You are currently viewing UPS Kya Hai और कैसे काम करता है 

UPS Kya Hai और कैसे काम करता है 

UPS Kya Hai और कैसे काम करता है 

UPS Kya Hai हेलो दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपको महत्वपूर्ण जानकारी देने जोकि आज का विषय है यूपीएस क्या है इससे जुड़े तथ्य आज हम आपको देने वाले है और दोस्तों यह यूपीएस इलेक्ट्रॉनिक जुड़ा हुआ एक डिवाइस है। UPS Kya Hai  और कई प्रकार के types भी है जोकि आज हम इस आर्टिकल के माध्यम से देने वाले है। तो दोस्तों बिना वक़्त गुजारे शुरू करते है।





UPS Kya Hai 

UPS Kya Hai किसी भी कंप्यूटर सिस्टम में हम Alternative power source के रूप में यूपीएस का उपयोग करते हैं।  यूपीएस कंप्यूटर सिस्टम को अचानक से पावर बंद होने पर पावर सप्लाई करता है। UPS Kya Hai यूपीएस में कई इलेक्ट्रिकल पार्ट्स के साथ-साथ बैटरी भी जोड़ी जाती है।और यूपीएस का इस्तेमाल तब किया जाता है जब किसी भी डिवाइस में इलेक्ट्रिकल सप्लाई अचानक से बंद हो जाती है। आपकी जानकारी के लिए बता दें आपको बाजारों में कई सारे प्रकार के और कई बड़े साइज के यूपीएस उपलब्ध हो जाएंगे जिनकी पावर कैपेसिटी 24 घंटों से 48 घंटों तक भी हो सकती है।

अगर इसे दूसरे सरल शब्दों में समझें तो यूपीएस मूल रूप से बैटरी के साथ एक इन्वर्टर होता है। जिसका प्रयोग इलेक्ट्रिकल डिवाइस जैसे कि कंप्यूटरों आदि के लिए बैटरी बैकअप प्रदान करने के लिए किया जाता है। कई प्रकार के यूपीएस, वोल्टेज रेगुलेशन के साथ भी आते हैं। यूपीएस बैटरी को चार्ज करता है और अचानक से पावर सप्लाई बंद होने पर सिस्टम को इलेक्ट्रिकल बैकअप देता है।

यूपीएस का फुल फॉर्म – Uninterruptible Power Supply  (अविच्छिन्न ऊर्जा आपूर्ति)

यूपीएस के प्रकार-

यूपीएस के कई प्रकार उपलब्ध है। लेकिन नीचे हमने कुछ खास प्रकार के यूपीएसो का वर्णन किया है। 

  • Standby UPS
  • Line Interactive UPS
  • Standby Online Hybrid UPS
  • Standby UPS

Standby UPS एक सामान्य प्रकार का UPS होता है ,जोकि आपको अपने पर्सनल कंप्यूटरों में देखने को मिलता है।  स्टेबल यूपीएस का प्रयोग तब किया जाता है जब सिस्टम में पावर बंद हो जाए। पावर बंद होने पर Standby UPS कंप्यूटर में Consumed power को Supply करता है।

Line Interactive UPS

Line Interactive UPS एक Designing UPS है। जिसका इस्तेमाल बिजनेस, वेब और सर्वर में किया जाता है इसमें एसी पावर कन्वर्टर को UPS के आउटपुट के साथ जोड़ा जाता है। इस यूपीएस को ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों तरह से प्रयोग किया जाता है। इस प्रकार के यूपीएस का उपयोग छोटे व्यवसाय में अधिक होता है. जब सिस्टम में इनपुट पावर नहीं जा पाती हैUPS Kya Hai  तो ट्रांसफर स्विच खोलकर इन यूपीएसओ की मदद से सिस्टम में पावर को Supply किया जाता है।

Standby Online Hybrid UPS

Standby Online Hybrid को on-line ups भी कहते हैं इस प्रकार की यूपीएस का इस्तेमाल 10 kva के अंतराल में किया जाता है यानी कि इस प्रकार के यूपीएसओ में हाइब्रिड 10 kva ही इस्तेमाल किया जाता है। UPS Kya Hai इन यूपीएसओ में बैटरी के साथ स्टैंडबाय कन्वर्टर स्विच On किया जाता है. Standby Online Hybrid UPS में बैटरी को चार्ज करने वाला चार्जर Line Interactive UPS की तुलना में बहुत छोटा होता है।

UPS की प्रमुख भूमिकाएं

जब मुख्य पॉवर सोर्स में कोई खराबी आती है ,तो UPS थोड़े समय के लिए बिजली की आपूर्ति करेगा। यह UPS की प्रमुख भूमिका है। इसके अलावा, यह यूटिलिटी सेवाओं से संबंधित कुछ सामान्य बिजली समस्याओं को अलग-अलग डिग्री में ठीक करने में भी सक्षम हो सकता है।

जिन समस्याओं को ठीक किया जा सकता है वे हैं वोल्टेज स्पाइक (वोल्टेज से अधिक), नॉइस, इनपुट वोल्टेज में त्वरित कमी, हार्मोनिक डिस्टॉरशन और मुख्य में फ्रीक्वेंसी की अस्थिरता।

UPS क्यों आवश्यक हैं?

इलेक्ट्रॉनिक्स और कंप्यूटर बेस डिवाइसेस के डेवलपेंट के साथ-साथ सेसेटिव इनलेक्‍ट्रॉनिक इक्विपमेंट जैसे पर्सनल कंप्‍यूटर, सुपर कंप्‍यूटर, डेटा प्रोसेसर, डिजिटल कंट्रोलर इत्यादि का उपयोग बढ़ता गया। UPS Kya Hai  इस तरह के डिवाइसेस को इंटरप्शन फ्री पावर सप्‍लाई कि आवश्यकता होती हैं, क्योंकि यह डिवाइसेस Memory और Processor के साथ डेटा को हैंडल करते हैं।

डिवाइस करप्‍ट पावर सप्‍लाई के प्रति बहुत संवेदनशील होते हैं।  UPS Kya Hai उदाहरण के लिए, यदि आप शट डाउन करने के बजाय पावर प्लग को निकालकर सीधे अपने पर्सनल कंप्यूटर को बंद करते हैं ,तो आप अपना डेटा खो देंगे और कभी-कभी आपके कंप्यूटर कि ऑपरेटिंग सिस्टम करप्‍ट हो सकती है। इसलिए बड़े पैमाने पर उद्योगों में बड़े डेटा कि सुरक्षा के लिए इन डिवाइसेस को इन्टरप्शन फ्री पावर सप्‍लाई प्रदान करना आवश्यक है। UPS Kya Hai इस आवश्यकता को पूरा करने के लिए UPS का उपयोग किया जाता है

यूपीएस कैसे काम करता है –

यूपीएस के 3 मुख्य भाग है जोकि यूपीएस सिस्टम में कार्य करते हैं

  • Rectifier (रेक्टिफायर)
  • Battery (बैटरी)
  • Inverter (इन्वर्टर)

रेक्टिफायर

रेक्टिफायर यूपीएस सिस्टम में Install रहता है यह एक प्रकार का सर्किट होता है जिसका मुख्य कार्य अल्टरनेटिव करंट को डायरेक्ट करंट में बदलने का होता है। क्योंकि बैटरी DC करंट के द्वारा चार्ज होती है सामान्यता बैटरी को चार्ज करने के लिए ही यूपीएस में रेक्टिफायर को इंस्टॉल किया जाता है।

बैटरी

बैटरी के बारे में आप जानते ही होंगे यूपीएस में बैटरी को भी इंस्टॉल किया जाता है। यूपीएस का सबसे महत्वपूर्ण भाग है रेक्टिफायर, करंट को AC से DC में बदलने के बाद बैटरी में पावर सेविंग की जाती है. पावर ऑफ होने के बाद सिस्टम में बैटरी से ही Power की Supply कंप्यूटर सिस्टम में की जाती है । यूपीएस में बैटरी जितनी अधिक होगी उस बैटरी का बैकअप उतना ही अधिक होगा

इन्वर्टर

यूपीएस सिस्टम में इनवर्टर एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। इनवर्टर बैटरी में संचित ऊर्जा को DC से AC ऊर्जा में परिवर्तन करने का कार्य करता है यानी कि हमें तत्काल ही बिजली प्राप्त हो जाती है या दूसरे शब्दों में कहें तो कंप्यूटर सिस्टम निरंतर कार्यरत रहता है।

यूपीएस के कार्य

  • यूपीएस कंप्यूटर सिस्टम में क्षति होने से सुरक्षा प्रदान करता है।
  • यूपीएस शॉर्ट सर्किट से हमारे सिस्टम को बचाता है।
  • यूपीएस बिजली की आपूर्ति की स्थिति में डिवाइस को Power Supply करता है.
  • यूपीएस एक प्रकार के अस्थिर सोर्स से पावर को नियंत्रित करता है।
  • यूपीएस कंप्यूटर उपयोगकर्ताओं को कंप्यूटर को सही ढंग से स्विच करने और कंप्यूटर को Battery देने में सक्षम है।
  • यूपीएस कंप्यूटर सिस्टम में अकुशल स्थितियों में अलर्ट भी देता है।

यूपीएस के फायदे –

  • पावर उपलब्ध ना होने की स्थिति में यूपीएस कंप्यूटर सिस्टम को पावर देता है और इलेक्ट्रिकल सिस्टम को फिर से स्थापित करता है।
  • यूपीएस सिस्टम में अगर इलेक्ट्रिकल डिवाइस रुक जाए तो उसका डाटा सुरक्षित रहता है।
  • यूपीएस की मूल इकाई फ्रेंडली होती है यह बैटरी पर चलती है और लंबे समय तक बैकअप दे सकती है।
  • कंप्यूटर सिस्टम में अचानक से पावर बंद हो जाने पर सारा डाटा बंद हो जाता है लेकिन यूपीएस का उपयोग करने पर कंप्यूटर सिस्टम अचानक बंद नहीं होता और डाटा भी सुरक्षित रहता है।
यूपीएस के नुकसान –
  • साधारण यूपीएस बैटरी अधिक लंबे समय तक नहीं चल सकती आवश्यकता होने पर हमें इसे बदलना भी पड़ता है।
  • यूपीएस सिस्टम में यूपीएस बैटरी को अधिक समय तक चार्ज रखना पड़ता है नहीं तो वह कुछ अच्छा खासा बैकअप नहीं दे पाती है।

दोस्तों आज हमने यूपीएस की जानकारी विस्तार से दी है उम्मीद है आपको यह जानकारी अच्छे से समझ आ चुकी होगी। और दोस्तों ऐसे और नयी जानकारी आपको चाहिए तो आप हमें कमेंट बॉक्स जरूर बताये। और आप यह जानकारी को आपने दोस्तों तक जरूर शेयर करे। 

धन्यवाद 


Q 1 UPS का क्या कार्य है?

यूपीएस का मुख्य कार्य कंप्यूटर सिस्टम में पावर सप्लाई अचानक से बंद होने पर कंप्यूटर सिस्टम में पावर सप्लाई निरंतर देते रहना है. किसी भी कंप्यूटर सिस्टम में हम Alternative power source के रूप में यूपीएस का उपयोग करते हैं

Q 2 यूपीएस और इन्वर्टर में क्या अंतर है?

यूपीएस और इन्वर्टर में अंतर यह है कि यूपीएस की आवश्यकता किसी विशेष प्रकार के इलेक्ट्रिकल उपकरण जैसे कि कंप्यूटर, स्कैनर, प्रिंटर आदि के लिए होती है. इसी के विपरीत इन्वर्टर का उपयोग किसी भी घर के मेन सप्लाई के साथ स्विच बोर्ड पर किया जा सकता है

Q 3 यूपीएस कितने प्रकार का होता है?

यूपीएस मुख्यतः तीन प्रकार का होता है
1. Standby UPS
2. Line Interactive UPS
3. Standby Online Hybrid UPS


Related Link:







2 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

1 Comment
Oldest
Newest Most Voted
Inline Feedbacks
View all comments
Navya singh
1 month ago

Best