Elon Musk अपने दिमाग में लगवाएंगे ब्रेन चिप! जानिए क्या है Neuralink प्रोजेक्ट





Elon Musk अपने दिमाग में लगवाएंगे ब्रेन चिप! जानिए क्या है Neuralink प्रोजेक्ट:  स्पेसएक्स, टेस्ला और ट्विटर जैसी कंपनियों के मालिक एलोन मस्क नई तकनीकों में रुचि रखते हैं। मस्क की एक और कंपनी है, जो जटिल तकनीकों पर काम करती है। हम बात कर रहे हैं न्यूरालिंक की। न्यूरल इंटरफेस टेक्नोलॉजी वाली यह कंपनी दो दिनों से चर्चा में है। वजह है कंपनी ने जो धमाका किया, उसे लोगों के दिमाग में डाला जा सकता है।

Elon Musk अपने दिमाग में लगवाएंगे ब्रेन चिप! जानिए क्या है Neuralink प्रोजेक्ट

Elon Musk अपने दिमाग में लगवाएंगे ब्रेन चिप! जानिए क्या है Neuralink प्रोजेक्ट : यह मानव विकलांगता को खत्म करने में मदद करेगा। फर्क इतना है कि मस्क खुद इस चिप को अपने दिमाग में लगाना चाहते हैं।

1 दिसंबर आज से Digital Rupee होगा लॉन्च, जानिए आप कैसे कर सकते हैं इस्तेमाल

न्यूरालिंक से जुड़ा एक वीडियो भी सामने आया है, जिसमें एक बंदर टाइप करने के लिए अपने दिमाग का इस्तेमाल करता है। मस्क की कंपनी इस तकनीक पर काफी समय से काम कर रही है। आइए जानते हैं एलोन मस्क की कंपनी की अनोखी तकनीक के बारे में विस्तार से। न्यूरालिंक चिप क्या है?

यह सक्रिय बुद्धि वाली एक माइक्रोचिप है, जो मस्तिष्क की गतिविधि को रिकॉर्ड और पढ़ सकती है। उनकी मदद से वह लोगों की अक्षमताओं को दूर करने में मदद करेंगे। Elon Musk अपने दिमाग में लगवाएंगे ब्रेन चिप

इस चिप की बदौलत लकवाग्रस्त व्यक्ति स्मार्टफोन के साथ अपने दिमाग का इस्तेमाल कर सकेगा। दिमाग की मदद से यूजर्स हाथों के मुकाबले फोन से तेजी से काम कर सकेंगे। Elon Musk अपने दिमाग में लगवाएंगे ब्रेन चिप

मस्क ने 2016 में भी इसके बारे में बात की थी। न्यूरालिंक इस तकनीक पर काफी समय से काम कर रहा है। इससे पहले इससे जुड़े कुछ डीटेल्स सामने आए हैं। न्यूरालिंक ने पहले प्रदर्शित किया है कि कैसे चोर अपने हाथों का उपयोग किए बिना पिंग पोंग का खेल खेल सकते हैं।

मस्क के दिमाग में लगेगी चिप?

कंपनी के मुताबिक यह चिप आपके दिमाग में आने वाले विचारों को पढ़ सकती है। जिस व्यक्ति के दिमाग में यह चिप होगी, वह भी बिना कुछ बोले माइक्रोफोन में बोल सकेगा।

अब इसकी मदद से यूजर्स स्मार्टफोन और कंप्यूटर जैसे डिवाइस को मैनेज कर सकते हैं। इस बारे में बताते हुए मस्क ने कहा, “हम इसके बारे में सावधान रहना चाहते हैं और इसे मानव मस्तिष्क में डालने से पहले ठीक से काम करने की जरूरत है।”

मस्क ने कहा कि अगले 6 महीने में हम मानव मस्तिष्क में न्यूरालिंक स्थापित कर सकते हैं। कंपनी के मुताबिक, यह तकनीक पक्षाघात, अंधापन, स्मृति हानि और न्यूरोलॉजिकल समस्याओं वाले लोगों की मदद करेगी।

हालांकि मस्क ने इस बारे में कुछ नहीं कहा, लेकिन उन्होंने दिलचस्पी जरूर जताई। उन्होंने एश्ली वेंस के ट्वीट के जवाब में यह जानकारी दी। इसका मतलब है कि मस्क ने अपने दिमाग में ऐसी चिप लगाने की बात कही है.

ट्विटर पर एक यूजर ने लिखा, ‘अलोन ने ब्रेन ट्रांसप्लांट का वादा किया था। उन्होंने कहा कि शो के दौरान उनके दिमाग में एक चिप लगाई जाएगी। चूंकि परिणाम अभी तक नहीं आए हैं, इसलिए चिप अभी तक नहीं लगाई गई है। इसके जवाब में मस्क ने हां लिखा।

प्रोजक्ट सफल हुआ तो नेत्रहीन भी देख पाएंगे

मस्क का यह प्रोजेक्ट काम कर गया तो जन्म से ही अंधे लोगों की आंखों में भी रोशनी लाई जा सकेगी। इसके साथ ही रीढ़ की हड्डी टूटने या फिर लकवे के कारण पूरी तरह अपंग हो गए लोगों को भी फिर से ठीक करने के लिए भी न्‍यूरालिंक की तकनीक असरदायक साबित होगी।

एलन मस्‍क ने कहा कि मनुष्‍य के लिए आज आर्टिफिशिएल इंटेलीजेंस का मुकाबला करना बहुत जरूरी हो गया है और इसके जोखिमों को कम करने के लिए हमें कदम उठाने होंगे

पिछले साल वीडियो में बंदर गेम खेलते दिखा

एलन मस्क बोलने वाले इंडोनेटर इंडोनस द्वारा, रोगी बिना सोचे -समझे बोल सकता है। इस विधि से, लोगों और मशीन के बीच संदेश बदला जा सकता है। मास्क और एक ने इसे और अन्य नई चीजें दिखाईं जो नई बनाती हैं।

न्यूरालिन ने 2021 में वीडियो प्रकाशित किया, जिसमें उनके मस्तिष्क के साथ एक मस्तिष्क देखा गया था। कंपनी का कहना है कि एक बंदर के साथ चेतावनी दी गई है।







 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments