Wednesday, May 29, 2024
HomeजानकारियाँClass 12th History Chapter 7 एक साम्राज्य की राजधानी विजयनगर Notes In...

Class 12th History Chapter 7 एक साम्राज्य की राजधानी विजयनगर Notes In Hindi

Class 12th History Chapter 7 हेलो दोस्तों आज हम एक साम्राज्य की राजधानी विजयनगर  हम्पी एवं उनके शासक और शासन व्यवस्था इनके बारे में पड़ेंगे।

Textbook NCERT
Class Class 12
Subject HISTORY
Chapter Chapter 7
Chapter Name एक साम्राज्य की राजधानी विजयनगर
Category Class 12 History Notes in Hindi
Medium Hindi

 

Quick Links

विजयनगर साम्राज्य

स्थापना और स्थिति:

विजयनगर साम्राज्य को 1336 ई. में हक्का राया ने स्थापित किया था।

इसकी स्थापना का मुख्य उद्देश्य बहमनी सुलतानात के खिलफ उत्पन्न हिन्दू राज्यों की संरक्षण और समृद्धि थी।


स्थापक और शासक:

हक्का राया ने साम्राज्य की स्थापना की और उसके बाद इसे देवराय नामक शासक ने आगे बढ़ाया।

कृष्णदेव राय, विरूपाक्षा राय, बुखाराया, और देवराय दोनों ही विशेष रूप से महत्वपूर्ण शासक थे।

राजधानी हम्पी:

हम्पी विजयनगर साम्राज्य की प्रमुख राजधानी थी और यह स्थल आज कर्नाटक, भारत में स्थित है।

हम्पी एक सांस्कृतिक और वास्तुकला का केंद्र था जो विभिन्न धार्मिक और साहित्यिक गतिविधियों के लिए जाना जाता था।

राजा कृष्णदेव राय:

कृष्णदेव राय विजयनगर के एक प्रमुख शासक थे और उनके शासनकाल में साम्राज्य की सबसे अच्छी चरित्र ग्रंथ “अमुक्तमाल्यदा” रचा गया था।

विजयनगर का समृद्धि काल:

राजा कृष्णदेव राय के शासनकाल में विजयनगर साम्राज्य ने अपनी सबसे ऊँची स्थिति को हासिल किया और समृद्धि का काल था।

साहित्य, कला, संस्कृति, और विज्ञान में विकास हुआ और राजा कृष्णदेव राय को “कानारा श्रीपति” भी कहा जाता है।

हरियाण बुखारी का संग्रह:

Class 12th History Chapter 7 राजा बुखाराया ने भारतीय साहित्य के एक महत्वपूर्ण संग्रहकारक रूप में अपने दरबार में एक महत्वपूर्ण संग्रह का निर्माण किया था, जिसे हरियाण बुखारी कहा जाता है।

कर्नाटक सम्राज्य

जहाँ इतिहासकार विजयनगर साम्राज्य शब्द का प्रयोग करते थे वही समकालीन लोगो ने इसे कर्नाटक साम्राज्य की संज्ञा दी ।

Read more :- Class 12th History Chapter 2 राजा किसान और नगर Notes In Hindi

हम्पी का इतिहास

  • हम्पी खोज का उद्भव यहाँ की स्थानीय मातृदेवी पम्पा देवी के नाम पर हुआ था ।
  • हम्पी की खोज 1815 में भारत के पहले सर्वेयर जनरल कॉलिन मैकेंजी ने की थी ।
  • अलेक्जेंडर ग्रीनलाव ने 1856 में हम्पी की पहली विस्तृत फोटोग्राफी की , जो विद्वान के लिए काफी उपयोगी साबित हुई ।
  • 1876 में जेएफ फ्लीट , हम्पी में मंदिरों की दीवारों से शिलालेख का संकलन और प्रलेखन शुरू किया ।
  • जॉन मार्शल ने 1902 में हम्पी के संरक्षण की शुरुआत की ।
  • 1976 में , हम्पी को राष्ट्रीय महत्व के स्थल के रूप में घोषित किया गया था और 1986 में इसे विश्व धरोहर केंद्र घोषित किया गया था ।

हम्पी की खोज

  • हम्पी के खंडहरों को कर्नल कॉलिन मैकेंजी द्वारा 1800 ई० में प्रकाश में लाया गया था ।
  • शहर के इतिहास को फिर से बनाने के लिए , विरुपाक्ष मंदिर के पुजारी की यादों और पंपादेवी के मंदिर , कई शिलालेखों और मंदिरों , विदेशी यात्रियों के खातों और तेलुगु , कन्नड़ , तमिल और संस्कृत में लिखे गए अन्य साहित्य जैसे स्रोतों ने हम्पी की खोज में बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।

कर्नल कॉलिन मैकेंजी

  • जन्म = 1754 ई० में कर्नल कॉलिन मैकेंजी जन्म हुआ था ।
  • यह एक इतिहासकार , सर्वेक्षक , मानचित्र कार के रूप में अत्यधिक प्रसिद्ध थे ।
  • 1815 में उन्हें कर्नल कॉलिन मैकेंजी को भारत का पहला सर्वेयर जनरल बनाया गया था । 1821 तक अपनी मृत्यु तक के समय में वे इस पद पर बने रहे ।

हम्पी का शाही केंद्र

हम्पी का शाही केंद्र हम्पी की बस्ती के दक्षिण – पश्चिमी भाग में स्थित था ।

जिसमें 60 से अधिक मंदिर थे ।

तीस भवन परिसरों की पहचान महलों के रूप में की गई थी ।

राजा का महल बाड़ों में सबसे बड़ा था और इसके दो मंच थे । ‘ दर्शक हॉल ‘ और ‘ महानवमी डिब्बा ।

Class 12th History Chapter 7 शाही केंद्र में कुछ खूबसूरत इमारतें हैं कमल महल , हजारा राम मंदिर , आदि ।

महानवमी डिब्बा

  • शहर में उच्चतम बिंदुओं में से एक पर स्थित , ‘ महानवमी दिबा ‘ एक विशाल मंच है ।
  • जो लगभग 11 ,000 वर्ग फुट से 40 फीट की ऊँचाई तक बढ़ता है । विभिन्न समारोह यहाँ पर किये जाते थे ।

महानवमी

  • महानवमी का शब्दिक अर्थ 9 दिन तक चलने वाला पर्व आर्थात महान नवा दिवस है ।

नोट :- इस संरचना से जुड़े अनुष्ठान सितंबर और अक्टूबर के शरद मास में मनाए जाते हैं ।

वर्तमान में इसे 10 दिन के हिंदू त्यौहार जिसे दशहरा ओर  उत्तर भारत में दुर्गा पूजा तथा नवरात्रि या महनावमी नाम से जाना जाता है.

इस अवसर पर अनेक राजकीय कर्मकांड निष्पादित किये जाते थे । इस अवसर पर विजयनगर शासक अपने रुतवे , ताकत , प्रदर्शन तथा आदि राज्यो का प्रदर्शन करते ।

इस अवसर पर धर्मानुष्ठानिक में होने वाली मूर्ति की पूजा , राज्य के अश्व की पूजा तथा भैसे तथा अन्य जानवरों की बलि दी जाती थी ।

नृत्य , कुश्ती , प्रतिस्पर्धा तथा साज लगे घोड़ो हथियारो और अधीनस्थ राजाओ द्वारा उसके अतिथियों को दी जाने वाली औपचारिक भेटे इस अवसर के प्रमुख आकर्षण थे ।

इन उत्सवों के गहन सांकेतिक अर्थ थे । त्योहार के अंतिम दिन राजा अपनी तथा आपने नायको की सेना को खुले मैदान में नियोजित समाहरो में निरीक्षण करता था । इस अवसर पर नायक राजा के लिए बड़ी मात्रा में भेट तथा साथ ही नियतकर भी लाते थे ।

हम्पी के मंदिर

  • इस क्षेत्र में मंदिर निर्माण का एक लंबा इतिहास था । पल्लव , चालुक्य , होयसला , चोल , सभी शासकों ने मंदिर निर्माण को प्रोत्साहित किया । मंदिरों को धार्मिक , सामाजिक , सांस्कृतिक , आर्थिक और शिक्षा केंद्रों के रूप में विकसित किया गया था ।
  • विरुपाक्ष और पम्पादेवी की श्राइन बहुत महत्वपूर्ण पवित्र केंद्र हैं । विजयनगर के राजाओं ने भगवान विरुपाक्ष की ओर से शासन करने का दावा किया । उन्होंने ‘ हिंदू सूरताना ‘ ( अरबी शब्द सुल्तान का संस्कृतिकरण ) ‘ हिंदू सुल्तान ‘ शीर्षक का उपयोग करके अपने करीबी संबंधों का संकेत दिया ।
  • मंदिर की वास्तुकला के संदर्भ में , विजयनगर के शासकों द्वारा रायस ‘ गोपुरम ओर मंडप विकसित किए गए थे । कृष्णदेव राय ने विरुपाक्ष मंदिर में मुख्य मंदिर के सामने हॉल बनवाया और उन्होंने पूर्वी गोपरम का निर्माण भी कराया
  • मंदिर में हॉल का उपयोग संगीत , नृत्य , नाटक और देवताओं के विवाह के विशेष कार्यक्रमों के लिए किया जाता था । विजयनगर के शासकों ने विठ्ठला मंदिर की स्थापना की । विष्णु का एक रूप विट्ठल , आमतौर पर महाराष्ट्र में पूजा जाता था । कुछ सबसे शानदार गोपुरम स्थानीय नायक द्वारा बनाए गए थे ।

हम्पी : राष्ट्रीय महत्व के स्थल के रूप में

  • 1976 में , हम्पी को राष्ट्रीय महत्व के स्थल के रूप में मान्यता दी गई थी । लगभग बीस वर्षों में , दुनिया भर के दर्जनों विद्वानों ने विजयनगर के इतिहास के पुनर्निर्माण का काम किया ।
  • 1980 के दशक के शुरुआती सर्वेक्षण में , भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण द्वारा विभिन्न प्रकार की रिकॉर्डिंग तकनीकों का उपयोग किया गया था , जिसके कारण सड़कों , रास्तों , बाज़ारों आदि के निशान ठीक हो गए ।
  • जॉन एम फ्रिट्ज , जॉर्ज निकेल और एमएस नागराजा राव ने वर्षों तक काम किया और साइट का महत्वपूर्ण अवलोकन किया ।
  • यात्रियों द्वारा छोड़े गए विवरण हमें उस समय के जीवंत जीवन के कुछ पहलुओं को समेटने की अनुमति देते हैं ।

विजयनगर की भौगोलिक संरचना और वास्तुकला

  • विजयनगर एक विशिष्ट भौतिक लेआउट और निर्माण शैली की विशेषता थी ।
  • विजयनगर तुंगभद्रा नदी के प्राकृतिक बेसिन पर स्थित था जो उत्तर – पूर्व दिशा में बहती थी ।
  • चूंकि यह प्रायद्वीप के सबसे शुष्क क्षेत्रों में से एक है , इसलिए शहर के लिए बारिश के पानी को संग्रहित करने के लिए कई व्यवस्थाएं की गई थीं । उदाहरण के लिए , कमलापुरम टैंक और हिरिया नहर के पानी का उपयोग सिंचाई और संचार के लिए किया जाता था ।
  • फारस के एक राजदूत अब्दुर रज्जाक शहर के किलेबंदी से बहुत प्रभावित थे और उन्होंने किलों की सात पंक्तियों का उल्लेख किया था । इनसे घिरे शहर के साथ – साथ इसके कृषि क्षेत्र और वन भी हैं ।
  • गेटवे पर मेहराब को किलेबंद बस्ती में ले जाया गया और गेट पर गुंबद तुर्की सुल्तानों द्वारा पेश किए गए आर्किटेक्चर थे इसे इंडो – इस्लामिक शैली के रूप में जाना जाता था ।
  • आम लोगों के घरों में बहुत कम पुरातात्विक साक्ष्य थे । हम पुर्तगाली यात्री बारबोसा के लेखन से आम लोगों के घरों का वर्णन पाते है ।

विजयनगर के राजवंश और शासक

Class 12th History Chapter 7 नोट :- विजयनगर के शासकों को राय कहा जाता था ।तथा विजयनगर के सेना प्रमुख को नायक कहते थे ।

  • विजयनगर पर चार राजवंशों ने शासन किया
  • संगम राजवंश
  • सलुव राजवंश
  • तुलुव वंश
  • अरविदु वंश

संगम राजवंश ने साम्राज्य की स्थापना की , सलुव ने इसका विस्तार किया , सलुव ने इसे अपने गौरव के शिखर पर ले गया , लेकिन अरविदु के तहत इसे अस्वीकार कर दिया ।

कमजोर केंद्र सरकार , कृष्णदेव राय के कमजोर उत्तराधिकारी , बहमनी साम्राज्य के खिलाफ विभिन्न राजवंशों , कमजोर साम्राज्य आदि के विभिन्न कारणों ने साम्राज्य के पतन में योगदान दिया ।  साम्राज्य की सबसे महत्वपूर्ण विशेषता इसकी पानी की आवश्यकता तुंगभद्रा नदी द्वारा गठित प्राकृतिक खलिहान से पूरी की गई थी ।

कृष्णदेवराय

कृष्णदेव राय के शासन के दौरान , विजयनगर अद्वितीय शांति और समृद्धि की शर्तों के तहत विकसित हुआ । कृष्णदेव राय ने नागालपुरम नामक कुछ बेहतरीन मंदिरों और गोपुरम और उप – शहरी बस्ती की स्थापना की ।

1529 में उनकी मृत्यु के बाद , उनके उत्तराधिकारी विद्रोही ‘ नायक ‘ या सैन्य प्रमुखों से परेशान थे । 1542 तक , केंद्र पर नियंत्रण एक और सत्तारूढ़ – वंश में स्थानांतरित हो गया , जो कि अरविदु था , जो 17 वीं शताब्दी के अंत तक सत्ता में रहा ।

राय तथा नायक

नोट :- राय – विजयनगर के शासक को कहते थे ।

नायक – सेना प्रमुख नायक कहलाते थे ।

 

सम्राज्य मे शक्ति का प्रयोग करने वालो में सेना प्रमुख होते थे । जो सामान्यत : किलो पर नियंत्रण रखते थे और जिनके पास सशास्त्र समर्थक होते थे ।

ये प्रमुख आमतौर पर एक स्थान से दूसरे स्थान तक भ्रमणशील रहते थे और कई बार बसने के लिए उपजाऊ भूमि की तलाश में किसान भी उनका साथ देते थे ।

Read more :-  सोवियत संघ का विघटन कैसे हुआ – How did the Soviet Union disintegrate

इन प्रमुख को नायक कहते थे और आम तौर पर तेलुगु या कन्न्ड़ भाषा बोलते थे । कई नायको ने विजयनगर शासन की प्रभुसत्ता के आगे समर्पण किया था परन्तु ये अक्सर विद्रोह कर देते थे । इन पर सैनिक कर्यवाही के माध्यम से बस में किया जाता था ।

गजपति

Class 12th History Chapter 7 गजपति का शाब्दिक अर्थ है हाथियों का स्वामी । यह एक शासक वंश का नाम था जो पंद्रहवीं शताब्दी में ओडिशा में बहुत शक्तिशाली था ।

अश्वपति

विजयनगर की लोकप्रिय परंपराओं में दक्खन सुल्तानों को घोड़ों के स्वामी की अश्वपति कहा जाता है ।

नरपति

विजयनगर साम्राज्य में , रैयास को नरपति या पुरुषों का स्वामी कहा जाता है ।

अमर नायक प्रणाली

अमर शब्द का उद्भव मान्यता अनुसार संस्कृत के समर शब्द से हुआ है । जिसका अर्थ लड़ाई या युद्ध । ये फ़ारसी भाषा के शब्द अमीर से मिलता जुलता है जिसका अर्थ है ऊँचे कुल का या ऊँचे पद का कुलीन व्यक्ति ।

अमर नायक प्रणाली विजयनगर साम्राज्य की एक प्रमुख राजनीतिक खोज थी । ऐसा प्रतीत होता है कि इस प्रणाली के कई तत्व दिल्ली सल्तनत की इक्ता प्रणाली से लिये गए थे ।

अमरनायक सैनिक कमांडर थे जिन्हें राय द्वारा प्रशासन के लिए राज्य क्षेत्र दिए जाते थे । वे किसानों , शिल्पकर्मियो तथा व्यपारियो से भू – राजस्व तथा अन्य कर वसूलते थे ।

वे राजस्व का कुछ भाग व्यक्तिगत उपयोग तथा घोड़ो और हाथियों के निर्धारित दल के रख – रखाव के लिए अपने पास रख लेते थे ।

ये दल विजयनगर शासको को एक प्रभावी सैनिक शक्ति प्राप्त करने में सहायक होते थे । जिसकी मदद से उन्होंने पूरे दक्षिणी प्रयद्विप को अपने नियंत्रण में किया । राजस्व का कुछ भाग मंदिरो तथा सिचाई के साधन के रख – रखाव के लिए खर्च किया जाता ।


अमरनायक राजा को वर्ष में एक बार भेट दिया करते थे और अपनी स्वामी भक्ति प्रकट करने के लिए राजकीय दरबारो में उपहारों के साथ – साथ स्वयं उपस्थित हुआ करते थे ।

Class 12th History Chapter 7 राजा कभी – कभी उन्हें एक दूसरे स्थान पर स्थान्तरित कर उन पर अपना नियंत्रण दर्शाता था पर  सत्रहवीं शताब्दी में इनमे से कई नायिकों ने अपने स्वतंत्र राज्य स्थापित कर लिये । इस कारण केन्द्रीय राजकीय ढाँचे का विघटन तेजी से होने लगा ।

व्यपार

विजयनगर में गर्म मसाले, कपड़े, रत्नों का व्यापार होता था।

व्यापार ही साम्राज्य के आय का प्रमुख स्रोत था।

वहां के लोग धनवान होते थे और बहुमूल्य वस्तुएं खरीदना पसंद करते थे।

युद्ध के लिए अच्छे नस्ल के घोड़े अरब से आयात किया जाता था और घोड़ों के व्यापारियों को “कुदीरई चेट्टी” कहा जाता था।

यहाँ के व्यापारिक स्थिति को देखकर पुर्तगाली यहां आकर बसने लगे और व्यापार में अपनी भूमिका निभाने लगे।

इस काल मे युद्ध कला प्रभावशाली अश्वसेना पर आधारित होती थी । इसलिए प्रतिस्पर्धा राज्यो के लिए अरब तथा मध्य एशिया से घोड़ो का आयात बहुत महत्वपूर्ण था ।

  • यह व्यपार आरम्भिक चरणों मे अरब व्यापारियों द्वारा नियंत्रित था व्यपारियो के स्थानीय समूह जिन्हें कुदिरई चेट्टी या घोड़ों के व्यपारी कहा जाता था । लोग भी इन विनिमयो में भाग लेते थे ।
  • 1498 ई० कुछ और लोग पटल पर उभरकर आए ये पुर्तगाली थे जो उपमहाद्वीप के पश्चिमी तट पर आए और व्यापारिक तथा सामरिक केंद्र स्थापित करने का प्रयास करने लगे ।
  • उनकी बहेतर सामरिक तकनीक विशेष रूप से बन्दूको के प्रयोग से उन्हें इस काल की उलझी हुई राजनीति में एक महत्वपूर्ण शक्ति बनकर उभरने में सहायता की ।

विजयनगर की जलापूर्ति

विजय नगर में 2 नदियां बहती थी।

कृष्णा और दूसरी तुंगभद्रा

कृष्णदेव राय ने इन नदियों पर बांध बनवाया।

और इन नदियों से विजयनगर की जलापूर्ति की व्यवस्था की।

कमलपुरम जलाशय की विशेषताएं

इस जलाशय का निर्माण 15 वी शताब्दी के आरंभिक वर्षों में हुआ था

इस जलाशय से आसपास के क्षेत्रों को सींचा जाता था।

इसे एक नहर के माध्यम से राजकीय केंद्र तक भी ले जाया गया था।

विजयनगर साम्राज्य के अवशेषों में स्थित किले और बंदियाँ इस साम्राज्य की महत्वपूर्ण साक्षरता हैं जो उस समय की भव्यता और आधिकारिकता को दर्शाते हैं:

हम्पी का किला (Hampi Fort)

Class 12th History Chapter 7 हम्पी का किला, जिसे कि विजयनगर का किला भी कहा जाता है, विजयनगर साम्राज्य के समय का एक महत्वपूर्ण स्मारक है।

यह किला विजयनगर साम्राज्य के शासकों के लिए एक सुरक्षित स्थान के रूप में बनाया गया था।

चित्रलक्ष्मी जनार्दन मंदिर:

हम्पी में स्थित चित्रलक्ष्मी जनार्दन मंदिर भी विजयनगर साम्राज्य के समय का एक महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है।

विरूपाक्षा मंदिर:

यह मंदिर विजयनगर साम्राज्य के समय का सबसे पुराना और सुंदर मंदिरों में से एक है। इसमें विजयनगर के राजा विरूपाक्षा की मूर्ति भी है।

विजय विठल मंदिर:

विजय विठल मंदिर भी एक अन्य प्रमुख हिन्दू मंदिर है जो विजयनगर साम्राज्य के काल में बना गया था। इसमें भगवान विठल और रानी पद्मावती की मूर्तियाँ स्थित हैं।

हजार राम मंदिर

हजार राम मंदिर भी विजयनगर साम्राज्य के काल में बना गया था और इसमें रामायण के किस्सों की 1000 पत्थरों पर बनी छवियाँ स्थित हैं।

विरूपाक्षा मेला:

हम्पी में विरूपाक्षा मंदिर के आस-पास विरूपाक्षा मेला होता है जो विजयनगर साम्राज्य के समय की विभिन्न रंग-बिरंगी और आदिवासी जनजातियों को एकत्र करता है।

उग्रासेन की बौड़ी

इस बौड़ी को विजयनगर के समय में निर्मित किया गया था और इसमें भगवान शिव की मूर्तियाँ स्थित हैं।

रामचंद्र टेम्पल रुईं और मालपंडी:

ये स्थल हम्पी में विजयनगर साम्राज्य के समय के अवशेष हैं जो आज भी देखे जा सकते हैं।

अच्युतराय का महल:

अच्युतराय का महल भी विजयनगर साम्राज्य के समय का एक महत्वपूर्ण स्मारक है जो कि भव्यता की दृष्टि से अमूर्त है।

शासकीय मील:

हम्पी के पास शासकीय मील भी है जो कि विजयनगर साम्राज्य के काल में सामरिक उद्देश्यों से बनाई गई थीं।

सैराट कोटी बाँध:

यह बाँध विजयनगर साम्राज्य के काल में बनाया गया था और इसका उपयोग सिंधुदुर्ग की तरह समुद्री यातायात के लिए किया जाता था।

इन स्थलों को आज भी देखकर हम विजयनगर साम्राज्य के समृद्धि काल की भव्यता को महसूस कर सकते हैं।

RELATED ARTICLES
5 1 vote
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular