Thursday, February 29, 2024
HomeComputer & Technologyयूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ? (Unix और Linux ऑपरेटिंग सिस्टम में...

यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ? (Unix और Linux ऑपरेटिंग सिस्टम में अंतर) .

यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है ?

यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है-यूनिक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कंप्यूटर सिस्टमों के लिए डिज़ाइन किया गया है। यह लिनक्स और मैक ओएस जैसे अन्य ऑपरेटिंग सिस्टमों का भी मूल बना है। यूनिक्स एक मल्टी-टास्किंग, मल्टी-यूजर, नेटवर्क रीढ़ है जो कमांड लाइन या ग्राफिकल उपयोगकर्ता इंटरफ़ेस के माध्यम से उपयोगकर्ताओं को समर्थित करता है। यूनिक्स ओएस को शुरू में विभिन्न विश्वविद्यालयों द्वारा विकसित किया गया था जो उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए उनके पास कंप्यूटर उपलब्ध थे। यूनिक्स ओएस आज व्यापक रूप से व्यवसायों और शिक्षण संस्थानों में उपयोग किया जाता है।




यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के उदाहरण

यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है-यूनिक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कमांड लाइन और ग्राफिकल इंटरफेस के रूप में उपलब्ध होता है। कुछ उदाहरण निम्नलिखित हैं:

  • Linux – Linux एक उत्तम उदाहरण है जो यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के मूल बना है। यह सभी प्रमुख वितरणों में उपलब्ध है जैसे – Ubuntu, Fedora, Debian, CentOS आदि।
  • macOS – macOS एप्पल कंपनी द्वारा विकसित एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो यूनिक्स बेस्ड होता है। यह सिर्फ एप्पल कंप्यूटरों पर उपलब्ध होता है।
  • FreeBSD – FreeBSD एक मुक्त और ओपन सोर्स ऑपरेटिंग सिस्टम है जो उन उपयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध है जो एक स्टेबिल, अस्थायी और सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम चाहते हैं।
  • Solaris – Solaris एक और ऑपरेटिंग सिस्टम है जो वेंडर Sun Microsystems द्वारा विकसित किया गया था। इसे अब ओरेकल कंपनी ने खरीद लिया है।
  • IBM AIX – IBM AIX एक और उदाहरण है जो IBM कंपनी द्वारा विकसित किया गया था।

यूनिक्स का इतिहास

यूनिक्स एक ऑपरेटिंग सिस्टम है जो कमांड लाइन और ग्राफिकल इंटरफेस के रूप में उपलब्ध होता है। इसका इतिहास निम्नलिखित है:

  • यूनिक्स का विकास: यूनिक्स का विकास 1960 के दशक में AT&T बेल लैबोरेटरी में शुरू हुआ। डेन्निस रिची और केन थॉम्पसन जैसे कुछ शीर्ष इंजीनियर ने यूनिक्स के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।
  • यूनिक्स के स्रोत कोड का उपलब्ध होना: 1970 में AT&T ने अपने स्रोत कोड को बाहरी प्रयोगकर्ताओं के लिए उपलब्ध करने शुरू किया। इससे अनेक लोग यूनिक्स के स्रोत कोड को अपनी जानकारी के अनुसार संशोधित करने लगे।
  • यूनिक्स के वितरण: यूनिक्स के स्रोत कोड का उपलब्ध होना संभवतः उसके समूह के भिन्न-भिन्न सदस्यों द्वारा अलग-अलग वितरणों का विकास संभव बना दिया। BSD, Linux, Solaris, AIX आदि इन सभी वितरणों में यूनिक्स के मूल स्रोत कोड से जुड़ाव होता है।

यूनिक्स की संरचना

यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम क्या है-यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम एक मल्टी-टास्किंग, मल्टी-उपयोगकर्ता, नेटवर्क संचार योग्य और पोर्टेबल ऑपरेटिंग सिस्टम है। यह आमतौर पर सर्वर, सुपरकंप्यूटर और विज्ञान, प्रौद्योगिकी और अन्य उच्च-स्तरीय कंप्यूटिंग कार्यों के लिए इस्तेमाल किया जाता है। इसकी संरचना निम्नलिखित भागों पर आधारित होती है:

कर्णल: यूनिक्स का कर्णल इसकी सबसे महत्वपूर्ण भाग है। यह कंप्यूटर हार्डवेयर के साथ संचार करता है और आवश्यक सेवाओं को प्रदान करता है। कर्णल का काम है प्रोसेस के बीच स्विच करना, मेमोरी मैनेजमेंट करना, इनपुट-आउटपुट संचार को नियंत्रित करना और सिस्टम संसाधनों का प्रबंधन करना।

शेल: यूनिक्स शेल उपयोगकर्ताओं को टर्मिनल इंटरफेस के माध्यम से सिस्टम से जुड़ने की अनुमति देता है। शेल आपके द्वारा दी गई कमांड्स को समझता है और सिस्टम के विभिन्न संसाधनों तक आपको पहुँचने की अनुमति देता है।

यूनिक्स की विशेषतायें

यूनिक्स ऑपरेटिंग सिस्टम के कुछ महत्वपूर्ण विशेषताएं निम्नलिखित हैं:

  • पोर्टेबिलिटी: यूनिक्स एक पोर्टेबल ऑपरेटिंग सिस्टम है जो विभिन्न कंप्यूटर प्लेटफॉर्म्स पर काम करता है।
  • मल्टीटास्किंग: यूनिक्स एक मल्टीटास्किंग ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो एक समय में एक से अधिक कार्य कर सकता है।
  • मल्टीउपयोगकर्ता: यूनिक्स एक मल्टीउपयोगकर्ता ऑपरेटिंग सिस्टम है, जो एक समय में एक से अधिक उपयोगकर्ताओं को समर्थित करता है।
  • सिस्टम सुरक्षा: यूनिक्स सिस्टम विशेषताओं में सुरक्षा एक महत्वपूर्ण विशेषता है। इसमें डेटा को सुरक्षित रखने वाले कई सुरक्षा फ़ीचर्स होते हैं।
  • कमांड लाइन इंटरफेस: यूनिक्स कमांड लाइन इंटरफेस के माध्यम से काम करता है जो उपयोगकर्ताओं को एक टेक्स्ट प्रोंप्ट प्रदान करता है।
  • फ्री और ओपन सोर्स: यूनिक्स फ्री और ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है, जिसका अर्थ है

यूनिक्स के फायदे

यूनिक्स के कुछ मुख्य फायदे निम्नलिखित हैं:

  • पोर्टेबिलिटी: यूनिक्स का सबसे बड़ा फायदा यह है कि यह विभिन्न प्लेटफॉर्म पर काम कर सकता है। यह अन्य ऑपरेटिंग सिस्टमों से अलग होता है जो एक ही प्लेटफॉर्म पर काम करते हैं।
  • संचालन की सुविधा: यूनिक्स का एक और फायदा यह है कि इसके उपयोग से बड़े संख्या के टास्क और कार्यों को संचालित किया जा सकता है।
  • सुरक्षा: यूनिक्स एक सुरक्षित ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसमें डेटा सुरक्षित रखने के कई सुरक्षा फीचर्स होते हैं।
  • मुफ्त सॉफ्टवेयर: यूनिक्स मुफ्त सॉफ्टवेयर है जो उपयोगकर्ताओं को लागत बचाने में मदद करता है।

एकदम विनिर्माण की गुणवत्ता: यूनिक्स का एक और फायदा यह है कि इसके विनिर्माण की गुणवत्ता बहुत उच्च होती है। इसमें संचालन के लिए कम संसाधनों का उपयोग किया जाता है जिससे काम को स्मूथ और तेजी से संचालित किया जा सकता है।

यूनिक्स के नुकसान

कुछ यूनिक्स के नुकसान निम्नलिखित हैं:

  • सीधे उपयोगकर्ता के लिए जटिल: यूनिक्स एक शक्तिशाली ऑपरेटिंग सिस्टम होता है, लेकिन इसका उपयोग सीधे उपयोगकर्ताओं के लिए जटिल हो सकता है।
  • सीधे नहीं: यूनिक्स एक सीधा ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं होता है, इसलिए इसके उपयोगकर्ताओं को थोड़ा समय लग सकता है ताकि वे इसे सीख सकें।
  • कुछ समय तक कम संभावना: यूनिक्स के लिए उपलब्ध सॉफ्टवेयर कम हो सकता है जो कुछ उपयोगकर्ताओं को नुकसान पहुंचा सकता है।
  • विनिर्माण की लागत: यूनिक्स एक उच्च मानक ऑपरेटिंग सिस्टम है, इसलिए इसके विनिर्माण की लागत भी अधिक हो सकती है।
  • उच्च टेक्नोलॉजी की जरूरत: यूनिक्स उच्च टेक्नोलॉजी की जरूरत पड़ती है, इसलिए इसका उपयोग बहुत स्किल्ड प्रोफेशनल द्वारा होता है।
  • नियंत्रण की कमी: यूनिक्स में नियंत्रण की कमी हो सकती है, जो सुरक्षा के लिए एक समस्या हो सकती है।

Unix तथा Linux ऑपरेटिंग सिस्टम में अंतर

Unix और Linux दोनों ऑपरेटिंग सिस्टम हैं और दोनों में विशेषताएं एक दूसरे से मिलती हैं, लेकिन ये दोनों थोड़े अलग होते हैं।

कुछ मुख्य अंतर हैं:

  • उत्पत्ति इतिहास: Unix एक पुराना ऑपरेटिंग सिस्टम है जो AT & T Bell Labs द्वारा विकसित किया गया था। जबकि Linux, Linus Torvalds द्वारा 1991 में विकसित किया गया था।
  • लाइसेंस: Unix एक व्यवसायिक ऑपरेटिंग सिस्टम है, जिसके लिए लाइसेंस खरीदना पड़ता है, जबकि Linux एक खुला स्रोत ऑपरेटिंग सिस्टम है जिसे किसी भी उपयोगकर्ता फ्री में डाउनलोड और उपयोग कर सकता है।
  • कर्मचारी: Unix के लिए सॉफ्टवेयर इंजीनियरों और विशेषज्ञों की जरूरत होती है जो Unix सिस्टम के लिए विकसित सॉफ्टवेयर को धारण करते हैं, जबकि Linux को कोड करने के लिए समुदाय के सदस्य या वॉलंटियर का उपयोग किया जाता है।
  • डेवलपमेंट: Unix समूहों द्वारा विकसित किए जाते हैं, जबकि Linux खुले स्रोत समुदाय द्वारा विकसित किया जाता है।

RELATED ARTICLES
5 2 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular