Saturday, March 2, 2024
HomeBloggingHindi या Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें

Hindi या Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें [Hindi vs Hinglish Blog]

हेलो दोस्तों आज हम आप सब के लिए ये पोस्ट Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें लेरकर आय है उम्मीद करते है की आप को ये पोस्ट Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें जरूर पसंद आएगी इस पोस्ट Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें में हमने इसकी पूरी जानकारी दी है और आप आपने दोस्तों को भी ये पोस्ट शेयर करें तो दोस्तों पोस्ट को शुरू करते है की Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें in hindi

Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें

  • दोस्तों क्या आप ब्लॉग बनाने के बारे में सोचते  हो लेकिन आप decide नहीं कर पा रहे हैं कि ब्लॉग हिंदी भाषा में बनायें या इंग्लिश में, तो आप एकदम सही ब्लॉग पोस्ट पर हैं जिससे आपके सारे Confusion दूर हो जायेंगें कि Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें।
  •  जब हम Blogging से जानकारी लेने के लिए YouTube पर सर्च करते हैं तो हमें कई सारे विडियो मिलते हैं जिसमें YouTuber बताते हैं कि Hinglish में ब्लॉग बनाओ और महीने के लाखों रूपये कमाओ, हिंदी ब्लॉग्गिंग में कुछ फायदा नहीं है, हिंदी ब्लॉग से कमाई नहीं होती है और कुछ YouTuber बताते हैं कि हिंदी भाषा में ब्लॉग बनाने से ज्यादा कमाई होती है.
  • ऐसे में एक नया ब्लॉगर मुश्किल में पड़ जाता है कि उसे किस Language में ब्लॉग बनाना चाहिए ।  क्योंकि कहीं ना कहीं सभी लोगों का ब्लॉग बनाने का मकसद पैसा कमाना ही होता है और अगर आप अपने ब्लॉग से कमाई नहीं कर रहे हैं तो फिर Blogging करने का कोई फायदा नहीं रह जाता है।
  • ब्लॉग किस भाषा में बनायें यह मुश्किल भारत में हर एक नए ब्लॉगर के साथ आती है।  इसलिए आज मैं अपने Blogging के अनुभव के आधार पर इस सवाल का जवाब  देते है।
  • किस भाषा में ब्लॉग बनायें (Hindi vs Hinglish ब्लॉग्गिंग ) आप चाहते हैं कि आपके मन में इस तरह की कोई Confusion पैदा ना हो तो आपको ब्लॉग शुरू करने से पहले खुद से कुछ सवाल करने चाहिए, जब आप इन सवालों का जवाब ढूंड लेते हैं तो आपको साफ़ हो जायेगा कि किस भाषा में ब्लॉग बनायें।




क्या Hinglish में ब्लॉग बनाना चाहिए?

  • अगर आपको इंग्लिश आती है तो सोचने की बात नहीं आपको Hinglish Language में ब्लॉग बनाना चाहिए।  लेकिन यदि आपको English नहीं आती है तो आपको हिंदी भाषा में ही अपना ब्लॉग बनाना चाहिए।  आप सोच रहे हैं कि मैं Hinglish में ब्लॉग बना लूँगा।  और Translate करके या किसी टूल की मदद से इंग्लिश आर्टिकल लिखूंगा तो हम आप को सुझाव कभी भी नहीं देंगे
  • क्योंकि ऐसे में आपका कंटेंट गूगल में कभी भी रैंक नहीं करेगा। अगर कुछ आर्टिकल रैंक कर भी गए तो आपका ब्लॉग इतना नहीं चल पायेगा जितना आप इससे उम्मीद करते हैं।
  •  कारण है Already ऐसे लोग हैं जो आपसे ज्यादा परफेक्शन के साथ इंग्लिश में आर्टिकल पब्लिश करते है। और टूल के साथ लिखे गए तथा एक Person के साथ  लिखे गए आर्टिकल में जमीन – आसमान का अंतर होता है. टूल के साथ  लिखे गए आर्टिकल में वह Interaction नहीं होता है जो किसी व्यक्ति के साथ  लिखे आर्टिकल में होता है.
  • इसलिए अगर आपको इंग्लिश आती है तो इंग्लिश में ब्लॉग बना सकते हैं लेकिन आपको Hinglish नहीं आती है तो आपको हिंदी भाषा में ही अपना ब्लॉग शुरू करना चाहिए।. हिंदी भाषा में आप आसानी से Quality Article पब्लिश कर सकते है।
  • अगर आपको इंग्लिश नहीं आती है तो आप इंग्लिश कंटेंट राइटर hire करके अपना इंग्लिश ब्लॉग स्टार्ट कर सकते हैं, लेकिन इसके लिए आपके पास अच्छा – ख़ासा बजट और ब्लॉग्गिंग की अच्छी नॉलेज होनी चाहिए।

क्या हिंदी भाषा में ब्लॉग्गिंग करनी चाहिए?

  • आप यह आर्टिकल पढ़ रहे हैं इसका मतलब आप हिंदी भाषा को समझते है।अगर आप हिंदी भाषा को समझते हैं तो आपको  हिंदी में ही  ब्लॉग बनाना चाहिए।
  • कई सारे नए ब्लॉगर के  मन में यह विचार होता है कि हिंदी ब्लॉग से कमाई नहीं होती है, क्योंकि हिंदी ब्लॉग पर गूगल एडसेंस में CPC कम मिलती है, हिंदी ब्लॉग से एफिलिएट मार्केटिंग नहीं कर सकते हैं, हिंदी ब्लॉग में स्पोंसर नहीं आते हैं।
  • हाँ यह बात 9 – 10 साल पहले तक सही थी, लेकिन आज ऐसा कोई  नहीं है.आप हिंदी ब्लॉग से भी लाखों रूपये की कमाई कर सकते हैं. आज की तारीख में अनेक सारे हिंदी ब्लॉगर अपने ब्लॉग से काफी अच्छी कमाई कर रहे हैं।
  • साल 2016 में जब से भारत में Jio आया हिंदी ब्लॉग्गिंग बहुत तेजी से Grow हुई। भारत में अधिकांश लोग हिंदी भाषा को काफी अच्छे से समझते हैं इसलिए Hindi Searches की संख्या में काफी तेजी से इजाफा हुआ, इसी के चलते कुछ ही सालों में ढेर सारे हिंदी ब्लॉग लांच हुए। और कई सारे हिंदी ब्लॉगर ने अपने Blogging करियर में सफलता हासिल की है।
  • आज के समय में हिंदी ब्लॉगर के लिए बहुत अच्छा अवसर है कि वह Blogging में अपना सफल करियर बना रहे है। इसलिए हिंदी भाषा में ब्लॉग्गिंग करना अच्छा है।
  • आर्टिकल को यहाँ तक पढने पर आप थोडा बहुत समझ गए होंगें कि ब्लॉग Hindi में बनाये या फिर Hnglish में. चलिए अब हिंदी और इंग्लिश ब्लॉग के फायदे और नुकसानों के बारे में भी जान लेते हैं।

Hinglish ब्लॉग बनाने के फायदे और नुकसान

Hinglish ब्लॉग बनाने के फायदे और नुकसानों के बारे में हमने लेख में आगे आपको जानकारी दी है

फायदे

  • अगर आप इंग्लिश में Quality आर्टिकल लिखते हैं तो हिंदी ब्लॉग की तुलना में Hinglish ब्लॉग से कमाई बहुत ज्यादा होती है.
  • लगभग सभी कीवर्ड रिसर्च टूल इंग्लिश कीवर्ड के लिए सही आंकड़े दिखाते हैं.

नुकसान

  • Hinglish भाषा को दुनिया के अधिकतर देशों में बोली और समझी जाती है इसलिए आपको अधिक ट्रैफिक मिलने की संभावना बनती है.
  • एफिलिएट मार्केटिंग के द्वारा आप अच्छी कमाई कर सकते हैं क्योंकि Tier 1 देशों में कन्वर्शन रेट हाई होता है.
  • आपके ब्लॉग पर USA, यूनाइटेड किंगडम, कनाडा, ऑस्ट्रेलिया जैसे Tier 1 देशों से ट्रैफिक आता है और यहाँ पर CPC बहुत High होती है.
हिंदी ब्लॉग बनाने के फायदे और नुकसान

फायदे

  • 2 से 3 साल तक हिंदी ब्लॉग में अच्छे से काम करने पर आप लाखों रूपये की कमाई कर सकते हैं.
  • आपको पाठकों को अपनी बात समझाने में आसानी होगी.
  • इंग्लिश ब्लॉग की तुलना में हिंदी ब्लॉग में Competition कम है.
  • आप थोड़ी बहुत रिसर्च करके कई सारे ऐसे टॉपिक find कर सकते हैं जिनके बारे में किसी ब्लॉग ने नहीं लिखा है, आप ऐसे टॉपिक पर आर्टिकल लिखकर ब्लॉग को जल्दी रैंक कर सकते हैं.
  • हिंदी भाषा में सर्च करने वालों की संख्या बहुत अधिक है, पर आर्टिकल बहुत कम ही लिखे गए हैं. इसलिए हिंदी ब्लॉग में सफलता मिलने की संभावना अधिक है.
  • 1 साल निरंतर मेहनत करके आप ब्लॉग से पैसे कमाना शुरू कर देंगें.
  • अगर आ[को SEO का अधिक नॉलेज नहीं है तो भी आप अपने ब्लॉग को रैंक करवा सकते हैं.

नुकसान

  • अनेक सारे Popular टूल हिंदी कीवर्ड के लिए सही आंकड़े नहीं दिखाते हैं.
  • भारत में अभी भी बहुत सारे इलाकों में इन्टरनेट की सुविधा नहीं है जिससे आपको कम विजिटर मिलेंगें.
  • आज के समय में भारत में भी अनेक सारे लोग इंग्लिश आर्टिकल पढना पसंद करते हैं.
  • हिंदी ब्लॉग में Google AdSense बहुत कम CPC देता है.
हिंदी और हिंगलिश ब्लॉग की तुलना (Hindi vs Hinglish Blog Compression)
  •  अब कुछ महत्वपूर्ण पॉइंट को ध्यान में रखकर हिंदी और हिंगलिश ब्लॉग की तुलना करते हैं जिससे कि आपको अधिक साफ रूप से अपने सवाल का जवाब मिल सके
  •  अब कुछ जरूरी बाते ध्यान में रखकर हिंदी और इंग्लिश ब्लॉग की तुलना करते हैं जिससे कि आपको अधिक साफ रूप से अपने सवाल का जवाब मिल सके

1. ट्रैफिक किसमें ज्यादा होगा

  •  आप हिंदी भाषा में ब्लॉग लिखते हैं तो आपके ब्लॉग पर Mostly Traffic ऐसे देशों से आयेगा। जहाँ पर लोग हिंदी पढ़ते, लिखते, बोलते और समझते हैं, जैसे भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि. हिंदी ब्लॉग में आप यह उम्मीद कर सकते हैं कि आपके ब्लॉग पर 80 से 90 प्रतिशत ट्रैफिक इन तीनों देशों से ही आयेगा
  • और यदि आप Same कंटेंट को English में पब्लिश करते हैं तो आपके ब्लॉग पर ट्रैफिक पूरे दुनिया से आने की संभावना बन जाती है। क्योंकि इंग्लिश एक इंटरनेशनल language है जिसे लगभग दुनिया के अधिकतर देश बोलते और समझते हैं। अधिकांश देशों की प्राइमरी लैंग्वेज वहाँ की मातृभाषा होती है जैसे स्पेनिश, फ्रेंच, रशियन, अरेबिक इत्यादि।
  • गूगल में भी सबसे ज्यादा Query इंग्लिश भाषा में ही सर्च की जाती है. इसलिए अगर ट्रैफिक की बात करें तो English ब्लॉग में अधिक ट्रैफिक होने की संभावना होती है।
  • अगर आप एक नए ब्लॉगर हैं तो आपको हिंगलिश ब्लॉग में अधिक ट्रैफिक नहीं मिलेगा, क्योंकि लगभग सभी इंग्लिश की वर्ड पर Already बहुत सारे ब्लॉगर लिख चुके हैं। लेकिन हिंदी में बहुत सारे टॉपिक अभी भी ऐसे हैं जिन पर लोगों ने लिखा नहीं है, इसलिए नए ब्लॉगर कम समय में हिंदी ब्लॉग में अधिक ट्रैफिक ले कर सकते है।

2. कमाई किस ब्लॉग से ज्यादा होगी

  • कमाई की बात करें तो हिंगलिश Blog से ज्यादा होती है। क्योंकि आपके ब्लॉग पर Tier1 Country से ट्रैफिक आता है। और वहाँ पर CPC भी अच्छी मिलती है। तथा प्रोडक्ट सेलिंग में कन्वर्शन रेट भी अधिक होता है।
  • लेकिन जिन लोगों को इंग्लिश नहीं आती है वे हिंगलिश ब्लॉग से मुश्किल ही कमाई कर पाते हैं। क्योंकि आप अपनी बात को लोगों को अच्छी तरह से नहीं समझा पायेंगें इसलिए लोग आपके ब्लॉग से कुछ एक्शन नहीं लेंगें।
  •  आप सही तरीके से ब्लॉग्गिंग करते हैं तो अभी के समय में हिंदी ब्लॉग से भी बहुत ज्यादा कमाई कर सकते हैं।

3. जल्दी रैंक कौन करेगा

  • Hinglish Blog की तुलना में हिंदी ब्लॉग जल्दी रैंक करता है. इंग्लिश ब्लॉग में Competition बहुत अधिक होता है। क्योंकि इंग्लिश में शायद ही कोई ऐसा टॉपिक मिलेगा जिस पर किसी ने नहीं लिखा है। इंग्लिश ब्लॉग को रैंक करने के लिए आपको Advance SEO आना चाहिए।
  • और वही दूसरी ओर हिंदी ब्लॉग में आपको ढेर सारे ऐसे कीवर्ड मिल जायेंगें। जिस पर किसी ने नहीं लिखा है, आप ऐसे टॉपिक पर आर्टिकल लिखकर बेसिक SEO करके जल्दी रैंक कर सकते है।

Hinglish Blog क्या है

  • Hinglish Blog ऐसे ब्लॉग को कहते हैं जिसमें आर्टिकल को हिंदी और हिंगलिश भाषा में मिक्स करके लिखा जाता है। जैसे कि “Blogging Kya Hai”. मतलब कि जिस तरह  से आप मैसेज लिखते हैं उसी Language में Hinglish ब्लॉग लिख सकते हैं।
  • Hinglish Blog भी भारत में बहुत अधिक प्रसिद्ध है। अनेक सारे ब्लॉगर Hinglish में ब्लॉग लिखते हैं. Hinglish ब्लॉग लिखने का मुख्य कारण है कि यूजर Hinglish में ही हिंदी कीवर्ड को सर्च करते हैं।
  • लेकिन आज की तारीख में Hinglish ब्लॉग लिखना अच्छा बात नहीं है। क्योंकि अब हिंदी भाषा में अनेक सारे ब्लॉगर आ चुके हैं तो कोर हिंदी भाषा में ब्लॉग लिखते हैं और उनका ब्लॉग पाठकों को समझ में भी आता है. साथ ही गूगल Hinglish कीवर्ड को अच्छे से समझता है और Hinglish कीवर्ड पर हिंदी कंटेट को ही Priority देता है।
  • 2014 – 15 की बात करें तो अधिकतर ब्लॉगर Hinglish में ही आर्टिकल लिखते थे।  लेकिन आज उनके ब्लॉग अच्छी पोजीशन पर रैंक नहीं करते हैं. इसलिए आपको हिंदी और Hinglish में से हिंदी भाषा में ही ब्लॉग लिखना होगा। आप Hinglish कीवर्ड का इस्तेमाल ब्लॉग में कर सकते हैं.

तो दोस्तों आप के उम्मीद करते है की आप को ये पोस्ट Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें ।जरूर पसंद आया होगा इस पोस्ट Hindi vs Hinglish किस भाषा में ब्लॉग बनायें को पढ़ने के बाद आप को इसके बारे में पूरी जानकारी हो गई होगी



RELATED ARTICLES
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular