Friday, June 14, 2024
HomeजानकारियाँIshita Kishor's UPSC Preparation Strategy Hindi कैसे बने UPSC 2023 Topper

Ishita Kishor’s UPSC Preparation Strategy Hindi कैसे बने UPSC 2023 Topper

Ishita Kishor’s UPSC Preparation Strategy Hindi कैसे बने UPSC 2023 Topper , इशिता किशोर की यूपीएससी तैयारी , Ishita किशोर ने कैसे की तैयारी  , इशिता किशोर की सफलता का श्रेय उनकी सुनियोजित और अनुशासित तैयारी रणनीति को दिया जा सकता है।

उन्होंने सावधानीपूर्वक big यूपीएससी सीएसई syllabus को cover किया और अपनी well-planned समझ को मजबूत करने पर focus केंद्रित किया। इशिता ने मानक syllabus का जिक्र करते हुए और current affairs से अपडेट रहने के लिए self-study के लिए लंबे समय तक devotee किया। इसके अतिरिक्त, उन्होंने experienced mentors से guidance लिया और अपनी तैयारी को बढ़ाने के लिए reputable coaching institutes में शामिल हुईं।

Ishita Kishor’s UPSC Preparation Strategy Hindi

शुरुआत करने के लिए, इशिता ने एक व्यापक अध्ययन योजना तैयार की जिसने उन्हें एक निश्चित समय सीमा के भीतर सभी विषयों और विषयों को कवर करने की अनुमति दी। उसने अपनी तैयारी के लिए एक व्यवस्थित और संगठित दृष्टिकोण सुनिश्चित करते हुए अपने अध्ययन कार्यक्रम को दैनिक, साप्ताहिक और मासिक लक्ष्यों में विभाजित किया।




इशिता किशोर की यूपीएससी तैयारी | Ishita Kishor’s UPSC Preparation Strategy Hindi

  • Formulated a comprehensive study plan with daily, weekly, and monthly goals.
  • Focused on building a strong foundation of conceptual knowledge.
  • Thoroughly studied prescribed textbooks and reference materials.
  • Made notes and summarized key points for effective revision.
  • Stayed updated with current affairs by reading newspapers and news magazines.
  • Referred to credible online sources for national and international events.
  • Sought guidance from experienced mentors for insights and study materials.
  • Joined a reputable coaching institute for specialized UPSC CSE coaching.

इशिता ने वैचारिक ज्ञान की एक मजबूत नींव बनाने को प्राथमिकता दी। उसने निर्धारित पाठ्यपुस्तकों और संदर्भ सामग्री का अच्छी तरह से अध्ययन किया, नोट्स बनाए और रास्ते में प्रमुख बिंदुओं को सारांशित किया। मौलिक अवधारणाओं को समझने से न केवल उन्हें सैद्धांतिक सवालों के जवाब देने में मदद मिली बल्कि महत्वपूर्ण सोच और विश्लेषणात्मक कौशल में भी मदद मिली।

करंट अफेयर्स के महत्व

यूपीएससी सीएसई परीक्षा में करंट अफेयर्स के महत्व को पहचानते हुए, इशिता ने नवीनतम घटनाओं से अपडेट रहने की आदत बना ली। वह धार्मिक रूप से समाचार पत्र पढ़ती थी, समाचार पत्रिकाओं का अनुसरण करती थी, और राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय घटनाओं, सरकारी नीतियों और सामाजिक-आर्थिक मुद्दों पर जानकारी इकट्ठा करने के लिए विश्वसनीय ऑनलाइन स्रोतों का हवाला देती थी। इसने उन्हें वर्तमान मामलों के ज्ञान को उनके उत्तरों और निबंधों में एकीकृत करने में सक्षम बनाया, जिससे उनकी जागरूकता और विश्लेषणात्मक क्षमताओं का प्रदर्शन हुआ।




सलाह और मार्गदर्शन के मूल्य को पहचाना

इशिता ने अपनी तैयारी यात्रा में सलाह और मार्गदर्शन के मूल्य को पहचाना। उन्होंने अनुभवी सलाहकारों से मार्गदर्शन मांगा जिन्होंने परीक्षा में उत्कृष्टता प्राप्त करने के लिए मूल्यवान अंतर्दृष्टि, अध्ययन सामग्री और सुझाव प्रदान किए। उनकी विशेषज्ञता और मार्गदर्शन ने उन्हें अपनी तैयारी को सुव्यवस्थित करने, अपनी ताकत और कमजोरियों की पहचान करने और आवश्यक सुधार करने में मदद की।

इसके अलावा, इशिता एक प्रतिष्ठित कोचिंग संस्थान में शामिल हो गई, जिसने विशेष यूपीएससी सीएसई कोचिंग की पेशकश की। कोचिंग संस्थान ने उन्हें एक संरचित पाठ्यक्रम, नियमित मॉक टेस्ट और व्यक्तिगत प्रतिक्रिया प्रदान की। सहकर्मी चर्चाओं और साथी उम्मीदवारों के साथ बातचीत में शामिल होना भी फायदेमंद साबित हुआ क्योंकि इसने एक स्वस्थ प्रतिस्पर्धी माहौल को बढ़ावा दिया और ज्ञान और अंतर्दृष्टि साझा करने के लिए एक मंच प्रदान किया।

लगातार अभ्यास और रिवीजन

इशिता की तैयारी की रणनीति का एक अन्य महत्वपूर्ण पहलू लगातार अभ्यास और रिवीजन था। उसने अपनी समझ का आकलन करने और अपने उत्तर-लेखन कौशल में सुधार करने के लिए पिछले वर्षों के प्रश्न पत्रों और मॉक टेस्ट को हल किया। नियमित अभ्यास ने न केवल उसकी गति और सटीकता को बढ़ाया बल्कि उसे परीक्षा पैटर्न और प्रश्नों के प्रकारों से भी परिचित कराया।

परीक्षा के तकनीकी पहलुओं के अलावा, इशिता ने अपने संपूर्ण व्यक्तित्व लक्षणों को विकसित करने पर ध्यान केंद्रित किया। उन्होंने नियमित लेखन अभ्यास और मॉक इंटरव्यू के माध्यम से लिखित और मौखिक दोनों तरह के अपने संचार कौशल को निखारा। उसने अपनी अभिव्यक्ति और महत्वपूर्ण सोच क्षमताओं में सुधार के लिए समूह चर्चाओं और बहसों में भाग लिया।

इशिता की तैयारी की रणनीति चुनौतियों से रहित नहीं थी। UPSC CSE परीक्षा अत्यधिक समर्पण, दृढ़ता और बलिदान की मांग करती है। इशिता को एक अनुशासित दिनचर्या बनाए रखनी थी, अपनी व्यक्तिगत और शैक्षणिक प्रतिबद्धताओं को संतुलित करना था और परीक्षा के दबाव का सामना करना था। हालांकि, उनके दृढ़ निश्चय, सकारात्मक मानसिकता और परिवार और दोस्तों के समर्थन ने उन्हें इन चुनौतियों से उबरने में मदद की।




Conclusion

अंत में, यूपीएससी सीएसई परीक्षा में इशिता किशोर की सफलता का श्रेय उनकी अच्छी तरह से संरचित और अनुशासित तैयारी रणनीति को दिया जा सकता है। एक मजबूत वैचारिक नींव बनाने की उनकी प्रतिबद्धता, करंट अफेयर्स से अपडेट रहना, मेंटर्स से मार्गदर्शन लेना और लगातार अभ्यास ने उनकी उल्लेखनीय उपलब्धि का मार्ग प्रशस्त किया। उनकी यात्रा महत्वाकांक्षी उम्मीदवारों के लिए एक प्रेरणा के रूप में कार्य करती है और यूपीएससी सीएसई परीक्षा को क्रैक करने में रणनीतिक योजना, कड़ी मेहनत और दृढ़ता के महत्व को रेखांकित करती है।

Read Also : UPSC CSE Result 2022: कौन हैं इशिता किशोर, जिन्होंने इस बार किया UPSE Exam टॉप

RELATED ARTICLES
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular