Wednesday, May 29, 2024
HomeBloggingMajor Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi 2023-24

Major Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi 2023-24

Major Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi -हेलो दोस्तों आज हम आपको आने वाले Major Changes में डूफ़ॉलो , नोफ़ॉलो ,स्पॉन्सर्ड के बारें मे बताएँगे।

dofollow क्या है?

Major Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi –डोफॉलो (Dofollow) एक एक्सटर्नल लिंक होता है जो एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर जाता है और गूगल जैसे जुड़वां इंजन को संदेश देता है कि इस लिंक के माध्यम से लिंक जुड़े हुए वेबपृष्ठ पर जाना चाहिए। डोफॉलो टैग उस एंकर टेक्स्ट को संकेत देता है जो एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर जाता है। अन्य शब्दों में, जब एक वेबमास्टर अपनी वेबसाइट से एक लिंक जोड़ता है और डोफॉलो टैग का उपयोग करता है, तो वह दूसरी वेबसाइट पर लिंक जुड़े हुए पेज के पेज रैंकिंग में मदद कर सकता है।




nofollow क्या है?

नोफॉलो (Nofollow) एक एक्सटर्नल लिंक होता है जो एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर जाता है, लेकिन गूगल जैसे जुड़वां इंजन को संदेश नहीं देता है कि इस लिंक के माध्यम से लिंक जुड़े हुए वेबपृष्ठ पर जाना चाहिए। नोफॉलो टैग उस एंकर टेक्स्ट को संकेत देता है जो एक वेबसाइट से दूसरी वेबसाइट पर जाता है।

इसका मतलब होता है कि जब एक वेबमास्टर अपनी वेबसाइट से एक नोफॉलो टैग वाला लिंक जोड़ता है, तो गूगल और अन्य जुड़वां इंजन उस लिंक को इग्नोर करते हैं या उससे कोई पावर नहीं मिलता है। नोफॉलो टैग का उपयोग अक्सर स्पैम लिंकों और निश्चित लिंकों को रोकने के लिए किया जाता है। इसके अलावा, इसका उपयोग स्पैम बॉट्स के खिलाफ लड़ाई में भी किया जाता है।

Nofollow कैसे इस्तेमाल किया जाता था?

Major Changes in dofollow, nofollow,sponsored, UGC Link Tags in Hindi –नोफॉलो टैग का उपयोग वेबमास्टर्स द्वारा विभिन्न उद्देश्यों के लिए किया जाता है, जैसे कि:

  • स्पैम कम करने के लिए: नोफॉलो टैग अक्सर स्पैम लिंकों और निश्चित लिंकों को रोकने के लिए उपयोग किया जाता है। यह स्पैम लिंकों के लिए एक प्रभावी रोक होता है, क्योंकि जब इन लिंकों का कोई पावर नहीं होता है, तो वे अपने मूल वेबसाइट पर कोई पॉजिटिव फायदा नहीं देते हैं।
  • अधिक असुरक्षित साइटों से लिंकिंग के खिलाफ लड़ाई: अगर आप एक उत्पादक हो और आपकी वेबसाइट एक असुरक्षित साइट से लिंक होती है, तो नोफॉलो टैग का उपयोग करके आप उन साइटों के प्रति सतर्क रह सकते हैं। यह उन्हें संदेश देता है कि आप उन्हें पावर नहीं दे रहे हैं और उन्हें कोई फायदा नहीं हो रहा है।
  • स्पाम बॉट्स के खिलाफ लड़ाई: नोफॉलो टैग का उपयोग स्पाम बॉट्स के खिलाफ लड़ाई में भी किया जाता है।

दो नये लिंक शुरू किए गए हैं जैसे –

स्पॉन्सर्ड लिंक

स्पॉन्सर्ड लिंक एक प्रकार का विज्ञापन होता है जो किसी उत्पाद, सेवा, वेबसाइट या किसी अन्य विषय से जुड़ा होता है। इसे वेब पेज के शीर्षक या साइडबार में दिखाया जाता है ताकि यह उपयोगकर्ताओं को अधिक दिखाई दे और वे इस विज्ञापन को क्लिक करके उस साइट पर जा सकें।

  • स्पॉन्सर्ड लिंक के माध्यम से विज्ञापक अपनी वेबसाइट को प्रचारित करते हैं और इससे विज्ञापक को उन लोगों तक पहुंच मिलती है जो उनके उत्पाद या सेवाओं के लिए संभावित ग्राहक हो सकते हैं। इसके अलावा, इससे उनकी वेबसाइट की ट्रैफिक भी बढ़ती है।
  • स्पॉन्सर्ड लिंक कहाँ पर उपयोग किया जाता है
    स्पॉन्सर्ड लिंक का उपयोग विज्ञापन के रूप में किया जाता है जो किसी वेबसाइट, उत्पाद या सेवा के प्रचार या विपणन के लिए किया जाता है। विज्ञापक स्पॉन्सर्ड लिंक के माध्यम से अपनी उत्पादों या सेवाओं की विज्ञापन करते हैं ताकि लोग उनकी वेबसाइट पर आएं और उनके उत्पादों या सेवाओं को खरीदें।
  • वेबसाइट अधिकांश स्पॉन्सर्ड लिंक के माध्यम से अपनी वेबसाइट को आर्थिक रूप से सहायता प्रदान करते हैं।

यूजीसी लिंक

UGC लिंक या यूजीसी लिंक एक छोटा सा पाठ होता है जो वेब पृष्ठों में एक सामान्य प्रयोग होता है। यह एक वेबसाइट या वेब पृष्ठ के लिए होता है जिसमें किसी अन्य वेबसाइट या पृष्ठ के लिए लिंक दिया जाता है।

  • UGC लिंक को इस्तेमाल करने से सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन (SEO) और ट्रैफिक बढ़ाने में मदद मिलती है। इसके अलावा, यह दूसरे लोगों को आपकी वेबसाइट से जुड़ी जानकारी प्रदान करने में भी मदद करता है।
  • यूजीसी लिंक कहाँ पर उपयोग किया जाता है
  • UGC लिंक विभिन्न वेबसाइटों और ब्लॉगों में उपयोग किए जा सकते हैं। यह विभिन्न वेब पृष्ठों के बीच एक अधिकारिक सम्बन्ध बनाने में मदद करते हैं और अन्य वेबसाइटों से ट्रैफिक लाने में मदद करते हैं।

यूजीसी लिंक कहाँ पर उपयोग किया जाता है

यूजीसी लिंक का उपयोग निम्नलिखित कारणों से किया जाता है:

  • अधिक ट्रैफिक आकर्षित करने के लिए
  • Seo के लिए अधिक संबंधों को बनाए रखने के लिए
  • विषय-वस्तु निर्धारित करने और वेब पेज्स के बीच संबंध बनाने के लिए
  • आपकी वेबसाइट को गूगल सर्च इंजन में अधिक दृश्यता प्रदान करने के लिए

भविष्य में होने वाले बदलाव

गूगल ने यह बताया है कि इन लिंक्स को ना तो क्रावलिंग के लिए यूज किया जा रहा है और ना ही इंडेक्सिंग के लिए यूज किया जा रहा है परन्तु अगले साल 1 मार्च 2020 के बाद इन लिंक को क्रावलिंग अथवा इंडेक्सिंग दोनों के लिए यह लिंक्स इस्तेमाल किये जा सकेंगे ।

इन लिंक्स के कोड क्या होंगे ?

कुछ इस प्रकार से इन लिंक्स के कोड होंगे जैसे –

  • do follow link -< href –“site url”>trusted site</a>
  • Paid/ Sponsored Link-< href –“site url” rel=”sponsored”>bitcoin </a>
  • UGC Link-< href –“site url” rel=”ugc”>my site </a>
  • Nofollow Link -< href –“site url” rel=”nofollow”>shady </a>

इन लिंक्स को शुरू करने से गूगल को समझने में आसानी होगी।

RELATED ARTICLES
5 4 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular