Thursday, April 25, 2024
Homeजानकारियाँमुग़ल गार्डन का नया नाम क्या है ? कब खुलेगा मुग़ल गार्डन

मुग़ल गार्डन का नया नाम क्या है ? कब खुलेगा मुग़ल गार्डन

मुग़ल गार्डन का नया नाम क्या है ? कब खुलेगा – मुग़ल गार्डन मुगल उद्यान मुगलों द्वारा निर्मित उद्यान का एक प्रकार है। यह शैली फारसी Gardens से प्रभावित थी, विशेष रूप से चारबाग structure , जिसका main motive एक सांसारिक यूटोपिया का प्रतिनिधित्व करना है जिसमें मनुष्य प्रकृति के सभी तत्वों के साथ पूर्ण सामंजस्य में सह-अस्तित्व में हैं।

मुग़ल गार्डन का नया नाम क्या है ? कब खुलेगा मुग़ल गार्डन


अमृत गार्डन , राष्ट्रपति भवन की प्रेस रिलीज़ में कहा गया है कि इस रविवार से ‘अमृत उद्यान’ में उद्यान उत्सव 2023 के मौके पर राष्ट्रपति द्रोपदी मुर्मू मौजूद रहेंगी. जनता के लिए इसे 31 जनवरी से 26 मार्च तक के लिए खोल दिया जाएगा. दीवारों के बाड़ों के भीतर रेक्टिलाइनियर लेआउट का महत्वपूर्ण उपयोग किया जाता है। कुछ विशिष्ट विशेषताओं में बगीचों के अंदर पूल, फव्वारे और नहरें शामिल हैं। अफगानिस्तान, बांग्लादेश और भारत में कई उद्यान हैं जो “अत्यधिक अनुशासित ज्यामिति” के संबंध में अपने मध्य एशियाई पूर्ववर्तियों से भिन्न हैं।

मुग़ल गार्डन क्या है


Mughal Garden New Name देश दुनिया में मशहूर राष्ट्रपति भवन स्थित प्रतिष्ठित मुगल गार्डन का नाम बदल दिया गया है। मुगल गार्डन का अब नया नाम रखा गया है। मुगल गार्डन का नया नाम क्या है? तो अब मुगल गार्डन, ‘अमृत उद्यान’ के नाम से पुकारा जाएगा। शनिवार 28 जनवरी राष्ट्रपति के आदेश पर मुगल गार्डन का नाम बदला गया है। 

15 एकड़ के विशाल विस्तार में फैले मुगल गार्डन को अक्सर राष्ट्रपति महल की आत्मा के रूप में चित्रित किया जाता है। बताया जा रहा है कि, अमृत महोत्सव के तहत मुगल गार्डन का नाम बदला गया है। 

अमृत उद्यान (मुगल गार्डन) में 12 किस्म के ट्यूलिप के फूल होते हैं। अमृत उद्यान इस साल भी आम जनता के लिए खुलने वाला है। 

ट्यूलिप और गुलाब के फूल आम जनता का मन मोहेंगी। अमृत उद्यान (मुगल गार्डन) इस वर्ष 31 जनवरी को खुलेगा। और 26 मार्च तक दो माह तक के लिए खुला रहेगा। गार्डन खुलने का समय 10 बजे से शाम 4 बजे तक रहेगा। 

28 मार्च को किसानों, 29 को दिव्यांगों, 30 मार्च को पुलिस और सेना के लिए यह विशेष रूप से खुलेगा।

मुग़ल गार्डन इतिहास


मुगल साम्राज्य के संस्थापक बाबर ने अपने पसंदीदा प्रकार के बगीचे को चारबाग के रूप में वर्णित किया। उद्यान के लिए बाग, बाग, बागीचा या बागीचा शब्द का प्रयोग किया जाता है। इस शब्द ने दक्षिण एशिया में एक नया अर्थ विकसित किया, क्योंकि इस क्षेत्र में मध्य एशियाई चारबाग के लिए आवश्यक तीव्र प्रवाह वाली धाराओं का अभाव था। आगरा के आराम बाग को दक्षिण एशिया का पहला चारबाग माना जाता है।

मुगल साम्राज्य की शुरुआत से, बगीचों का निर्माण एक प्रिय शाही शगल था। प्रथम मुगल विजेता-राजा बाबर ने लाहौर और धौलपुर में उद्यान बनवाए थे। ऐसा प्रतीत नहीं होता है कि उसके बेटे हुमायूँ के पास निर्माण के लिए अधिक समय था – वह क्षेत्र को पुनः प्राप्त करने और बढ़ाने में व्यस्त था – लेकिन वह अपने पिता के बगीचों में बहुत समय बिताने के लिए जाना जाता है।

अकबर ने पहले दिल्ली में कई उद्यान बनवाए, फिर अकबर की नई राजधानी आगरा में। ये उनके पूर्ववर्तियों द्वारा बनाए गए किले के बगीचों के बजाय रिवरफ्रंट गार्डन थे। किले के बगीचों के बजाय रिवरफ्रंट के निर्माण ने बाद के मुगल उद्यान वास्तुकला को काफी प्रभावित किया।

मुगल गार्डन कब बना?

सर एटविन लुटियंस ने साल 1917 में अमृत उद्यान (ex name मुगल गार्डन) का डिजाइन तैयार किया था। हालांकि, 1928-1929 में उद्यान में पौधारोपण किया गया था। जिसका मतलब है कि अमृत उद्यान का इतिहास 95 साल पुराना है।

 

मुगल गार्डन कब से कब तक खुला है?

Mugal Garden Ka Opening Date Kiaya Hai? वर्ष 2023 में 12 फरवरी से 16 मार्च तक सुबह 10 से शाम 5 बजे तक आम लोग मुगल गार्डन जा सकते हैं। लेकिन इस बार सुरक्षा व सुविधा को देखते हुए आप को आनलाईन रजिस्ट्रेशन करवाने होगें। Mugal Garden Ka Online Registration Kaise Kare, लेख के आखिर में है।

RELATED ARTICLES
5 3 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular