Wednesday, May 29, 2024
HomeComputer & TechnologyGeneration of Computer Explain in hindi

Generation of Computer Explain in hindi

Generation of Computer Explain in hindi –हेल्लो दोस्तों आज हम computer क्या है और इसकी कितनी Generations होती है इसके बारें में पूरी जानकारी जानेगे ।

Computer क्या है ?

Generation of Computer Explain in hindi –Computer एक इलेक्ट्रॉनिक उपकरण है जो डेटा को संसाधित, संग्रहित, और प्रसंस्कृत करने की क्षमता रखता है। यह एक मशीन होती है जो प्रोग्रामिंग भाषाओं के माध्यम से आदेशों का पालन करती है और डेटा को संसाधित करती है। Computer उपयोगकर्ता के द्वारा जैसे इनपुट किये गए डेटा को संग्रहित कर सकता है, उसे संसाधित कर सकता है, उस पर विभिन्न कार्य कर सकता है और नतीजों को उत्पन्न कर सकता है। Computer के विभिन्न उपयोग होते हैं जैसे ऑफिस कार्य, अनुसंधान, विज्ञान, व्यवसाय और व्यक्तिगत उपयोग।

Generation of Computer का क्या मतलब है ?

Computer की पीढ़ी (generation) उसके विकास की एक अहम मापदंड होती है, जो उसके तकनीकी विकास की प्रगति और उसकी क्षमताओं को दर्शाती है। Computer निर्माताओं ने अपने उत्पादों की पीढ़ियों को बुलाया जैसे “First Generation”, “Second Generation”, “Third Generation” और आगे चलकर “Fourth Generation”।

Computer कितनी Generations में विभाजित था ?

वर्तमान में, Computer की चार पीढ़ियां (generations) होती हैं।

  • पहली पीढ़ी (First Generation): इस पीढ़ी के Computer वैक्यूम ट्यूब तकनीक का उपयोग करते थे।
  • दूसरी पीढ़ी (Second Generation): इस पीढ़ी में ट्रांजिस्टर तकनीक उपयोग की गई थी।
  • तीसरी पीढ़ी (Third Generation): इस पीढ़ी में Integrated Circuit (IC) तकनीक का उपयोग किया गया था।
  • चौथी पीढ़ी (Fourth Generation): इस पीढ़ी में VLSI (Very Large Scale Integration) तकनीक का उपयोग किया गया था।
  • पांचवी पीढ़ी (Fifth Generation): पांचवीं पीढ़ी के Computer में Integrated Circuit तकनीक का उपयोग किया गया था।

Computer की First Generation कौन सी थी ?

Generation of Computer Explain in hindi –Computer की पहली पीढ़ी (First Generation) Computer वर्ष 1940 से लेकर 1956 तक थी, जिसमें वैक्यूम ट्यूब का उपयोग किया गया था। इनमें एनियाक, एनआईएसई, एनएमएस आदि प्रमुख Computer शामिल थे। इन Computerों का आकार बड़ा और वजन भारी था, और इन्हें ठंडे कमरे में रखा जाना चाहिए था क्योंकि वे उत्तेजित हो जाते थे जो उनके उपयोग में बाधा डालता था।

Also Read:-

Supercomputer क्या है (दुनिया और भारत के सुपर कंप्यूटर की सूची)

Analog Computer क्या है ?

Computer Hardware क्या है ?

First Generation computer Advantages

Generation of Computer Explain in hindi -हालाँकि Computer की पहली पीढ़ी की कई सीमाएँ और कमियाँ थीं, लेकिन उनमें कुछ फायदे भी थे जो उन्हें कुछ कार्यों के लिए उपयोगी बनाते थे। पहली पीढ़ी के Computer के कुछ फायदे इस प्रकार हैं:

  • उच्च प्रसंस्करण गति: पहले की यांत्रिक और विद्युत यांत्रिक प्रणालियों की तुलना में, पहली पीढ़ी के Computer सूचना प्रसंस्करण में बहुत तेज और अधिक कुशल थे। वे उस गति से गणना कर सकते थे जो पहले की प्रणालियों के साथ संभव नहीं थी।
  • बड़ी भंडारण क्षमता: पहली पीढ़ी के Computer में पहले के सिस्टम की तुलना में बड़ी मात्रा में डेटा स्टोर करने की क्षमता थी। यह मैग्नेटिक टेप और मैग्नेटिक ड्रम के इस्तेमाल से संभव हुआ है।
  • उच्च सटीकता: पहली पीढ़ी के Computer गणना करने में अत्यधिक सटीक थे। वे मानव त्रुटि या थकान के प्रति संवेदनशील नहीं थे, जिसने उन्हें जटिल गणनाओं के लिए अधिक विश्वसनीय बना दिया।
  • बहुमुखी प्रतिभा: पहली पीढ़ी के Computer बहुमुखी थे और वैज्ञानिक गणना, सैन्य अनुप्रयोगों और व्यावसायिक डेटा प्रोसेसिंग जैसे विभिन्न कार्यों के लिए इसका उपयोग किया जा सकता था।
  • नवोन्मेष: पहली पीढ़ी के Computer के विकास ने कंप्यूटिंग के क्षेत्र में एक महत्वपूर्ण नवाचार को चिन्हित किया। उन्होंने Computer प्रौद्योगिकी में आगे की प्रगति की नींव रखी और उनके विकास ने उन Computerों का मार्ग प्रशस्त किया जिनका हम आज उपयोग करते हैं।

First Generation computer Disadvantage

Generation of Computer Explain in hindi -पहली पीढ़ी के Computer में कई कमियां और सीमाएं भी थीं, जिससे उनका उपयोग करना और बनाए रखना मुश्किल हो गया था। यहाँ पहली पीढ़ी के Computer के कुछ मुख्य नुकसान हैं:

  • बड़े और भारी: पहली पीढ़ी के Computer विशाल थे और इसके लिए बहुत अधिक स्थान की आवश्यकता होती थी। उन्हें इधर-उधर जाना मुश्किल था और उन्हें संचालित करने के लिए विशेष वातावरण की आवश्यकता थी।
  • उच्च लागत: पहली पीढ़ी के Computer विकसित करने और निर्माण करने के लिए बहुत महंगे थे, और कुछ ही संगठन उन्हें खरीद सकते थे।
  • सीमित क्षमता: पहली पीढ़ी के Computerों में आज के Computerों की तुलना में सीमित प्रोसेसिंग पावर और मेमोरी थी। वे केवल बुनियादी गणना कर सकते थे और सीमित मात्रा में डेटा स्टोर कर सकते थे।
  • उच्च रखरखाव: पहली पीढ़ी के Computerों को लगातार रखरखाव और मरम्मत की आवश्यकता होती थी, जो समय लेने वाली और महंगी थी।
  • सीमित अभिगम्यता: पहली पीढ़ी के Computer अधिकांश लोगों के लिए सुलभ नहीं थे क्योंकि उन्हें संचालित करने के लिए विशेष ज्ञान और प्रशिक्षण की आवश्यकता होती थी। केवल कुछ ही विशेषज्ञों के पास उनका उपयोग करने और उन्हें प्रोग्राम करने के लिए आवश्यक कौशल था।
  • त्रुटि की संभावना: पहली पीढ़ी के Computer त्रुटि-जांच तंत्र की कमी के कारण त्रुटियों के प्रति संवेदनशील थे। इसने उन्हें वित्तीय गणना या डेटा विश्लेषण जैसे महत्वपूर्ण अनुप्रयोगों के लिए अविश्वसनीय बना दिया।

Computer की Second Generation कौन सी थी ?

Computer की दूसरी पीढ़ी (Second Generation) Computer वर्ष 1956 से लेकर 1963 तक थी, जिसमें ट्रांजिस्टर का उपयोग किया गया था। ट्रांजिस्टर पहले वैक्यूम ट्यूब से कम बड़े, कम बिजली खपत वाले, अधिक तीव्र तथा आवश्यक नहीं थे। इन Computer में पहली पीढ़ी के Computerों की तुलना में कई अद्यतन थे। इनमें इबीएम 704, इबीएम 709, डेसिट्रन 60, उनिवैक इबीएम आदि Computer शामिल थे।

Computer Second Generation Advantages

दूसरी पीढ़ी के Computer के कुछ फायदे हैं:

  • ट्रांजिस्टर ने वैक्यूम ट्यूबों को बदल दिया, जिससे वे छोटे, तेज और अधिक विश्वसनीय हो गए।
  • वे पहली पीढ़ी के Computer की तुलना में कम बिजली की खपत करते थे और कम गर्मी उत्पन्न करते थे।
  • उनके पास उच्च प्रसंस्करण गति थी, जिससे वे अधिक कुशल हो गए।
  • उन्होंने COBOL और FORTRAN जैसी उच्च-स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं के विकास की अनुमति दी, जिससे प्रोग्रामिंग आसान और अधिक कुशल हो गई।
  • उनका उपयोग वैज्ञानिक गणनाओं, व्यावसायिक डेटा प्रोसेसिंग और रीयल-टाइम सिस्टम सहित अनुप्रयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला के लिए किया गया था।

Computer Second Generation Disadvantage

दूसरी पीढ़ी के Computer के कुछ नुकसान थे, जिनमें शामिल हैं:

  • हालांकि पहली पीढ़ी के Computer से छोटे थे, फिर भी वे काफी बड़े और महंगे थे।
  • उन्हें अभी भी बड़ी मात्रा में बिजली और शीतलन की आवश्यकता थी, हालांकि पहली पीढ़ी के Computerों की तुलना में कम।
  • वे अभी भी पोर्टेबल नहीं थे और अनुसंधान प्रयोगशालाओं और व्यवसायों जैसे विशिष्ट वातावरणों में उपयोग करने के लिए सीमित थे।
  • जबकि उच्च-स्तरीय प्रोग्रामिंग भाषाओं के उपयोग ने प्रोग्रामिंग को आसान बना दिया, इसने हार्डवेयर संसाधनों पर नियंत्रण की कमी को भी जन्म दिया और इसके परिणामस्वरूप अक्षम कोड हो सकता है।
  • वे अभी भी उपयोगकर्ता के अनुकूल नहीं थे, और इनपुट और आउटपुट के लिए पंच कार्ड या पेपर टेप का उपयोग अभी भी आम था।

Computer की Third Generation कौन सी थी ?

Generation of Computer Explain in hindi -Computer की तीसरी पीढ़ी (Third Generation) Computer वर्ष 1964 से लेकर 1971 तक थी, जिसमें इंटीग्रेटेड सर्किट (Integrated Circuit) का उपयोग किया गया था। इंटीग्रेटेड सर्किट एक चिप (Chip) होता है जो बहुत से ट्रांजिस्टर, डायोड और अन्य उपकरणों को एक साथ सम्मिलित करता है। इससे Computer के आकार में छोटी संभवनाएं हो गई थीं और Computer अधिक शक्तिशाली, तीव्र तथा स्वचालित बन गए थे। इनमें इबीएम 360, होनेर 4000 आदि Computer शामिल थे।

Computer Third Generation Advantages

तीसरी पीढ़ी के Computer के कुछ फायदे हैं:

  • वे दूसरी पीढ़ी के Computer  की तुलना में छोटे, तेज और अधिक विश्वसनीय थे।
  • उन्होंने इंटीग्रेटेड सर्किट (IC) की शुरुआत की, जिसने उन्हें अपने पूर्ववर्तियों की तुलना में छोटा, तेज़ और अधिक शक्तिशाली बना दिया।
  • उन्होंने स्मृति क्षमता में वृद्धि की थी और चुंबकीय कोर मेमोरी का उपयोग किया था, जो डेटा तक तेजी से पहुंच की अनुमति देता था।
  • उन्होंने कई उपयोगकर्ताओं का समर्थन किया और समय-साझाकरण की अनुमति दी, जिससे वे व्यवसाय और वैज्ञानिक अनुप्रयोगों के लिए अधिक कुशल बन गए।
  • वे बेसिक जैसी उच्च-स्तरीय भाषाओं का उपयोग करने वाले पहले Computer थे, जिसने गैर-विशेषज्ञों के लिए प्रोग्रामिंग को आसान और अधिक सुलभ बना दिया।
  • कुल मिलाकर, तीसरी पीढ़ी के Computer Computer प्रौद्योगिकी में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करते हैं, और उनकी बढ़ी हुई गति, विश्वसनीयता और दक्षता ने व्यवसायों, शोधकर्ताओं और व्यक्तियों के लिए समान रूप से नई संभावनाएं खोलीं।

Computer Third Generation Disadvantage

हालाँकि तीसरी पीढ़ी के Computer Computer प्रौद्योगिकी में एक महत्वपूर्ण कदम का प्रतिनिधित्व करते हैं, लेकिन उनमें कुछ नुकसान भी थे, जिनमें शामिल हैं:

  • वे अभी भी महंगे थे और अभी तक व्यापक रूप से व्यक्तियों के लिए उपलब्ध नहीं थे।
  • उन्हें अभी भी बड़ी मात्रा में बिजली और शीतलन की आवश्यकता थी, हालांकि दूसरी पीढ़ी के Computerों की तुलना में कम।
  • हालांकि बेसिक जैसी उच्च-स्तरीय भाषाओं के उपयोग ने प्रोग्रामिंग को आसान बना दिया, इसके परिणामस्वरूप सीधे मशीन भाषा में प्रोग्रामिंग की तुलना में कम कुशल कोड भी हुआ।
  • वे अभी भी इनपुट और आउटपुट के लिए पंच कार्ड और पेपर टेप का इस्तेमाल करते थे, जो उपयोगकर्ता के अनुकूल नहीं था।
  • विभिन्न निर्माताओं के हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर एक-दूसरे के अनुकूल नहीं थे, जिससे उपयोगकर्ताओं के लिए विभिन्न प्रणालियों के बीच स्विच करना मुश्किल हो गया।

Computer की Fourth Generation कौन सी थी ?

Computer की चौथी पीढ़ी (Fourth Generation) Computer 1971 से लेकर 1980 तक थी। इस पीढ़ी के Computerों में Very Large Scale Integration (VLSI) टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया था। VLSI का मतलब होता है कि एक चिप में लाखों ट्रांजिस्टर सम्मिलित किए जाते हैं। इससे Computer का आकार और खपत कम होते जाते थे, जिससे Computer की गति में भी वृद्धि हुई। इनमें इंटेल कंपनी के 8086, 8088 प्रोसेसर आदि Computer शामिल थे।

Computer Fourth Generation Advantages

चौथी पीढ़ी के Computer के कुछ फायदे हैं:

  • उन्होंने माइक्रोप्रोसेसरों का उपयोग किया, जो पिछली पीढ़ी के एकीकृत परिपथों (आईसी) की तुलना में छोटे, तेज और अधिक शक्तिशाली थे।
  • उन्हें पिछली पीढ़ियों की तुलना में कम बिजली और शीतलन की आवश्यकता होती है, जिससे वे अधिक ऊर्जा-कुशल और लागत-प्रभावी बन जाते हैं।
  • वे बहुत छोटे थे और एक डेस्क पर फिट हो सकते थे, जिससे वे व्यक्तिगत उपयोग के लिए व्यक्तियों के लिए सुलभ हो जाते थे।
  • वे ग्राफिकल यूजर इंटरफेस (GUI) और MS-DOS और Apple Macintosh जैसे ऑपरेटिंग सिस्टम के साथ अधिक उपयोगकर्ता के अनुकूल थे।
  • उन्होंने वर्ड प्रोसेसर, स्प्रेडशीट और डेटाबेस सहित सॉफ्टवेयर अनुप्रयोगों की एक विस्तृत श्रृंखला का समर्थन किया, जिसने उन्हें व्यक्तिगत और व्यावसायिक उपयोग दोनों के लिए अधिक बहुमुखी बना दिया।

Computer Fourth Generation Disadvantage

हालाँकि चौथी पीढ़ी के Computer Computer प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व करते हैं, लेकिन उनमें कुछ नुकसान भी थे, जिनमें शामिल हैं:

  • वे अभी भी अपेक्षाकृत महंगे थे, खासकर निजी इस्तेमाल के लिए।
  • वे मेनफ्रेम Computer जितने शक्तिशाली नहीं थे, जो बड़े पैमाने के व्यावसायिक अनुप्रयोगों में उनके उपयोग को सीमित कर देते थे।
  • उन्नत प्रौद्योगिकी के साथ बने रहने के लिए उन्हें अभी भी नियमित रखरखाव और उन्नयन की आवश्यकता है।
  • वे अभी भी सॉफ्टवेयर बग और वायरस के प्रति संवेदनशील थे, जो क्रैश और अन्य मुद्दों का कारण बन सकते थे।
  • उन्होंने विशेष रूप से इंटरनेट कनेक्टिविटी के उदय के साथ गोपनीयता और सुरक्षा से संबंधित नई चुनौतियाँ पैदा कीं।

Computer की Fifth Generation कौन सी थी ?

Computer की पांचवीं पीढ़ी (Fifth Generation) Computer 1980 के बाद थी। यह पीढ़ी विशेष रूप से जापान के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित की गई थी जिसमें एक नई प्रकार की विकल्प निर्माण शुरू हुआ था जो आपके समझने योग्य होगा। ये Computer ह्यूमन इंटरफ़ेस को बेहतर बनाने के लिए निर्मित हुए थे, इस पीढ़ी के Computer ने अपनी भाषा में बोलना सीखा था जो वह आपकी आवाज सुन कर काम करता था।

ये Computer अधिक शक्तिशाली थे और बहुत सी गतिशीलता और सुविधाएं थीं। इनमें ज्यादातर अनुसंधान Computer, न्यूरल नेटवर्क आदि शामिल थे।

Computer Fifth Generation Advantages

Computer की पांचवीं पीढ़ी आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) और विशेषज्ञ प्रणालियों के विकास पर केंद्रित है, और इस पीढ़ी के कुछ फायदे हैं:

  • उन्होंने मशीनों को प्राकृतिक भाषा को समझने और संसाधित करने में सक्षम बनाया, जिससे वाक् पहचान और भाषा अनुवाद सॉफ़्टवेयर का विकास हुआ।
  • उन्होंने उन्नत विशेषज्ञ प्रणालियों के विकास की सुविधा प्रदान की जो मानव निर्णय लेने का अनुकरण कर सकते हैं और जटिल समस्याओं के लिए अंतर्दृष्टि प्रदान कर सकते हैं।
  • उन्होंने रोबोटिक्स और स्वचालन प्रौद्योगिकी के विकास को सक्षम किया, जिससे विनिर्माण और अन्य उद्योगों में अधिक सटीकता और दक्षता की अनुमति मिली।
  • उन्होंने बुद्धिमान एजेंटों और आभासी सहायकों के विकास की सुविधा प्रदान की, जैसे कि एप्पल के सिरी और अमेज़ॅन के एलेक्सा।
  • उन्होंने चिकित्सा, वित्त और विज्ञान जैसे क्षेत्रों में क्रांति लाने में मदद की, Computer को बड़ी मात्रा में डेटा को पहले से कहीं अधिक सटीक और तेज़ी से संसाधित करने और विश्लेषण करने में सक्षम बनाया।

computer Fifth Generation Disadvantage

जबकि Computer की पांचवीं पीढ़ी ने प्रौद्योगिकी में महत्वपूर्ण प्रगति का प्रतिनिधित्व किया, इसके कुछ नुकसान भी थे:

  • एआई और विशेषज्ञ प्रणालियों के विकास के लिए महत्वपूर्ण निवेश और विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है, जिससे छोटी कंपनियों के लिए बाजार में प्रतिस्पर्धा करना मुश्किल हो जाता है।
  • एआई और विशेषज्ञ प्रणालियों के विकास ने नौकरी के विस्थापन के बारे में चिंता जताई, क्योंकि मशीनें पहले मनुष्यों द्वारा किए गए कार्यों को स्वचालित करने में सक्षम थीं।
  • एआई और विशेषज्ञ प्रणालियों के उपयोग ने गोपनीयता, पूर्वाग्रह और जवाबदेही से संबंधित नैतिक चिंताओं को उठाया, क्योंकि ये मशीनें निर्णय ले रही थीं और अंतर्दृष्टि प्रदान कर रही थीं जो
  • व्यक्तियों और समाज को समग्र रूप से प्रभावित कर सकती थीं।
  • एआई और विशेषज्ञ प्रणालियों के विकास ने भी सुरक्षा के बारे में चिंता जताई, क्योंकि ये मशीनें साइबर हमले और अन्य प्रकार की दुर्भावनापूर्ण गतिविधियों के प्रति संवेदनशील हो सकती हैं।
  • एआई और विशेषज्ञ प्रणालियों के कार्यान्वयन के लिए महत्वपूर्ण कम्प्यूटेशनल शक्ति और ऊर्जा की आवश्यकता होती है, जिससे पर्यावरणीय प्रभाव और स्थिरता के बारे में चिंताएँ पैदा होती हैं।
RELATED ARTICLES
5 6 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular