Saturday, March 2, 2024
HomeComputer & TechnologyCache Memory क्या है इसके प्रकार और कैसे काम करता है (Cache...

Cache Memory क्या है इसके प्रकार और कैसे काम करता है (Cache Memory in Hindi)

Cache Memory क्या है –आइये दोस्तों आज हम बात करेंगे की  Cache Memory क्या है और ये इससे क्या होता है तो आज हम आपको को इस पोस्ट में इसकी जानकारी देंगे Cache Memory Kya Hai In Hindi:  जब बात की जाये कंप्यूटर की मेमोरी की तो अधिकतर लोगों को केवल हार्ड डिस्क, SSD, RAM, ROM आदि के बारे में ही पता होता है. लेकिन बहुत कम लोग ऐसे होते हैं जिन्हें Cache Memory के बारे में पता होता है.

अगर आप इंटरनेट पर इसे खोज रहे हैं कि Cache Memory क्या है तो आज के इस लेख में हम आपके सभी प्रशनो केउत्तर देने वाले हैं. इस पोस्ट के द्वारा  हम आपको बताएँगे कि Cache Memory क्या होती है, Cache Memory काम कैसे करती है, Cache Memory के प्रकार, Cache Memory के उपयोग तथा Cache Memory के फायदे और नुकसान क्या हैं.

Cache Memory क्या है (What is Cache Memory in Hindi)

Cache Memory क्या है –Cache Memory  computer की एक volatile मेमोरी होती है जो semiconductor से बनी होती है और CPU में लगी होती है. Cache Memory CPU के performance को Improve करती है जिससे कि computer या फ़ोन  की स्पीड बनी रहती है.

CPU में ही Embedded होने के कारण Cache Memory primary और सेकेंडरी मेमोरी की तुलना में बहुत Fast होती है, इसमें वही डेटा स्टोर होता है जिसकी CPU को बार – बार जरुरत पड़ती है. Cache Memory में डेटा अस्थाई रूप से स्टोर रहता है, और इसकी स्टोरेज क्षमता भी कम होती है.




Cache Memory कैसे काम करती है

Cache Memory की modus operandi को समझना बहुत ही आसान है. ये तो आप जानते ही होंगे हमार computer में जितने भी Applications या program को Run करते हैं वह सब हार्ड डिस्क में स्टोर रहता है.

  • CPU hard disk से डेटा सीधे फेच नहीं कर पाता है, क्योंकि hard disk बहुत Slow होती है, इसलिए डेटा primary मेमोरी RAM में लोड होता है. RAM hard disk से फ़ास्ट तो होता है लेकिन यह CPU के जितनी फ़ास्ट नहीं होती है.
  • RAM की डेटा transfer speed, डेटा access timeCPU की तुलना में Slow होता है. इसलिए जब CPU RAM से किसी program के लिए Request करता है तो RAM programको डिलीवर  करने में एक Fixed समय लेता है जिससे कि CPU कीperformance ख़राब होती है.

इसलिए यहाँ पर उपयोग  किया जाता है Cache Memory का. RAM मेमोरी address से डेटा या instructions का बैकअप Cache Memory में बना देती है. इसलिए CPU को जिस भी डेटा की जरुरत होती है उसे वह Cache Memory में चेक करता है.

अगर Cache Memory में डेटा मिल जाता है तो CPU डेटा को processing कर देता है और अगर डेटा नहीं मिलता है तो CPU को RAM के पास जाना पड़ता है. Cache Memory में वही डेटा स्टोर रहता है जिसे CPU को बार – बार जरुरत होती है.

इसलिए आपने भी देखा होगा की computer और phone  में जब आप बार – बार किसी program को Run करते हैं तो वह बहुत जल्दी लोड होता है, और किसी program  या Applications को आप कभी – कभी लोड करते हैं तो उसे लोड होने में कुछ समय लगता है.

 

तो दोस्तों अब आप समझ गए होंगे कि Cache Memory  क्या है और यह काम कैसे करती है, चलिए अब Cache Memory के प्रकार के बारे में भी जान लेते हैं.  

Cache Memory के प्रकार (Types of Cache Memory in Hindi)

Cache Memory के मुख्य रूप से तीन Level होते हैं –

  • Level 1 Cache Memory (स्तर 1 Cache Memory)
  • Level 2 Cache Memory (स्तर 2 Cache Memory)
  • Level 3 Cache Memory (स्तर 3 Cache Memory)

Level 1 कैश  मेमोरी (स्तर 1 Cache Memory)

Level 1 की cache memory बहुत फ़ास्ट होती है. यह मेमोरी CPU में ही लगी होती है और यह बहुत कम मात्रा में डेटा को स्टोर कर सकती है. Level 1cache memory का आकार 2KB से लेकर 64KB तक होता है. अधिकतर computer  में Level 1 cache memory CPU कैश  के रूप मेंआपने कार्य करती है, इसलिए इसे प्राइमरी Cache Memory कहते हैं.

CPU को जब किसी डेटा की जरुरत होती है तो वह पहले इसे Level1 Cache Memory में ही चेक करता है, यदि डेटा CPU को Level1 कैश  मेमोरी में मिल जाता है तो CPU बांकी के Level को चेक नहीं करता है और डेटा को प्रोसेस कर देता है.

Level 2 Cache Memory (स्तर 2 Cache Memory)

Level 2 की cache memory Level 1 की मुकाबले में बड़ी होती है, और यह L1 की मुकाबले में अधिक डेटा को स्टोर कर सकती है. L2 cacha mamory की storage Capacity 256 KB से लेकर  512 KB तक हो सकती है. लेकिन इसकी स्पीड L1 की mukable में कम होती है. CPU को जब कोई डेटा L1 में नहीं मिलता है तो वह उसे Level2 Cache में Check करता है, इसलिए L2 को सेकेंडरी कैश भी कहते हैं.

Level 3 Cache Memory (स्तर 3 Cache Memory)

तीसरे लेवल की Cache Memory Level1 और Level2 की तुलना में बड़ी होती है, लेकिन इसकी स्पीड पहले दोनों Level से कम होती है. L3 Cache Memory की storage capacity 8 MB तक हो सकती है.

इसका इस्तेमाल L1 और L2 की performance  को बढाने के लिए किया जाता है. Level 3 cache  memory CPU के बाहर भी हो सकती है. Level 3 cache memory सभी processor के लिए शामे  होती है.

cache memory के उपयोग (Uses of Cache Memory in Hindi)

cache  memory computer system की परफॉरमेंस  के लिए बहुत Important एक CPU का फ़ास्ट होना बहुत जरुरी होता है.cache memory एक Type से CPU की एफ्फिसैय  को इम्प्रूव  करती है. इसके apart from भी cache memory  के बहुत सारे उपयोग हैं जिनके बारे में हम आपको निचे बताने जा रहे है

  • Cache Memory  एक फ़ास्ट मेमोरी होती है जो system के स्पीड को बढ़ाती है.
  • cache memory उन सभी डेटा को स्टोर करके रखते हैं जिसकी CPU को फ्रेक्वेंटली  जरुरत पड़ती है.
  • cache mamory में डेटा टेम्पररी स्टोर रहता है, जो डेटा किसी काम का नहीं रह जाता है cache memory  उसे रेप्लस कर देती है.
  • cache memory CPU में ही मौजूद होती है, जिससे CPU को Instruction जल्दी प्राप्त हो जाते हैं, इसलिए यह एक फ़ास्ट एक्सेस की जाने वाले mamory है.

Important memory धीमे हो जाने के कारण CPU program एक्सेक्यूटिव  की गति को भी धीमा कर देता है, इसलिए cache memory काupyog किया जाता है ताकि प्रोसेस की स्पीड बनी रहे.  

Cache Memory के फायदे (Advantage of Cache Memory in Hindi)

Cache Memory के कुछ प्रमुख फायदे निम्नलिखित हैं –

  • cache memory Primary mamory और  secondary mamory की तुलना में बहुत फ़ास्ट होती है.
  • cache memory CPU के द्वारा बार – बार इस्तमाल किये जाने वाले डेटा को स्टोर करके रखती है, जिससे कि CPU की performance बेहतर होती है.
  • cache memory CPU में ही Embedded  होती है, इसलिए CPU इसे फ़ास्ट access कर पाता है.
  • cache memory में डेटा टेम्पररी रूप से स्टोर होता है. इसमें केवल वही डेटा स्टोर होता है जिसकी CPU को बार – बार जरुरत होती है.

Cache Memory के नुकसान (Disadvantage of Cache Memory in Hindi)

Cache Memory के कुछ नुकसान भी हैं, लेकिन इसके नुकसान फायदों की तुलना में ना के बराबर हैं. Cache Memory के कुछ नुकसान निम्न प्रकार से हैं –

  • Cache Memory की कीमत अन्य मेमोरी की तुलना में अधिक होती है.
  • जिस Device में cache memory बहुत कम होती है वे बहुत जल्दी हैंग होने लगते हैं.
  • पॉवर सप्लाई बंद हो जाने के बाद cache memory में स्टोर डेटा destroyed हो जाता है.

Cache Memory कहाँ स्थित होती है

आमतौर पर cache  mamory  computer  में CPU चिप में ही मौजूद होती है. चूँकि cache memory के अलग – अलग लेवल होते हैं, इसलिए उनकी स्थिति अलग – अलग computer में भिन्न – भिन्न हो सकती है. अधिकांश आधुनिक processor  में Level 1 और Level 2 cache memory processor  कोर का ही भाग होती है. लेकिन L3 cache  या  तो processor  में स्थित होती है या तो processor  से बाहर मदरबोर्ड में स्थित होती है.

RELATED ARTICLES
5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular