Thursday, February 29, 2024
HomeComputer & Technologyचैट जीपीटी और जीरो जीपीटी में क्या अंतर है

चैट जीपीटी और जीरो जीपीटी में क्या अंतर है

Zero GPT क्या है

चैट जीपीटी और जीरो जीपीटी में क्या अंतर है- GPT-0 एक First Generation  का भाषा मॉडल है

 



 

जो भाषा संबंधी कार्यों के लिए प्रयुक्त होता है। इस मॉडल को बनाने के लिए, OpenAI ने लगभग 8 मिलियन वेब पृष्ठों का डेटा इस्तेमाल किया था।

इस मॉडल में कुल 117 मिलियन पैरामीटर होते हैं और यह लम्बे वाक्यों और पैराग्राफों को समझने और उनका निर्माण करने में सक्षम होता है।

GPT-0 द्वारा उत्पन्न टेक्स्ट उत्कृष्ट होता है और उपयोगकर्ताओं के लिए उपयोग में आसान होता है। यह मॉडल मुख्य रूप से भाषा संबंधी कार्यों, जैसे कि भाषा संशोधन और उन्नयन, समाचार सारांश बनाना, और संवाद बॉटों के लिए उपयोग किया जाता है।

चैट जीपीटी और जीरो जीपीटी में क्या अंतर है?

“चैट जीपीटी” एक संवाद आधारित भाषा मॉडल होता है जो वाक्यों और संदेशों के जवाब देने के लिए बनाया गया है। यह मॉडल लोगों के साथ बातचीत करने और वाक्य संरचना, व्याकरण, शब्दावली और उच्चतर स्तर के भाषा संबंधी कार्यों के लिए प्रयोग किया जाता है।

दूसरी ओर, “जीरो जीपीटी” एक प्रथम पीढ़ी का भाषा मॉडल है, जिसे ओपनएआई द्वारा विकसित किया गया है। यह मॉडल लम्बे वाक्यों और पैराग्राफों को समझने और उनका निर्माण करने में सक्षम होता है। यह मॉडल भी भाषा संबंधी कार्यों के लिए उपयोग में आता है, जैसे कि भाषा संशोधन और उन्नयन, समाचार सारांश बनाना, और वाक्यों का अनुवाद करना।

इस तरह, “चैट जीपीटी” एक संवाद आधारित मॉडल है जो उपयोगकर्ताओं के साथ बातचीत करने के लिए बनाया गया है, जबकि “जीरो जीपीटी” एक भाषा मॉडल है जो भाषा संबंधी कार्यों के लिए उपयोग किया जाता है।

जीरो जीपीटी कैसे काम करता है

जीरो जीपीटी, जो ओपनएआई द्वारा विकसित किया गया है, एक प्रथम पीढ़ी का भाषा मॉडल है जो बहुत उच्च स्तर की एक्यूरेसी के साथ काम करता है। इस मॉडल के पीछे के काम का संक्षिप्त वर्णन निम्नलिखित है:

प्रथमतः, जीरो जीपीटी को विभिन्न भाषाओं का डेटा देना होता है। यह डेटा अनुवाद, समाचार सारांश, भाषा संशोधन, और अन्य जैसी भाषा संबंधित कार्यों से संबंधित होता है।

फिर, जीरो जीपीटी को भाषाओं के साथ संबंधित समानार्थक शब्दों, वाक्यों और वाक्य संरचनाओं के साथ अधिक संदर्भ में डालना होता है।

जीरो जीपीटी अपने न्यूरल नेटवर्क का उपयोग करके भाषा के अनुचित शब्दों को अनुवाद करने का प्रयास करता है। नेटवर्क अधिकतम संभावित अनुवाद को चुनता है जो पहले दिए गए डेटा से सीखा गया होता है।

जीरो जीपीटी नेटवर्क उन शब्दों के समूहों को भी समझता है जो एक संदर्भ में होते हैं




RELATED ARTICLES
5 8 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular