Thursday, April 25, 2024

Repo Rate kya hai ?

Repo Rate kya hai -हेल्लो दोस्तों आज हम Repo rate क्या है इस से सम्बंधित आपको पूरी जानकारी देंगे –

Repo rate क्या है ?

Repo Rate kya hai –Repo Rate एक ऐसी दर होती है जिसका उपयोग रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया जैसी सेंट्रल बैंक द्वारा विभिन्न आर्थिक उपायों के लिए किया जाता है। यह दर उस दर को कहा जाता है, जिस पर रिजर्व बैंक अपने घरेलू ऋणों को अपने डीलर बैंकों से दे रहा होता है। इसका उद्देश्य ब्याज दर को नियंत्रित करना होता है। एक उच्च Repo Rate ब्याज दर के लिए संकेत होता है, जो ब्याज दर को बढ़ाता है जिससे बैंक अपने ऋण दायरे को कम करते हैं। इसके विपरीत, निम्न Repo Rate ब्याज दर ब्याज दर को घटाता है जिससे बैंक अपने ऋण दायरे को बढ़ा सकते हैं।




Repo रेट कैसे काम करता है ?

Repo Rate एक ऐसी दर होती है जिसे सेंट्रल बैंक द्वारा नियंत्रित किया जाता है। जब कोई वित्तीय संस्था या बैंक अपने शेष धन को रिजर्व बैंक में जमा करता है, तो रिजर्व बैंक उस धन के बदले में संभावित रुपये के बिक्री या रेपो (Repo) की विवेचना करती है। इसमें रिजर्व बैंक ऋणदाता को धन उपलब्ध कराता है जिसके बदले में ऋणदाता रिपो दर से रिजर्व बैंक से रुपयों को खरीदता है।

यदि Repo Rate को बढ़ाया जाता है, तो बैंकों को अपने ऋण दायरे को घटाना पड़ता है। इसके विपरीत, यदि Repo Rate को कम किया जाता है, तो बैंकों को अपने ऋण दायरे को बढ़ाने में मदद मिलती है। इस तरह, Repo Rate ब्याज दर की रूपरेखा बनाकर रिजर्व बैंक ब्याज दर को नियंत्रित करती है। यह दर सेंट्रल बैंक द्वारा आर्थिक नीति के माध्यम से विभिन्न आर्थिक उपायों के लिए उपयोग किया जाता है, जैसे कि वित्तीय स्थिरता और मुद्रास्फीति नियंत्रण।

Repo Rate कहाँ पर उपयोग किया जाता है ?

Repo Rate भारत के रिज़र्व बैंक द्वारा निर्धारित की जाती है और भारत में बैंकों के लिए एक महत्वपूर्ण ब्याज दर होती है। इसे विभिन्न उद्देश्यों के लिए उपयोग किया जाता है, जैसे कि बैंक दरों को नियंत्रित करना, इंफ्लेशन को नियंत्रित करना और निवेशकों के लिए ब्याज दर के रूप में एक मापदंड प्रदान करना।

इसके अलावा, रिज़र्व बैंक द्वारा निर्धारित ब्याज दरों के आधार पर बैंकों को ऋण उपलब्ध कराया जाता है जो उन्हें विभिन्न वित्तीय उद्योगों को ऋण देने में सक्षम बनाता है। इसलिए, Repo Rate के उच्च होने से बैंकों के लिए ऋण लेने की लागत बढ़ती है जो आर्थिक गतिविधियों को कम करता है और इससे इंफ्लेशन कम होती है।

Repo रेट के बढ़ने के क्या कारण थे ?

Repo Rate kya hai –Repo Rate के बढ़ने के कुछ मुख्य कारण हो सकते हैं:

  • मुद्रास्फीति: जब देश के अंतरराष्ट्रीय व्यापार में नकदी की आवश्यकता होती है तो सरकार रिजर्व बैंक को अपने मुद्रा रक्षक के रूप में इस्तेमाल करती है। इससे रिजर्व बैंक के पास नकद नहीं रहता है जिससे उसे Repo Rate को बढ़ाने की आवश्यकता हो सकती है।



  • आर्थिक स्थिरता: जब आर्थिक स्थिति में अस्थिरता होती है तो सेंट्रल बैंक Repo Rate को बढ़ा सकती है ताकि बैंकों को ऋण लेने पर अधिक ब्याज देना पड़े जिससे उन्हें ऋण देने के लिए अधिक संसाधनों की आवश्यकता होती है।
  • मुद्रा नीति: जब एक देश की मुद्रा दूसरी मुद्राओं के साथ मुकाबले में कमजोर होती है तो सेंट्रल बैंक Repo Rate को बढ़ा सकती है ताकि बैंकों को अधिक ब्याज देना पड़े जिससे उन्हें ऋण देने के लिए अधिक संसाधनों की आवश्यकता होती है और उनके पास नकद रहता है।

Also Read:-

Bimbisara Kaun The Bimbisara Story In Hindi

Amit Shah Biography in Hindi |अमित शाह जीवन परिचय

Nearest Metro Station Location – तुरंत जाने नजदीकी मेट्रो का लोकेशन

Repo रेट के प्राभाव

Repo Rate kya hai –Repo Rate के बढ़ने या घटने से विभिन्न तरह के प्रभाव होते हैं।

  • ब्याज दरें: Repo Rate के बढ़ने से बैंकों को उच्च ब्याज देने की आवश्यकता होती है, जिससे उनकी ऋण लेने की लागत बढ़ती है। इससे बैंक आम लोगों को देरी से या नहीं ऋण देने की वजह से उनकी गुणवत्ता भी नीची हो सकती है।
  • समायोजन: Repo Rate के बढ़ने से सभी बैंकों को अधिक ब्याज देने की आवश्यकता होती है जो उनकी नकद रिश्तों पर प्रभाव डाल सकती है। यह समायोजन करने के लिए उन्हें उच्च ब्याज दर पर आर्थिक संसाधनों का उपयोग करना पड़ सकता है।
  • उद्यम के लिए निवेशकों के लिए: बैंकों के लिए उच्च ब्याज दरों का फायदा उनके उद्यमों के लिए निवेशकों को दे सकता है। यह उन्हें अधिक उद्योग और नौकरियों का सृजन करने में मदद कर सकता है।
  • अर्थव्यवस्था: Repo Rate के बढ़ने से अर्थव्यवस्था पर भी प्रभाव पड़ सकता है। उच्च ब्याज दरों के कारण आर्थिक वृद्धि में प्रभाव पड़ना।
Repo रेट के क्या उपयोग है ?

Repo Rate भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) द्वारा उपयोग की जाने वाली एक महत्वपूर्ण आर्थिक नीति है जो विभिन्न तरह के उपयोगों के लिए उपलब्ध होती है। इन उपयोगों में से कुछ निम्नलिखित हैं:

  • इंफ्लेशन को नियंत्रित करना: ब्याज दरों के माध्यम से रिजर्व बैंक इंफ्लेशन को नियंत्रित करने का प्रयास करता है। यह उच्च Repo Rate के माध्यम से बैंकों के लिए ऋण लेने की लागत बढ़ाकर वहाँ उधार लेने की रुचि को कम करता है, जो आर्थिक गतिविधियों को कम करता है और इससे इंफ्लेशन कम होती है।
  • बैंक दरों को नियंत्रित करना: Repo Rate का उपयोग रिज़र्व बैंक द्वारा सभी बैंकों की ब्याज दरों को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है।
  • निवेशकों के लिए अवसर: Repo Rate का उपयोग निवेशकों के लिए अवसर भी प्रदान करता है। उच्च Repo Rate से बैंकों को उच्च ब्याज देने की आवश्यकता होती है जो उन्हें उचित निवेशकों को अधिक ब्याज प्रदान करने के लिए प्रेरित करती है।

RELATED ARTICLES
5 3 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular