You are currently viewing WIFI KA PASSWORD KAISE  JAANE -IN HINDI 2022

WIFI KA PASSWORD KAISE  JAANE -IN HINDI 2022

WiFi Kya Hai दोस्तों आज हम आपके लिए लेकर आये है दिलचस्पी आर्टिकल जिससे पढ़ने में आपको काफी अच्छा लगेगा और लोगो को यह जानने के लिए काफी उत्साहित भी होंगे काफी लोग यह जानने की कोशिश करते है

WIFI KA PASSWORD KAISE  JAANE -IN HINDI 2022

WiFi Kya Hai की दूसरे के wifi का पासवर्ड पता लगाने की काफी कोशिश करते है पर मालूम नहीं कर इसलिए दोस्तो आज हम आपके लिए इस वेबसाइट के माध्यम से लेकर आये है कंप्यूटर और wifi का पासवर्ड कैसे पता करे और साथ ही दोस्तों काफी लोग wifi क्या यह ही नहीं मालूम होता तो ,निराश न होए इसलिए आज हम आपको इस आर्टिकल में wifi से जुडी पूरी जानकरी आपको देंगे तो चलिए दोस्तों शुरू करते है।

WiFi Kya Hai

यह इंटरनेट के इस्तेमाल के लिए प्रयोग में लाये जाने वाला, वायरलेस नेटवर्किंग टेक्नोलॉजी ((Networking) Technology) है। यह रेडिओ सिगनल का प्रयोग करता है। जिसकी मदद से आप काफी आसानी से अपने लैपटॉप (Laptop), कंप्यूटर, मोबाइल आदि में इंटरनेट का उपयोग कर सकते है।

WiFi टेक्नोलॉजी LAN (Local Aria Network) के अंतर्गत आती है। सभी कंप्यूटर, लैपटॉप, मोबाइल में एक चिप लगी होती है। जिसकी सहायता से WiFi को कनेक्ट कर सकते है जिसे वायरलेस Router भी कहते है। WiFi Kya Hai आजकल बहुत सी कम्पनी अपने अपने स्तर पर WiFi डिवाइस बना रहे है। जिनकी सहायता से भी WiFi चलाया जा सकता है। जैसे jio WiFi , Airtel, Vi और भी बहुत

वाईफाई का पूरा नाम क्या है

WiFi का फूल फॉर्म “Wireless Fidelity” होता है। इन्हे के पहले दो अक्षरों को मिलाकर WiFi शब्द बना है जो इसका सॉर्टफॉर्म है। यह एक बहुत ही लोकप्रिय वायरलेस नेटवर्क तकनीक है। जो वायरलेस तकनीक से रेडियो तरंगो का प्रयोग कर इंटरनेट का काफी अच्छे से उपयोग कर रहे है।

वाई फाई के पासवर्ड कैसे देखें

 जैसे Security High Level की होती जा रही है वैसे ही Technicians भी  मशहूर होते चले जा रहे है। WiFi Kya Hai Internet के इस समय के दौर में Wifi का इस्तेमाल काफी जगहों पर होता है। तो अब हम आपको दो तरीके बतायेगे जिससे आप आसानी से समझ जायेगे  Wifi नेटवर्क से Connect हो पायेंगे.

पहला स्टेप है बिना रूट और दूसरा स्टेप है रूट स्टेप दोस्तों पहला जो स्टेप है उसमे आप Phone में Wifi से Connect हो पायेंगे लेकिन उसके लिए कुछ Conditions है जो की हम आपको बताने वाले है अगर आपके पास Rooted Mobile है तो उसके लिए आपको काफी सारे तरीके मिल जायेंगे पर आज आपको सबसे सरल तरीका बता रहे है।

वाईफाई का इतिहास

Wi-Fi का अविष्कार अमेरिका के निकोला टेस्ला ने किया था। 1985 को united state FCC ने जब यह बताया की वायरलेस frequency – 200MHZ 2.4 GHZ और 5.8 GHZ को बिना लाइसेंस कर सकते है। WiFi Kya Haiतभी से वाईफाई की शुरुआत मानी जाती है।

1998 में NCR Corporation को एक Wireless Case RAGISTER की जरूरत  पढ़ी। Victory Hayes और Brush Tech की मदद से (institute of electrical and electronics engineers) IEEE में एक STANDERD तैयार किया। उस समय 802.11a standard में डाटा ट्रांसफर की स्पीड 2Mbps थी।

जिसके बाद 802.11b अधिक रेंज के साथ आया और 6 कम्पनियो ने आपस में मिलकर WECA का गठन किया और वर्ष 2002 में WiFi शब्द की उत्त्पति हुई। जिसे Wireless और HiFi सब्द से मिलकर बनाया गया।

Connect WiFi का  पासवर्ड  कैसे  पता  करे

यदि आपके Computer या Laptop में WiFi Connected है. और WiFi Connect होने के बावजूद आप अपने WiFi का Password भूल चुके है तो इस Trick के जरिये आप अपने WiFi का Password पता कर सकते है.

मान ले की आप अपने Computer या Laptop में काफी दिनों से WiFi Use कर रहे है और आप अपना WiFi Password भी भूल चुके है क्योकि अकसर यह होता है WiFi Kya Hai कि जब WiFi, PC या Laptop से Connected है तो WiFi Password याद रखने की क्या जरूरत? ऐसे में मान ले की आपका कोई Friend या Relative कुछ समय के लिए आपसे आपके WiFi का Password मांग ले तो ऐसे में आप क्या कर सकते हैं

  • यदि आपके PC या Laptop में WiFi Connected है तो इस सरल तरीके से आप अपना WiFi Password  मालूम कर पाएंगे।  इसके लिए आप निम्न दी गई Steps को Follow करिए –
  • सबसे पहले आप Network icon कर Click करिए।
  • इसके बाद जो WiFi आपके PC से Connected होगा उस WiFi के नाम के आगे Connected दिखाई देगा।  इस पर Right Click करें।
  •  Right Click करने के बाद properties पर Click करें।
  • Network and Sharing Center, How to know Wifi Password

Network and Sharing Center

इसके बाद आप Show Characters पर क्लिक करके पासवर्ड को देख सकते है.

इस प्रकार आप अपने PC या Laptop में Connect WiFi का Password देख सकते है.

Wifi का  पासवर्ड  कैसे  पता  करे

  • आप अपने Phone से Free Wifi Connect कर सकते है लेकिन उसके लिए कुछ चीजे हैं जो आपको निम्न दिए है-
  • आपका मोबाइल उस Wifi Network से Connected होना चाहिए पासवर्ड आप जानना चाहते हैं या किसी और के मोबाइल में वो Wifi कनेक्ट है तो आप पासवर्ड जानने के लिए उस व्यक्ति से मांग सकते हैं Owner के Wifi के Router के वेब पेज में Administrator Password नहीं होना चाहिए
  • अगर Administrator Password है तो Username – admin और Password भी admin डालने से नहीं खुलेगा तो Owner ने अपना Username और Password बदल दिया होगा और आप उसे नहीं खोल पायेंगे.
  • यहाँ आपको दो Router के लिए दो स्टेप बाए जायेगे जिसे आपको ध्यान से समझना है तभी आप आसानी से समझ पाएंगे बिना पासवर्ड से कंनेक्ट कर सकते है
D-Link Router का पासवर्ड कैसे पता करें

D-Link Router के वेब पेज में जाने के लिए भी आपको वही करना है. Chrome Browser में जाकर यही टाइप करना है http://192.168.0.1 और ओके पर क्लिक कर देना है इससे Log in पेज खुल जायेगा जिसमे आपसे Username और Password माँगा जायेगा  सबसे पहले आपको Username – admin और Password – admin डाल कर देखना है. अगर नहीं खुलता है तो पासवर्ड की जगह को खाली छोड़ कर Log in पर क्लिक कर देना है. खुल जाता है तो ठीक है वरना ,Owner ने अपना पासवर्ड बदल दिया है और आप इसमें Log in नहीं कर पायेंगे.WiFi Kya Hai

अगर Log in होता है तो आपको काफी सारे आप्शन वहाँ पर दिख जायेंगे, आपको कहीं भी छेड़खानी नहीं करनी, ऊपर आपको दिख जाएगा Wireless उस पर क्लिक करना है और Wireless में भी आपको बहुत सारे आप्शन दिख जायेंगे. बस आपको निचे स्क्रॉल करना है आपको दिख जायेगा Security options और उसके निचे आपको मिलेगा Pre-Shared Key इसमें जो लिखा होगा वही वाईफाई का पासवर्ड होगा अगर बताया गया URL काम नहीं करता है तो आप Settings > Wifi में जा कर जिस Wifi से कनेक्ट हुए हैं उस पर क्लिक कीजिये वहां पर आप्शन दिया होगा Go to webpage उस पर क्लिक करने से भी आप Log in पेज में आ जायें

Tenda Router वाईफाई का पासवर्ड कैसे पता करें

Tenda Router के वेब पेज में जाने के लिए उस मोबाइल से जिसमे वो Wifi Network Connected है आपको Chrome Browser में जाना है और URL में http://192.168.0.1 लिख कर ओके कर देना है.WiFi Kya Hai इससे Tenda Router का वेब पेज खुल जायेगा. अगर नहीं खुल रहा है तो URL के लास्ट में 1 की जगह 2 डाल दीजिये फिर जरुर खुल जायेगा.

अब आप ऊपर Right साइड में थ्री लाइन दिखेगा उस पर क्लिक करना है और Wireless settings पर जाना है..

Wireless Settings में क्लिक करते ही एक नया पेज खुलेगा जिसमे ऊपर की तरफ आपको Username दिख जायेगा और निचे स्क्रॉल करने पर Wifi Password लिखा हुआ रहेगा.

उसे कॉपी कर के सेव कर लीजिये क्योकि उस पासवर्ड से आप कभी भी उस Wifi Network से Connect हो सकते हैं जब तक Owner पासवर्ड बदल नहीं देता

राउटर की स्पीड

किसी भी राउटर की स्पीड उस मॉडल में उपयोग किए गए हार्डवेयर पर भी निर्भर करती है। वैसे हर डिवाइस में स्पीड का जिक्र “High Speed Upto” सेक्शन में किया रहता है। जो राउटर स्लो होंगे उनकी कीमत भी कम होगी। अगर जरूरत सिर्फ इंटरनेट से जुड़ने की है तो आप सस्ता राउटर खरीदें। अगर लेपटॉप पर हाई डेफिनेशन वीडियो देखने या उसे अपने स्मार्ट टीवी पर स्ट्रीम करने का शौक है तो आपका 300 Mbps राउटर से काम चल जाएगा 

Wi-Fi कैसे काम करता है ?

WiFi टेक्नोलॉजी में एक ऐसी डिवाइज लगी होती है। जो वायरलेस सिंगनल को ट्रान्समेंट करती है जो की wi-fi router या hotspot होता है. इसमें वायरलेस router किसी इंटरनेट से जुड़कर सुचना को रेडियो तरगों में बदल देती है। और wifi डिवाइज वातावरण में मौजूद wifi संकेतो से कनेक्ट होकर अपने आस पास एक छोटा सा वायरलेस signal का एरिया बनता है। जिसे Wi-Fi जोन कहते है।

ये छोटा सा एरिया एक वायरलेस लोकल एरिया का रूप लेता है। WiFi Kya Hai इससे छोड़ी गई तरंगो के एरिया में जितने भी डिवाइस होते है जैसे phone, लैपटॉप जो इंटरनेट चला सके, वह सभी इसका सिग्नल पकड़ते है। डैस्कटॉप computer में In Built Wi -Fi एडाप्टर नहीं होता है। इसलिए हम इसे USb कोड के माध्य्म से एडाप्टर लगाकर WI -Fi का उपयोग कर सकते है।अगर आप कभी एरपोड, रेल्वे स्टेशन या शॉपिग मॉल, सुपर मार्केट जाते हो तो आपने देखा होंगे वह वाईफाई (WiFi) का जोन होता है जिसका स्तमाल आप इंटरनेट चलाने के लिए आसानी से कर सकते है। ऐसे ही कई शहरो में सरकार ने wifi जोन बना रखा जहा भी आप wifi से जुड़कर इंटरनेट का उपयोग करते है।

WiFi से निकलने वाली रेडियो तरंगे दिवार के आर पार हो जाती है इसे आप कनक्टेड राऊटर से चला सकते है एक घर के लिए WiFi Router पर्याप्त होता है। आप WiFi Router के जितने नजदीक होते है उतनी अच्छी इंटरनेट स्पीड मिलती है। लेकिन जैसे जैसे दूर होते जाते है स्पीड भी कम होते जाती है।

स्मार्टफोन में Wi-Fi सेवा के साथ Hotspot का option भी आता है। आप न केवल दूसरे Wi-Fi नेटवर्क का इस्तमाल कर सकते है। बल्कि अपने मोबाइल phone को router की तरह इस्तमाल करके होटस्पोट से कई अन्य डिवाइज को इंटरनेट कनेक्शन प्रदान कर सकते है। अचानक से आपके मोबाईल का डेटा खत्म हो जाये तो आप आप Wi-Fi का इस्तमाल कर सकते है किसी भी मित्र के मोबाईल का होटस्पोट On करके Wi-Fi का उपयोग किया जा सकता है।

Wi-Fi के फायदे |
  • WIFI टेक्नोलॉजी यूज़र फ्रैंडली है जिससे आसानी से स्मार्टफोन टेबलेट या लैपटॉप को कनेक्ट किया जा सकता है।
  • इसका इस्तेमाल करना काफी आसान है। बस आपको wi-fi को on करना है। अगर कोई पासवर्ड है तो उसे डालकर WiFi से कनेक्ट करके इंटरनेट का इस्तेमाल किया जा सकता है।
  • पहले हर जगह WiFi मिलना कठिन है ,लेकिन आज के समय में ये हर जगह उपलब्ध होता है। Wi-Fi के सहायता से चलते फिरते कही से भी आप इंटरनेट का एक्सेस कर सकते है। जैसे बस ,ट्रेन, शॉपिंग मॉल, सुपरमार्केट इन जगहों पर Wi -Fi नेटवर्क होना जरूरी है।
  • एक ही Wi-Fi डिवाइज के साथ आप काफी सारे दूसरे मोबाइल डिवाइज को कनेक्ट कर सकते है। ये कनेक्शन काफी जल्दी हो जाता है।
  • cellular network की तुलना में Wi-Fi router की sped काफी ज्यादा होते है। आप एक 1Mbps से 100 Mbps तक का लाभ उठा सकते है।
  • Wi-Fi से इंटरनेट एक्सेस करने पर डेटा ट्रांसफर की गति तेज हो जाती है। जिसमें ऑडियो, वीडियो को आसानी से भेज और रिसीव कर सकते है।
  • मोबाईल डाटा की एक सीमा होती है। लेकिन ब्रेबेंड कनेक्शन से ली गई Wi-Fi नेटवर्क में आपको हर रोज लगभग 50mb से ज्यादा डेटा मिलता है। आप जितना चाहे इंटरनेट का उपयोग कर सकते है। यह आपके लिए गए प्लान पर भी निर्भर करता है। )
  • Wi-Fi की सबसे महत्वपूर्ण बात है की आप अपनी Wi-Fi router दुनिया के किसी भी देश में चला सकते है। आप Wi-Fi router का इस्तमाल कही भी कर सकते है।
  • आप अपने मोबाइल को WiFi Router की तरह यूज़ करके किसी दूसरे को WiFi दे भी सकते है। जिसे Hotspot कहते है।

Wi-Fi के क्या-क्या नुकसान है

Wi-Fi के अंदर से निकलने वाली जो रेडियशन है वह हमारे शरीर को नुकसान पहुँचती है। Wi-Fi आपके हेल्थ के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है। Wi-Fi से निकलने वाली किरणे जैसे इलेक्ट्रोमैग्नेटिक खतरनाक होती है। यह आपके शरीर में कई बीमारी को उत्पन्न कर सकती है। इसका सबसे ज्यादा खतरा कैंसर होने का होता है। Wi-Fi से निकलने वाली किरणे इंसान के शरीर में अंदर तक असर करती है। WiFi Kya Hai जिस तरह माइक्रोवेव से निकलने वाली इलेक्ट्रोमैग्नेटिक रेडियंस खाने को अंदर तक पका देते है। कुछ उसी तरह की इलेक्ट्रोमैग्नेटिक Wi-Fi राउटर से निकलती है। लम्बे समय तक इन तरंगो के संपर्क में रहना शरीर के लिए हानिकारक हो सकता है। इससे ब्रेन टयूमर, ब्रेन कैंसर, हार्ट अटैक जैसे बीमारियों का खतरा बना रहता है।

दोस्तों, आपको हमने आपको इस आर्टिकल में आपको अच्छे से समझाया उम्मीद है आपको अच्छे से समझ आ चूका है।  और हमने आपको इसे जुडी पूरी जानकारी आपको दी है आपको कोई डाउट है तो आप हमें कमेंट बॉक्स में पूछ सकते है और दोस्तों ऐसे ही पके लिए लेकर आएंगे  एक और जानकारी लेकर आएंगे।


Q SSL का पूरा नाम —-क्या है ?

(a) Secure Super Layer

(b) Secure Sockets Layer

(c) Super Sockets Layer

(d) इनमे से कोई नहीं

Ans– (b) Secure Sockets Layer

Q. वाई-फाई का आविष्कार किसने किया?

ALOHAnet नामक एक वायरलेस नेटवर्क 1971 में बनाया गया था जो ग्रेट हवाईयन द्वीपों को जोड़ता था। ईथरनेट और वाई-फाई अपने कुछ इतिहास का पता लगा सकते हैं। लेकिन 1991 में एनसीआर कॉर्पोरेशन (जो एक कैश रजिस्टर कंपनी के रूप में शुरू हुआ) और एटी एंड टी (जो एक फोन कंपनी के रूप में शुरू हुआ) ने वाई-फाई के अग्रदूत को वेवलैन नामक कैश रजिस्टर को जोड़ने के तरीके के रूप में बनाया। यह इतना लोकप्रिय हो गया कि अंततः इंस्टीट्यूट ऑफ इलेक्ट्रिकल एंड इलेक्ट्रॉनिक्स इंजीनियर्स (आईईईई) ने 802.11 मानक बनाया जिसे अब हम वाई-फाई के रूप में जानते हैं। 1999 में, वाई-फाई ट्रेडमार्क की बागडोर संभालने के लिए एक ट्रेड एसोसिएशन के रूप में वाई-फाई एलायंस का गठन किया गया।

Q. क्या वाई-फाई से होता है कैंसर?

वर्तमान में, इस प्रश्न का कोई निश्चित उत्तर नहीं है। ऐसा इसलिए है क्योंकि इस बात का कोई ठोस सबूत नहीं है कि वाई-फाई, या ईएमएफ सामान्य रूप से सीधे कैंसर का कारण बनते हैं। 2011 में, विश्व स्वास्थ्य संगठन की अंतर्राष्ट्रीय एजेंसी फॉर रिसर्च ऑन कैंसर (IARC) ने कहा कि EMF “संभवतः मनुष्यों के लिए कार्सिनोजेनिक हैं।” लेबल को 30 वैज्ञानिकों द्वारा स्थापित किया गया था जिन्होंने ईएमएफ और कैंसर पर अध्ययन का मूल्यांकन किया था।  ईएमएफ और कैंसर से जुड़े अध्ययन परस्पर विरोधी हैं। उदाहरण के लिए, 2017 की एक शोध समीक्षा के अनुसार, वायरलेस उपकरणों से ईएमएफ से ग्लियोमा, एक प्रकार का ब्रेन ट्यूमर होने का खतरा बढ़ जाता है। लेकिन 2018 के एक अध्ययन में कहा गया है कि EMF और ब्रेन ट्यूमर के बीच कोई स्पष्ट संबंध नहीं है।

Q.घर बैठे सामान खरीदने वाली वेबसाइट को कहा जाता है ?

(a) Business Website

(b) E-Commerce Website

(c) Social Networking Website

(d) Digital Website

उत्तर (b) E-Commerce Website


Related Link:

 

0 0 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments