Wednesday, May 29, 2024
HomeBloggingTCP/IP प्रोटोकॉल क्या है ?

TCP/IP प्रोटोकॉल क्या है ?

TCP/IP प्रोटोकॉल क्या है –नमस्कार दोस्तों आज में माही आपको बताने वाली हूँ कीTCP/IP प्रोटोकॉल क्या है | What is TCP/IP Protocol क्या है?  क्या आप लोग जानते है इस टॉपिक के बारे में यदि नहीं तो आप इस मेरे ब्लॉग पोस्ट के जरिये जान जायेगे।

क्या आप  जानते  है TCP/IP प्रोटोकॉल क्या है (What is TCP/IP Protocol in Hindi), टीसीपी/आईपी में कितनी लेयर होती है, TCP/IP कैसे काम करता है और TCP/IP की विशेषताएं क्या है

क्या आप जानते है, जब भी आप इंटरनेट से जोड़ते  हैं, तो आप कुछ सरस चरणों में राउटर और कंप्यूटर के बीच एक कनेक्शन स्थापित करते है, चाहे आप वायर्ड या वायरलेस कोई भी तकनीक का उपयोग करे ।

इसके लिए आपको और कुछ भी जरूरत  नहीं है क्योंकि आपके कंप्यूटर सिस्टम अपने आप ही यह सब कार्य पूरा कर लेता है ।

लेकिन यह सब टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉज के बजे से ही संभव हो पाता है ।

चलिए शुरू करते है ।

TCP/IP प्रोटोकॉल क्या है (What is TCP/IP Protocol in Hindi) ?

TCP/IP प्रोटोकॉल क्या है –TCP/IP का पूरा नाम Transmission Control Protocol/ Internet Protocol है । यह बड़े नेटवर्क के लिए डिजाइन किया गया है जिसमें नेटवर्क सेगमेंट होते हैं जो राउटर से जुड़े होते है ।

टीसीपी/ आईपी एक डेटा लिंक प्रोटोकॉल है जिसका उपयोग इंटरनेट पर कंप्यूटर और अन्य उपकरणों को डेटा भेजने और प्राप्त करने के लिए किया जाता है ।

टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉल होस्ट, नेटवर्क और इंटरनेट को आपस में जोड़ता  है । इसे दुनिया भर में इंटरनेट और नेटवर्क के लिए इंजन के रूप में देखाया  जाता है ।

इसको डिजाइनिंग का मुख्य लक्ष्य नेटवर्क का एक इंटरकनेक्शन बनाना है, जिसे इंटरनेटवर्क या इंटरनेट कहा जाता है, जो विशम फिजिकल नेटवर्क पर सार्वभौमिक संचार सेवांए प्रदान करता है ।

टीसीपी दोनों दिशाओं में सुचना के प्रसारण की अनुमति देता है यानी एक ही समय में डेटा भेजना और प्राप्त कर सकता है ।




TCP/IP में कितने लेयर होते है ?

अधिकांश नेटवर्किंग सॉफटवेयर की तरहए को लेयरों में तैयार किया जाता है । TCP/IP मॉडल में चार लेयर होते हैं :-

  • Application Layer
  • Transport Layer
  • Internet Layer
  • Network Interface Layer

TCP/IP कैसे काम करता है (How TCP/IP Works) ?

जब भी कोई इंटरनेट पर कुछ डेटा भेजता है तो टीसीपी/आईपी प्रोटोकॉल उस डेटा को चार लेयर प्रक्रिया के अनुसार पैकेट में विभाजित करता है ।

डेटा पहले इन चारों लेयरों के माध्यम से एक क्रम में जाता है, और फिर रिवर्स ऑर्डर में डेटा प्राप्त करने वाले के पास फिर से साथ करता है ।

टीसीपी प्रोटोकॉल निचे दिए गए प्रक्रिया से वास्तविक संबंध स्थापित करता है :-

स्टेप-1 : सबसे पहले, अनुरोध करने वाला क्लाइंट सर्वर को एक अद्वितीय, रेनडोम संख्या के साथ एक सिंक्रनाइज पैकेट या खंड भेजता है । यह संख्या सही क्रम में पूर्ण प्रसारण सुनिचित करती है ।

स्टेप-2 : यदि सर्वर को सेगमेंट प्राप्त होता है, तो यह क्लाइंट के क्रम संख्या में एक जोड़कर एक सिंक्रनाइज पैकेट लौटाकर कनेक्शन के लिए सहमत होता है । यह साथ में क्लाइंट को अपना स्वंय का क्रमांक भी प्रेषित करता है ।

स्टेप-3 : अंत में, ग्राहक अपने स्वंय के पैकेट भेजकर सेगमेंट की प्राप्ति को स्वीकार करता है, जिसमें सर्वर का क्रम संख्या के साथ और 1 जोडा होता है ।

 

यहा तक यह पोस्ट फिनिश होता हे ऐसे ही और जानकारी जानने के लिए सबसे पहले  jugadme in  को सुब्स्कीर करे जिससे में माहि  आपके  लिए  कोई  नया ब्लॉग पोस्ट बनाओ और आप तक पहुंच सके धन्यवाद

 

 

RELATED ARTICLES
5 3 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular