Saturday, February 24, 2024
Homeजानकारियाँमुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – इस्लाम धर्म की स्थापना का आरंभ विश्वास के अनुसार 7वीं सदी में हुआ था, जब पैगंबर मोहम्मद (सल्लाहु अलैहि वसल्लम) ने अपनी पहली वाहयात प्राप्त की थीं। पैगंबर मोहम्मद को मुस्लिम धर्म के अद्भूत संदेशकारी और प्रवर्तक माना जाता है, जिनके जीवन और उनके प्रेरणास्त्रोतों को कुरान में दर्शाया गया है।

इस्लाम को कबूल करे और हमसे जुड़े 🤲

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – मुस्लिम धर्म की स्थापना इस परंपरागत मान्यता के अनुसार, 610 ईसा पूर्व में हुई थी, जब मोहम्मद ने मेक्का नगर में अपनी पहली वाहयात प्राप्त की। यह घटना कुरान में दर्शाई गई है और इसे इस्लामी धर्म के आरंभ का क्रियात्मक क्षण माना जाता है।

इस्लाम धर्म की सच्चाई

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – मोहम्मद के संदेश का मुख्य सारांश यह है कि एक एकमेव ईश्वर है और मनुष्यों को उसी की इबादत करनी चाहिए। इस्लाम का मुख्य सिद्धांत “तौहीद” है, जिसमें ईश्वर की एकता का आदान-प्रदान है।

इस्लाम धर्म का विस्तार सिर्फ मक्का और मदीना में ही नहीं हुआ, बल्कि बाद में यह पूरे आरबी स्वाधीनता और उत्तरी अफ्रीका, एशिया, और यूरोप में फैल गया।


इस्लाम की सच्चाई या इसका मान्यता प्राप्त होना व्यक्ति के आत्म-अनुसंधान और आत्म-निर्धारण पर आधारित है। मुस्लिम धर्म के अनुयायियों का मानना ​​है कि कुरान में एक सत्य और मुकम्मल धर्म की बात की गई है, और इसे अनुसरण करना उनके जीवन का उद्देश्य है।

इस्लाम का उदय हज़रत आदम अलैहिस्सलाम के आने से हुआ

 मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – इस्लाम का उदय हज़रत आदम (अलैहिस्सलाम) के साथ हुआ। इस्लाम, मुस्लिम धर्म का मौलिक सिद्धांत, पैगम्बर मुहम्मद (सल्लाहु अलैहि वसल्लम) के माध्यम से अल्लाह (सुब्हानवा ताआला) के प्रति श्रद्धा के आधार पर रूपित हुआ है। हज़रत आदम (अलैहिस्सलाम) को मुस्लिम धर्म में पहले पैगम्बर (प्रोफ़ेट) माना जाता है, और उन्हें पूरे मानव जाति के पहले इंसान के रूप में माना जाता है।

इस्लाम में माना जाता है कि हज़रत आदम (अलैहिस्सलाम) को अल्लाह ने अपनी बनाई हुई खालक का नायाब बनाया और उन्हें अपनी हुक्मत का वारिस बनाया। आदम (अलैहिस्सलाम) का दिनी संदेश सच्ची इबादत, अच्छे आचरण, और अल्लाह के प्रति शुद्ध भक्ति की प्रेरणा का है।

इस्लाम में हज़रत आदम (अलैहिस्सलाम) के बाद कई पैगम्बर आए और अल्लाह का मैसेंजर बने, जिनमें हज़रत नूह (अलैहिस्सलाम), हज़रत इब्राहीम (अलैहिस्सलाम), हज़रत मूसा (अलैहिस्सलाम), और हज़रत ईसा (अलैहिस्सलाम) शामिल हैं। आखिरी पैगम्बर हज़रत मुहम्मद (सल्लाहु अलैहि वसल्लम) हैं, जिन्होंने कुरान को अल्लाह के वाचन के रूप में प्राप्त किया और इस्लाम को उम्मत के साथ प्रस्तुत किया।

भारत में इस्लाम कब आया

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – इस्लाम का पहला सम्बन्ध भारत में 7वीं सदी के आस-पास बना था, जब अरबी व्यापारी और यात्री भारत आए थे। हालांकि, इस्लाम का व्यापक प्रसार भारत में 12वीं सदी के बाद हुआ था।

भारत में इस्लाम के पहले आने वाले संबंधों का उल्लेख कुछ चीनी और अरबी लेखों में है, जिनमें 7वीं सदी में भारत में मुस्लिमों के प्राथमिक संपर्क का जिक्र है।

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – इसके बाद, इस्लाम का प्रसार भारत में अधिक हुआ जब मुस्लिम आक्रमणकारियों ने भारतीय उपमहाद्वीप के कुछ हिस्सों को जीता और वहां अपना शासन स्थापित किया। 711 ईसा पूर्व में, मुस्लिम आक्रमणकारी मोहम्मद बिन कसीम ने सिंधु घाटी क्षेत्र को जीता और इसे अब्बासी खलीफा के शासन के तहत रख लिया।


दिल्ली सल्तनत के बाद, मुघल साम्राज्य ने भी भारत में इस्लाम को फैलाया। मुघल साम्राज्य के कई सुलतानों और बादशाहों ने भारतीय सांस्कृतिक परंपरा को समाहित किया और उसे अपने शासनकाल में सहजता दी।

इस प्रकार, इस्लाम भारत में बार-बार आया और वहां समाज, सांस्कृतिक और राजनीतिक परिवर्तनों का कारण बना। इस प्रकार, इस्लाम ने भारतीय सभ्यता के साथ अपना विविध और महत्वपूर्ण संबंध साझा किया है।

इस्लाम धर्म से पहले कौन सा धर्म था

  • हिन्दू धर्म: हिन्दू धर्म भारत का प्राचीन और महत्वपूर्ण धर्म है जिसमें वेद, उपनिषद, स्मृति, पुराण आदि शास्त्रों के आधार पर अनेक देवताओं की पूजा और संसार-चक्र की सांसारिक चरित्रण की बातें हैं।
  • जैन धर्म: जैन धर्म भी भारतीय मौलिक धर्मों में से एक है, जिसमें तप, अहिंसा, आचार्यों की महत्वपूर्ण भूमिका, और मोक्ष की प्राप्ति के लिए साधना की जाती है।
  • बौद्ध धर्म: बौद्ध धर्म भी भारतीय सूचना परंपराओं का हिस्सा है, जिसमें सिद्धार्थ गौतम बुद्ध के उपदेशों पर आधारित है।
  • जुदैयो-ईसाई धर्म: इसे अधिकांश लोगों ने मध्य पूर्व का धर्म माना है। यह बाइबिल के प्रेरित है और ईसा मसीह को मसीह और भगवान के पुत्र के रूप में मानता है।
  • जनवादी धर्म (जन्य धर्म): कई अन्य धार्मिक परंपराएं भी भूतपूर्व में अलग-अलग समय और स्थानों पर उत्पन्न हुईं, जैसे कि जनवादी धर्म (जन्य धर्म)।

इस्लाम धर्म की स्थापना कहां हुई

इस्लाम धर्म की स्थापना 7वीं सदी में हुई थी। इसका प्रवर्तक हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) थे जिन्होंने 610 ईसा पूर्व में अरबीलग के मक्का शहर में अपने परमेश्वर के साथ आत्मीय बातचीत के माध्यम से इस्लाम का संदेश प्रारंभ किया।

हज़रत मुहम्मद के बाद, इस्लाम का फैलाव उनके अनुयायियों ने कायम किया और उनकी उपदेशों को कुरान में संग्रहित किया। इसके बाद, इस्लामिक साम्राज्य ने फासियाई क्षेत्रों में विस्तार किया और अरबी सांस्कृतिक को विभिन्न भूभागों में ले जाया।

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – 711 ईसा पूर्व में, मुस्लिम आक्रमणकारी मोहम्मद बिन कसीम ने सिंधु घाटी क्षेत्र को जीता और इसे अब्बासी खलीफा के शासन के तहत रख लिया। इससे इस्लामिक सत्ता का प्रारंभ हुआ और इस्लाम भारत में फैला।

इस्लाम ने भारत में अपना स्थान बनाया और यहां के सांस्कृतिक, सामाजिक, और राजनीतिक जीवन को प्रभावित किया। मुघल साम्राज्य के कुछ सुलतानों और बादशाहों ने इस्लाम को बड़ी पहचान दिलाई और भारतीय सभ्यता में अपनी विशेषता को मिली।

इस्लाम धर्म की स्थापना किसने की

इस्लाम धर्म की स्थापना का श्रेय हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) को जाता है। हज़रत मुहम्मद, जिन्हें मुसलमान उम्मत में आखिरी नबी और रसूल (पैगंबर) माना जाता है, ने 7वीं सदी में अरबीलग में (विशेषकर मक्का और मदीना) अपने परमेश्वर के साथ मुद्दबीजा बातचीत के माध्यम से इस्लाम का संदेश प्रचारित किया।

मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और कैसे हुई – हज़रत मुहम्मद ने अपने जीवनकाल में कुरान के माध्यम से अल्लाह के संदेशों को मानवता के लिए प्रस्तुत किया और अपने अनुयायियों को इस्लाम के सिद्धांतों और मौलिक तत्वों का अध्ययन और अनुसरण करने का प्रेरणा दी। उनकी उपदेशों और क्रियाओं ने एक नया धार्मिक और सामाजिक आदर्श प्रस्तुत किया और उनके अनुयायियों ने इसे अपनाया और फैलाया।


हज़रत मुहम्मद के बाद, उनके अनुयायी और उनके संगीता ने इस्लाम को फैलाने में योगदान दिया, जिससे इस्लाम विश्वभर में फैला और एक महत्वपूर्ण धर्म बना।

इस्लाम धर्म कैसे बना

इस्लाम धर्म का उगम एक मुस्लिम पैगंबर, हज़रत मुहम्मद (सल्लल्लाहु अलैहि वसल्लम) के जीवन और उनके द्वारा प्रचारित सिद्धांतों से हुआ है। इस्लाम के मूल धार्मिक ग्रंथ, कुरान, में हज़रत मुहम्मद के साथ उनकी बातचीतों और उन्हें अल्लाह के द्वारा दी गई भगवत्साक्षात्कार के अंश हैं।

कुरान में इस्लाम के मूल सिद्धांतों का स्पष्ट वर्णन है, जिनमें तौहीद (एकता अल्लाह की), नबूवत (पैगंबरों का आगमन), आखिरत (आगे की ज़िन्दगी और न्याय का दृष्टिकोण), पुस्तकें (इस्लाम के महत्वपूर्ण धार्मिक ग्रंथों का समर्थन) आदि शामिल हैं।

इस्लाम की मुख्य सिद्धांतों में अहिंसा, सच्चाई, ईमानदारी, न्याय, और इंसानीत के प्रति दया शामिल हैं। इस्लाम का धर्म एकता और समाज के सभी वर्गों के लोगों के साथ अच्छे बर्ताव की बात करता है।

हज़रत मुहम्मद के बाद, इस्लाम का फैलाव उनके अनुयायियों और उनके संगीता ने किया, जिन्होंने इस्लाम की शिक्षाओं को पूरे विश्व में फैलाने के लिए प्रयासरत रहा।

इस्लाम एक उदार और मानवता केंद्रित धार्मिक सिद्धांतों, नैतिकता, और जीवन शैली का प्रतीक है जो समाज में शांति, सद्भाव, और सामंजस्य को बढ़ावा देता है।

सऊदी अरब में इस्लाम धर्म से पहले कौन सा धर्म था?

उस समय अरब में यहूदी, ईसाई धर्म और बहुत सारे समूह जो मूर्तिपूजक थे क़बीलों के रूप में थे। सऊदी अरब क्षेत्र में इस्लाम धर्म से पहले, यहाँ के लोग पूर्वाचीन अरबी धर्मों का पालन करते थे। इसका एक प्रमुख उदाहरण है ‘जाहिलीया’ या ‘जाहिली युग’ कहलाने वाले काल का। जाहिलीया अरबी धर्म अस्तित्व में थे और इसमें विभिन्न पगडंडों और देवताओं की पूजा की जाती थी।

इस समय, मक्का शहर में एक प्रमुख मंदिर, काबा, में बहुत से अलग-अलग देवी-देवताओं की मूर्तियों की पूजा होती थी। मुस्लिम ट्रेडर और नबी मुहम्मद के समय में इस्लाम का आगमन हुआ और उन्होंने मक्का में काबा को शुद्ध करने के लिए किए गए सारे पूजा पद्धतियों को खत्म कर दिया। इस घटना के पश्चात, मक्का नगर में इस्लाम का प्रचार-प्रसार शुरू हुआ और यह धर्म सऊदी अरब और पूरे अरबी क्षेत्र में फैला।


इस प्रकार, सऊदी अरब में इस्लाम से पहले का समय जाहिलीया के रूप में जाना जाता है, जब लोग अलग-अलग अरबी धर्मों का अनुष्ठान करते थे।

 

RELATED ARTICLES
0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular