Wednesday, May 29, 2024
Homeजानकारियाँईपीएफ़ खाता क्या है तथा इसमें बैलेंस कैसे चेक करे |

ईपीएफ़ खाता क्या है तथा इसमें बैलेंस कैसे चेक करे |

हेलो दोस्तों आज हम आप सब के लिए ये पोस्ट ईपीएफ़ खाता क्या है लेरकरआए है उम्मीद करते है की आप को ये पोस्ट जरूर पसंद आए इस पोस्ट ईपीएफ़ खाता क्या है में हमने इसकी पूरी जानकारी दी है और आप आपने दोस्तों को भी ये पोस्ट ईपीएफ़ खाता क्या है  शेयर करें तो दोस्तों पोस्ट को शुरू करते है की ईपीएफ़ खाता क्या है  in hindi

पेमेंट गेटवे क्या हैं? यह कैसे काम करता हैं| | Computer Hindi Notes

सिलिकॉन वैली बैंक क्यों डूबा?

Quick Links

ईपीएफ़ खाता क्या है (What is EPF Account)

  • ईपीएफ़ खाता एक पेंशन योजना है जो भारत के कर्मचारियों के लिए बनाई गई है। इस योजना के तहत, एक कर्मचारी अपनी तनख्वाह से एक निश्चित राशि का भुगतान करता है, जो उसकी उम्र के साथ साथ बढ़ती है। कंपनी भी इस योजना में एक निश्चित राशि भुगतान करती है, जो कर्मचारी की निधि के लिए उपलब्ध होती है।
  • ईपीएफ़ खाता की गणना दर सामान्य रूप से 12% होती है, लेकिन यह भी अधिकतम राज्य निर्णय के अनुसार विभिन्न हो सकती है। यह धन निधि के रूप में काम करता है, जिसे कर्मचारी अपनी उम्र के साथ साथ अवैतनिक रूप से जमा करते हैं। यह धन निधि कर्मचारी के निधि में समायोजित होता है और यह कर्मचारी के उत्तरदायित्व में रहता है।
  • ईपीएफ़ खाता का उपयोग कर्मचारियों को अपनी सेवाकाल के बाद पेंशन के रूप में राशि प्रदान करने के लिए किया जाता है। इसके अलावा, यह एक सेवाकाल के दौरान धन निधि के रूप में भी उपयोग किया जाता है,

ईपीएफ़ के लाभ (EPF Benefits)

ईपीएफ़ खाता कई लाभ प्रदान करता है जो इसके उपयोगकर्ताओं के लिए महत्वपूर्ण होते हैं। नीचे कुछ इसके मुख्य लाभों की व्याख्या की गई है:

  • पेंशन: ईपीएफ़ खाता कामगारों को सेवाकाल के बाद एक सुरक्षित पेंशन प्रदान करता है। यह पेंशन उन्हें उनकी सेवाकाल के दौरान भुगतान की गई राशि पर आधारित होता है।
  • निवेश: ईपीएफ़ खाते का उपयोग करके आप अपने निधि को निवेश कर सकते हैं। यह निधि समय के साथ साथ बढ़ती रहती है और आपको भविष्य के लिए एक अच्छा निवेश प्रदान करती है।
  • कर छूट: ईपीएफ़ खाते पर किए गए भुगतानों पर कर छूट प्रदान की जाती है। इसके अलावा, ईपीएफ़ खाते को दर्ज करने के लिए आपको इनकम टैक्स का उत्तरदायित्व नहीं होता है।
  • ऋण: ईपीएफ़ खाता के उपयोग से आप अपने घर या वाहन के लिए ऋण ले सकते हैं। इसमें ब्याज दर भी कम होती ह।

ईपीएफ़ मेम्बरशिप के लिये आवश्यक योग्यता (EPF Membership Required Documents)

ईपीएफ़ में शामिल होने के लिए आपको निम्नलिखित दस्तावेजों की आवश्यकता होती है:

  • आधार कार्ड: आधार कार्ड एक महत्वपूर्ण दस्तावेज है जो आपकी पहचान के रूप में काम करता है। यह आपके पासपोर्ट, पैन कार्ड और वोटर आईडी कार्ड जैसे अन्य दस्तावेजों के बदले में भी उपयोग किया जा सकता है।
  • बैंक खाता नंबर: आपको ईपीएफ़ में शामिल होने के लिए एक सक्रिय बैंक खाता होना आवश्यक होता है। आपको अपने बैंक खाते का विवरण जमा करना होगा।
  • सेवा शुरू करने की तिथि: आपको अपनी सेवा शुरू करने की तिथि के बारे में जानकारी भी देनी होगी।
  • फोटो: आपको अपनी फोटो भी साथ ले जानी होगी। यह आपके आधार कार्ड पर लगी फोटो से मेल खाती होनी चाहिए।

इन दस्तावेजों के अलावा, आपको अपने वर्तमान या पूर्व नियोक्ता द्वारा जारी किए गए फॉर्म 11 को भी भरना होगा। यह फॉर्म आपके प्रबंधक द्वारा उपलब्ध होना चाहिए।

ईपीएफ़ के लिए अंशदान (EPF Contribution Details)

ईपीएफ़ अंशदान वह धनराशि होती है जो नियोक्ता द्वारा कर्मचारी के ईपीएफ़ खाते में जमा की जाती है। इस धनराशि का नियोजन दो भागों में किया जाता है: कर्मचारी अंशदान और नियोक्ता अंशदान।

  •  कर्मचारी अंशदान उन धनराशियों को दर्ज करता है जो कर्मचारी अपने वेतन से देते हैं। अपने वेतन का 12% या ईपीएफ़ नियमों के अनुसार देने वाली स्थितियों में अधिक भी अंशदान उन्हें दिया जाता है।
  •  नियोक्ता अंशदान उन धनराशियों को दर्ज करता है जो नियोक्ता कर्मचारियों के ईपीएफ़ खाते में डालता है। यह धनराशि कर्मचारी अंशदान का 12% के बराबर होती है।
  • ईपीएफ़ अंशदान बढ़ती उम्र के साथ बढ़ता है। जब कोई कर्मचारी 58 वर्ष की उम्र पूरी करता है, तो नियोक्ता अंशदान से छूट दिया जाता है।
  • कर्मचारी अंशदान और नियोक्ता अंशदान को एक ही खाते में जमा किया जाता हैं

ईपीएफ के लिए नियोक्ता का अंशदान (Employee Contribution to EPF)

  • ईपीएफ में कर्मचारी के अंशदान का मात्र 12% उसकी मासिक वेतन से किया जाता है। यदि कर्मचारी की मासिक वेतन 15,000 रुपये से कम है, तो भी ईपीएफ में उसके अंशदान का मात्र 12% होगा। इससे अधिक वेतन वाले कर्मचारियों का अंशदान भी 15,000 रुपये के ऊपर की सीमा तक होगा।
  • कर्मचारी अंशदान को ईपीएफ में जमा किया जाता है, जो उसके खाते में रूपांतरित किया जाता है। ईपीएफ में कर्मचारी का अंशदान, नियोक्ता के अंशदान और वित्तीय वर्ष के ब्याज दर के आधार पर ब्याज के रूप में वृद्धि होती है।
  • ईपीएफ के लिए कर्मचारी अंशदान को उसके वेतन से कटवाना अनिवार्य होता है और इसे ईपीएफ नियमों के तहत जमा करना होता है। कोई भी कर्मचारी इससे छूट नहीं पा सकता है।

ईपीएफ़ के लिए ब्याज दर (EPF Interest Rate)

  • ईपीएफ में ब्याज दर सरकार द्वारा तय की जाती है और यह वार्षिक रूप से अदा किया जाता है। 2021-22 वित्तीय वर्ष में, ईपीएफ में ब्याज दर 8.5% है।
  • ब्याज दर नियमित रूप से बदलती रहती है और इसे सरकार द्वारा अधिकृत समझौतों और सूचनाओं के आधार पर तय किया जाता है। ब्याज दर की गणना परिसंख्यान के आधार पर की जाती है, जो विभिन्न मांग और आर्थिक परिस्थितियों के आधार पर बदलती रहती हैं।

ईपीएफ़ बैलेंस पर ब्याज का हिसाब कैसे करें (EPF Interest Calculator)

ईपीएफ़ बैलेंस पर ब्याज का हिसाब करने के लिए, आप ईपीएफ़ ब्याज कैलकुलेटर का उपयोग कर सकते हैं। निम्नलिखित चरणों का पालन करें और अपनी ब्याज राशि की गणना करें:

  • सबसे पहले, आपको ईपीएफ़ खाते के साथ जुड़े पिछले साल का ब्याज दर पता होना चाहिए। उदाहरण के लिए, यदि आप 2021-22 के लिए ब्याज की गणना करना चाहते हैं, तो आपको 2020-21 के लिए ब्याज दर का पता होना चाहिए।
  • ईपीएफ़ बैलेंस का पता लगाएं। इसके लिए आप अपने पासबुक, ईपीएफ़ पासबुक, या ऑनलाइन पोर्टल का उपयोग कर सकते हैं।
  • अब आप इन दोनों तत्वों का उपयोग करके अपने बैलेंस के साथ पिछले वर्ष का ब्याज गणना कर सकते हैं। इसके लिए निम्नलिखित सूत्र का उपयोग करें:

Interest = (Balance at the beginning of the year x Interest rate for the year) / 12

इस सूत्र के अनुसार, यदि आपका शुरुआती बैलेंस 2021 के लिए Rs. 50,000 है और ब्याज दर 8.5% है, तो आपकी मासिक ब्याज राशि निम्नलिखित होगी:

Interest = (50,000 x 8.5%) / 12 = Rs. 354.17

ईपीएफ़ से पैसे कैसे निकालें (How to Withdraw EPF Money in hindi)

ईपीएफ़ से पैसे निकालने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

  • सबसे पहले, आपको ईपीएफ़ पोर्टल पर लॉग इन करना होगा।
  • अब, आपको मुख्य पृष्ठ पर जाना होगा और “मेरा खाता” ऑप्शन पर क्लिक करना होगा।
  • अब, “आवेदन” ऑप्शन पर क्लिक करें और “नया आवेदन” का चयन करें।
  • आपके सामने एक फॉर्म खुलेगा जिसमें आपको आवश्यक जानकारी भरनी होगी। आपको इस फॉर्म में नाम, पता, पैन नंबर, बैंक खाता विवरण, ईपीएफ़ अकाउंट नंबर, आधार नंबर, और निकालने की राशि जैसी जानकारी भरनी होगी।
  • अब, आपको अपनी निकालने की राशि भी चुननी होगी। ध्यान दें कि आप अपनी निकालने की राशि अपने ईपीएफ़ खाते में शेष बैलेंस के अनुसार चुन सकते हैं।
  • निकालने की राशि चुनने के बाद, आपको दस्तावेज अपलोड करने के लिए कहा जाएगा। आपको अपने पैन कार्ड, बैंक पासबुक, आधार कार्ड आदि के साथ अपने दस्तावेज अपलोड करने होंगे।

ईपीएफ़ का ऑनलाइन और ऑफलाइन ट्रान्सफर के तरीके से  (EPF Transfer Online and Offline)

ईपीएफ़ एक स्वायत्त संस्था है जो कर्मचारियों के लिए उनकी सेवानिवृत्ति के बाद पेंशन योजनाओं के माध्यम से बचत अकाउंट प्रदान करती है। यदि आपने अपनी नौकरी बदली है या आप नौकरी छोड़ने जा रहे हैं तो आप अपने ईपीएफ़ खाते को अपने नए नौकरी से जोड़ सकते हैं। इसके लिए आप ऑनलाइन या ऑफलाइन दोनों तरीकों से ट्रांसफर कर सकते हैं।

ऑफलाइन कैसे ट्रान्सफर करें (EPF Transfer Offline Process)

ईपीएफ खाते को ऑनलाइन ट्रांसफर करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

  • सबसे पहले, आपको अपने पूर्व नियोक्ता के पास जाकर फॉर्म 13 भरना होगा। आप इस फॉर्म को ऑनलाइन भी डाउनलोड कर सकते हैं।
  • फॉर्म 13 में आपको अपने पूर्व और वर्तमान नियोक्ताओं के विवरणों को भरना होगा।
  • एक बार फॉर्म 13 भर दिया जाएगा, आपको उसे अपने पूर्व नियोक्ता के हस्ताक्षर से सत्यापित करवाना होगा।
  • सत्यापित फॉर्म 13 को अपनी वर्तमान नियोक्ता के पीएफ खाते में जमा कराएं। आपका नियोक्ता इस प्रक्रिया के लिए आवश्यक दस्तावेजों के साथ एक अंतिम रिक्ति पर हस्ताक्षर करता है।
  • अगले 30 दिनों के भीतर आपका ईपीएफ खाता अपने पूर्व नियोक्ता के खाते से निकालकर आपके वर्तमान नियोक्ता के खाते में ट्रांसफर कर दिया जाएगा।

ऑनलाइन कैसे ट्रान्सफर करें (EPF Transfer Online Process)

ईपीएफ खाते को ऑनलाइन ट्रांसफर करने के लिए निम्नलिखित चरणों का पालन करें:

  • यूएएन पंजीकरण: यदि आपने अभी तक यूएएन पंजीकरण नहीं किया है, तो इसे करें। यूएएन एक यूनिवर्सल खाता है जो आपके सभी ईपीएफ खातों को एक स्थान पर एकत्रित करता है।
  • प्रमाणीकरण: अपने यूएएन और अन्य विवरणों का प्रमाणीकरण करें। आप अपने अंतिम नियोक्ता से यूएएन, अद्यतन ईमेल आईडी, बैंक खाता विवरण आदि का प्रमाणीकरण कर सकते हैं।
  • ट्रांसफर रिक्वेस्ट: अपने लॉगिन क्रेडेंशियल का उपयोग करके ईपीएफ पोर्टल पर लॉगिन करें और ‘ऑनलाइन ट्रांसफर रिक्वेस्ट’ ऑप्शन का चयन करें।
  • पुराने और नए खातों का विवरण: पूर्व और नए नियोक्ताओं के ईपीएफ खातों के विवरण दर्ज करें।
  • ऑनलाइन प्रमाण: आपके द्वारा दी गई सभी विवरणों को सत्यापित करें।

एसएमएस के​ माध्यम से जाने अपने पीएफ खाते का बैलेंस (EPF balance Status enquiry through sms)

आप एसएमएस के माध्यम से अपने EPF खाते का बैलेंस जान सकते हैं। इसके लिए आपको अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से एक एसएमएस भेजना होगा। निम्नलिखित विवरणों के साथ आपको एक एसएमएस भेजना होगा:

EPFOHO UAN <उपयोगकर्ता आईडी> <लैंग्वेज कोड>

  • लैंग्वेज कोड आपके बैलेंस को जानने के लिए आपकी भाषा को दर्शाता है, जैसे अंग्रेजी, हिंदी, तमिल, बंगाली आदि।

उदाहरण के लिए, यदि आपका UAN 123456789012 है और आप अपने बैलेंस को हिंदी में जानना चाहते हैं, तो आपको निम्न एसएमएस भेजना होगा:

EPFOHO UAN 123456789012 HIN

  • इसके बाद, आपको 7738299899 पर एक एसएमएस प्राप्त होगा जिसमें आपके ईपीएफ खाते का बैलेंस दिखाया जाएगा।

यूएएन के माध्यम से खाते की जांच (EPF balance enquiry through UAN)

यूएएन के माध्यम से आप अपने EPF खाते की जांच कर सकते हैं। निम्नलिखित तरीकों के माध्यम से यूएएन के द्वारा EPF खाते की जांच कर सकते हैं:

1.आधिकारिक EPFO पोर्टल के माध्यम से जाँच करें:

  • EPFO की आधिकारिक वेबसाइट
  • https://www.epfindia.gov.in/site_en/index.php पर जाएं।
  • “For Employees” सेक्शन में जाएं और “Our Services” के तहत “Member Passbook” का चयन करें।
  • आपको UAN और पासवर्ड दर्ज करना होगा।
  • इसके बाद, आप अपने खाते का सार्वजनिक विवरण और बैलेंस देख सकते हैं।

2. मोबाइल ऐप के माध्यम से जाँच करें:

  • मोबाइल ऐप EPFO को डाउनलोड करें।
  • अपना UAN और पासवर्ड दर्ज करें।
  • अपने खाते का सार्वजनिक विवरण और बैलेंस देखें।

3. एसएमएस के माध्यम से जाँच करें:

  • अपने रजिस्टर्ड मोबाइल नंबर से एक एसएमएस भेजें “EPFOHO UAN” और अपना UAN नंबर दर्ज करें।
  • अपने खाते का सार्वजनिक विवरण और बैलेंस आपको मोबाइल फोन पर प्राप्त हो जाएगा।

यह सभी तरीके आसान हैं और आप अपने EPF खाते की जांच कर सकते हैं

मोबाइल एप के माध्यम से खाते के बैलेंस की जांच (EPF balance enquiry through mobile)

ईपीएफ खाते का बैलेंस जानने के लिए मोबाइल एप का उपयोग किया जा सकता है। ईपीएफ के आधिकारिक मोबाइल एप “UMANG” है। UMANG ऐप डाउनलोड करने के बाद, आप अपना ईपीएफ खाता आईडी और अन्य जानकारी दर्ज करके अपने खाते का बैलेंस जान सकते हैं।

इसके अलावा, आप अपने खाते का बैलेंस जानने के लिए विभिन्न ईपीएफ एजेंटों द्वारा उपलब्ध किए गए अन्य मोबाइल एप भी उपयोग कर सकते हैं। इन ऐप में से कुछ हैं:

  • EPFO मोबाइल एप: यह आपको अपने खाते का बैलेंस जानने के साथ-साथ अपनी विवरणों को अपडेट करने की सुविधा भी प्रदान करता है। आप इस ऐप को Google Play Store या Apple App Store से डाउनलोड कर सकते हैं।
  • BHIM UPI EPFO ऐप: यह ऐप UPI बेस्ड होता है और इसमें आप अपने ईपीएफ खाते का बैलेंस चेक कर सकते हैं। आप इस ऐप को Google Play Store से डाउनलोड कर सकते हैं।

 

निष्कर्ष

तो दोस्तों आप के उम्मीद करते है की आप को ये पोस्ट ईपीएफ़ खाता क्या है  चेक करे जरूर पसंद आया होगा इस पोस्ट  ईपीएफ़ खाता क्या है  को पढ़ने के बाद आप को इसके बारे में पूरी जानकारी हो गई होगी

RELATED ARTICLES
5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular