Friday, June 14, 2024
Homeजानकारियाँसाल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन (Longest and Shortest Day...

साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन (Longest and Shortest Day of the Year 2024)

साल का सबसे लम्बा और छोटा दिन कब है – Longest and Shortest day of the year in hindi (longest day of the year, longest day of the year in India, shortest day of the year)

साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन – संक्रांति यानि सोल्सटिस एक खगोलीय घटना है। यह घटना पृथ्वी के अक्ष के झुकाव के कारण होती है। पृथ्वी का अक्ष अपने धुरी के चारों ओर झुका हुआ है, लगभग 23.5 डिग्री। इस झुकाव के कारण, सूर्य की किरणें वर्ष में एक बार किसी गोलार्द्ध पर सीधी पड़ती हैं। उत्तरी गोलार्द्ध में, 21 जून को सूर्य की किरणें सीधी पड़ती हैं, जिससे यहाँ का दिन सबसे लंबा और रात सबसे छोटी होती है। इस दिन को ग्रीष्म संक्रांति कहा जाता है। इसी तरह, दक्षिणी गोलार्द्ध में, 21 दिसंबर को सूर्य की किरणें सीधी पड़ती हैं, जिससे यहाँ का दिन सबसे छोटा और रात सबसे लंबी होती है। इस दिन को शीतकालीन संक्रांति कहा जाता है। संक्रांति शब्द लैटिन शब्द “सोलिस्टीस” से आया है, जिसका अर्थ है “सूर्य ठहरता है”। यह इसलिए है क्योंकि संक्रांति के दिन, सूर्य आकाश में अपनी स्थिति में रुक जाता है और फिर दिशा बदल देता है। साल 2024 का  बसे लम्बा और छोटा दिन 

संक्रांति का पृथ्वी के मौसम पर महत्वपूर्ण प्रभाव पड़ता है। ग्रीष्म संक्रांति के बाद, उत्तरी गोलार्द्ध में गर्मी शुरू हो जाती है, क्योंकि सूर्य की किरणें सीधे पड़ती हैं और अधिक गर्मी प्रदान करती हैं। इसी तरह, शीतकालीन संक्रांति के बाद, दक्षिणी गोलार्द्ध में गर्मी शुरू हो जाती है। साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन 

संक्रांति के अलावा, पृथ्वी पर दो अन्य खगोलीय घटनाएँ भी होती हैं, जिन्हें विषुव कहा जाता है। विषुव के दिन, सूर्य की किरणें भूमध्य रेखा पर सीधी पड़ती हैं। उत्तरी गोलार्द्ध में, विषुव 20 मार्च को होता है, जिसे वसंत विषुव कहा जाता है। दक्षिणी गोलार्द्ध में, विषुव 22 सितंबर को होता है, जिसे शरद विषुव कहा जाता है। साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन (Longest and Shortest day of the year in hindi)

साल 2024 का सबसे लंबा दिन 21 जून, गुरुवार को है, जोकि 13 घंटे 33 मिनट और 46 सेकेंड का होगा। इस दिन, सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्द्ध पर सीधी पड़ती हैं, जिससे यहाँ का दिन सबसे लंबा और रात सबसे छोटी होती है। इस दिन को ग्रीष्म संक्रांति कहा जाता है। साल 2024 का सबसे छोटा दिन 21 दिसंबर, शुक्रवार को है, जोकि 10 घंटे 19 मिनट और 10 सेकेंड का होगा। इस दिन, सूर्य की किरणें दक्षिणी गोलार्द्ध पर सीधी पड़ती हैं, जिससे यहाँ का दिन सबसे छोटा और रात सबसे लंबी होती है। इस दिन को शीतकालीन संक्रांति कहा जाता है। साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

साल के अन्य दिन, उत्तरी गोलार्द्ध में दिन की लंबाई 21 जून से कम होती जाती है और 21 दिसंबर को सबसे छोटी हो जाती है। फिर, 21 दिसंबर के बाद, दिन की लंबाई बढ़ने लगती है और 21 जून को फिर से सबसे लंबी हो जाती है। इसी तरह, दक्षिणी गोलार्द्ध में दिन की लंबाई 21 दिसंबर से बढ़ती जाती है और 21 जून को सबसे लंबी हो जाती है। फिर, 21 जून के बाद, दिन की लंबाई कम होने लगती है और 21 दिसंबर को फिर से सबसे छोटी हो जाती है साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

समर सोल्सटिस या ग्रीष्मकालीन संक्रांति अर्थात साल का सबसे बड़ा दिन

समर सोल्सटिस या ग्रीष्मकालीन संक्रांति वर्ष का सबसे बड़ा दिन होता है। यह दिन उत्तरी गोलार्द्ध में 21 जून को होता है। इस दिन, पृथ्वी का अक्ष सूर्य की ओर सबसे अधिक झुका होता है, जिससे सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्द्ध पर सीधी पड़ती हैं। इससे उत्तरी गोलार्द्ध में दिन सबसे लंबा और रात सबसे छोटी होती है। इस दिन, उत्तरी गोलार्द्ध में दिन लगभग 14 घंटे का होता है, जबकि रात लगभग 10 घंटे की होती है। यह दिन गर्मी की शुरुआत का प्रतीक है। इस दिन, लोग अक्सर बाहर जाते हैं, पिकनिक मनाते हैं, और सूर्योदय और सूर्यास्त का आनंद लेते हैं। Longest and Shortest day of the year

समर सोल्सटिस का कई संस्कृतियों में धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व है। उदाहरण के लिए, ईसाई धर्म में, यह दिन यीशु मसीह के जन्म के लगभग 6 महीने पहले होता है। कई पौराणिक कथाओं में, समर सोल्सटिस को एक महत्वपूर्ण घटना माना जाता है। उदाहरण के लिए, ग्रीक पौराणिक कथाओं में, समर सोल्सटिस को सूर्य देवता हेलिओस की शादी के दिन के रूप में मनाया जाता है। समर सोल्सटिस एक प्राकृतिक घटना है जो पृथ्वी के अक्ष के झुकाव के कारण होती है। यह घटना पृथ्वी के मौसम पर महत्वपूर्ण प्रभाव डालती है। ग्रीष्मकालीन संक्रांति के बाद, उत्तरी गोलार्द्ध में गर्मी शुरू हो जाती है, क्योंकि सूर्य की किरणें सीधे पड़ती हैं और अधिक गर्मी प्रदान करती हैं। साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

ग्रीष्मकालीन संक्रांति का सांस्कृतिक महत्व

ष्मकालीन संक्रांति का दुनिया भर की कई संस्कृतियों में सांस्कृतिक महत्व है। यह दिन अक्सर गर्मी की शुरुआत का प्रतीक होता है, और इसे त्योहारों, उत्सवों और समारोहों के साथ मनाया जाता है। उत्तरी गोलार्द्ध में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति 21 जून को होती है। इस दिन, पृथ्वी का अक्ष सूर्य की ओर सबसे अधिक झुका होता है, जिससे सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्द्ध पर सीधी पड़ती हैं। इससे उत्तरी गोलार्द्ध में दिन सबसे लंबा और रात सबसे छोटी होती है।

ग्रीष्मकालीन संक्रांति का कई संस्कृतियों में धार्मिक महत्व भी है। उदाहरण के लिए, ईसाई धर्म में, यह दिन यीशु मसीह के जन्म के लगभग 6 महीने पहले होता है। कई पौराणिक कथाओं में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति को एक महत्वपूर्ण घटना माना जाता है। उदाहरण के लिए, ग्रीक पौराणिक कथाओं में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति को सूर्य देवता हेलिओस की शादी के दिन के रूप में मनाया जाता है। भारत में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति को मकर संक्रांति के रूप में मनाया जाता है। यह एक महत्वपूर्ण हिंदू त्योहार है, जिसे सूर्य देवता को समर्पित किया जाता है। लोग इस दिन सूर्योदय के समय स्नान करते हैं और नए कपड़े पहनते हैं। साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

  • यूरोप में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति को विसोस के रूप में मनाया जाता है। यह एक लोकप्रिय त्योहार है, जिसे अक्सर आग जलाकर, नृत्य करके और संगीत बजाकर मनाया जाता है।
  • स्कैंडिनेविया में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति को मिडसमर के रूप में मनाया जाता है। यह एक प्राचीन त्योहार है, जिसे अक्सर फायरसाइड्स के पास गाने और नृत्य करके मनाया जाता है।
  • जर्मनी में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति को सोल्सटिस के रूप में मनाया जाता है। यह एक लोकप्रिय त्योहार है, जिसे अक्सर परिवार और दोस्तों के साथ पिकनिक और बाहरी गतिविधियों के साथ मनाया जाता है।

विंटर सोल्सटिस या शीतकालीन संक्रांति अर्थात साल का सबसे छोटा दिन

विंटर सोल्सटिस या शीतकालीन संक्रांति वर्ष का सबसे छोटा दिन होता है। यह दिन उत्तरी गोलार्द्ध में 21 या 22 दिसंबर को होता है। इस दिन, पृथ्वी का अक्ष सूर्य से सबसे अधिक झुका होता है, जिससे सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्द्ध पर सबसे कम तीव्रता से पड़ती हैं। इससे उत्तरी गोलार्द्ध में दिन सबसे छोटा और रात सबसे लंबी होती है।

इस दिन, उत्तरी गोलार्द्ध में दिन लगभग 10 घंटे का होता है, जबकि रात लगभग 14 घंटे की होती है। यह दिन सर्दी की शुरुआत का प्रतीक है। इस दिन, लोग अक्सर घर में रहते हैं, आग के पास बैठते हैं, और सूर्योदय और सूर्यास्त का आनंद लेते हैं। विंटर सोल्सटिस का कई संस्कृतियों में धार्मिक और सांस्कृतिक महत्व है। उदाहरण के लिए, ईसाई धर्म में, यह दिन क्रिसमस के लगभग 6 महीने पहले होता है। कई पौराणिक कथाओं में, विंटर सोल्सटिस को एक महत्वपूर्ण घटना माना जाता है। उदाहरण के लिए, रोमन पौराणिक कथाओं में, विंटर सोल्सटिस को देवता सूर्य की वापसी के दिन के रूप में मनाया जाता है।

विंटर सोल्सटिस का सांस्कृतिक महत्व

विंटर सोल्सटिस या शीतकालीन संक्रांति का दुनिया भर की कई संस्कृतियों में सांस्कृतिक महत्व है। यह दिन अक्सर सर्दी की शुरुआत का प्रतीक होता है, और इसे त्योहारों, उत्सवों और समारोहों के साथ मनाया जाता है। उत्तरी गोलार्द्ध में, विंटर सोल्सटिस 21 या 22 दिसंबर को होता है। इस दिन, पृथ्वी का अक्ष सूर्य से सबसे अधिक झुका होता है, जिससे सूर्य की किरणें उत्तरी गोलार्द्ध पर सबसे कम तीव्रता से पड़ती हैं। इससे उत्तरी गोलार्द्ध में दिन सबसे छोटा और रात सबसे लंबी होती है। साल 2024 का सबसे लम्बा और छोटा दिन

सोल्सटिस की तारीखों के भिन्न होने का कारण

  • सौर वर्ष की अवधि: सौर वर्ष, या वर्ष की अवधि, 365.2422 दिन है। यह लगभग 365 दिनों के समान है, लेकिन यह वास्तव में थोड़ा अधिक है। यह अंतर संक्रांति की तारीखों में कुछ दिनों के अंतर का कारण बनता है।
  • टाइमज़ोन: ग्रीष्मकालीन संक्रांति और शीतकालीन संक्रांति पृथ्वी के चारों ओर एक ही समय पर नहीं होती हैं। वे समय क्षेत्र के आधार पर अलग-अलग समय पर होती हैं।

उत्तरी गोलार्द्ध में, ग्रीष्मकालीन संक्रांति आमतौर पर 20 जून से 22 जून के बीच होती है। शीतकालीन संक्रांति आमतौर पर 21 दिसंबर से 23 दिसंबर के बीच होती है। दक्षिणी गोलार्द्ध में, तारीखें विपरीत होती हैं।

विभिन्न वर्षों में ग्रीष्मकालीन संक्रांति और शीतकालीन संक्रांति की तारीखें क्या हैं

2023: ग्रीष्मकालीन संक्रांति – 21 जून, शीतकालीन संक्रांति – 21 दिसंबर
2024: ग्रीष्मकालीन संक्रांति – 20 जून, शीतकालीन संक्रांति – 22 दिसंबर
2025: ग्रीष्मकालीन संक्रांति – 21 जून, शीतकालीन संक्रांति – 21 दिसंबर
2026: ग्रीष्मकालीन संक्रांति – 20 जून, शीतकालीन संक्रांति – 22 दिसंबर

 

ग्रीष्मकालीन संक्रांति की विभिन्न शहरों की तिथियाँ

शहर तारीख दिन के समय की लम्बाई
एंकरेज, आल्सका में 18 जून से 22 जून तक का सबसे लम्बा दिन 19 घंटा और 21 मिनट का
न्यू यॉर्क, न्यू यॉर्क सिटी में 18 जून से 22 जून तक का सबसे लम्बा दिन 15 घंटा 6 मिनट का
कैलिफोर्निया, साक्रमेंटो 17 जून से 23 जून तक का सबसे लम्बा दिन 14 घंटा 52 मिनट का
कलिफोर्निया, लोस एंगेल्स 19 जून से 21 जून तक का सबसे लम्बा दिन 14 घंटा 26 मिनट
हवाई, होनोलुलु 15 जून से 25 जून सबसे लम्बा दिन 13 घंटा 26 मिनट
यूनाइटेड किंगडम, लन्दन 17 जून से 24 जून तक सबसे लम्बा दिन 16 घंटा 38 मिनट
टोक्यो, जापान 19 जून से 23 जून तक का सबसे लम्बा दिन 14 घंटा 35 मिनट
मैक्सिकों सिटी, मेक्सिको 13 जून से 28 जून तक सबसे लम्बा दिन 13 घंटा 18 मिनट

 

शीतकालीन संक्रांति की विभिन्न शहरों की तिथियाँ

शहर तारीख दिन के समय की लम्बाई 
दिल्ली 22 दिसम्बर 10 घंटा 19 मिनट
बीजिंग 22 दिसंबर 9 घंटा 20 मिनट
रिओ डे जनिरेओ 22 दिसम्बर 13 घंटा 13 मिनट
न्यू यॉर्क सिटी 22 दिसम्बर 9 घंटा 15 मिनट
लोस अन्गेलेस 22 दिसम्बर 9 घंटा 53 मिनट
मेक्सिको सिटी 22 दिसम्बर 10 घंटा 57 मिनट
टोक्यो, जापान 22 दिसम्बर 9 घंटा 44 मिनट
मेलबोर्न 22 दिसम्बर 14 घंटा 47 मिनट
RELATED ARTICLES
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular