Wednesday, May 29, 2024
HomeComputer & TechnologySAR Value क्या है और कैसे Check करे

SAR Value क्या है और कैसे Check करे

हेलो दोस्तों आज हम आप सब के लिए ये पोस्ट SAR Value क्या है और कैसे Check करे? दे रहे है उम्मीद करते है की आप को ये पोस्ट SAR Value क्या हैपसंद आएगा इस पोस्ट SAR Value क्या हैमें हमने इसकी पूरी जानकारी दी है और आप आने दोस्तों को भी ये पोस्ट शेयर करेंगे तो दोस्तों पोस्ट को शुरू करते है SAR Value क्या है और कैसे Check करे? in hindi 

मेट्रोपॉलिटन एरिया नेटवर्क क्या है

Computer Speakers Kya Hai और इसके प्रकार जानिए विस्तार से।

 SAR Value क्या है और कैसे Check करे?

  • क्या आपको पता है की SAR Value क्या है (What is SAR Value in Hindi)? आप Mobile Phone का बहुत इस्तमाल करते हैं यदि हाँ  तो आपको SAR Value के बारे में जरुर पता होना चाहिए। यह  किसी फ़ोन के घंटी के जैसे ही हमारे लिए खतरे की घंटी है।
  •  बड़ो ने कहा है।  की हमें खतरे से सावधान रहने में ही हमारी भलाई है. हम सब जानते हैं की आजकल Mobile Phone हमारे जीवन का एक अंग बन गया है.समय रहते ही समझ जाये है की ये कितना खतरनाक है
  • Mobile Communication के लिए अलग अलग  Electromagnetic Waves की जरुरत पड़ती है. ऐसी signals को भेजने (send) और पाने (receive) करने के लिए antenna की जरुरत पड़ती है जिसकी मदद से इन Waves (या signals) की transmission होती है।
  • जब भी कोई Transmission होती है तब signals की लगभग10 -20प्रतिशत  वातावरण में की radiate हो जाते है. ऐसा इसलिए क्यूंकि इन Signals में कुछ Power होती हैं जो की जाने आने में dissipate हो जाती है जिसे mobile radiation भी कहा जाता है।
  • Mobile के usage के ऊपर ही ये radiation level depend करता है. इसी Radiation Level को control करने के लिए SAR (Specific Absorption Rate) Value का इस्तमाल होता है. हम ये जानेंगे की ये  SAR Value क्या है (What is SAR Value in Hindi) और क्यूँ जरुरी है.चलो शुरू करते हैंSAR Value क्या है (What is SAR Value in हिंदी
  • SAR Value का full form होता है Specific Absorption Rate (SAR) यह एक नापने वाला होता है किस की मदद से हम ये माप सकते हैं की किसी भी Electronic Device को इस्तमाल करते समय  उसमे से कितनी मात्रा में Electromagnetic Waves Radiate हो रही है जो हमारे शरीर के साथ absorb हो रही है।
  • इस rate को मापने के लिए ये देखा जाता है की कितनी Power हमारे कितने वजन के Tissue में absorb हो जाती है. इसकी Standard Measurement को Watts per kilogram (W/kg) में मापा जाता है।
  • ये radiation हमरे शरीर के दो हिस्सों को सबसे ज्यादा हानि करता है हमारा सर और दूसरा सर के निचे वाला हिस्सा यानि की ध। सर इसलिए क्यूंकि phone में बात करते वक़्त यही हिस्सा सबसे ज्यादा उस radiation field के पास  होता है।
  • इन्ही radiation को standardized करने के लिए Government ने कुछ fixed Standard बना दिएँ है इस से   पता चलता है की इस standard के ऊपर कोई Mobile Manufactures अपनी मोबाइल बना नहीं सकता या बनाकर market में छोड़ नहीं सकता।
  • इनमें India और US की standard सामान है जो 1.6 Watt per Kilogram (W/kg) जिसे की 1 gram of Tissue को लेकर बनाया गया है. वहीँ European standard के हिसाब से 2 Watt per Kilogram (W/kg) जिसे की 10 gram of Tissue को लेकर बनाया गया है।
  • लोगों के बिच इस बात को लेकर बहुत गलतफैमि है की जिस मोबाइल की कम SAR Value होती है वो हमारे लिए सही ह।  आपको ये बताना चाहता हूँ की SAR Value चाहे कम हो या ज्यादा हमारे लिए बहुत ही खतरनाक चीज़ है।
  • यह बात सही है की जिस mobile की SAR Value जितनी कम होती है उससे उनता कम खतरा होता है किसी व्यक्ति को याद रहे की आप उस मोबाइल को कितनी देरी तक इस्तमाल करते है। इससे उसके नुकशान का अंदाजा लगाया जा सकता है. SAR Value ज्यादा नहीं बस absorption rate होती है उस radio frequency waves की।

SAR Value कैसे Check करे

 हम सभी जानते हैं कि सभी मोबाइल phone के specific SAR Value होता है. लेकिन बात उठती है की किस से पता  करे। तो घबराये नहीं इसे पता करना बिलकुल आसन है बस आपको अपने मोबाइल में dial करना है *#07# और आपके सामने आपके screen में आपके मोबाइल का SAR Value दिख जाएगा।

SAR Testing कैसे की जाती है

  • आपके मन में आया होगा की। ये SAR testing कैसी की जाती है। तो आप को  बता दूँ। की इसके लिए पहले हमारे शरीर के जैसे बिलकुल मिलता हुआ model तैयार किए जाता है जिसमें की हमारे Tissue के तरह कुछ चीज़ें डाला जाता हैं ताकि एक actual Human की model बनाया जा सके।
  • उसके बाद radio frequency(RF) को हमारे अलग अलग अंग में test किया जाता है उनका absorption rate check करने के लिये।
  • हमारे सर के दोनों तरफ से उस radiation को अलग अलग दूर तक  test किया जाता है ताकि ये पता चल सके की कितनी दूर तक हमारे सर में सबसे ज्यादा रेडिएशन absorb होता है. ऐसी सभी test करने के बाद उनकी एक detailed रिपोर्ट तैयार की जाती है, इस report में सारे highest SAR value सभी frequency band को mention किया जाता है।
  •  बाद में उसे Government Authorization के लिये भेजा जाता है  फिर approve हो जाये तो वह mobile का model Market में आने के लिए तैयार हो जाता है।

Radiation कितना खतरनाक है हमारे लिए

 मोबाइल radiation हमारे लिए बहुत ही खतरनाक है  हम सब जानते हैं। लेकिन ये खतरा सबसे ज्यादा बच्चों, बूढों और गर्ववती महिलाओं के लिए सबसे जायदा खतरनाक है. क्यूंकि उनकी body सबसे जयादा इन radiation को absorb करती है।  अपने mobile phone का कम  से कम  इस्तमाल करें। अगर कर रहे हैं तो इसे ज्यादा समय तक अपने शरीर के पास न छोडें क्यूंकि इससे absorption बढ़ जाती है. मेरी मानें तो head phone का इस्तमाल जरुर करें ताकि phone और हमारे बिच में थोड़ी दुरी रह सके।

RF Radiation का हमारे शरीर में क्या प्रभाव पड़ता है
  •  पहले से पता है की Radiation हमारे लिए बिलकुल भी अच्छा नहीं है. ये हमरे शरीर को काफी हानि पहुंचा  सकती है। हमने निचे mention कर दिया है आपकी जानकारी के लिए :-
  • अगर काफी समय तक ये रेडिएशन को हमारा शरीर सहन करता है तो हमारे tissue break down हो सकते हैं जिससे हमारी DNA को बहुत नुकसान हो सकता है.
  • इस radiation se indirectly ही सही पर हमारे शरीर में सिरदर्द, सिर में झनझनाहट, लगातार थकान महसूस करना, चक्कर आना, डिप्रेशन, नींद न आना, आंखों में ड्राइनेस, काम में ध्यान न लगना, कानों का बजना, सुनने में कमी,
  • किसी किसी doctors का मानना है की इससे brain tumors और cancer होने के chances काफी बढ़ जाते हैं.
  • अगर ये रेडिएशन बहुत वर्षों तक हमारे शरीर में आता रहा तो इससे multiple sclerosis, depression, autism जैसे खतरनाक बीमारी होने की खतरा  बढ़ जाती है.
  • इससे प्रजनन करने की क्ष्य्मता भी कम हो जाती है.
  • याद दाश्त में कमी, पाचन में गड़बड़ी, अनियमित धड़कन, जोड़ों में दर्द आदि बीमारी होने की खतरा बढ़ जाती है.
Radiation से कैसे बचें
  • क्यूंकि ये radiation हमारे लिए काफी खतरनाक है इसलिए इनसे जितना हो सके उतना दूर रहना चाहिए।
  • याददाश्त में कमी, पाचन में गड़बड़ी, अनियमित धड़कन, जोड़ों में दर्द आदि बीमारी होने की संभावना बढ़ जाती है.
  • यदि हो सके तो Text या मेसेज ज्यादा करें Call करने की जगह.
  • Mobile Phone का इस्तमाल Lift, Cars, Train और Planes में बिलकुल न करें क्यूंकि यहाँ सबसे ज्यादा radiation होती है.
  • यदि आप घर में रह रहे हों तब तो Mobile की जगह Land Line का ज्यादा इस्तमाल करें.
  • Phone को जितना हो सके उतना Speaker Mode में रखकर बात करना चाहिए इससे ये फ़ायदा होता है की radiation की intensity बहु मात्रा में कम हो जाती है.
  • यदि आपका phone लम्बे समय तक इस्तमाल नहीं होना है तो उसे On Mode में न छोड़ दें उसे OFF कर दें.
  • मोबाइल phone को कम signal strength में नहीं इस्तमाल नहीं करना चाहिए क्यूंकि इस समय सबसे ज्यादा Radiation होता है.
  • अगर आप बताये गए चीज़ों का पालन करें तो आप अपना और अपने परिवार वर्गों का अच्छा ख्याल रख सकते हैं।
  •  हम ज्यादा modern हो रहे हैं वैसे वैसे हमारी सुख सुविधा ज्यादा बढ़ जा रही है. मोबाइल phone अब हमारे जीवन का हिस्सा बन चुके हैं।  इस युग के सबसे काम में आने वाली gadget बन गयी है. बहुत से research का सार ये निकला है की हमें ऐसी आविष्कारों का इस्तमाल responsibly करना चाहिए

जितना हो सके  lower SAR Value ka कम से कम इस्तमाल हो उतना अच्छा है. किसी मोबाइल को इसलिए मत खरीदिये क्यूंकि उसकी कीमत कम है बल्कि ये ध्यान देने चाहिए की उसके इस्तमाल से आपको कोई परेशानी  तो नहीं हो रही

RELATED ARTICLES
5 5 votes
Article Rating
Subscribe
Notify of
guest

0 Comments
Inline Feedbacks
View all comments

Most Popular