Saturday, March 2, 2024
HomeComputer & Technologyपर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है Perl Language in Hindi

पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है Perl Language in Hindi

पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है Perl Language in Hindi- हेलो दोस्तों मेरा नाम कासिम अली है। आज मै आप लोगो को बताने वाला हूँ की पर्ल लैंग्वेज क्या है अगर आप लोग नही जानते हो तो आज मै इस ब्लॉग के जरिये बताने वाला हूँ।

पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है

पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है – पर्ल एक उच्च स्तरीय, सामान्य-प्रयोजन, प्रोग्रामिंग भाषा है। इसका विकास लैरी वॉल द्वारा सन् 1987 में यूनिक्स स्क्रीप्टिंग भाषा के अंतर्गत रिपोर्ट की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिये किया गया था। तब से, यह अनेक परिवर्तनो और संशोधनो से गुजरी है और प्रोग्रामरों के बीच व्यापक रूप से लोकप्रिय हुई है।

पर्ल भाषा पाठ प्रसंस्करण के लिये शक्तिशाली सुविधाएँ प्रदान करती है, वो भी यूनिक्स उपकरणों की डेटा लंबाई सीमा के बिना। यह भाषा अन्य प्रोग्रामिंग भाषाओं जैसे कि सी (C), shell scripting (sh), AWK और sed से समानता रखती है।

पर्ल भाषा के प्रमुख विशेषताएं

  • यह एक व्याख्या की गई भाषा है, जिसका अर्थ है कि कोड को चलाने से पहले संकलित करने की आवश्यकता नहीं है।
  • यह एक क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म भाषा है, जिसका अर्थ है कि इसका उपयोग किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम पर किया जा सकता है।
  • यह एक पाठ-उन्मुख भाषा है, जिसका अर्थ है कि यह पाठ को संसाधित करने में विशेष रूप से अच्छी है।
  • इसमें नियमित अभिव्यक्तियों के साथ काम करने की शक्तिशाली क्षमता है।
  • इसमें ऑब्जेक्ट-ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की सुविधाएं हैं।पर्ल भाषा का उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जाता है

पर्ल भाषा का उपयोग

  • प्रसंस्करण
  • डेटा विश्लेषण
  • वेब विकास
  • सिस्टम प्रशासन
  • डेटाबेस प्रबंधन
  • वैज्ञानिक अनुसंधान
  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता

पर्ल भाषा एक शक्तिशाली और बहुमुखी उपकरण है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जा सकता है। यह उन प्रोग्रामरों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो पाठ प्रसंस्करण या डेटा विश्लेषण में रुचि रखते हैं।

पर्ल का पूरा नाम (Perl Full Form in Hindi)

  • Perl Full Form – Practical Extraction And Reporting Language
  • Perl Full Form In Hindi     – व्यावहारिक निष्कर्षण और रिपोर्टिंग भाषा

पर्ल का इतिहास

पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है – पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा का विकास लैरी वॉल द्वारा सन् १९८७ में यूनिक्स स्क्रीप्टिंग भाषा के अंतर्गत रिपोर्ट की प्रक्रिया को आसान बनाने के लिये किया गया था। उस समय, यूनिक्स में पाठ प्रसंस्करण के लिए कई अन्य स्क्रिप्टिंग भाषाएँ उपलब्ध थीं, जैसे कि AWK और sed। लेकिन वॉल को लगा कि इन भाषाओं में कुछ कमियाँ थीं, जैसे कि उनकी क्षमता सीमित होना और उनका उपयोग करना कठिन होना।

वॉल ने एक नई भाषा विकसित करने का फैसला किया जो इन कमियों को दूर कर सके। उन्होंने पाठ प्रसंस्करण के लिए विशेष रूप से शक्तिशाली और उपयोग में आसान भाषा बनाने का लक्ष्य रखा।

पर्ल भाषा का पहला संस्करण, पर्ल 1.0, 1987 में जारी किया गया था। यह संस्करण अभी भी प्रारंभिक अवस्था में था, लेकिन इसमें पाठ प्रसंस्करण के लिए कई शक्तिशाली सुविधाएँ थीं।

पर्ल भाषा का विकास जारी रहा, और 1990 में पर्ल 2.0 जारी किया गया। इस संस्करण में कई नई सुविधाएँ जोड़ी गईं, जैसे कि ऑब्जेक्ट-ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की सुविधाएं।

1994 में, पर्ल 5.0 जारी किया गया। यह संस्करण एक महत्वपूर्ण बदलाव था, क्योंकि इसमें दुभाषिया को फिर से लिखा गया था। इसने पर्ल भाषा को और अधिक शक्तिशाली और कुशल बना दिया। पर्ल भाषा का विकास आज भी जारी है। पर्ल 6.0, जो पर्ल 5.0 का उत्तराधिकारी है, 2023 में जारी किया गया था। पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है 

  • पाठ प्रसंस्करण
  • डेटा विश्लेषण
  • वेब विकास
  • सिस्टम प्रशासन
  • डेटाबेस प्रबंधन
  • वैज्ञानिक अनुसंधान
  • कृत्रिम बुद्धिमत्ता

पर्ल भाषा एक शक्तिशाली और बहुमुखी उपकरण है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जा सकता है। यह उन प्रोग्रामरों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो पाठ प्रसंस्करण या डेटा विश्लेषण में रुचि रखते हैं।

पर्ल के संस्करण

Perl संस्करण Release Date
Perl 5.000 17 October 1994
Perl 5.001 13  March 1995
Perl 5.002 29 February 1996
Perl 5.003 25 June 1996
Perl 5.004 15 May 1997
Perl 5.005 22 July 1998
Perl 5.6.0 22 March 2000
Perl 5.8.0 18 July 2002
Perl 5.10.0 18 December 2007
Perl 5.12.0 12 April 2010
Perl 5.14.0 14 May 2011
Perl 5.16.0 20 May 2012
Perl 5.18.0 18 May 2013
Perl 5.20.0 27 May 2014
Perl 5.22.0 1 June 2015
Perl 5.24.0 8 May 2016
Perl 5.26.0 30 May 2017
Perl 5.28.0 22 June 2018
Perl 5.30.0 22 May 2019
Perl 5.32.0 20 June 2020
Perl 5.34.0 20 May 2021

 

पर्ल डेटा के प्रकार

पर्ल में, डेटा को विभिन्न प्रकारों में वर्गीकृत किया जाता है। प्रत्येक डेटा प्रकार का अपना विशिष्ट अर्थ और कार्य होता है। 

  • Perl Scalars
  • Perl Arrays
  • Perl Hashes

पर्ल में डेटा प्रकारों का उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों को करने के लिए किया जा सकता है। उदाहरण के लिए, स्केलर डेटा प्रकारों का उपयोग संख्याओं को संग्रहीत करने के लिए किया जा सकता है, अनुक्रम डेटा प्रकारों का उपयोग सूचियों, सारणी, और सरणियों को संग्रहीत करने के लिए किया जा सकता है, और संरचना डेटा प्रकारों का उपयोग रिकार्ड और द्वितीय-क्रम संरचनाओं को संग्रहीत करने के लिए किया जा सकता है। पर्ल प्रोग्रामिंग भाषा क्या है 

पर्ल की विशेषताएं 

  • पर्ल एक व्याख्या की गई भाषा है, जिसका अर्थ है कि कोड को चलाने से पहले संकलित करने की आवश्यकता नहीं है। यह पर्ल को सीखने और उपयोग करने में आसान बनाता है।
  •  पर्ल एक क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म भाषा है, जिसका अर्थ है कि इसे किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलाया जा सकता है। यह पर्ल को एक बहुमुखी उपकरण बनाता है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के प्लेटफार्मों पर किया जा सकता है।
  • पर्ल एक पाठ-उन्मुख भाषा है, जिसका अर्थ है कि यह पाठ को संसाधित करने में विशेष रूप से अच्छी है। यह पर्ल को पाठ प्रसंस्करण के लिए एक लोकप्रिय विकल्प बनाता है।
  • पर्ल में नियमित अभिव्यक्तियों के साथ काम करने की शक्तिशाली क्षमता है। यह पर्ल को पाठ को संसाधित करने और डेटा को खोजने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण बनाता है।
  • पर्ल में ऑब्जेक्ट-ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की सुविधाएं हैं। यह पर्ल को बड़े और जटिल अनुप्रयोगों को विकसित करने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण बनाता है।

पर्ल एक लोकप्रिय प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जाता है। इसका उपयोग पाठ प्रसंस्करण, डेटा विश्लेषण, वेब विकास, सिस्टम प्रशासन, डेटाबेस प्रबंधन, वैज्ञानिक अनुसंधान, और कृत्रिम बुद्धिमत्ता में किया जाता है।

पर्ल में ऑब्जेक्ट-ओरिएंटेड प्रोग्रामिंग की सुविधाएं हैं।

पर्ल एक शक्तिशाली और बहुमुखी प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जा सकता है। यह उन प्रोग्रामरों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो पाठ प्रसंस्करण या डेटा विश्लेषण में रुचि रखते हैं।

पर्ल के फायदे

पर्ल एक शक्तिशाली और बहुमुखी प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जा सकता है।

  • पर्ल एक पाठ-उन्मुख भाषा है, जिसका अर्थ है कि यह पाठ को संसाधित करने में विशेष रूप से अच्छी है। इसमें नियमित अभिव्यक्तियों के साथ काम करने की शक्तिशाली क्षमता है, जो पाठ को संसाधित करने और डेटा को खोजने के लिए एक शक्तिशाली उपकरण है।
  •  पर्ल का उपयोग डेटा को संसाधित करने और विश्लेषण करने के लिए भी किया जा सकता है। इसमें डेटा को साफ करने, डेटा से पैटर्न खोजने, और डेटा का प्रतिनिधित्व करने के लिए शक्तिशाली सुविधाएँ हैं।
  • पर्ल एक क्रॉस-प्लेटफ़ॉर्म भाषा है, जिसका अर्थ है कि इसे किसी भी ऑपरेटिंग सिस्टम पर चलाया जा सकता है। यह पर्ल को एक बहुमुखी उपकरण बनाता है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के प्लेटफार्मों पर किया जा सकता है।
  • पर्ल एक व्याख्या की गई भाषा है, जिसका अर्थ है कि कोड को चलाने से पहले संकलित करने की आवश्यकता नहीं है। यह पर्ल को सीखने और उपयोग करने में आसान बनाता है।
  • पर्ल का एक बड़ा और सक्रिय समुदाय है जो सहायता और संसाधन प्रदान करता है। यह पर्ल प्रोग्रामर के लिए एक मूल्यवान संसाधन है।

कुल मिलाकर, पर्ल एक शक्तिशाली और बहुमुखी प्रोग्रामिंग भाषा है जिसका उपयोग विभिन्न प्रकार के कार्यों के लिए किया जा सकता है। यह उन प्रोग्रामरों के लिए एक अच्छा विकल्प है जो पाठ प्रसंस्करण या डेटा विश्लेषण में रुचि रखते हैं।

पर्ल के नुकसान

  • पर्ल में परिभाषाएं जटिल हो सकती हैं, जिससे उनका उपयोग करना मुश्किल हो सकता है।
  • पर्ल में कुछ सुरक्षा कमजोरियां हैं, जिन्हें ध्यान में रखना चाहिए।
  • पर्ल का प्रदर्शन अन्य प्रोग्रामिंग भाषाओं की तुलना में धीमा हो सकता है।

कुल मिलाकर, पर्ल एक शक्तिशाली और बहुमुखी प्रोग्रामिंग भाषा है, लेकिन इसके कुछ नुकसान भी हैं। इन नुकसानों को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है, खासकर जब आप पर्ल का उपयोग जटिल या महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों के लिए कर रहे हों।

RELATED ARTICLES
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular