Tuesday, December 5, 2023
HomeComputer & Technologywifi और broadband में क्या अंतर है

wifi और broadband में क्या अंतर है

Wi-Fi क्या है

wifi और broadband में क्या अंतर है –वाई-फ़ाई (Wi-Fi) एक तकनीक है जो वायरलेस नेटवर्क का नाम है जिससे आप इंटरनेट, ईमेल, फ़ाइल शेयरिंग आदि के लिए बिना तार के अपने कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस को इंटरनेट से कनेक्ट कर सकते हैं। Wi-Fi नेटवर्क को एक सेट टॉप बॉक्स के जरिए इंटरनेट से जोड़ा जाता है और यह नेटवर्क कई डिवाइसों को एक साथ जोड़ने की अनुमति देता है। Wi-Fi नेटवर्क का उपयोग घरों, ऑफिसों, होटलों, कैफ़े, एयरपोर्ट आदि में आमतौर पर किया जाता है।

wifi कैसे काम करता है

Wi-Fi काम करने के लिए एक वायरलेस रूप से नेटवर्क का उपयोग करता है जो एक या अधिक वाई-फ़ाई एक्सेस प्वाइंट या राउटर के माध्यम से इंटरनेट से जुड़ता है। यह एक छोटी चिप जो रेडियो तंत्रों का उपयोग करता है इस्तेमाल करता है जो इलेक्ट्रॉनिक संकेतों को अपने आसपास बिना तार के भेजता है।

जब एक डिवाइस वाई-फ़ाई नेटवर्क से जुड़ता है, तो उसका वाई-फ़ाई कार्ड नेटवर्क की खोज करता है और उससे संबंधित संदेश भेजता है। राउटर या एक्सेस प्वाइंट इस संदेश को अपने पास स्वीकार करता है और डिवाइस को अपने नेटवर्क में शामिल करता है। इसके बाद, डिवाइस और राउटर या एक्सेस प्वाइंट के बीच संचार शुरू होता है जिसके द्वारा डिवाइस इंटरनेट या नेटवर्क संचार कर सकता है।

Broadband क्या है

ब्रॉडबैंड एक उच्च गति का इंटरनेट कनेक्शन है जो त्वरित डेटा ट्रांसफर दर प्रदान करता है। इसका उपयोग इंटरनेट, डिजिटल टीवी, वॉयस ओवर इंटरनेट प्रोटोकॉल (VoIP), ऑनलाइन गेमिंग, वीडियो कॉलिंग, वीडियो स्ट्रीमिंग और अन्य डिजिटल सेवाओं के लिए किया जाता है।

  • ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन के लिए कई तकनीकों का उपयोग किया जाता है जैसे DSL (डिजिटल सब्सक्राइबर लाइन), केबल मोडेम, फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क (FTTH), रेडियो फ्रीक्वेंसी लिंक (RF) और सेलुलर नेटवर्क (जैसे 4G और 5G)।
  • ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन की गति आमतौर पर मीगाबिट प्रति सेकंड (Mbps) या गिगाबिट प्रति सेकंड (Gbps) में मापी जाती है। इस तरह की उच्च गति वाली कनेक्शन अपलोड और डाउनलोड के लिए तेजी से डेटा ट्रांसफर करने की अनुमति देती है जो आजकल की डिजिटल दुनिया में बहुत जरूरी है।




Broadband किसे काम करता है

ब्रॉडबैंड इंटरनेट कनेक्शन की तकनीक विभिन्न तरीकों से काम करती है। इसके लिए निम्नलिखित तकनीकों का उपयोग किया जाता है:

  • DSL (Digital Subscriber Line): DSL टेक्नोलॉजी का उपयोग करते हुए, डेटा केबल या फोन लाइन के माध्यम से ट्रांसमिट किया जाता है। DSL कनेक्शन का एक फायदा यह है कि यह प्रत्येक फोन लाइन पर इंस्टॉल किया जा सकता है जिससे लोगों को एक दूसरे को टेलीफोन कॉल करते हुए इंटरनेट कनेक्शन भी प्रदान कर सकते हैं।
  • केबल मोडेम: केबल मोडेम एक केबल टीवी नेटवर्क के साथ काम करता है और डेटा डाउनलोड करते समय एक उच्च गति वाली कनेक्शन प्रदान करता है।
  • फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क (FTTH): फाइबर ऑप्टिक नेटवर्क में एक शीशी या प्लास्टिक धातु नैरों के माध्यम से डेटा ट्रांसमिशन करता है। यह बहुत तेज होता है और एक उच्च गति वाली कनेक्शन प्रदान करता है।
  • रेडियो फ्रीक्वेंसी लिंक (RF): RF इंटरनेट कनेक्शन के लिए वायरलेस टेक्नोलॉजी का उपयोग करर्ता है और काम करता है।
wifi और broadband में क्या अंतर है

wifi और broadband में निम्नलिखित अंतर है

  • प्रणाली: WiFi एक वायरलेस नेटवर्क होता है, जबकि Broadband एक तार के माध्यम से कनेक्ट होता है।
  • स्पीड: Broadband एक उच्च गति का कनेक्शन होता है जो बड़े फ़ाइलों को तेजी से डाउनलोड और अपलोड करने की अनुमति देता है, जबकि WiFi की स्पीड नेटवर्क की स्थिति और डेवाइस के साथ जुड़े होने पर निर्भर करती है।
  • उपलब्धता: WiFi अधिकतर सार्वजनिक स्थानों जैसे कि कॉफ़ी शॉप, होटल, रेस्तरां, लाइब्रेरी आदि में उपलब्ध होता है। वहीं, Broadband घर या ऑफिस जैसी स्थानों पर उपलब्ध होता है जहां केबल लाइन या फोन लाइन का कनेक्शन होता है।
  • क्षमता: Broadband उच्च गति और बड़ी बैंडविड्थ के साथ आता है जो कई उपयोगकर्ताओं को समय बचाने और एक साथ विभिन्न उपयोगकर्ताओं के साथ कनेक्ट होने की अनुमति देता है। वहीं, WiFi केवलको एक समय कम से कम 2 उसेर्स को ही इंटरनेट चलाने के लिए allow करता है इससे ज्यादा डेवाइस को कनेक्ट करने से उसकी स्पीड में काफी कमी आ जाती है।

RELATED ARTICLES
5 6 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular