You are currently viewing यारा वायरस क्या है और इसके क्या लक्षण हो सकते है

यारा वायरस क्या है और इसके क्या लक्षण हो सकते है

यारा वायरस क्या है और इसके क्या लक्षण हो सकते है

Yara Virus kya hai नमस्कार दोस्तों स्वागत है आपका हमारी वेबसाइट पर आज हम आपको महत्वपूर्ण जानकारी लेकर आये है जिसका नाम है यारा वायरस के बारे में आपको बतायेगे।  आप लोग सोच रहे होंगे की हालाँकि में  कोरोना की महामारी में काफी लोगो को परेशानी हुई और अब यह एक और नया वायरस आ गया है Yara Virus kya hai तो दोस्तों यह जो वायरस है ब्राजीलिया: दक्षिण अमेरिकी देश ब्राजील में वैज्ञानिकों ने एक नए रहस्यमय वायरस  से पता चला है ।  जिसका नाम ब्राजील की पौराणिक जलपरी (मरमेड) यारा के नाम पर, यारा-वायरस रखा गया है। शोधकर्ताओं ने बताया कि नए वायरस में ऐसे जीन मिले हैं जो इससे पहले किसी और अन्य वायरस में नहीं  देखा गया है।





आखिरकार यह वायरस कहा से आया?

ब्राजील की एक झील में वैज्ञानिकों ने इस नए वायरस को खोजा है, जिसे इससे पहले कभी नहीं देखा गया। नए-वायरस ने वैज्ञानिकों को चकित कर रखा है। उन्होंने बताया कि यह काफी रहस्यमय है। इसमें ऐसे जीन मिले जो पहले किसी अन्य वायरस में नहीं देखे गए। Yara Virus kya hai ब्राजील के फेडरल यूनिवर्सिटी ऑफ मिनास गेरैस से जुड़े शोधकर्ताओं ने बेलो होरिज़ोंटे शहर की कृत्रिम झील में एकल कोशिका वाले जीव अमीबा से इस वायरस को ढूंढा। चीन के वुहान शहर से शुरू हुए कोरोनावायरस के प्रकोप को देखते हुए इस नए शोध को  नतीजा  दिखाया गया है।

सवाल यह है कि क्या यह रहस्यमय वायरस इंसानों के लिए हानिकारक है? बायोरेक्सिव पत्रिका के ऑनलाइन डेटाबेस में 28 जनवरी को प्रकाशित स्टडी में कहा गया है कि यह वायरस करीब 80 नैनोमीटर व्यास का है। Yara Virus kya hai शोधकर्ताओं ने इसके जीनोम का विश्लेषण करने पर पाया कि इस सूक्ष्म जीव में कुल 74 जीन हैं जिनमें से केवल 6 ही पहले से ज्ञात हैं। यानी 90 प्रतिशत से ज्यादा जीन अज्ञात हैं। यूनिवर्सिटी के माइक्रोबायोलॉजी विभाग में एसोसिएट प्रोफेसर जोनाटस अब्राहो के अनुसार, यारा-वायरस आकार और जीनोम दोनों में छोटा है, यह कोई बहुत विशाल वायरस नहीं। लेकिन यह विशालकाय विषाणुओं की तरह अमीबा को संक्रमित करने में सक्षम है, लेकिन मानव कोशिकाओं को संक्रमित नहीं करता। Yara Virus kya hai अब्राहो ने ‘लाइव साइंस’ से बातचीत में कहा कि फिलहाल ऐसा नहीं लगता कि यह इंसानों के लिए कोई खतरा पैदा कर सकता है। इस बारे में अनुसंधान जारी हैं।

यारा वायरस का नाम यारा वायरस क्यों रखा गया है?

इस वायरस को यारा वायरस नाम इसलिए दिया गया है क्योंकि अकसर यह पानी में पाया जाता है और ब्राजील में पानी को यारा के नाम से कहकर पुकारा जाता है।  Yara Virus kya hai इसके अलावा ब्राज़ील में यारा नाम की एक अलौकिक जलपरी पाई जाती है जिसका नाम यारा है इसलिए इसे जलपरी के नाम पर भी यारा वायरस का नाम दिया गया है। कोरोना वायरस की उत्पत्ति कहां से और कैसे प्रकार हुई है इस बात की जानकारी तो विशेषज्ञों ने प्राप्त कर ली है लेकिन यारा वायरस की उत्पत्ति का वैज्ञानिक पता नहीं लगा पाए हैं। Yara Virus kya hai कि उसकी उत्पत्ति कहां से और कैसे हुई है? वैज्ञानिकों का कहना है कि जिस तरह के जीन इन वायरस इस में देखे गए हैं ऐसे जीन पहले देखने को नहीं मिले हैं।

ब्राजील के संगीत विश्वविद्यालय मींस ग्यारस के एक बड़े लेखक वायरोलॉजिस्ट जोनाटस अब्रह्यो द्वारा यह कहा गया है कि ऐसा पहली बार देखा गया है कि अमीबाओं को संक्रमित करने वाला यह एक छोटा नहीं बल्कि बहुत बड़ा वायरस है। उन्होंने बताया कि हजारों पर्यावरण जिलों में डाटा में यारों वायरस जीन हस्ताक्षर की खोज की गई है और यह वायरस कितना कठिन है इस बात का अंदाजा भी उसे देखकर लगाया जा सकता है।

ब्राजील की लेक पम्पयूलह में रहने वाले अमीबा में यह संक्रमण पाया गया है। यारा वायरस के बारे में ज्यादा कुछ ना पता लग पाने की वजह से इसे मस्केरियस वायरस का नाम भी दिया गया है। Yara Virus kya hai  अमीबा पर आज तक जितने भी वायरस में अटैक किया है उन सब का डेटाबेस विशेषज्ञों की किताबों में मौजूद है परंतु यह एक पहला ऐसा वायरस है जिसके बारे में विशेष रूप से भी पूरी तरह से नहीं जानते हैं इसलिए गहन जांच कर रहे हैं।

वायरस और बैक्टीरिया में अंतर

बैक्टीरिया और वायरस दोनों नग्न आंखों के लिए अज्ञात हैं और आपके सूंघने, बुखार या खांसी का कारण बनते हैं, तो हम अंतर कैसे बता सकते हैं। बैक्टीरिया तेजी से एंटीबायोटिक दवाओं के लिए प्रतिरोध विकसित कर रहे हैं, यह तेजी से महत्वपूर्ण है कि हम भेद जानते हैं, क्योंकि वायरस का एंटीबायोटिक दवाओं के साथ इलाज नहीं किया जा सकता है, न ही एंटीवायरल वाले बैक्टीरिया ,तेजी से और प्रभावी परीक्षण अनिवार्य है, इसलिए हम आक्रामक सूक्ष्मजीव का सफलतापूर्वक इलाज कर सकते हैं।

COVID-19 हमें कठिन समय  से सिखा रहे है ,हमारे पास एक नए वायरस का कोई इलाज नहीं है जब तक कि हमारे पास विशेष रूप से इसके खिलाफ लक्षित एंटी-वायरल दवाएं और टीके न हों।

किसी मौजूदा वायरस के खिलाफ विकसित की गई थैरेपी अक्सर नए वायरस के खिलाफ काम नहीं करती या खराब तरीके से काम करती है। इस समय तक हाथ धोना और फिजिकल डिस्टेंसिंग ही हमारा सबसे अच्छा हथियार है।जैविक स्तर पर, मुख्य अंतर यह है कि बैक्टीरिया मुक्त-जीवित कोशिकाएं हैं जो शरीर के अंदर या बाहर रह सकती हैं, जबकि वायरस अणुओं का एक निर्जीव संग्रह है जिसे जीवित रहने के लिए एक मेजबान की आवश्यकता होती है। कई बैक्टीरिया हमारी  सहयता करते हैं: हमारे पेट में रहना हमारे भोजन को पचाने और अवशोषित करने में मदद करता है, नाइट्रोजन को ठीक करता है और मिट्टी में कार्बनिक पदार्थों को विघटित करता है। Yara Virus kya hai इसी तरह, सभी वायरस खराब नहीं होते- अब हम जानते हैं कि हमारे पेट, त्वचा और रक्त में भी फायदेमंद वायरस मौजूद हैं जो अवांछित बैक्टीरिया और अधिक खतरनाक वायरस को मार सकते हैं

वायरस के बारे महत्वपूर्ण जानकारियां

  • विशेषज्ञों के द्वारा प्रत्येक वायरस फैलाने वाले जीनोम पर  काफी गहरी रिसर्च की जाती है जिसके बाद ही वे पता लगा पाते हैं कि कौन सा वायरस किन जीनोम की वजह से उत्पन्न होता है।
  • विशेषज्ञों के अनुसार सूक्ष्मजीवों में कुल 74 प्रकार के जीव पाए जाते हैं Yara Virus kya hai जिनमें से मात्र 6 जीनोम के बारे में पहले से विशेषज्ञों को ज्ञात है।
  • इसका अर्थ है कि विशेषज्ञों को 90% से भी अधिक जीनोम के बारे में गहन रिसर्च करके वायरस के बारे में पता लगाना जरूरी है। उन्हीं में से एक यारा वायरस को उत्पन्न करने वाला जीनोम भी है जिसका पता लगाना विशेषज्ञों के लिए बेहद आवश्यक है।

दोस्तों यह वायरस के बारे में हमने आपको बताया यकीन है आप अच्छे से समझ भी आ चूका होगा।  और दोस्तों आज के समय में काफी बीमारिया फ़ैल रही है तो कृपया आप अपना ध्यान रखे और सुरक्षित रहे। 

धन्यवाद


HOME PAGE                                             CLICK KARE 


Related Link:







 

2.5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments