Wednesday, July 24, 2024
HomeEventअम्बेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है

अम्बेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है





अम्बेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है – आंबेडकर जयंती भारत में हर साल 14 अप्रैल को मनाया जाता है। यह दिन भारत के अंतर्राष्ट्रीय न्यायवादी और संविधान निर्माता डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती होती है। यह दिन देशभर में उत्साह से मनाया जाता है और संविधान और आंबेडकर जी के विचारों को याद करने का एक उत्कृष्ट अवसर होता है।

डॉ. आंबेडकर भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के समय जाति व्यवस्था और दलितों के अधिकारों के लिए लड़ने वाले एक महान नेता थे। उन्होंने संविधान निर्माण में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। उनके संविधान निर्माण से भारत दुनिया का सबसे बड़ा लोकतंत्र बना। इसलिए, उनकी जयंती को “जनता के संविधान निर्माता” के रूप में माना जाता है।

आंबेडकर जयंती के दिन भारत भर में समारोह आयोजित किए जाते हैं जहाँ लोग उनके जीवन और उनके विचारों को याद करते हैं। स्कूल, कॉलेज और सरकारी दफ्तरों में भी इस अवसर पर संबोधन दिया जाता है

अंबेडकर जयंती कैसे मनाई जाती है?

भारत में अंबेडकर जयंती का उत्सव बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। यह दिन भारत के अनेक हिस्सों में लोगों द्वारा मनाया जाता है और विभिन्न समारोह होते हैं।

यहां कुछ तरीके बताए जाते हैं जिनसे अंबेडकर जयंती मनाई जाती है:

  • सेमिनार: सेमिनार आयोजित किए जाते हैं जिसमें भारतीय संविधान, डॉ. अंबेडकर के विचार, उनके लेख और उनके जीवन को विस्तार से विवेचित किया जाता है।
  • भव्य समारोह: भव्य समारोह आयोजित किए जाते हैं जिसमें लोग विभिन्न प्रकार के नाटक, कविता पाठ, गीत और अन्य कार्यक्रमों के माध्यम से अंबेडकर जी को याद करते हैं।
  • पुस्तकालय दान: लोग अपनी मानसिक संतुष्टि के लिए अपनी पुस्तकों का दान करते हैं जो डॉ. अंबेडकर जी ने लिखी हैं या उनके विचारों को विस्तार से विवरण देती हैं।
  • प्रदर्शन: कुछ लोग प्रदर्शन करते हैं जिसमें वे अपने अधिकारों के लिए लड़ते हैं जैसे कि शिक्षा

अंबेडकर जयंती कितने देशों में मनाई जाती है?

अम्बेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है –  अंबेडकर जयंती दुनिया भर में कई देशों में मनाई जाती है। डॉ. भीमराव अंबेडकर एक महान समाज सुधारक थे जिन्होंने भारत के संविधान का निर्माण किया और उनके सोच ने दुनिया के अनेक लोगों को प्रभावित किया है। निम्नलिखित देशों में अंबेडकर जयंती मनाई जाती है:

  • भारत
  • नेपाल
  • संयुक्त राज्य अमेरिका
  • यूनाइटेड किंगडम
  • कनाडा
  • जर्मनी
  • ऑस्ट्रेलिया
  • मलेशिया
  • दक्षिण अफ्रीका
  • फ्रांस
  • इटली
  • सिंगापुर

इन देशों में अंबेडकर जयंती के अवसर पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं जिनमें उनके विचारों और जीवन पर चर्चा की जाती है।

अंबेडकर की पुण्यतिथि कब मनाई जाती है?

डॉ. भीमराव अंबेडकर की पुण्यतिथि हर साल 14 अप्रैल को मनाई जाती है। यह भारत में राष्ट्रीय अवकाश है और यह दिन उनके जीवन और कार्य को याद करने के लिए समर्पित होता है। अंबेडकर जीवनभर समाज सुधार और भारत के संविधान निर्माण के लिए समर्पित रहे और उनके विचारों और आंदोलनों ने भारत की सामाजिक और राजनीतिक व्यवस्था को बदला। अंबेडकर की पुण्यतिथि को विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है, जैसे कि उनके जीवन, कार्य, विचार और आंदोलनों पर विशेष विचार विमर्श किए जाते हैं।

आंबेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है

अंबेडकर जयंती भारत में तब मनाई जाती है, जब हम डॉ. भीमराव अंबेडकर के जीवन और कार्य को याद करते हैं। डॉ. अंबेडकर एक महान समाज सुधारक थे जो भारत के संविधान के निर्माण के लिए संविधान सभा के अध्यक्ष थे। उनके जीवन और उनके कार्यों ने समाज, आर्थिक, राजनीतिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों में बहुत से बदलावों को शुरू किया है।

अंबेडकर की जयंती को इसलिए मनाया जाता है क्योंकि यह दिन लोगों को याद दिलाता है कि उनकी सोच और उनके कार्य ने भारत में समाज, राजनीति, आर्थिक और सांस्कृतिक क्षेत्रों में बहुत से बदलाव लाए हैं। उनकी जयंती को मनाकर हम उनके विचारों को समझते हैं और उनके साथ इस देश के निर्माण में शामिल होते हैं।

आंबेडकर जयंती का इतिहास

डॉ. भीमराव अंबेडकर की जयंती का इतिहास बहुत पुराना है। भारत के अनेक राज्यों में अंबेडकर जयंती को हर साल मनाया जाता है। यह भारत के संविधान निर्माता, समाज सुधारक, विद्वान, राजनीतिज्ञ, न्यायाधीश और शिक्षक डॉ. भीमराव अंबेडकर को याद करने के लिए मनाया जाता है।

अंबेडकर जयंती का शुरुआती इतिहास 14 अप्रैल 1891 को उनके जन्मदिन पर भारत भर में उनके समर्थकों द्वारा मनाए जाने वाले ‘अंबेडकर जयंती’ से है। इस दिन उनके जन्मदिन को याद करके उनके विचारों को समझाया जाता है और उनकी महानता को याद दिलाया जाता है।

बाद में, भारत सरकार ने भी अंबेडकर जयंती को मनाने के लिए अपनी ओर से समर्थन दिया और 1990 में भारत सरकार द्वारा अंबेडकर जयंती को अधिकारिक रूप से मनाने का निर्णय लिया गया। इस दिन को भारत के राष्ट्रीय अवकाश के रूप में घोषित किया गया है।

FAQs

आंबेडकर जयंती कब मनाई जाती है?
आंबेडकर जयंती 14 अप्रैल को मनाई जाती है।

आंबेडकर जयंती क्यों मनाई जाती है?
आंबेडकर जयंती डॉ. भीमराव अंबेडकर को याद करने के लिए मनाई जाती है। उन्होंने भारत के संविधान को लिखा था और उनका समाज सुधार करने का संघर्ष हमारे देश को अनेक तरीकों से सकारात्मक रूप से प्रभावित कर गया था।

आंबेडकर जयंती कितने देशों में मनाई जाती है?
आंबेडकर जयंती भारत व साथ ही कुछ अन्य देशों में भी मनाई जाती है, जैसे नेपाल, यूनाइटेड स्टेट्स, कनाडा, यूनाइटेड किंगडम, मलेशिया, जर्मनी और साउथ अफ्रीका आदि।

आंबेडकर जयंती कैसे मनाई जाती है?
आंबेडकर जयंती को विभिन्न तरीकों से मनाया जाता है। इस दिन उनके जीवन और उनके काम का सम्मान किया जाता है और उनकी महानता को याद दिलाया जाता है। इस दिन लोग उनकी पुस्तकें पढ़ते हैं, उनके जीवन के महत्वपूर्ण घटनाओं को समझते हैं



 

RELATED ARTICLES
4.8 6 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular