Saturday, March 2, 2024
Homeजानकारियाँपीएचडी का फुल फॉर्म क्या है? PhD Full Form In Hindi

पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है? PhD Full Form In Hindi

पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है? PhD Full Form In Hindi- क्या आप पीएचडी (PhD) की तैयारी कर रहे है तो क्या आप जानते है पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है? यदि अपने सोच लिया की आपको पीएचडी करके अपना भविष्य बनाना तो उसके लिए आपको पीएचडी के बेसिक के समझना जरुरी है क्योकि पीएचडी एक ऐसा कोर्स होता है जोकि हमारे रूचि पर निर्भर करता है यदि आप जानना चाहते है पीएचडी (PhD) के बारे में तो आइए जानते है

पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है?

पीएचडी का फुल फॉर्म डॉक्टर ऑफ फिलॉसोफी (Doctor of Philosophy) होता है।

पीएचडी क्या है?

पीएचडी (PhD) एक उच्चतर शिक्षा डिग्री होती है जो universities द्वारा Provide की जाती है। यह एक अनुसंधान-प्रतिनिधि डिग्री होती है जिसमें छात्र का मुख्य उद्देश्य नवीनतम और मूल अनुसंधान करना होता है। यह डिग्री विभिन्न विषयों में Provide की जाती है, जिसमें विज्ञान , व्यवसाय, मानविकी, सामाजिक विज्ञान , कला और साहित्य शामिल होते हैं।

पीएचडी का फुल फॉर्म हिंदी में – Full form of PHD in Hindi

पीएचडी का पूरा नाम “डॉक्टर ऑफ फिलॉसोफी” है। PHD (Doctor of Philosophy) होता है। यह एक High Education का Level होता है जिसे उन Students को Provide किया जाता है जो अपने Study और Research Area में अधिक गहराई से जानना चाहते हैं। PHD कोर्स के अधिकांश हिस्सों में छात्रों को अपनी Independent Research करने दी जाती है, और वे अपने Research के लिए एक थीम चुनते हैं जो उनके Topics से Related होती है।

PHD कोर्स के लिए अपने चयनित विषय में एक study proposal देना होता है, जो छात्र के Research के विषय और लक्ष्य को स्पष्ट करता है। छात्रों को उनके अनुसंधान के लिए स्वतंत्र रूप से काम करने की स्वतंत्रता दी जाती है, और अपने अनुसंधान में स्वतंत्रता से काम करते हुए, वे अपने विषय में नई जानकारी का अनुभव प्राप्त करते हैं।

PhD के लिए क्या योग्यताएं होना आवश्यक है?

एक अच्छी Graduate या post graduate degree holder के रूप में एक विश्वविद्यालय से मास्टर्स डिग्री रखना आवश्यक हो सकता है। PhD के लिए रिसर्च रूचि आवश्यक होती है। आपको उस विषय में गहन रूप से रुचि होनी चाहिए जिसमें आप अपना PhD करना चाहते हैं। PhD के लिए रिसर्च रूचि आवश्यक होती है। आपको उस विषय में गहन रूप से रुचि होनी चाहिए जिसमें आप अपना PhD करना चाहते हैं। अपने रिसर्च के क्षेत्र के अनुसार, आपको एक या एक से अधिक भाषाओं का Knowledge होना आवश्यक हो सकता है। PhD के दौरान, आपको विभिन्न रिसर्च पेपर्स, थीसिस और अन्य लेखन संबंधी कामों को पूरा करने के लिए लेखन कौशल की आवश्यकता होती है। 



PhD करने के लिए कितनी फीस लगती है?

PhD करने के लिए फीस की राशि विभिन्न institutions और देशों में भिन्न होती है। भारत में university Grant कमीशन (UGC) द्वारा Accept institutes में फीस की औसत राशि लगभग 30,000 से 50,000 रुपये प्रति वर्ष होती है। यह फीस विषय और संस्थान के अनुसार भी भिन्न हो सकती है।

विदेश में, फीस की राशि देश और संस्थान के अनुसार भिन्न होती है। कुछ देशों में विदेशी छात्रों को अधिक फीस देनी पड़ती है। इसलिए, अपने विदेशी शिक्षा प्रदाता से फीस की जानकारी लेना अत्यधिक आवश्यक होता है।

पीएचडी करने के बाद कितनी सैलरी मिलती है?

पीएचडी करने के बाद सैलरी का मामला विशेषज्ञता क्षेत्र पर निर्भर करता है। यह आपकी क्षमता, अनुभव और काम के क्षेत्र पर भी निर्भर करता है। शोध के क्षेत्र में यदि आपका काम काफी अच्छा होता है तो आपकी सैलरी काफी अधिक होती है।

सैलरी की बात करते हुए, भारत में पीएचडी करने के बाद एक असिस्टेंट प्रोफेसर की शुरुआती सैलरी लगभग 6,00,000 से 12,00,000 रुपए प्रति साल सैलरी हो सकती हैं। इसके अलावा, graduate और Postgraduate के लिए भी फेलोशिप उपलब्ध होती है जो सैलरी के रूप में Provide की जाती है। सैलरी के अलावा, शोध पत्र लेखन और अन्य कामों के लिए आपको अतिरिक्त धन भी मिल सकता है।

पीएचडी में कौन-कौन से सब्जेक्ट होते हैं

पीएचडी कार्यक्रम विभिन्न विषयों में उपलब्ध होते हैं। किसी विशेष विषय में पीएचडी करने के लिए, आपको संबंधित विषय में स्नातक और स्नातकोत्तर की उपाधियों की आवश्यकता होती है। निम्नलिखित कुछ सामान्य विषय हैं जिनमें पीएचडी के कार्यक्रम उपलब्ध होते हैं:

  • विज्ञान
  • गणित
  • अंतरिक्ष विज्ञान
  • भौतिकी
  • रसायन विज्ञान
  • जीव विज्ञान
  • जीवाणु विज्ञान
  • जैव विज्ञान
  • सामाजिक विज्ञान
  • इतिहास
  • भूगोल
  • संगीत
  • कला
  • शिक्षाशास्त्र
  • व्यवसाय विज्ञान

यह विषय विशेषता देश और विश्वभर में भिन्न-भिन्न हो सकते हैं, जो विश्वविद्यालय या संस्थान द्वारा Provide की जाने वाली उपलब्धताओं पर निर्भर करता है। पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है?

पीएचडी कैसे करें?

अपने अध्ययन क्षेत्र में अधिक गहराई तक जानने के लिए, आपको उपयुक्त विषय चुनने की आवश्यकता होगी। इसके लिए अपने रुचि और अध्ययन के क्षेत्र को ध्यान में रखकर विषय चुनें। पीएचडी के लिए प्रवेश करने के लिए, आपको एक प्रवेश Exam देनी होगी और उसके लिए तैयारी करनी होगी। अपने चयनित विषय के अनुसार अध्ययन सामग्री ध्यान से पढ़ें और Exam के pattern को समझें। PhD Full Form In Hindi

1. 12वी कक्षा उत्तीर्ण करें

12वी कक्षा उत्तीर्ण करने के लिए आपको अपने चयनित बोर्ड के अनुसार निम्न पाठ्यक्रमों का अध्ययन करना होगा:

  • विज्ञान (Physics, Chemistry, Mathematics/Biology)
  • वाणिज्य (Accountancy, Business Studies, Economics)
  • कला (History, Geography, Political Science, Sociology, Psychology)

इनके अलावा आपके बोर्ड के अनुसार अन्य विषय भी हो सकते हैं। आपको उच्च माध्यमिक अध्ययन के दौरान ध्यान देने की आवश्यकता होगी कि आप नियमित रूप से पाठ्यक्रम के सभी अध्ययन सामग्री, नोट्स, और पिछले साल के पेपर्स का अध्ययन करते रहें। अधिकतम Knowledge प्राप्त करने के लिए, Continuous Practice और Study करते रहना आवश्यक होगा। इसके अलावा, आपको अपने अभियांत्रिकी, commercial अथवा कला के क्षेत्र में स्नातक डिग्री पाने के लिए आगे की शिक्षा हासिल करनी होगी। अच्छे तरीके से 12वी की पढ़ाई करें और आपको 12वी कक्षा न्यूनतम 70 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण करना है।

2. स्नातक उत्तीर्ण करें

12वी कक्षा उत्तीर्ण कर लेने के बाद आपको स्नातक में भी सम्बंधित विषय ही चुनना होगा. स्नातक आप 60 प्रतिशत अंकों के साथ उत्तीर्ण करने की कोशिश करें। आपको स्नातक (बैचलर) डिग्री प्राप्त करना आवश्यक होगा। इसलिए, आपको स्नातक की पढ़ाई करनी होगी।

स्नातक डिग्री के लिए आपको एक संबंधित विषय में एक स्तरीय कार्यक्रम पूरा करना होगा। इसके लिए आपको High Education institutes या कॉलेजों से अपने इच्छित विषय में एक संबंधित कोर्स चुनना होगा। आपको अपनी स्नातक पढ़ाई में लगातार मेहनत करनी होगी और अपने विषय में अच्छे अंक प्राप्त करने होंगे। पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है? PhD Full Form In Hindi

इसके अलावा, आपको स्नातक डिग्री प्राप्त करने के लिए एक अंतिम Exam देनी होगी। यह Exam आपके विषय के आधार पर होगी और इससे आपको स्नातक डिग्री प्राप्त होगी।

3. स्नातकोत्तर उत्तीर्ण करें

स्नातक करने के बाद आपको मास्टर डिग्री और स्नातकोत्तर उत्तीर्ण करना है. जिसमे न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक लाने होंगे क्योंकि PhD के लिए योग्यता 55 प्रतिशत रहती है। स्नातकोत्तर में आपको अच्छे से अध्ययन करना होगा

4. यूजीसी नेट Exam उत्तीर्ण करें

UGC NET Exam के लिए पात्रता मानदंडों की जाँच करें। आपको मानदंडों के अनुसार शिक्षण संस्थान से स्नातक या स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त होनी चाहिए। इसके अलावा आपको अध्ययन की विषय-सूची के अनुसार कुछ विशिष्ट अंक प्राप्त करने चाहिए। आपके यदि स्नातकोत्तर में न्यूनतम 55 प्रतिशत अंक हैं तो हीं आप यूजीसी नेट Exam के लिये आवेदन कर सकते हैं। यूजीसी नेट के लिए ऑनलाइन पंजीकरण करें। पंजीकरण फॉर्म भरने के लिए वेबसाइट पर जाएं और अपनी जानकारी भरें। आपको फीस जमा करनी होगी।

UGC NET की Exam के लिए अच्छी तैयारी करें। यूजीसी एक राष्ट्रीय पात्रता Exam है जिसे वर्ष में 2 बार आयोजित किया जाता है और PhD प्रवेश Exam के लिए इसे उत्तीर्ण करना अनिवार्य है. यूजीसी नेट Exam उत्तीर्ण करने के बाद ही आप PhD प्रवेश Exam में भाग ले सकते हैं.

5. PhD प्रवेश Exam उत्तीर्ण करें

यदि आप PhD करना चाहते हैं, तो आपको अपने चयनित क्षेत्र में प्रवेश Exam देनी होगी। इस Exam के लिए अनुदेशक द्वारा निर्धारित सिलेबस का पालन करना होगा। यह Exam आपकी योग्यता को मापती है और आपको एक विश्वविद्यालय में प्रवेश के लिए अर्हता देती है।

यह Exam आमतौर पर लिखित होती है और इसमें आपको अपने चयनित क्षेत्र से संबंधित सवालों का सामान्य Knowledge, Experience और logical Capacity का testing किया जाता है। Exam में आपको दो भागों में विभाजित प्रश्नों का सामना करना होगा। पहला भाग सामान्य विषयों से संबंधित होता है जबकि दूसरा भाग आपके चयनित विषय से संबंधित होता है।

पीएचडी की तैयारी कैसे करे?

यदि आपका real में सपना है की आप पीएचडी करने का तो उसके लिए आपको कड़ी मेहनत की आवश्यकता है कई बार कई लोग एंट्रेंस के नाम से पीछे हट जाते है में आपको यही सलाह दूंगी की आपको अपने सपनो को जरूर पूरा करे

11वी में पहुंचने से पहले तय करना है की आपको जिस विषय में रुचि हो उसी विषय से PhD करें और 11वी में भी वही विषय चुनकर आपको 11वी और 12वी करना है. इसके बाद स्नातक और स्नातकोत्तर में भी वही विषय लेकर पढ़ाई कर सकते है 11वी से लेकर स्नातकोत्तर पूरा करने में लगभग 8 से 9 साल का समय लग जाता है . इस पढ़ाई के बीच में आपको जब भी समय मिले तो आप उस बीच अपने विषय के बारे में और भी जानकारी लेने की कोशिश करे रें.और हो सके तो पिछले 3 से 4 वर्षों पूर्व के यूजीसी नेट Exam के प्रश्नपत्रों का जुगाड़ करें और उसी से पढ़ाई करें।

पीएचडी कब की जाती है?

एक Candidate को phD की उपाधि प्राप्त करने के लिए संशोधित शिक्षा और अनुसंधान के क्षेत्र में एक अध्ययन को पूरा करना होता है। इसके लिए universities और शोध institutes में पीएचडी प्रवेश के लिए विभिन्न प्रवेश प्रक्रियाएं होती हैं। इन प्रक्रियाओं में सेट ऑफ क्षेत्रों जैसे योग्यता, एंट्रेंस Exam, इंटरव्यू आदि का अध्ययन करके Candidate की चयन प्रक्रिया के माध्यम से निर्धारित किया जाता है। इसलिए, आप पीएचडी करने के लिए अपने इच्छित क्षेत्र में अध्ययन करना शुरू कर सकते हैं और फिर प्रवेश प्रक्रिया को पूरा करने के बाद अपनी उच्चतम शिक्षा लाभांश पूर्ण कर सकते हैं।

पीएचडी करने के फायदे

पीएचडी के दौरान, छात्र अपने शोध क्षेत्र में विशेषज्ञता प्राप्त करते हैं। इसे शोध Knowledge की खोज में Important योगदान दिया जाता है जो अधिक Important होता है commercial क्षेत्रों के लिए।

पीएचडी holders को अधिकतम स्तर के commercial और वै scientific development  की Permission होती है। उन्हें नवीनतम और high level की तकनीकी Knowledge का Provide किया जाता है, जिससे उन्हें अपने क्षेत्र में अधिक उच्चतम स्थान प्राप्त होता है।एक अन्य Important फायदा यह है कि पीएचडी करने से छात्र के कैरियर के विकास में सक्षमता और विस्तृत समझ आती है। यह अधिक जटिल पदों के लिए अधिक High Education Provide करता है

मुझे पीएचडी में एडमिशन कैसे मिल सकता है?

पीएचडी में एडमिशन प्रक्रिया विभिन्न universities द्वारा अलग-अलग होती है। आपको अपने university में Admissions Process और Rules के बारे में Information हासिल करनी होगी।

प्रत्येक university अलग-अलग Admission Process आयोजित करता है, लेकिन कुछ आम Step होते हैं जैसे प्रवेश Exam, Interview , theory Exam, अनुभव पत्र, सुझाव पत्र आदि।

आप अपनी Interest के Subject में पीएचडी करने के लिए अनुसंधान करें, उचित universities की वेबसाइट पर जाकर Admission Process और schedule के बारे में जानकारी हासिल करें। आपको एडमिशन प्रक्रिया के लिए आवेदन करना होगा, और उसके बाद आपको अनुसूचित प्रक्रियाओं के अनुसार जारी रखना होगा।

निष्कर्ष

यह तक दोस्तों आपने सीखा की पीएचडी का फुल फॉर्म क्या है? उम्मीद है आपको मेरा बताया गया तरीका अच्छा लगा होगा यदि आप ऐसे ही और हिंदी ब्लॉग पढ़ना चाहते हैं तो आप बिलकुल सही वेबसाइट पर आये है में अपने ऑडियंस को हिंदी में और फ्री में जानकारी देती हूँ यदि आप मेरी इस वेबसाइट के साथ ऐसे बने रहते है तो आपको टेक्नोलॉजी से जुड़े या अन्य जानकारिया ऐसे हिंदी हिंदी में जानने को मिलेगी इसके लिए आपको सबसे पहले JUGADME को सब्सक्राइब करना होगा जिससे आप तक मेरे बनाये गए पोस्ट आप तक आसानी से पहुंच जाये। और अपने रिश्तेदारों को जरूर शेयर करे। मुझे आपलोगो को सहयोग की अति आवश्यकता है।
धन्यवाद

यह भी पढ़े :-

 

RELATED ARTICLES
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular