आ जायेगा इस आर्टिकल जरिये से  दोस्तों  Sologamy marriage सबसे पहले ब्राजील में चला था फिर इसके बाद और कई देशो में चलने सम्भावना है। और आज के समय में युवाओं में तेजी से बढ़ रही है सोलोगेमी का तातपर्य यह है की लोग खुद से ही शादी कर रहे हैं। इसमें स्व-विवाह और ऑटोगैमी भी कहा जाता है क्षमा बिंदू की उम्र 24 साल है इस महिला ने उन्होंने कुछ ऐसा किया है कि जिसके बाद देश में एक शब्द अचानक से ट्रेंड करने लगा है। उस शब्द का नाम है सोलोगैमी. गुजरात के इलाके का नाम वडोदरा में रहने वाली है इस महिला ने खुद से शादी मतलब (Sologamy marriage) कर ली है। क्षमा बिंदु ने 11 जून को खुद से शादी की हैं यह भारत का पहला ऐसा मामला है की जब भी किसी महिला ने खुद से शादी की हो अमेरिका और यूरोप के कुछ ऐसे देशों में सेल्फ मैरिज का concept काफी अजनबी नहीं है भारत के लिए यह शब्द काफी नया है। जैसे मोनोगैमी को एक विवाह कहते हैं ,लीगैमी को बहुविवाह कहते हैं वैसे सोलोगैमी को हिंदी में स्व-विवाह कहते है अधिकतर लड़कियां सोलोगैमी या स्व-विवाह कर रही हैं। Sologamy Kya Hai यह खुद से ही शादी करने का एक तरीका है। दोस्तों अब deeply पढ़ लेते है आप इस आर्टिकल को पूरा अंत तक पढ़े।  और ऐसे ही सपोर्ट करते रहे।  

Sologamy Kya Hai 

सोलोगैमी खुद से प्यार करने का एक अलग ही concept है। कुछ लोग खुद को इतना पसंद कर लेते हैं कि वे खुद से ही शादी कर लेते हैं। अधिकतर लड़कियां ही सोलोगैमी का concept को आजमाया जा रहा है। Sologamy Kya Hai सोलोगैमी  को कानून ने मंजूरी नहीं दी है , लेकिन सोलोगैमी करने वाले अधिकतर लोग सामाजिक समारोहों का आयोजन करते हैं फिर शादी रचाते है। भारतीय समाज में इसे प्रतीकात्मक विवाह मान जाता है । Sologamy Kya Hai यह खुद से प्रेम की सकल्पना को दिशा देने वाले कार्य है कुछ लोग अपनी खुद की आजादी के साथ निपट नहीं क हैं. उन्हें किसी सामाजिक बंधन में नहीं बंधना होता है. ऐसे में दोस्तों लोग सोलोगैमी की राह को चुन लेते हैं। Asexual लोग भी सोलोगैमी को ज्यादा  मान देते हैं। सोलोगैमी का Trend अब कई देशो में बढ़ रहा है और इसमें काफी कम लोग भी है जोकि इसे समझते है और कुछ कोशिश भी करते है। इसमें केवल दूल्हा भी खुद होता है और दुल्हन भी और देखा जाए तो दोस्तों यह एक तरीके से सही हमे हर काम को खुद करना होता है।  जिसे स्वं विवाह कहा जाता है  और दोस्तों खुदा ने भी यही कहा है इंसान अकेले आया है तो अकेले जाना है। तो हमें किसी के सहारे की आवश्यकता नहीं पड़नी चाहिए। सोलोगेमी में दोस्तों महिला खुद को ही सिंदूर और मंगलसूत्र पहनाती है। Sologamy Kya Hai       

सोलोगैमी की शुरुआत कब से शुरू हुई है

सोलोगैमी की शुरुआत 90 के दशक में की गयी थी। लिंडा बेकर नाम की एक महिला ने साल 1993 में खुद से शादी की थी। लिंडा बेकर ने सबसे पहले खुद से ही शादी कर ली थी और यह दर्जा लिंडा बेकर को मिला था। जब लिंडा बेकर ने शादी की थी तब करीब 75 लोगों इस शादी के समारोह में सम्मिलित हुए।Sologamy Kya Hai 1993 के बाद ऐसे कई सारे मौके भी आए है की जब लोगों ने खुद से शादी की है।  और साथ दोस्तों वह लोग खुद से ही तलाक भी ले ही लेते है। इसलिए हम एक समय खुद से प्रेम करते है और एक समय में किसी और को पसंद कर लेते है।  जिस कारण वह खुद से तलाक भी ले लेते है।  जब दोस्तों खुद से शादी करने का concept है तो divorce का concept आना तो तय है।  जहा शादी है तलाक होना तो जाहिर सी बात है।  ब्राजीलियन मॉडल क्रिस गैलेरा उन्होंने खुद से तलाक ले लिया था।  उन्होंने अपनी सोलोगेमी को तोड़ दी थी।  क्योकि उन्हें 90 दिन के बाद उन्हें किसी और से प्यार हो गया था।

Also Read:

Sidhu Moose Wala Biography In Hindi

Nupur Sharma kaun hai

Agneepath Bharti Yojana 2022 kya hai

सेल्फ मैरिज कैसे होती है?

खुद से प्यार करने के लिए न तो कोई नियम बनाया है न ही कानून तो खुद से प्यार करना का कोई भी केस नहीं है जैसे दोस्तों परइ रीती -रिवाज के साथ शादी निभाई जाती है वैसे ही परम्पराए या रीती रिवाज खुद से शादी करने पर निभाते है।  खुद से शादी करने वाले लोगो की help करने के लिए काफी सारी कम्पनिया  मदद करती है।  जिसे मेगा इवेंट की तरह सजाया जाता है। 

क्षमा बिंदू की शादी में क्या होगा खास?

क्षमाबिंदु की शादी पूरी रीती-रिवाज के साथ कराई गयी है उनकी शादी में फेरे भी हुए और उन्होंने अपनी मांग में सिंदूर भी लगाया  और क्षमा बिंदूअपने गले में मंगल सूत्र भी पहनती है Sologamy Kya Haiऔर साथ ही वह पूरी तरह से वह सुहागन बनकर रहेगी और मालूम नहीं की इस तरह की  शादी नज़ाने कब सभी को मान्यता मिलेगी इस स्थिति को देखकर कुछ कहा भी नहीं जा रहा है।

सेल्फ मैरिज की क्या कमिया और खुबिया है

सेल्फ मैरिज का concept सुनने व देखने में अच्छा लगता है परन्तु ऐसा भी लगता है की लोग ऐसे करने पर हमारे बारे में क्या सोचेंगे।  खुद से प्यार करना अच्छी बात है Sologamy Kya Hai परन्तु खुद से ही शादी कर लेना यह सही बात नहीं है। और आखिरकार वही महिला कर सकती है जो खुद पर आत्मनिर्भर है और independent women है और self marriage को प्राथमिकता भी दे रहे है। वह खुद को किसी भी प्रकार का खुद पर जोर या पाबन्दी नहीं लगाना चाहती है। Sologamy Kya Hai उन्हें किसी भी दायरे पर नहीं बंधना नहीं आता है और जो अपने partner के साथ रहने में अजीब लगना या उन सभी बातो से कोई फर्क नहीं पडता की वह एक आदमी के साथ जो  नया रिश्ता बनाये या उसके करीब आना जरुरी भी नहीं समझती है और फिर ऐसे लोग खुद से शादी करने का option का चयन करते है और आप असेक्सुअल है तो खुद से शादी कर लेते है।  दोस्तों कुछ लोग यह भी मानते है की अकेलापन एक अभिशाप की तरह होता है  परन्तु खुद से शादी करना सही है पर किसी एक समय में वह अकेलापन का अहसास जरूर होता है। Sologamy Kya Hai और एक महिला को तो इस बात का अहसास सबसे पहले जब होता है जब वह किसी दूसरी महिला को किसी पुरुष को साथ देखकर उन्हें इस बात का अहसास होता है। की काश की वह उसे भी खुद से भी ज्यादा पसंद करता। 

दोस्तों आज हमने पढ़ा की सोलोगेमी क्या है और फैक्ट्स के बारे में और इससे जुडी पूरी जानकारी आपको दी है और आपको मेरा ये आर्टिकल पसंद आया है तो कमेंट में जरूर शेयर करे। और अपने दोस्तों तक यह जानकारी के बारे में जरूर बताये।  और में आपके लिए और अच्छे- अच्छे आर्टिकल आपके लिए जरूर लेकर  आएंगे। 

सधन्यवाद

3 4 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

2 Comments
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Miskeen
Miskeen
3 months ago

Articles bhut achaa hai

Adarsh
Adarsh
3 months ago

It’s a fact