Saturday, March 2, 2024
Homeदेश दुनियाकेरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई...

केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी

कोरोना न्यूज़ 2023, Nipah Virus Kerala, केरल कोविड के शिकार मरीज़, कोविड की हुई वापसी, कोविड संक्रमण का कारण क्या है, कोविड संक्रमण से ठीक होने में कितना समय लगता है, कोविड वैक्सीन के लिए कौन एलिजिबल है 



 केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी-  जनवरी 2020 में भारत में कोरोना का पहला मामला केरल में आया था. और फिर चीन के वुहान शहर से लौटे एक मेडिकल छात्र में कोरोना वायरस पाया गया और चीन के वुहान शहर से ही कोरोना महामारी की शुरुआत हुई

सरकार के द्वारा पता चला है केरल और तमिलनाडु में इस वेरिएंट के कुछ केस मौजूद हैं हालांकि फिलहाल घबराने की कोई बात नहीं है

Nipah Virus Kerala: केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी

Nipah Virus Kerala: केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी <!-- img src=

2023 में कोरोनावायरस के बारे में ताज़ा समाचार

  • भारत में, कोविड-19 के मामले फिर से बढ़ रहे हैं। 19 दिसंबर को, देश में 3,824 नए मामले दर्ज किए गए, जो 2023 में एक दिन में सबसे अधिक है।

  • भारत में, कोविड-19 के नए मामलों में बढ़ोतरी का एक कारण JN.1 सबवैरिएंट है, जो डेल्टाक्रॉन के रूप में भी जाना जाता है। यह सबवैरिएंट डेल्टा और ओमाइक्रोन वेरिएंट का संयोजन है।

  • विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने BF.7 सबवैरिएंट पर भी चेतावनी दी है। यह सबवैरिएंट ओमाइक्रोन वेरिएंट का एक उप-वंश है। WHO ने कहा है कि BF.7 सबवैरिएंट में संक्रमण और अस्पताल में भर्ती होने का खतरा बढ़ सकता है।

सरकार ने कोविड-19 बचने के  उपाय

  • मास्क पहनना अनिवार्य करना
  • सार्वजनिक स्थानों पर भीड़भाड़ कम करना
  • टीकाकरण और प्रीकॉशन डोज के लिए प्रोत्साहन देना

भारतीय नागरिकों से अपील की गई है कि वे कोविड-19 के खिलाफ सुरक्षा उपाय जारी रखें, जिसमें टीकाकरण, मास्क पहनना और सामाजिक दूरी बनाए रखना शामिल है।

Nipah Virus Kerala

 केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी-  केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी- सितंबर 2023 में, केरल को निपाह वायरस के प्रकोप का सामना करना पड़ा, जो 2018 के बाद से राज्य में छठा प्रकोप था। हालांकि यह संक्षिप्त था, केवल एक सप्ताह तक चला, इसने पूरे क्षेत्र में चिंता की लहर भेज दी। 

  • दिनांक: 12-15 सितंबर, 2023
  • स्थान: कोझिकोड जिला, केरल
  • मामले: 6 पुष्ट मामले (सभी पुरुष, आयु 9-45 वर्ष)
  • मृत्यु: 2

कोविड बीमारी कैसे फैलती है?

कोविड-19 एक संक्रामक बीमारी है जो एक कोरोनावायरस नामक वायरस के कारण होती है। यह वायरस संक्रमित व्यक्ति के नाक या मुंह से निकलने वाली छोटी बूंदों के माध्यम से फैलता है। जब कोई व्यक्ति इन बूंदों में से किसी एक में सांस लेता है, तो वायरस उसके फेफड़ों में प्रवेश कर सकता है। एक संक्रमित व्यक्ति के साथ करीबी संपर्क में आने से कोविड-19 फैल सकता है। इसका मतलब है कि किसी ऐसे व्यक्ति के साथ 1 मीटर (3 फीट) से कम दूरी पर होना जो खांस रहा है, छींक रहा है या सांस छोड़ रहा है।



जब कोई संक्रमित व्यक्ति खांसता या छींकता है, तो वह छोटे-छोटे बूंदों को हवा में छोड़ता है। ये बूंदें कुछ मिनटों तक हवा में रह सकती हैं और किसी अन्य व्यक्ति के मुंह या नाक में प्रवेश कर सकती हैं। एक संक्रमित व्यक्ति द्वारा छूई गई किसी सतह को छूने से भी कोविड-19 फैल सकता है। यदि आपने ऐसी सतह को छुआ है, तो अपने हाथों को साबुन और पानी से धोना महत्वपूर्ण है।

कोविड 19 बुखार आमतौर पर कितने समय तक रहता है?

Nipah Virus Kerala: केरल में देखा गया कोविड के शिकार मरीज़ , कोविड की हुई वापसी- कोविड-19 बुखार आमतौर पर 2 से 5 दिनों तक रहता है। हालांकि, कुछ मामलों में, यह 10 दिनों तक या उससे अधिक समय तक रह सकता है। बुखार को कम करने के लिए, आप ओवर-द-काउंटर दर्द निवारक दवाएं ले सकते हैं, जैसे कि इबुप्रोफेन या एसिटामिनोफेन। यदि आपका बुखार 38.3 डिग्री सेल्सियस (100.9 डिग्री फ़ारेनहाइट) या उससे अधिक है, या यदि यह 3 दिनों से अधिक समय तक बना हुआ है, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए।

कोविड-19 के विभिन्न वेरिएंट के आधार पर बुखार का समय भी भिन्न हो सकता है। उदाहरण के लिए, ओमाइक्रोन वेरिएंट के साथ संक्रमण के बाद बुखार अधिक बार होता है, लेकिन यह आमतौर पर डेल्टा वेरिएंट के साथ संक्रमण के बाद बुखार की तुलना में कम समय तक रहता है।

  • खांसी
  • सांस लेने में तकलीफ
  • थकान
  • मांसपेशियों में दर्द
  • सिरदर्द
  • गले में खराश
  • गले में दर्द
  • स्वाद या गंध की हानि

कोविड 19 से कौन सा अंग प्रभावित होता है?

हृदय, रक्त वाहिकाएं, मस्तिष्क, गुर्दे, लिवर, पाचन तंत्र, त्वचा

कोविड-19 के कारण होने वाले अंगों की क्षति गंभीर हो सकती है, और यहां तक कि मृत्यु भी हो सकती है और इन उम्र वाले और यह लोग जल्द संक्रमित होते है तो आप लोग अपना बेहद ख्याल रखे

  • पुरुष
  • 65 वर्ष से अधिक आयु के लोग
  • स्वस्थ रहने वाले लोग
  • मधुमेह, उच्च रक्तचाप, हृदय रोग, फेफड़ों की बीमारी, या कैंसर जैसे पुरानी बीमारियों वाले लोग
  • गर्भवती महिलाएं



RELATED ARTICLES
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular