Friday, June 21, 2024
HomeजानकारियाँDevshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले...

Devshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले जायँगे

Devshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले जायँगे हिन्दू कैलेंडर के अनुसार आषाढ़ महीने के शुक्लपक्ष की एकादशी को देवशयनी एकादशी कहा जाता है। पुराणों के अनुसार इन 4 महीनों में भगवान विष्णु योग निद्रा में रहते हैं। इसके बाद कार्तिक मास में शुक्ल पक्ष की एकादशी पर भगवान विष्णु की योग निद्रा पूर्ण होती है।



व्रत से होता है पापों का नाश

मान्यता है कि देवशयनी एकादशी व्रत करने से सभी पापों का नाश हो जाता है। मनुष्य की सारी परेशानियां खत्म हो जाती हैं। मन शुद्ध होता है और विकार दूर हो जाते हैं। दुर्घटनाओं के योग भी टल जाते हैं। देवशयनी एकादशी व्रत करने के बाद शरीर और मन नवीन हो जाता है। ज्योतिषाचार्य पं. संतोष शुक्ल ने बताया कि देवशयनी एकादशी के दिन से ही चातुर्मास का आरंभ हो रहा है। यह चार माह योगियों के लिए शुभ माना गया है। इस दौरान शुभ कार्य करना वर्जित होता है। इस साल देवशयनी एकादशी पर तीन शुभ योग बन रहे हैं। इस एकादशी का व्रत मंगलकारी होता है। इस व्रत के करने से याचक के सभी पापों का नाश हो जाता है।

Devshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले जायँगे

एक बार की बात है, हरे-भरे खेतों के बीच बसे एक छोटे से गाँव में, देव नाम का एक दयालु किसान रहता था। देव अपनी कड़ी मेहनत, समर्पण और भगवान विष्णु के प्रति गहरी भक्ति के लिए जाने जाते थे। उन्होंने अपने परिवार और ग्रामीणों का भरण-पोषण करने के लिए खेतों में मेहनत करते हुए, फसलें उगाते हुए अपना दिन बिताया।


एक गर्मियों की शाम, जब देव दिन भर के काम से घर लौटा, तो उसने देखा कि एक थका हुआ यात्री उसके साधारण निवास के पास आश्रय ढूंढ रहा है। मेहमाननवाज़ आदमी होने के नाते, देव ने यात्री को अंदर बुलाया और उसे भोजन और पानी दिया। यात्री ने कृतज्ञतापूर्वक किसान के आतिथ्य को स्वीकार किया और बताया कि वह तीर्थयात्रा पर एक ऋषि था।

देव की निस्वार्थता और उदारता से प्रभावित होकर, ऋषि ने छद्मवेशी भगवान विष्णु के रूप में अपनी असली पहचान बताई। उन्होंने कहा, “देव, आपकी अटूट भक्ति और दयालु स्वभाव ने मेरे दिल को छू लिया है। मेरी प्रशंसा के प्रतीक के रूप में, मैं आपको एक वरदान दूंगा। जो कुछ भी आप चाहते हैं वह मांग लें।”

ऋषि के रहस्योद्घाटन से देव आश्चर्यचकित रह गए लेकिन विनम्र बने रहे। उन्होंने भगवान विष्णु के सामने झुककर कहा, “हे प्रभु, मैं अपने परिवार, अपने गांव और हमारे आसपास के सभी जीवित प्राणियों के लिए आपका शाश्वत आशीर्वाद और सुरक्षा चाहता हूं।”

देव के निस्वार्थ अनुरोध से भगवान विष्णु प्रसन्न हुए। उन्होंने किसान को आशीर्वाद दिया और कहा, “देव, आपकी भक्ति और दूसरों के प्रति चिंता वास्तव में उल्लेखनीय है। मैं आपको शयनी एकादशी के नाम से जाना जाने वाला एक दिव्य दिन प्रदान करूंगा। इस दिन, मैं आपके दिल में निवास करूंगा और आपकी इच्छाओं को पूरा करूंगा। इसे मनाएं।” इस दिन को पूरी श्रद्धा के साथ मनाएं और अपने गांव में प्रेम और सद्भाव फैलाएं।”

दैवीय वरदान से अति प्रसन्न होकर देव ने भगवान विष्णु को बहुत धन्यवाद दिया। उन्होंने शयनी एकादशी को पूरी श्रद्धा के साथ मनाने और अपने साथी ग्रामीणों के साथ इस दिन के महत्व को साझा करने की कसम खाई।

जैसे-जैसे दिन बीतते गए, देव ने लगन से शयनी एकादशी के भव्य उत्सव की तैयारी की। उन्होंने गांव के मंदिर की सफाई की, उसे सुगंधित फूलों से सजाया और सभी ग्रामीणों को उत्सव में शामिल होने के लिए आमंत्रित किया। पूरा गाँव खुशी और प्रत्याशा से जीवंत हो उठा।

शयनी एकादशी के शुभ दिन पर, ग्रामीण मंदिर में एकत्र हुए। देव ने प्रार्थना का नेतृत्व किया, भजन गाए और भगवान विष्णु की प्रार्थना की। वातावरण भक्ति एवं दैवीय ऊर्जा से परिपूर्ण था। Devshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले जायँगे 

जैसे-जैसे दिन चढ़ता गया, देव और ग्रामीण दान और दयालुता के कार्यों में लगे रहे। उन्होंने कम भाग्यशाली लोगों को भोजन, कपड़े और अन्य आवश्यक चीजें वितरित कीं। गाँव हंसी, कृतज्ञता और एकता की भावना से गूंज उठा।

शाम की आरती के दौरान, जैसे ही सुनहरा सूरज डूबने लगा, देव को तृप्ति की गहरी अनुभूति हुई। वह जानता था कि भगवान विष्णु उनके दिलों में मौजूद थे, उनकी देखभाल कर रहे थे और उन्हें भरपूर आशीर्वाद दे रहे थे।

अगले दिन, ग्रामीण एक नई भावना और कृतज्ञता की गहरी भावना के साथ जागे। उन्हें एहसास हुआ कि शयनी एकादशी का असली सार सभी जीवित प्राणियों के लिए निस्वार्थ सेवा, करुणा और प्रेम में निहित है। Devshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले जायँगे 



उस दिन के बाद से, शयनी एकादशी गाँव में एक पोषित परंपरा बन गई। हर साल, देव के उदाहरण से निर्देशित होकर, ग्रामीण भक्ति और दयालुता के कार्यों के साथ दिव्य दिन मनाने के लिए एक साथ आते थे।

देव की प्रेम और करुणा की विरासत दूर-दूर तक फैली, जिससे पड़ोसी गांवों को भी इसका अनुसरण करने की प्रेरणा मिली। शयनी एकादशी की भावना एकता का प्रतीक बन गई, जो लोगों को भक्ति और निस्वार्थता की शक्ति की याद दिलाती है।

Devshayani Ekadashi 2023: देवशयनी एकादशी कब है? नारायण योग निद्रा में चले जायँगे इसलिए, गाँव न केवल प्रचुर फसलों के मामले में, बल्कि प्रेम और सद्भाव की प्रचुरता के मामले में भी फला-फूला। देव की अटूट भक्ति और उनके विनम्र अनुरोध ने उनके जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया, जिससे शयनी एकादशी प्रेम, करुणा और भगवान विष्णु के दिव्य आशीर्वाद का उत्सव बन गई। 

RELATED ARTICLES
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular