Wednesday, May 29, 2024
HomeComputer & Technologyमोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे

मोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे

मोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे , मोबाइल बैंकिंग क्या है? कैसे करें, मोबाइल बैंकिंग और नेट बैंकिंग में अंतर, Mobile Banking Kya Hai ? | मोबाइल बैंकिंग कैसे शुरू करें :- Mobile banking एक सेवा है जिसके द्वारा ग्राहक आसानी से अपने बैंक खाते को एक्सेस और प्रबंधित कर सकते हैं। मोबाइल बैंकिंग की सहायता से ग्राहक पैसे भेज सकते हैं, खाता शेष जांच सकते हैं, बिल भुगतान कर सकते हैं और अन्य बैंकिंग कार्य कर सकते हैं। इसके परिणामस्वरूप, बैंकों और एटीएम पर भीड़ काफी कम हो गई है।

मोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे

मोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे  अब, केवल एक स्मार्टफोन और इंटरनेट के उपयोग के साथ, कोई भी अपने घर पर आराम से बैंकिंग सेवाओं की सुविधा का आनंद ले सकता है। भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) की वार्षिक रिपोर्ट के अनुसार, मोबाइल बैंकिंग सेवाओं की मात्रा में 92 प्रतिशत और मूल्य में 13 प्रतिशत की क्रमिक वृद्धि हुई है। वित्तीय वर्ष 2019 में, भारत में मोबाइल बैंकिंग लेनदेन की कुल संख्या लगभग 6.2 बिलियन थी।

मोबाइल बैंकिंग क्या है ?

मोबाइल बैंकिंग एक ऐसी सेवा है जो ग्राहकों को अपने घरों में आराम से मोबाइल डिवाइस का उपयोग करके बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने की अनुमति देती है। यह उपयोगकर्ताओं को मोबाइल बैंकिंग प्लेटफॉर्म के माध्यम से अपने खाते की शेष राशि की जांच करने, लेनदेन इतिहास की समीक्षा करने, खातों के बीच धन हस्तांतरण करने, ऋण भुगतान करने और अन्य बैंकिंग कार्य करने में सक्षम बनाता है।

मोबाइल बैंकिंग आमतौर पर बैंकों या financial institutions द्वारा समर्पित मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से प्रदान की जाती है जो सुरक्षित रूप से आपके खातों तक पहुंच प्रदान करते हैं और चलते-फिरते लेनदेन की सुविधा प्रदान करते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपका एसबीआई (स्टेट बैंक ऑफ इंडिया) के साथ एक बैंक खाता है, तो आप योनो एसबीआई नामक बैंक के मोबाइल बैंकिंग ऐप को डाउनलोड कर सकते हैं और उपरोक्त सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

Types Of Mobile Banking In Hindi

मोबाइल बैंकिंग 5 प्रकार में होती है। आइए इन 5 प्रकारों को संक्षेप में समझते हैं और जानें कि ये किस प्रकार ग्राहकों को बैंकिंग सेवाओं से जोड़ते हैं और उन्हें सुविधा प्रदान करते हैं।

1. Mobile Banking Apps

पहला और सबसे महत्वपूर्ण प्रकार मोबाइल बैंकिंग ऐप है, जो मोबाइल बैंकिंग के लिए डिज़ाइन किए गए समर्पित एप्लिकेशन हैं। उदाहरण के लिए, आप किसी भी बैंक का मोबाइल ऐप जैसे योनो एसबीआई, आईमोबाइल पे, केनरा एआई1 या बड़ौदा एम-कनेक्ट प्लस चुन सकते हैं। ये विभिन्न बैंकों द्वारा पेश किए जाने वाले विभिन्न मोबाइल बैंकिंग ऐप हैं जो आपको अपने घर पर आराम से बैंकिंग सेवाओं का आनंद लेने की अनुमति देते हैं।

मोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे  आप इन ऐप्स को बैंक के आधिकारिक प्लेटफॉर्म, प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से आसानी से डाउनलोड कर सकते हैं। ये ऐप ग्राहकों को अपने मोबाइल उपकरणों का उपयोग करके अपने खातों तक पहुंचने, शेष राशि की जांच करने, फंड ट्रांसफर करने, बिल भुगतान करने और अन्य बैंकिंग लेनदेन करने में सक्षम बनाता है। यह प्राथमिक प्रकार की मोबाइल बैंकिंग है और इसे फोन बैंकिंग भी कहा जाता है।

2. SMS Banking

एक अन्य प्रकार SMS बैंकिंग है। SMS मोबाइल बैंकिंग में, बैंक ग्राहकों को विशिष्ट नंबर प्रदान करता है, जिसे वे बैंकिंग सेवाओं तक पहुंचने के लिए कॉल या डायल कर सकते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आप अपने एसबीआई खाते के लिए एक ई-स्टेटमेंट जनरेट करना चाहते हैं, तो आपको 09223588888 पर “ESTMT <स्पेस> खाता संख्या <स्पेस> <पीडीएफ को एन्क्रिप्ट करने के लिए 4 अंकों का कोड>” एक परीक्षण संदेश भेजने की आवश्यकता है।

इसी तरह, यदि आप अपने एसबीआई खाते की शेष राशि के बारे में पूछताछ करना चाहते हैं, तो आपको 09223766666 पर “बीएएल” भेजना होगा। SMS बैंकिंग के लिए इंटरनेट कनेक्शन की आवश्यकता नहीं है; संदेश भेजने और अपने घर पर आराम से बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठाने के लिए आपके पास केवल एक चार्ज किया हुआ सिम कार्ड होना चाहिए।

3. Mobile Web Banking

Mobile Web Banking के लिए किसी विशिष्ट ऐप को डाउनलोड करने की आवश्यकता नहीं है। आपको बस अपने स्मार्टफोन के ब्राउज़र में आपके बैंक द्वारा प्रदान किए गए निर्दिष्ट वेब URL को खोलने की आवश्यकता है, और वहां से आप आसानी से बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं। हालाँकि, आपको पहले वेब बैंकिंग के लिए पंजीकरण करना होगा।

पंजीकरण के बाद, आपको एक उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड दिया जाएगा। इस यूजरनेम और पासवर्ड से आप वेब बैंकिंग एक्सेस कर सकते हैं। आपको केवल निर्दिष्ट वेब URL पर जाने की आवश्यकता है, लॉग इन करने के लिए अपना उपयोगकर्ता नाम और पासवर्ड दर्ज करें और वॉइला! अब आप फंड ट्रांसफर करने से लेकर ईएमआई फॉर्म भरने तक के कई काम बड़ी आसानी से कर सकते हैं।

4. USSD Banking

यूएसएसडी असंरचित पूरक सेवा डेटा के लिए खड़ा है, और इसे आमतौर पर *123# या *525# के रूप में स्वरूपित किया जाता है। यदि आपने कभी कीपैड मोबाइल का उपयोग किया है, उदाहरण के लिए, आप अपने एयरटेल सिम कार्ड पर शेष राशि की जांच करने के लिए *123# डायल करने से परिचित हो सकते हैं। इसी तरह, आप निर्दिष्ट यूएसएसडी कोड डायल करके भी बैंकिंग सेवाओं का लाभ उठा सकते हैं।

अलग-अलग बैंकों के अलग-अलग यूएसएसडी कोड होते हैं। उदाहरण के लिए, यदि आपका एसबीआई बैंक में खाता है, तो आप बैलेंस पूछताछ, फंड ट्रांसफर और मोबाइल टॉप-अप जैसी सेवाओं का लाभ उठाने के लिए *595# डायल कर सकते हैं। इसी तरह, एक्सिस बैंक में, आप मोबाइल बैंकिंग सेवाओं का उपयोग करने के लिए 9945# डायल कर सकते हैं।

5. Contactless Mobile Payments

अंत में, हमारे पास संपर्क रहित मोबाइल भुगतान हैं, जो नियर फील्ड कम्युनिकेशन (NFC) तकनीक का उपयोग करते हैं। यह एक वायरलेस भुगतान तकनीक है जो दो अलग-अलग उपकरणों को एक दूसरे के साथ संवाद करने में सक्षम बनाती है, जिससे टैप-एंड-पे लेनदेन की अनुमति मिलती है।

एनएफसी भुगतान के लिए, मोबाइल ऐप या कार्ड में एनएफसी चिप होना चाहिए। उदाहरण के लिए, Google पे एनएफसी कार्यक्षमता प्रदान करता है। आपको बस इतना करना है कि एप्लिकेशन खोलें, भुगतान विकल्प चुनें, और फिर अपने डिवाइस को एनएफसी-सक्षम टर्मिनल पर टैप करें। उसके बाद, आपको भुगतान प्राधिकरण के लिए एक पिन प्रदान करने या बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण से गुजरने की आवश्यकता हो सकती है।

मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे ?

मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे  मोबाइल बैंकिंग का लाभ उठाने के लिए सबसे पहले बैंक में खाता होना जरूरी है। अभी भी कई बैंक ऐसे हैं जो अपने ग्राहकों को मोबाइल बैंकिंग सेवाएं प्रदान नहीं करते हैं। इसलिए, आपको पहले यह पुष्टि करने की आवश्यकता है कि आपका बैंक मोबाइल बैंकिंग सुविधाएं प्रदान करता है या नहीं। एक बार जब आप यह निर्धारित कर लें कि आपका बैंक मोबाइल बैंकिंग प्रदान करता है, तो आप इन चरणों का पालन कर सकते हैं |

Step 1: सबसे पहले अपने बैंक के मोबाइल बैंकिंग ऐप को डाउनलोड करें । इसे आप प्ले स्टोर और ऐप स्टोर, दोनों ही जगहों से डाउनलोड कर सकते हैं ।

Step 2: इसके पश्चात मोबाइल बैंकिंग के लिए रजिस्ट्रेशन करें । ऐप डाउनलोड करके खोलने के पश्चात आप रजिस्ट्रेशन कर सकते हैं जिसके लिए आपको account number, debit card number, आदि जानकारियां देनी होंगी ।

Step 3: इसके पश्चात ऐप की सेटिंग से सिक्योरिटी ऑप्शंस चुनें । Two Step Verification और Biometric Authentication को आप एनेबल कर सकते हैं ताकि आपका अकाउंट किसी भी हैकिंग या फ्राइड से सुरक्षित रहे ।

Step 4: अंत में आप Mobile Banking का इस्तेमाल करना शुरू कर सकते हैं । आप ऐप की ही मदद से किसी अन्य बैंक खाताधारक को फंड ट्रांसफर कर सकते हैं, बैंक खाते में शेष धनराशि की जांच कर सकते हैं, ईएमआई और अन्य ऋण चुका सकते हैं आदि ।

हां, आप केवल 4 चरणों में मोबाइल बैंकिंग का उपयोग शुरू कर सकते हैं। हालांकि, कृपया ध्यान दें कि अलग-अलग बैंकों के पास अलग-अलग डिज़ाइन और शामिल चरणों में भिन्नता हो सकती है। इसलिए, कुछ अतिरिक्त कदम हो सकते हैं जिनका आपको पालन करने की आवश्यकता है। मोबाइल बैंकिंग का उपयोग करके, आप मोबाइल बैंकिंग सेवाओं तक पहुँचने और उपयोग करने की प्रक्रिया शुरू कर सकते हैं।

Mobile Banking और Net Banking में क्या अंतर है ?

मोबाइल बैंकिंग क्या है फायदे और मोबाइल बैंकिंग कैसे शरू करे  नेट बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग दोनों ऑनलाइन सेवाएं हैं जो आपको अपने घर में आराम से बैंकिंग सुविधाओं का उपयोग करने की अनुमति देती हैं। हालाँकि, दोनों के बीच अंतर हैं, जिन्हें निम्न तालिका के माध्यम से समझा जा सकता है:

MOBILE BANKING NET BANKING
मोबाइल बैंकिंग में आमतौर पर स्मार्टफोन या टैबलेट का इस्तेमाल किया जाता है नेट बैंकिंग में आमतौर पर डेस्कटॉप डिवाइस जैसे लैपटॉप और कंप्यूटर का इस्तेमाल किया जाता है
मोबाइल बैंकिंग ज्यादा आसानी से किसी भी स्थान से एक्सेस किया जा सकता है नेट बैंकिंग का इस्तेमाल किसी भी स्थान से करना मुश्किल है और इसे आसानी से एक्सेस नहीं किया जा सकता
मोबाइल बैंकिंग में सीमित विकल्प मौजूद होते हैं नेट बैंकिंग में मोबाइल बैंकिंग की तुलना में ज्यादा विकल्प मौजूद होते हैं
यह नेट बैंकिंग की तुलना में कम सिक्योर होता है यह मोबाइल बैंकिंग की तुलना में ज्यादा सिक्योर होता है
Mobile Banking में आमतौर कर ट्रांजेक्शन लिमिट होती है Net Banking में आमतौर पर कम ट्रांजेक्शन लिमिट होती है
इसके लिए हमेशा इंटरनेट की आवश्यकता नहीं है बिना इंटरनेट के नेट बैंकिंग का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है

Mobile Banking के फायदे 

मोबाइल बैंकिंग की सुविधा इस समय कई लोगों द्वारा इस्तेमाल की जा रही है. इसके लाभ निम्न लिखित है

  • मोबाइल बैंकिंग इन्टरनेट बैंकिंग से अधिक सुविधाजनक है. जहाँ ऑनलाइन बैंकिंग के लिए कंप्यूटर और इन्टरनेट की आवश्यकता है वहीँ मोबाइल बैंकिंग बहुत आसानी से एक छोटे से फ़ोन के ज़रिये भी अंजाम पा सकती है. साथ ही नेट बैंकिंग में सर्वर की दिक्क़त हो सकती है, लेकिन मोबाइल बैंकिंग में ऐसी किसी परेशानी का सामना नहीं करना पड़ता.
  • मोबाइल बैंकिंग की सहायता से कई तरह के बिल घर बैठे ही भरे जा सकते हैं. इसकी सहायता से लम्बी कतारों में खड़े होने से बचा जा सकता है.
  • मोबाइल बैंकिंग अन्य तरह की बैंकिंग से अधिक सस्ती होती है. इसका शुल्क टेली बैंकिंग से बहुत कम होता है. जिसका कारण ये है कि ग्राहक किसी की सहयता के बग़ैर अपनी बैंकिंग अपने मोबाइल बैंकिंग से कर लेता है. कई बैंक इस सेवा को अपने ग्राहकों के लिए बहुत ही कम शुल्क में ये सेवा देते है.
  • किसी भी समय की जाने वाली बैंकिंग अर्थात मोबाइल बैंकिंग की सबसे बड़ी सुविधा ये है कि इसकी सहायता से किसी भी समय कहीं से भी बैंकिंग की जा सकती है. बैंक बंद हो जाने के बाद भी ग्राहक अपने मोबाइल बैंकिंग की सहायता से पैसे का ट्रांजक्शन कर सकता है.
  • फ्री बैंकिंग सर्विस मतलब बैंक द्वारा दी गयी मोबाइल बैंकिंग की सुविधा के लिए बैंक कोई अतिरिक्त शुल्क नहीं लेता, और न ही अपने अकाउंट जाँच करने की कोई सीमा तय है. ग्राहक जितनी बार चाहे अपने बैंक अकाउंट मोबाइल में खोल सकता है.
  • कई बैंकिंग कंपनी अपने इस सेवा में ग्राहकों को क्रेडिट/ डेबिट अलर्ट, अकाउंट बैलेंस की जांच, लेनदेन करना, फण्ड ट्रान्सफर की सुविधा, न्यूनतम बैलेंस अलर्ट आदि की सुविधा भी देती है.
  • ग्राहक और ग्राहक लाभार्थी यदि एक ही बैंक के ग्राहक हो तो पैसे का ट्रांजक्शन बहुत ही जल्द बड़ी आसानी से हो जाता है.
  • कई बैंकों ने इसके लिए अपने अलग एप्लीकेशन तैयार किया है. जिसके अंतर्गत ग्राहक बैंक के मुख्य सर्वर से संयुक्त रह सकता है, और उसके बैंक अकाउंट की कोई भी जानकारी मोबाइल फ़ोन या सिम कार्ड में सेव नहीं होती है. ये एप्लीकेशन इनक्रिप्शन तकनीक से बना होता है, जिसमे सुरक्षा सीमा बहुत अधिक बढ़ जाती है

FAQs Mobile Banking Kya Hai ?

Q. मोबाइल बैंकिंग से क्या क्या कर सकते हैं ?

मोबाइल बैंकिंग से खाते की शेष राशि की जाँच करना, लेन-देन इतिहास की समीक्षा करना, खातों के बीच पैसे ट्रांसफर करना, ऋण भुगतान करना आदि कर सकते हैं ।

Q.मोबाइल बैंकिंग कैसे किया जाता है ?

मोबाइल बैंकिंग के लिए सबसे पहले प्ले स्टोर या ऐप स्टोर से अपने बैंक का मोबाइल बैंकिंग ऐप डाउनलोड किया जाता है । इसके बाद आप खोलकर मांगी गई सभी जानकारियां भर कर रजिस्ट्रेशन प्रक्रिया पूरी की जाती है । अंत में मोबाइल बैंकिंग सेवाओं का इस्तेमाल किया जाता है ।

Q. बैंकिंग और मोबाइल बैंकिंग में क्या अंतर है ?

बैंकिंग दूसरों के धन की रक्षा करने का व्यवसाय है तो वहीं मोबाइल बैंकिंग उस धन का अलग अलग कार्यों में इस्तेमाल करने का एक सर्विस है ।

Read More: 

RELATED ARTICLES
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular