Saturday, March 2, 2024
HomeComputer & TechnologyKernel Or Operating System में क्या अंतर है

Kernel Or Operating System में क्या अंतर है

Kernel Or Operating System में क्या अंतर है-आज हम आपको Kernel और Operating System के बीच के अंतर को बताएँग।। Kernel एक सॉफ्टवेयर होता है जो ऑपरेटिंग सिस्टम के हिस्से के रूप में काम करता है। यह कंप्यूटर के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर के बीच में एक संबंध स्थापित करता है और कंप्यूटर के समस्त संसाधनों को प्रबंधित करने में मदद करता है और ऑपरेटिंग सिस्टम एक सॉफ्टवेयर होता है जो कंप्यूटर हार्डवेयर के साथ काम करता है और सभी अन्य सॉफ्टवेयरों और उपयोगकर्ताओं को संचालित करने में मदद करता है।

Kernel क्या होता है ?

Kernel Or Operating System में क्या अंतर है-Kernel एक संगठित सॉफ्टवेयर है जो ऑपरेटिंग सिस्टम (OS) का मूल भाग होता है। एक Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम के सभी मूल फंक्शनों को प्रबंधित करता है, जो संगठित और असंगठित डेटा एक्सेस, प्रक्रिया और मेमोरी मैनेजमेंट, डिवाइस ड्राइवरों और नेटवर्क प्रोटोकॉल्स जैसी गतिविधियों को संचालित करते हैं। Kernel आमतौर पर एक मशीन संचालन बुनियादी सेवाओं को प्रदान करता है, जो उपयोगकर्ताओं द्वारा संचालित एप्लिकेशन्स को सही ढंग से काम करने में मदद करते हैं।

अधिकतर ऑपरेटिंग सिस्टम एक मॉनोलिथिक Kernel का उपयोग करते हैं, जिसमें सभी मूल सेवाएं एक ही Kernel स्पेस में होती हैं। हालांकि, कुछ ऑपरेटिंग सिस्टम माइक्रोKernel का उपयोग करते हैं, जो मूल सेवाओं को स्वतंत्र संरचित करते हैं, जो फिर से अन्य सेवाओं द्वारा उपयोग किए जाते हैं।

Kernel कैसे काम करता है ?

Kernel काफी संशोधनशील होता है, लेकिन इसके मूल उपयोगकर्ता इंटरफेस एप्लिकेशन संचालित करना होता है जो Kernel द्वारा प्रबंधित सेवाओं और संसाधनों तक पहुंच प्रदान करता है। जब एक उपयोगकर्ता एप्लिकेशन सेवा का उपयोग करना चाहता है, तो यह उपयोगकर्ता Kernel के द्वारा प्रबंधित सेवाओं के लिए एक सिस्टम कॉल करता है।

एक सिस्टम कॉल के दौरान, उपयोगकर्ता स्तर के एप्लिकेशन कोड Kernel को विशेष एक्सेस लाइब्रेरी का उपयोग करके Kernel स्पेस में लोड करता है। इसके बाद, Kernel स्पेस में, सिस्टम कॉल फंक्शन उपयोगकर्ता स्तर के कोड को पुनर्निर्देशित करता है ताकि Kernel सेवा को प्रदान करने के लिए उचित फंक्शन कोड पर वापस आ जाए।

Kernel द्वारा प्रबंधित सेवाएं सीधे या अप्रत्यक्ष रूप से संचालित की जाती हैं। सीधे सेवाएं, जैसे कि मेमोरी और फ़ाइल सिस्टम एक्सेस, Kernel को सीधे अनुरोध करके संचालित की जाती हैं।

Kernel के Features क्या हैं?

Kernel के कुछ मुख्य फीचर्स निम्नलिखित हैं:

  • मेमोरी मैनेजमेंट: Kernel अपनी स्वयं की मेमोरी का प्रबंधन करता है और प्रत्येक प्रक्रिया को आवंटित मेमोरी करता है। यह सुनिश्चित करता है कि एक प्रक्रिया अन्य प्रक्रियों के साथ संयोजित रूप से काम करती है और सिस्टम मेमोरी उपयोग को कम करता है।
  • प्रक्रिया मैनेजमेंट: Kernel प्रक्रियाओं को बनाने, बंद करने और प्रबंधित करने के लिए जवाबदेह होता है। यह सुनिश्चित करता है कि प्रक्रियाएं सुरक्षित होती हैं और एक दूसरे के डेटा तक पहुंच नहीं होती है।
  • सिक्योरिटी: Kernel सिस्टम के लिए सुरक्षा निर्धारित करता है और उपयोगकर्ताओं के डेटा और सिस्टम के अन्य हिस्सों को सुरक्षित रखने के लिए सुरक्षा चेक्स का उपयोग करता है।
  • संसाधनों के अनुपात: Kernel सिस्टम के उपयोगकर्ताओं के बीच उपलब्ध संसाधनों के अनुपात को समायोजित करता है।

Kernel की Responsibilities क्या हैं?

Kernel की मुख्य ज़िम्मेदारियों में शामिल हैं:

  • सिस्टम संचालन: Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम को चलाने के लिए ज़रूरी है। यह सुनिश्चित करता है कि सिस्टम में स्थापित हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, और अन्य उपकरणों के साथ संगत होता है और सिस्टम से आवश्यक तत्वों को शुरू करता है।
  • मेमोरी मैनेजमेंट: Kernel सिस्टम के लिए मेमोरी का प्रबंधन करता है। यह मेमोरी का उपयोग, मेमोरी अनुमान, मेमोरी समय स्लाइसिंग और मेमोरी अनुभव के बारे में सोचता है।
  • संसाधन प्रबंधन: Kernel संसाधनों का उपयोग करते हुए ऑपरेटिंग सिस्टम में आवश्यक तत्वों को प्रबंधित करता है। यह आवश्यकताओं के अनुसार संसाधनों का उपयोग करता है, जैसे कि स्थापित हार्डवेयर, सॉफ्टवेयर, और अन्य उपकरण।
  • इंटरप्रोसेस कम्युनिकेशन: Kernel एक दृष्टांत होता है जो एक प्रक्रिया को दूसरी प्रक्रिया से अलग रखता है। यह प्रक्रियाएं संचालित करता है।
Features जो की Kernel प्रदान करता है?

Kernel के कुछ महत्वपूर्ण फीचर्स निम्नलिखित हैं:

  • प्रोग्राम संचालन: Kernel एक प्रोग्राम के संचालन के लिए एक माध्यम होता है। इसे एक इंटरप्रेटर या कंपाइलर के रूप में समझा जा सकता है, जो सिस्टम के संचालन के लिए अनुचित होते हैं।
  • फ़ाइल सिस्टम: Kernel फ़ाइल सिस्टम का प्रबंधन करता है, जो फ़ाइलों को संग्रहित करता है जो ऑपरेटिंग सिस्टम द्वारा उपलब्ध किये जाते हैं।
  • संचार: Kernel नेटवर्क कनेक्शन, इंटर्नेट एवं अन्य संचार माध्यमों के लिए प्रबंधन करता है।
  • नियंत्रण और सुरक्षा: Kernel सिस्टम के नियंत्रण और सुरक्षा के लिए ज़िम्मेदार होता है। इसका उपयोग क्रैकिंग और अन्य सुरक्षा संबंधित समस्याओं से बचने के लिए किया जाता है।
  • ड्राइवर: Kernel ड्राइवर समर्थन करता है जो संचालित हार्डवेयर के लिए जरूरी होते हैं।

Kernel के प्रकार

ऑपरेटिंग सिस्टम में कई प्रकार के Kernel होते हैं। निम्नलिखित हैं कुछ प्रमुख Kernel टाइप्स:

  • मोनोलिथिक Kernel: यह Kernel सबसे पुराना और सरल है। सभी सेवाएं इसी Kernel में समाहित होती हैं और इसे एकल यूनिट के रूप में चलाया जाता है। एक्साम्पल्स लिनक्स के Kernel और विंडोज के Kernel हैं।
  • माइक्रोKernel: इस Kernel में सभी सेवाएं एकल यूनिट के रूप में नहीं होती हैं। ये एक छोटे Kernel कोर के साथ शुरू होते हैं और फिर सेवाएं स्वतंत्र प्रक्रियाओं के रूप में शामिल की जाती हैं। यह सिस्टम बहुत अधिक सुरक्षित होता है और मैंटेनेंस भी आसान होता है। एक्साम्पल्स माइक्रोसॉफ्ट का Windows NT और macOS का XNU Kernel हैं।
  • हाइब्रिड Kernel: ये Kernel दोनों Kernel के प्रकारों को संयुक्त करते हैं। इसमें माइक्रोKernel जैसी सेवाएं शामिल होती हैं लेकिन सभी सेवाएं एकल यूनिट के रूप में नहीं होती हैं।

Kernel और ऑपरेटिंग सिस्टम में अंतर

  • Kernel एक सॉफ्टवेयर प्रोग्राम होता है जो ऑपरेटिंग सिस्टम के नीचे काम करता है। ऑपरेटिंग सिस्टम सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है जो उपयोगकर्ताओं को अनुमति देता है कि वे अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस को उपयोग कर सकें।
  • Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम का एक अहम हिस्सा होता है। यह सिस्टम के सभी हार्डवेयर संचालन करता है और सभी सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन्स को एक इंटरफेस प्रदान करता है जिसके जरिए वे हार्डवेयर संचालित कर सकते हैं। ऑपरेटिंग सिस्टम सॉफ्टवेयर होता है जो कमांडों या अनुरोधों के बताए गए सेट को कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस को समझाता है।
  • Kernel एक ऑपरेटिंग सिस्टम का हिस्सा होता है, जो हार्डवेयर के साथ संचालित होता है और सॉफ्टवेयर एप्लीकेशन्स के बीच एक संचार का इंटरफेस प्रदान करता है।

Kernel Panics क्या होता है?

  • Kernel Panic एक ऐसी स्थिति होती है जब Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम में कोई गंभीर समस्या हो जाती है जो इसे संचालित करने से रोकती है। इस समस्या से बचने के लिए Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम को सुरक्षा हेतु स्वचालित रूप से बंद कर दिया जाता है जिससे कंप्यूटर रुक जाता है और एक संदेश प्रदर्शित करता है जिसमें समस्या के बारे में जानकारी होती है।
  • Kernel पैनिक की स्थिति उन गंभीर समस्याओं में शामिल होती है जो Kernel ऑपरेटिंग सिस्टम के नीचे काम करते हुए उत्पन्न होती हैं, जैसे कि हार्डवेयर के साथ संबंधित समस्याएं, मेमोरी या डिस्क संबंधी समस्याएं या Kernel में विभिन्न प्रकार के सॉफ्टवेयर समस्याएं।

जब Kernel पैनिक होता है, तो सामान्यतः कंप्यूटर रुक जाता है और ऑपरेटिंग सिस्टम को रीस्टार्ट करना होता है। इसके लिए, कंप्यूटर को फिजिकली रीस्टार्ट करना पड़ सकता है।

RELATED ARTICLES
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular