You are currently viewing Upsc Kya Hai Or Upsc Kaise Crack Kare

Upsc Kya Hai Or Upsc Kaise Crack Kare

 

Upsc Kya Hai Or Upsc Kaise Crack Kare : नमस्कार दोस्तों आज हमको महत्वपूर्ण जानकारी देने वाले है। Upsc Kya Hai की आखिरकार Upsc Kaise Crack Kare आज हम आपको बतायेगे और दोस्तों यह एक Entrance exam है इससे clear लोगो के लिए अत्यंत कठिन है।  और दोस्तों आप इस आर्टिकल को अंत तक पढ़ते रहे में आपको आगे इसकी पूर्ण जानकारी आपको देंगे। तो दोस्तों बिना वक़्त गुजारे शुरू करते है।





Upsc Kya Hai Or Upsc Kaise Crack Kare

UPSC का पूरा नाम Union Public Service Commission (संघ लोक सेवा आयोग) है। आजादी के बाद 26 अक्टूबर 1950 ईस्वी को लोक सेवा आयोग के नाम में संशोधन कर संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) रखा गया। इस संशोधन का संबंध संविधान के Article 315 से है। संघ लोक सेवा आयोग का भी कार्य ग्रेड A तथा B के अधिकारियों का चयन करना है। Upsc Kya Hai , UPSC केंद्र और राज्य के स्तर पर कुल 24 सेवाओं की परीक्षा आयोजित करती है जिसमें IAS सबसे प्रमुख है। इसे भारत की सर्वोच्च परीक्षा की दर्जा दी गई है। आज के समय में हर युवक का एक ही सपना होता है एक प्रतिष्ठित नौकरी पाना। परंतु बढ़ती हुई जनसंख्या के वजह से इस पर नकारात्मक प्रभाव आते है  Competition level इतनी वृद्धि हुई है कि नौकरी मिलना दुर्लभ हैं। आप सभी के मन में एक प्रश्न जरूर उठता होगा कि देश के बड़े- बड़े अफसरों जैसे (IAS,IPS) की नियुक्ति कैसे होती है। Upsc Kya Hai, दोस्तों आज हम इससे संबंधित सभी जानकारियां देंगे। इस मुकाम को हासिल करने के लिए यूपीएससी द्वारा आयोजित परीक्षा पास करना होता है जो सबसे कठिन एवं देश के सबसे सम्माननीय परीक्षा है।

UPSC के तहत आने वाले पद -Posts under UPSC

UPSC अर्थात Union Public Service Commission के चयनित उम्मीदवार भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय राजस्व सेवा (IRS),  भारतीय विदेश सेवा (IFS) आदि पदों पर भर्ती किये जाते हैं. Upsc Kya Hai , UPSC   level A और Level B officers की विभिन्न क्षेत्रों में भर्ती के लिए परीक्षा का आयोजन करता है. UPSC हर साल सिविल सेवा परीक्षा आयोजित करता है 

यूपीएससी केंद्र और राज्य सरकार के तहत 24 सेवाओं के लिए एक राष्ट्रीय स्तर की परीक्षा आयोजित करता है। (UPSC conducts a National Level Exam for 24 services under the Central & State Government of India.)

UPSC का गठन क्यों हुआ ?

भारत में यूपीएससी का गठन आजादी से पूर्व हुआ था परंतु इसे आजादी के 3 वर्ष बाद संवैधानिक रूप से अपनाया गया। हमारे देश में लोक सेवा के गठन का मुख्य उद्देश्य लोगों को सिविल सर्विस के महत्व को समझाना था क्योंकि आजादी से UPSC की परीक्षा इंग्लैंड में होती थी और सभी अधिकारी British हुआ करते थे। हमारी तत्कालीन नेताओं को यह बात गवारा नहीं लगा उन्होंने इसका विरोध किया।

आम तौर पर देखा जाए तो हमारे देश के कानून व्यवस्था को बनाए रखने वाले अधिकारियों को बहाल हमारे राष्ट्र में ही होना चाहिए जो की तत्कालीन समय में नहीं था। लोगों के मन में सिविल सर्विस को लेकर काफी डर भी था और आजादी के पूर्व शासन व्यवस्था भी अंग्रेजों के हाथों में था इसलिए ऐसी परिस्थितियों से निजाद पाने के लिए UPSC की परीक्षा भारत में होने की मांग की गई और अंतः भारत की राजधानी नई दिल्ली में लोक सेवा आयोग का गठन हुआ और तब से हमारे देश के सभी ग्रेड A के अधिकारी का चयन यूपीएससी द्वारा की जाने लगी।

UPSC का भारत पर प्रभाव-

अगर हम भारत पर UPSC के प्रभावो की विवेचना करें इसके द्वारा किए गए सभी कार्य सकारात्मक दृष्टि से सही नजर आता है। जब तक हमारे देश में संघ लोक सेवा आयोग नहीं था तब तक यहां की कानून व्यवस्था, शासन की प्रक्रिया काफ़ी निचले स्तर की थी। Upsc Kya Hai हमारी अर्थव्यवस्था (GDP)में काफी बढ़ोतरी हुई है। एक शब्द में कहा जाए तो यूपीएससी भारत के सर्वोच्च अधिकारी को नियुक्त करने वाली संस्था है जिसके प्रभावो का वर्णन शब्दों में करना संभव नहीं है।

Most Read :- Consumer Forum Kya Hai Or Complaint kaise kare

UPSC के कार्य – Functions of UPSC

संविधान के अनुच्छेद 320 के तहत अन्य बातों के साथ-साथ सिविल सेवाओं तथा पदों के लिए भर्ती संबंधी सभी जिम्मेदारियां आयोग के पास है, ऐसे किसी भी मामले में योग का परामर्श लिया जाना अनिवार्य होता है. संविधान के अनुच्छेद 320 के अंतर्गत UPSC के प्रकार्य इस प्रकार हैं:

  • संघ के लिए सेवाओं में नियुक्‍ति हेतु परीक्षा आयोजित करना
  • साक्षात्‍कार द्वारा चयन से सीधी भर्ती
  • प्रोन्‍नति/ प्रतिनियुक्‍ति/ आमेलन द्वारा अधिकारियों की नियुक्‍ति
  • सरकार के अधीन विभिन्‍न सेवाओं तथा पदों के लिए भर्ती नियम तैयार करना तथा उनमें संशोधन
  • विभिन्‍न सिविल सेवाओं से संबंधित अनुशासनिक मामले
  • भारत के राष्‍ट्रपति द्वारा आयोग को प्रेषित किसी भी मामले में सरकार को परामर्श देना

यूपीएससी(UPSC) की तैयारी कैसे करें-

UPSC जैसे बृहद एग्जाम को पास करना एक बहुत ही कठिन विषय है। Upsc Kaise Crack Kare परीक्षार्थियों की संख्या दिन पर दिन बढ़ने के कारण तथा सीटों की संख्या कम होने के कारण इसमें प्रतिस्पर्धा बहुत अधिक है। बहुत से विद्यार्थी ऐसे होते हैं जो काफी मेहनत के बावजूद भी सिलेक्ट नहीं हो पाते। उन्हें और सफलता की राह देखनी पड़ती है। इसलिए हमें आरंभ से ही मेहनत करना चाहिए। इसके लिए कुछ Daily activities है, जिसको छात्रों को ध्यान में रखना होगा।

1.सही कोचिंग संस्थानों का चयन: वैसे देखा जाए तो कुछ ऐसे भी विद्यार्थी मिलते हैं, जो बिना कोचिंग की मदद से यूपीएससी तक का सफर पूरा कर लेते हैं। परंतु कुछ विद्यार्थी ऐसे भी होते हैं जो संपूर्ण रुप से कोचिंग संस्थानों पर निर्भर रहते हैं। ऐसे विद्यार्थियों के लिए बड़े-बड़े शहरों में यूपीएससी की तैयारी के लिए कोई अच्छे कोचिंग संस्थान है, जहां तैयारी कर परीक्षार्थी सपने को साकार कर सकते हैं।

2.समाचार पत्र पढ़ना: अपनी ज्ञान को विकसित करने का यह एक बेहतरीन तरीका है। Upsc Kya Hai समाचार पत्र पढ़ने से देश विदेश में घटित होने वाली तत्कालिक घटनाओं का पता चलता है जिसका उपयोग साक्षात्कार की परीक्षा में होती है। Upsc Kaise Crack Kare संभव हो तो अंग्रेजी तथा हिंदी दोनों माध्यम में समाचार पत्र पढ़ें। इससे आपका ज्ञान और साथ ही साथ अंग्रेजी बोलने एवं समझने की कला का प्रदर्शन होता है।

3.नेटवर्क का सही उपयोग: आज के युग में हम घर बैठे भी मोबाइल फोन के माध्यम से किसी भी परीक्षा को पास कर सकते हैं। अतः यूपीसी के विद्यार्थियों के लिए यह एक अच्छा अवसर है कि घर रह के भी अपने कार्यों के साथ-साथ पढ़ाई को भी अच्छे ढंग से कर सकते हैं। Upsc Kya Hai मोबाइल फोन के माध्यम से विगत प्रश्न पत्र, न्यूज़ और सामान्य ज्ञान से संबंधित चीजों का अध्ययन करते रहे जिससे परीक्षा में काफी मदद मिलेगी।

4. प्रतिदिन मॉक टेस्ट देना: मॉक टेस्ट देने के अनेक फायदे होते हैं। इससे प्रतिदिन हमारी उत्तर में कुछ न कुछ बदलाव आता है, हमें प्रत्येक माह अपना टेस्ट एक बार खुद लेना चाहिए जिससे पता चले कि हमारी तैयारी किस लेवल की है और उसके अनुसार हमें आगे का प्लान तैयार करना चाहिए। Upsc Kya Haiअपनी सेल्फ स्टडी और कोचिंग से कुछ अतिरिक्त समय बचा कर दोस्तों के साथ ग्रुप स्टडी करनी चाहिए जिससे ज्ञान में बढ़ोतरी होगी एवं प्रतिदिन हो रहे बदलाव का पता चलेगा।

5.previous year प्रश्न पत्र हल करें: विगत वर्षों के प्रश्न पत्र हल करना जरूरी है इन प्रश्नों से हमें अंदाजा लगता है कि किस तरह के प्रश्न हमसे पूछे जा सकते हैं और बराबर अभ्यास करने से उत्तर लिखने का सही तरीका पता चलता है और इस प्रकार हम अपनी तैयारी को मजबूत कर सकते हैं।

6. पढ़ने प्लान तैयार करें: हमें अपनी तैयारी को सप्ताहिक, मासिक एवं वार्षिक besis पर तैयार करना होगा। IAS जैसी कठिन परीक्षा को पास करने के लिए हमें एक सही routine का निर्धारण उसे follow करना होगा।

7.NCERT किताबों का चयन: यूपीएससी परीक्षाओं के अभ्यास हेतु NCERT सिलेबस को समझना एवं जानना काफी जरुरी है। इसके आधार पर हम अपने को exam के लिए prepare कर सकते हैं। सभी प्रश्न NCERT पुस्तक से पूछे जाते हैं इसलिए हमें कक्षा 6 से 12वीं तक के सभी आर्ट्स विषयों का संपूर्ण अध्ययन करना होगा जो exam crack करने में कार्यकारी होगा।

Most Read :- Greenhouse Effect Kya Hai 

UPSC Exam Posts Full Form : UPSC परीक्षा पदों के फुल फॉर्म

Post Full Form
IAS Indian Administrative Service
भारतीय प्रशासनिक सेवा
IPS  Indian Police Service
भारतीय पुलिस सेवा
IFS  Indian Foreign Service
भारतीय विदेश सेवा
IRS Indian Revenue Service
भारतीय राजस्व सेवा
UPSC द्वारा आयोजित कुछ परीक्षाएँ इस प्रकार हैं: –
  • Indian Forest Service examination
  • Combined Defence Services Examination
  • Engineering Services Examination
  • National Defence Academy Examination
  • Naval Academy Examination
  • Combined Medical Services Examination
  • Special Class Railway Apprentice
  • Indian Economic Service/Indian Statistical Service Examination
  • Combined Geoscientist and Geologist Examination
  • Central Armed Police Forces (Assistant Commandant)

हर साल लाखों उम्मीदवार UPSC परीक्षा के लिए उपस्थित होते हैं. स्टूडेंट्स के बीच यह काफी लोकप्रिय परीक्षा है, जिसका कारण अच्छा वेतन लाभ और सम्मानजनक पद है.

UPSC भर्ती प्रक्रिया

UPSC परीक्षा में तीन चरण होते हैं Prelims, Mains, और personality tests

UPSC Prelims Exam pattern:

Paper Type No. of questions Marks Duration
General Studies I Objective 100 200 2 hours
General Studies II (CSAT) Objective 80 200 2 hours

प्रीलिम्स परीक्षा प्रकृति में एक qualifying चरण है, प्रीलिम्स में प्राप्त अंकों को अंतिम मेरिट सूची में नहीं गिना जाता है. प्रीलिम्स परीक्षा में दोनों पेपर वस्तुनिष्ठ प्रकार के होते हैं. सामान्य अध्ययन II (CSAT) का पेपर प्रकृति में qualifying होता है, आपको दूसरे पेपर को उत्तीर्ण करने के लिए 33% अंक प्राप्त करने होते हैं, प्रीलिम्स परीक्षा में नेगेटिव मार्किंग भी होती है. प्रत्येक गलत उत्तर के लिए 1/3 अंक प्राप्त अंको से  कम कर लिए जायेंगे.

UPSC Exam pattern for Mains:-

UPSC Mains परीक्षा में 9 पेपर होते हैं, जो उम्मीदवार प्रीलिम्स परीक्षा उत्तीर्ण करते हैं, वे मेंस परीक्षा के लिए उपस्थित हो सकते हैं. मेंस परीक्षा के सभी पेपर  वर्णनात्मक प्रकार(descriptive types) के होते हैं. दो भाषा के पेपर प्रकृति में qualifying होते हैं. यूपीएससी मेन्स परीक्षा 5-7 दिनों की अवधि में आयोजित की जाती है, पेपर A और B क्वालिफाइंग प्रकृति के होते हैं, उम्मीदवारों को अपने पेपर I  से पेपर VII तक प्रत्येक में कम से कम 25% स्कोर करना चाहिए.

UPSC Interview:-

साक्षात्कार UPSC परीक्षा का अंतिम चरण है. मेरिट लिस्ट साक्षात्कार / व्यक्तित्व परीक्षण और मेन्स परीक्षा के आधार पर तैयार की जाती है. साक्षात्कार चरण के लिए अधिकतम अंक 275 हैं, Upsc Kya Hai ,इस प्रकार मेरिट सूची के लिए कुल अंक 2025 हैं. साक्षात्कारकर्ता(Interviewer) general interest के प्रश्न पूछकर छात्र के मानसिक और social traits का न्याय करेगा. कुछ गुण जो वे खोजते हैं वे mental alertness, critical powers of assimilation, clear and logical exposition, a balance of judgment, variety, and depth of interest, leadership, intellectual और moral integrity है.

UPSC के लिए योग्यता(Eligibility for upsc exam)

शैक्षणिक योग्यता(education):

जो विद्यार्थी अपनी स्नातक की परीक्षा किन्ही एक संकाय (विज्ञान, कला या कॉमर्स) से पूरा कर चुका हो, वह यूपीएससी के लिए योग्य माना जाता है। साथ ही स्नातक की परीक्षा में 50% अंक अनिवार्य है।

ग्रेजुएशन के अंतिम वर्षों में अध्ययन कर रहे विद्यार्थी भी यूपीएससी के प्रीलिम्स में बैठ सकते हैं।  यह जरूरी बन जाता है कि मेंस की परीक्षा में ग्रेजुएशन का प्रमाण देना होता है।

उम्र सीमा(UPSC Exam age limit):

सामान्य वर्ग के विद्यार्थियों के लिए न्यूनतम उम्र 21 वर्ष तथा अधिकतम 32 वर्ष है। यह विद्यार्थी अधिकतम 6 प्रयास कर सकते हैं।

SS/ST वर्ग के विद्यार्थीयों के लिए न्यूनतम उम्र 21 तथा अधिकतम 37 वर्ष है। इन्हें उम्र के मामलों में 5 वर्ष का छूट दिया जाता है और साथ में असीमित प्रयास की सुविधा।

OBC वर्ग के विद्यार्थियों को 3 वर्ष का छूट दिया जाता है। अर्थात इनकी अधिकतम उम्र 35 वर्ष होनी चाहिए। ऐसे वर्ग के विद्यार्थी कुल 9 प्रयास कर सकते हैं।

यूपीएससी एग्जाम का सिलेबस(UPSC exam syllabus)

प्रारंभिक परीक्षा पेपर-1(GAT): वर्तमान देश की घटनाएं, भारतीय राष्ट्रीय आन्दोलन का इतिहास, भारत एवं विश्व का भूगोल, आर्थिक और सामाजिक व्यवस्था, राज व्यवस्था और शासन, पर्यावरण से संबंधित जानकारी

प्रारंभिक परीक्षा पेपर-2(CSAT): comprehension, पारंपरिक और संचार कौशल, तार्किक विश्लेषण, सामान्य ज्ञान एवं मानसिक क्षमता, निर्णय लेने की शक्ति तथा समस्या का समाधान, गणित (दसवीं स्तरीय)

मुख्य परीक्षा(mains): भारत की प्राचीन विरासत एवं संस्कृति, विश्व एवं सामाजिक इतिहास तथा भूगोल, संविधान, राजतंत्र, न्याय एवं अंतरराष्ट्रीय संबंध, टेक्नोलॉजी, आर्थिक विकास, विभिनता एवं आपदा प्रबंधन, आचार नीति, अखंडता एवं जैव विविधता।

Most Read :- Consumer Act kya hai ,उपभोक्ता संरक्षण अधिनियम 2019

UPSC में भर्ती की प्रक्रिया।

UPSC की परीक्षा तीन चरण में होती है। Prelims, Mains और Interview. आइए सबसे पहले प्रीलिम्स के परीक्षा प्रक्रिया को समझते हैं।

पेपर प्रश्नों की कुल संख्या कुल अंक समय
सामान्य अध्ययन I (GAT) 100 200 2 घंटे
सामान्य अध्ययन II (CSAT) 80 200 2 घंटे

Prelims की परीक्षा में कुल 2 पेपर होते हैं जिनका प्राप्तांक मेरिट लिस्ट में नहीं जोड़ा जाता है। लेकिन यह जरूरी है कि मेंस की परीक्षा में बैठने के लिए prelims में कम से कम 33% अंक अनिवार्य है। Upsc Kya Hai इसमें नकारात्मक अंक की प्रक्रिया अपनाई जाती है। अभ्यर्थियों द्वारा गलत उत्तर देने पर उनके प्राप्तांक में से 1/3 अंक काट लिए जाते हैं।

Mains परीक्षा की प्रक्रिया:

Prelims की परीक्षा में उत्तीर्ण विद्यार्थी को मेंस की परीक्षा में बैठने का अवसर दिया जाता है। Upsc Kya Hai इसमें कुल 9 पेपर होते हैं जो लिखित प्रश्न पत्र के आधार पर आते हैं। इनमें 2 भाषा के लिए प्रश्न पत्र होते हैं। मेंस की परीक्षा की अवधि लगभग एक सप्ताह तक का होता है। विद्यार्थी को साक्षात्कार तक पहुंचने के लिए मेंस की परीक्षा में 25% अंक लाना अनिवार्य है।

साक्षात्कार (Interview):

Personal Interview यूपीएससी का अंतिम चरण होता है। मेंस की परीक्षा में उत्तीर्ण विद्यार्थी को साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है। मेंस की परीक्षा कोई 1750 अंक तथा साक्षात्कार की परीक्षा 275 अंक का होता है। इस प्रकार मेरिट लिस्ट के लिए कुल 2025 अंको की परीक्षा ली जाती है। Upsc Kya Hai इसमें विद्यार्थी के व्यक्तित्व, गुण, लक्षण, भाषा की शैली और विचारों को देखा जाता है। साथ ही साथ कुछ सामान्य ज्ञान और वर्तमान जनित घटनाओं से संबंधित प्रश्न पूछे जाते हैं।

Types of civil service jobs by UPSC:

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS).
  • भारतीय पुलिस सेवा (IPS).
  • भारतीय वन सेवा (IFoS).
  • भारतीय विदेश सेवा (IFS).
  • भारतीय सूचना सेवा (IIS).
  • भारतीय डाक सेवा (IPoS).
  • भारतीय राजस्व सेवा (IRS).
  • भारतीय व्यापार सेवा (ITS).
  • रेलवे सुरक्षा बल (RPF).
  • पांडिचेरी सिविल सेवा (PCS).
  • पन्डिचेरी पुलिस सेवा (PPS).
  • दिल्ली, अंडमान निकोबार आईलैंड्स सिविल सेवा (DANICS).
  • दिल्ली, अंडमान निकोबार आइलैंड, लक्ष्यदीप, दमन दीव, दादर नगर हवेली पुलिस सेवा (DANIPS).
  • इंडियन ऑडिट एंड अकाउंट्स सर्विस (IAAS).
  • इंडियन सिविल अकाउंट्स सर्विस (ICAS).
  • इंडियन कॉरपोरेट लॉ सर्विस (ICLS).
  • इंडियन डिफेंस एस्टेट सर्विस (IDES).
  • इंडियन डिफेंस अकाउंट्स सर्विस (IDAS).
  • इंडियन ऑर्डिनेंस फैक्ट्रीज सर्विस (IOFS).
  • इंडियन कम्युनिकेशन फैक्ट्रीज सर्विस (ICFS).
  • इंडियन रेलवे अकाउंट्स सर्विस (IRAS).
  • इंडियन रेलवे पर्सनल सर्विस (IRPS).
  • इंडियन रेलवे ट्रेफिक सर्विस (IRTS).
  • आर्म्ड फोर्सेज हेड क्वार्टर्स सिविल सर्विस (AFHCS).
यूपीएससी एग्जाम के बाद सैलरी-

Upsc Kya Hai , UPSC द्वारा सिविल सर्विस की परीक्षा मे चयनित छात्रों को विभिन्न पदों पर (जैसे-IAS, IPS, IFS, IRS आदि) उनके रैंक के आधार पर प्रतिपादित किया जाता है। सभी अधिकारियों का वेतन उनके position के अनुसार दिया जाता है। Upsc Kya Hai वेतन में बहुत ज्यादा का अंतर नहीं होता, परंतु IAS को अन्य सभी के अपेक्षा मूल वेतन में कुछ अधिक राशि दिए जाते हैं। हां या तथ्य सही है कि मूल वेतन के अतिरिक्त अन्य सभी सुविधाएं प्रत्येक सिविल सर्विस अधिकारी को समान दिया जाता है।

ट्रेनिंग के दौरान लगभग ₹45000 दिए जाते हैं लेकिन एक जिला अधिकारी के रूप में नियुक्त होने के बाद IAS और IPS का प्रारंभिक वेतन एक समान ( 56,100 रुपए) मिलता है। IPS का उच्चतम वेतन 2,25,000 रुपए जबकि IAS को 2,50,000 रुपए दिया जाता है। सैलरी देने की यह प्रक्रिया सातवें वेतन आयोग के आधार पर हुआ है।

पोस्ट प्रारंभिक वेतन अधिकतम वेतन
IAS 56,100 2,50,000
IPS 56,100 2,25,000

Most Read :- मार्शल लॉ क्या है 


UPSC Interview Questions:-

Q- यदि 2 कंपनी है और 3 भीड़ है,तो अगले 4 और 5 क्या होंगे?

 4 और 5 हमेशा 9 होता है

नोट- यहां पर उम्मीदवारों की प्रतिभा का परीक्षण किया जाता है, इसलिए आपको इन सवालों के जवाब देने में भ्रमित हुए बिना सोचना चाहिए।

Q- एक आदमी को मौत की सजा मिली। उसे तीन कमरे दिखाए गए। पहले कमरे में आग लगी है, दूसरी में राइफल लिए एक हत्यारा है, तीसरे में टाइगर है, जो तीन साल से खाना नहीं खाया है। उसे क्या चुनना चाहिए?

तीसरे नंबर का कमरा, क्योंकि तीन साल से भूखा शेर अब तक मर चुका होगा।

Q- आधा सेब कैसा दिखता है?

दूसरे आधे सेब की तरह ।

Q- यदि आपके एक हाथ में तीन सेब और चार संतरे हैं और दूसरे हाथ में चार सेब और तीन संतरे हैं, तो आपके पास क्या होगा?

 बहुत बड़े हाथ।

Q- एक व्‍यक्ति 1935 में पैदा हुआ और 1935 में ही मर गया, लेकिन मरते वक्त उसकी उम्र 70 साल कैसे थी?

आदमी 1935 में पैदा हुआ था और जिस हॉस्पिटल के कमरे में उसकी मृत्यु हुई उसका नंबर 1935 (19वीं मंजिल पर 35 नंबर रूम) था और उस समय उसकी उम्र 70 थी।

Q-  सोने की उस चीज का नाम बताइए जो सुनार की दुकान में नहीं मिलती?

चारपाई, चारपाई का इस्तेमाल सोने के लिए करते हैं पर यह सुनार की दुकान में नहीं मिलती।


दोस्तों आज हमने आपको upsc crack करने के पूरा process आपको बताया है उम्मीद है आपको यह आर्टिकल आपको अच्छे से समझ आ चूका होगा तो दोस्तों ऐसे ही और नयी इनफार्मेशन चाहिए तो आप हमें कमेंट में जरूर बताये और अपने दोस्तों तक यह आर्टिकल को जरूर शेयर करे।

धन्यवाद







 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments