Sunday, February 25, 2024
Homeजानकारियाँएटीएम का फुल फॉर्म क्या है? - ATM Full Form In Hindi

एटीएम का फुल फॉर्म क्या है? – ATM Full Form In Hindi

एटीएम का फुल फॉर्म क्या है?- आज के समय में हर किसी के पास एटीएम होता है और एटीएम का इस्तेमाल भी करता है पर क्या आप लोग जानते है की एटीएम की फुलफॉर्म क्या है कई लोगो को नहीं पता यदि आप जानना चाहते है तो आप इस पोस्ट को जरूर पढ़े और साथ ही मेने आपको बताया है की कैसे आप एटीएम से पैसे निकल सकते है

कई बार कई लोगो को एटीएम का इस्तेमाल करने नहीं आता है और उसमे से आप भी उन्ही में से है तो आप को सीखना होगा कैसे एटीएम का इस्तेमाल करे , एटीएम से पैसे कैसे निकले आदि की जानकारी आपको दी है तो आइए जानते है

ATM का फुल फॉर्म क्या है

ATM का पूरा नाम Automated Teller Machine है।

एटीएम का हिंदी नाम

एटीएम का हिंदी नाम  (ऑटोमेटिक टेलर मशीन) जिसे हिंदी में स्वचालित मुद्रा वितरण यंत्र कहा जाता है 

ATM का दूसरा नाम क्या है?

ATM का दूसरा नाम एटीएम मशीन होता है। “ATM” शब्द का उपयोग अक्सर इस मशीन को उपयोग करने वालों द्वारा किया जाता है।

एटीएम (ATM) क्या है

एटीएम (ATM) एक इलेक्ट्रॉनिक मशीन होती है जो Bank customers को नकद निकासी की Services प्रदान करती है। यह एक स्वतंत्र और स्वायत्तता पूर्ण मशीन होती है जो नकद निकासी के लिए Bank जाने की जरूरत नहीं होती है। एटीएम मशीन का उपयोग Bank ग्राहक अपने Bank खाते से नकद निकालने के लिए करते हैं।

  • नकद निकासी की Services
  • अपने खाते की जानकारी का पता लगाना
  • नवीनतम खाता शेष शेषता और लेन-देन का जानकारी प्राप्त करना
  • Bank द्वारा प्रदान की जाने वाली अन्य Servicesओं का उपयोग करना

एटीएम मशीन एक स्वचालित मशीन होती है जो Bank के साथ इंटरनेट कनेक्शन के माध्यम से संचार करती है। customers को अपने Bank खाते से जुड़े एटीएम कार्ड और पिन की जरूरत होती है जो वे मशीन में डालते हैं और नकद निकासी की राशि निकाल सकते हैं।

ATM का प्रमुख कार्य क्या है?

ATM का प्रमुख कार्य Bank customers को स्वतंत्र रूप से नकद निकासी करने की Services प्रदान करना होता है। इसके अलावा, एटीएम मशीन Bank customers को अपने Bank खाते की जानकारी जैसे शेष राशि, खाते का स्थिति और अंतिम लेनदेन की सुचना भी प्रदान करती है। इसके अलावा, एटीएम मशीन द्वारा Bank customers को अन्य सेवाओं जैसे शेष शेषता की जानकारी, चेक बुक अभी तक जारी नहीं किया गया हो, चेक इन आदि की Services भी दी जाती है।

एटीएम के कार्य क्या हैं?

एटीएम का काम होता है Bank customers को स्वतंत्र रूप से नकद निकासी करने की Services प्रदान करना। एटीएम मशीन द्वारा Bank customers को उनके Bank खातों से पैसे निकालने की अनुमति होती है, जो अक्सर कुछ सेकंडों में संपूर्ण होता है।

इसके अलावा, एटीएम मशीन Bank customers को अपने Bank खाते की जानकारी जैसे शेष राशि, खाते का स्थिति और अंतिम लेनदेन की सुचना भी प्रदान करती है। इसके अलावा, एटीएम मशीन द्वारा Bank customers को अन्य सेवाओं जैसे शेष शेषता की जानकारी, चेक बुक अभी तक जारी नहीं किया गया हो, चेक इन आदि की Services भी दी जाती है।

एटीएम की मुख्य विशेषताएं

  • convenientता: एटीएम मशीन Bank customers को convenientता प्रदान करता है, क्योंकि वे नकद निकासी के लिए Bank जाने की जरूरत नहीं होती।
  • 24×7 उपलब्धता: एटीएम मशीन 24×7 उपलब्ध होती है, जिससे Bank customers को कभी भी नकद निकासी के लिए जाने की जरूरत नहीं होती है।
  • सुरक्षा: एटीएम मशीन Bank customers के लिए सुरक्षित होती है, क्योंकि उन्हें एटीएम कार्ड और एटीएम पिन की जरूरत होती है।
  • स्वतंत्रता: एटीएम मशीन Bank customers को स्वतंत्रता प्रदान करती है, क्योंकि वे अपने नकद निकासी की राशि को अपनी पसंद के अनुसार निकाल सकते हैं।
  • अन्य सेवाएं: एटीएम मशीन Bank customers को अन्य सेवाएं भी प्रदान करती है, जैसे Bank खाते का स्थिति और अंतिम लेनदेन की सुचना और शेष शेषता की जानकारी आदि।

एटीएम का आविष्कार किसने किया

 2 सितंबर को जिसने दुनिया के Banking क्षेत्र में क्रांति लायी थी 2 सितंबर 1969 को ही एटीएम पहली बार दुनिया के सामने पेश किया गया और Automated Teller Machine (ATM) को पहली बार संयुक्त राष्ट्र अमेरिका की वित्तीय राजधानी न्यूयॉर्क (Who invented ATM) में आम जनता के लिए पेश किया गया था. और एटीएम मशीन की स्थापना सबसे पहले केमिकल Bank (Chemical Bank) ने न्यूयॉर्क में की गई थी. Bank ने इस मशीन को लॉन्च करने से पहले इसका विज्ञापन दिया था, ‘हमारा Bank 2 सितंबर को सुबह 9:00 बजे से खुलेगा और कभी बंद नहीं होगा’.

ATM के अन्य फुल फॉर्म्स

  • Asynchronous Transfer Mode
  • Automated Ticketing Machine
  • Adobe Type Manager
  • Air Traffic Management
  • Association of Teachers of Mathematics
  • At The Moment
  • Against The Mainstream
  • Across The Miles

ATM के Parts क्या हैं?

एटीएम के निम्नलिखित मुख्य भाग होते हैं:

  • Card Reader– एटीएम कार्ड को पढ़ने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • Screen – ग्राहक को ट्रांजैक्शन विवरण प्रदान करता है।
  • Keypad – ग्राहक को एटीएम से संबंधित विभिन्न विकल्पों का चयन करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • Cash dispenser– एटीएम से नकदी निकालने और जमा करने के लिए उपयोग किया जाता है।
  • Speaker– आवाज संचार के लिए उपयोग किया जाता है, जैसे ग्राहक के अनुरोधों की पुष्टि और अन्य सूचनाएं।

ATM के प्रकार

Online ATM

ऑनलाइन एटीएम एक विकल्प है जो customers को अपने खाते से घर बैठे ही नकदी निकालने की Services प्रदान करता है। इसके लिए ग्राहक को एटीएम कार्ड की आवश्यकता नहीं होती है। इस विकल्प का उपयोग करने के लिए ग्राहक को अपने Bank खाते के लिए नेट Banking या मोबाइल Banking सेवाएं रजिस्टर करने की आवश्यकता होती है। फिर वे अपने Bank खाते से नकदी निकाल सकते हैं जो कि उनके Bank खाते से कटौती के रूप में निकाली जाती है। इसके अलावा, ऑनलाइन एटीएम उपयोगकर्ताओं को Bank खाते से नकदी जमा करने की भी Services प्रदान करता है।

Offline ATM 

ऑफलाइन एटीएम एक विकल्प है जो customers को अपने खाते से नकदी निकालने की Services प्रदान करता है लेकिन इसके लिए इंटरनेट की आवश्यकता नहीं होती है। यह एटीएम मशीन नेटवर्क से अलग होता है और अपनी तरह से काम करता है। ग्राहक अपने एटीएम कार्ड का उपयोग करके नकदी निकाल सकते हैं जो कि उनके Bank खाते से कटौती के रूप में निकाली जाती है।

On Site ATM

ऑन-साइट एटीएम एक विकल्प है जो कंपनियों और संगठनों द्वारा प्रदान किया जाता है। इस तरह के एटीएम उन लोगों के लिए उपलब्ध होते हैं जो कंपनी या संगठन के स्थान पर होते हैं और जो उनके वेतन या भुगतान को नकद में प्राप्त करना चाहते हैं। इन एटीएम का उपयोग करने के लिए लोगों को एटीएम कार्ड द्वारा उनके Bank खाते से नकदी निकालने की Services मिलती है।

Off Site ATM

ऑफ-साइट एटीएम एक विकल्प है जो सार्वजनिक स्थानों पर प्रदान किया जाता है, जैसे अधिकांश Banks के एटीएम जो सड़कों, शॉपिंग मॉलों, सिनेमा हॉल आदि में स्थापित किए जाते हैं। ये एटीएम सार्वजनिक स्थानों में आमतौर पर Banks या financial institutionओं द्वारा निर्मित किए जाते हैं।

ऑफ-साइट एटीएम के माध्यम से लोग अपने Bank खाते से पैसे निकाल सकते हैं और अपनी निजी या व्यापारिक आवश्यकताओं को पूरा कर सकते हैं। इन एटीएम का उपयोग करने के लिए लोगों को एटीएम कार्ड की आवश्यकता होती है जो उनके Bank खाते से जुड़ा होता है।

White Label ATM

वाइट लेबल एटीएम एक ऐसा एटीएम होता है जो एक financial institution या Bank द्वारा निर्मित किए जाते हैं और फिर उन्हें अन्य financial institutionओं या occupations को अपने ब्रांड नाम के तहत उपयोग करने की अनुमति दी जाती है।

वाइट लेबल एटीएम विभिन्न financial institutionओं द्वारा निर्मित किए जाते हैं जो उनकी खुद की इंफ्रास्ट्रक्चर नहीं होती है, जैसे कि छोटे Bank या financial institutionएं। इन एटीएम को उन Banks या संस्थाओं के तहत चलाया जाता है

Yellow Label ATM

“Yellow Label ATM” एक ऐसा ATM होता है, जिसे Bank द्वारा निर्मित किया जाता है लेकिन इसका उपयोग किसी अन्य Bank या financial institution द्वारा किया जाता है। इसे भी व्हाइट लेबल ATM कहा जाता है, क्योंकि यह भी अन्य Banks या संस्थाओं द्वारा उनके ब्रांड नाम के तहत उपयोग किया जाता है।

Brown Label ATM

“Brown Label ATM” एक ऐसा ATM होता है, जो न केवल Bank द्वारा निर्मित नहीं होता है, बल्कि इसे तैयार करने के लिए एक तृतीय-पक्ष के साथ संबद्ध किया जाता है। इसे भी अनbranded ATM के नाम से जाना जाता है। ब्राउन लेबल ATM की खासियत यह होती है कि इसको किसी अन्य financial institution द्वारा इस्तेमाल किया जा सकता है।

Orange Label ATM

“Orange Label ATM” एक प्रकार का ATM होता है, जो किसी अन्य Bank या financial institution के तहत operated किया जाता है। यह एक branded ATM होता है जो कि एक Bank या financial institution द्वारा managed होता है।

Orange Label ATM दूसरे Banks के मुख्य branches, important institutions और occupations में स्थापित होते हैं ताकि वहां customers को अपनी financial Services उपलब्ध कराने का मौका मिल सके। इस प्रकार के ATM में अक्सर Banks की खुद की डाटा केंद्र या आवासीय संस्थाएं होती हैं जिनसे इस ATM की Servicesओं का लाभ उठाया जा सकता है।

Pink Label ATM

“Pink Label एटीएम” एक विशेष प्रकार का एटीएम है जो खासकर महिलाओं के लिए डिज़ाइन किया गया है। ये एटीएम खासकर उन customers के लिए हैं जो घर से दूर विभिन्न समस्याओं का सामना करते हुए Banking की Services लेना चाहते हैं।

Pink Label एटीएम की खासियत है कि ये महिला customers के लिए सुरक्षित और convenient होते हैं। ये एटीएम बिना किसी शुल्क के अतिरिक्त Services भी प्रदान करते हैं

Green Label ATM

“Green Label ATM” एक प्रकार का एटीएम है जो केवल विशेष उद्योगों और किसानों के लिए होता है। इसका उद्देश्य अपनी व्यवस्थाएं ग्रामीण क्षेत्रों तक पहुंचाना है जो Bank branches या ऑटोमेटेड Banking मशीनों (एटीएम) की कमी से पीड़ित होते हैं। यह उन ग्रामीण क्षेत्रों में Bank branches की अभावता को कम करने के लिए अत्यंत उपयोगी है जो विभिन्न विकास योजनाओं में शामिल हैं।

ATM के बारे में रोचक तथ्य

  • ATM का आविष्कारक जॉन शेफर्ड बैरोन किया जॉन शेफर्ड बैरोन ने एटीएम के लिए 6 अंकों का पिन नंबर रखने के बारे में सोचा, लेकिन उनकी पत्नी के लिए 6 अंकों का पिन याद रखना आसान नहीं था, जिस कारण उन्होंने 4 अंकों का एटीएम पिन नंबर तैयार करने का फैसला किया।
  • सबसे पहला एटीएम सैटेलाइट शहर पोर्टलैंड में लगाया गया था। एटीएम की पहली व्यवस्था अमेरिका में 1969 में लगाई गई थी। एटीएम ट्रांजैक्शन को पूरा करने के लिए सामान्य रूप से 30 सेकंड से कम समय लगता है।
  • एटीएम का उपयोग पहले सिर्फ पैसे निकालने के लिए किया जाता था, लेकिन अब एटीएम से Banking विवरण, चेक काटने, शुल्क जमा करने, मोबाइल फोन रीचार्ज आदि भी किया जा सकता है।
  • एक बार में एटीएम मशीन से एक से अधिक अकाउंट में फंड्स ट्रांसफर नहीं किए जा सकते हैं। सबसे अधिक एटीएम मशीनों वाला देश भारत है जो लगभग 2 लाख से अधिक एटीएम मशीनों के साथ आता है।

एटीएम का इस्तेमाल कैसे करे

एटीएम का इस्तेमाल करना बहुत आसान होता है। निम्नलिखित चरणों का पालन करके आप अपने एटीएम कार्ड का उपयोग कर सकते हैं:

  • अपने एटीएम कार्ड और पिन के साथ नजदीकी एटीएम मशीन पर जाएँ।
  • एटीएम मशीन पर अपने कार्ड को डालें।
  • अपना पिन नंबर दर्ज करें।
  • स्क्रीन पर आपके द्वारा चयनित भाषा का चयन करें।
  • अपने Bank खाते से निकासी की राशि के लिए विकल्प चुनें।
  • यदि आप प्रिंट करना चाहते हैं, तो रसीद प्राप्त करने के लिए विकल्प चुनें।
  • अपना कार्ड निकालें।

यदि आपको किसी अन्य सहायता की जरूरत होती है, तो एटीएम मशीन पर दिए गए सहायता बटन पर क्लिक करें या Bank के ग्राहक सेवा केंद्र में सहायता के लिए अनुरोध करें।

एटीएम से पैसे कैसे निकाले

  • अपने Bank के एटीएम कार्ड को एटीएम मशीन में डालें।
  • Pin Code दर्ज करें। अधिकांश मशीनों में एक 4-6 अंकों का Pin Code आवश्यक होता है।
  • पैसे की राशि दर्ज करें जो आप निकालना चाहते हैं।
  • अपने खाते के शेष राशि की जाँच करें। यदि आपके पास पर्याप्त धनराशि है तो आप जारी करें।
  • एटीएम से निकाले गए पैसे और आपके Bank खाते की जानकारी पर ध्यान रखें।
  • नकद निकालने के बाद अपने Bank खाते का संतुलन जाँचें और मशीन से बाहर निकलें।

यदि आपके द्वारा निकाली गई राशि के साथ कोई समस्या होती है, तो आप अपने Bank को Contact कर सकते हैं।



निष्कर्ष

यह तक दोस्तों आपने सीखा की एटीएम का फुल फॉर्म क्या है? उम्मीद है आपको मेरा बताया गया तरीका अच्छा लगा होगा यदि आप ऐसे ही और हिंदी ब्लॉग पढ़ना चाहते हैं तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पर आये है में अपने ऑडियंस को हिंदी में और फ्री में जानकारी देती हूँ यदि आप मेरी इस वेबसाइट के साथ ऐसे बने रहते है तो आपको टेक्नोलॉजी से जुड़े या अन्य जानकारिया ऐसे हिंदी हिंदी में जानने को मिलेगी इसके लिए आपको सबसे पहले JUGADME को सब्सक्राइब करना होगा जिससे आप तक मेरे बनाये गए पोस्ट आप तक आसानी से पहुंच जाये। और अपने रिश्तेदारों को जरूर शेयर करे। मुझे आपलोगो को सहयोग की अति आवश्यकता है।
धन्यवाद

यह भी पढ़े :-

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

RELATED ARTICLES
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular